बिहारः लालू प्रसाद यादव के जेल जाने के बाद से आरजेडी की कमान तेजस्वी ने अपने हाथों में ले ली। जिसके बाद पार्टी ने उपचुनाव तो जीता, लेकिन लालू प्रसाद यादव के कुनबे में फूट का बीज पड़ना शुरु हो गया है। खबरें आ रही हैं कि अभी शादी करके अपना घर बसाने वाले तेजप्रताप यादव राजनीति से सन्यास ले सकते हैं। मेरा सोंचना है कि मैं अर्जुन को हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठाऊं और खुद द्वारका चला जाऊँ।अब कुछेक "चुग्लों" को कष्ट है कि कहीं मैं किंग मेकर न कहलाऊं।।तेजप्रताप के ट्विट को देखा जाए तो एेसा ही लगता है। दरअसल, तेजप्रताप ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा है कि मेरा सोंचना है कि मैं अर्जुन को हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठाऊं और खुद द्वारका चला जाऊँ।अब कुछेक "चुग्लों" को कष्ट है कि कहीं मैं किंग मेकर न कहलाऊं।। राधे राधे।। उनके इस ट्विट से यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि दोनों भाईयों के बीच कुछ तनातनी चल रही है। इस ट्वीट के बाद ऐसा माना जा रहा है कि वो राजनीति में अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव को ही आगे करना चाहते हैं। हालांकि इस मामले में उनके या उनके परिवार के किसी सदस्य की तरफ से प्रतिक्रिया नहीं मिली है। तेजप्रताप ने अपने ट्वीट में तेजस्वी को मगध की बजाए हस्तिनापुर की गद्दी दिलवाने की बात कही है। ऐसे में उनका इशारा 2019 में होने वाले आम चुनाव और दिल्ली की गद्दी की तरफ है।इसके उलट तेजप्रताप यादव कभी अपने विवादित बयानो तो कभी अपने पिता के अंदाज में ही लोगों को गुदगुदाने और हंसाने के लिये भी चर्चा में रहते हैं। हाल ही में शादी के बंधन में बंधे तेजप्रताप ने शनिवार को किये गये इस ट्वीट के माध्यम से खुद को भगवान कृष्ण बताना चाहा है जबकि उन्होने अपने छोटे भाई तेजस्वी को अर्जुन बताया है। उनके इस ट्वीट के बाद बिहार की राजनीति में कयास लगाने का नया दौर शुरू हो चुका है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें