नई दिल्ली - पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के बिछाए हनीट्रैप के जाल में कुछ दिन पहले वायुसेना के ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह के फंसने के बाद अब एक और लेफ्टिनेंट कर्नल का नाम सामने आ रहा है।
ख़बरों के मुताबिक, मध्य प्रदेश के जबलपुर में सेना मुख्यालय में तैनात लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक के ऑफिसर के कार्यालय परिसर में मिलिट्री इंटेलिजेंस के अधिकारियों ने सोमवार की रात को तलाशी ली। ऐसा माना जा रहा है कि लेफ्टिनेंट कर्नल आईएसआई के बिछाए हनीट्रैप के जाल में फंस गए थे।
हालांकि, इससे संबंधित अधिकारियों ने पूरे ऑपरेशन पर चुप्पी साध रखी है। लेकिन इनसे जुड़े अधिकारियों का कहना है आरोपी लेफ्टिनेंट कर्नल आर्मी बेस के वर्कशॉप में तैनात थे और उनके एकाउंट से हुए वित्तीय लेनदेन के चलते वे शक के घेरे में आ गये। हालांकि, इस पूरे ऑपरेशन की पुष्टि करते हुए आर्मी के एक अधिकारी ने बताया कि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि वह अधिकारी हनीट्रैप का शिकार हुआ या फिर भ्रष्टाचार के आरोप में उनसे पूछताछ की जा रही है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें