श्रीनगर - आतंकियों और अलगाववादियों का भर्ती केंद्र बन चुकी श्रीनगर सेंट्रल जेल में सोमवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया। इस दौरान जेल से पाकिस्तानी झंडा, लश्कर व हिजबुल मुजाहिद्दीन के पोस्टर, जिहादी साहित्य के अलावा 25 मोबाइल फोन, सिमकार्ड, एक आइपैड, पांच एसडी कार्ड, पांच पेन ड्राइव व अन्य आपत्तिजनक सामान बरामद किया गया।
इसी वर्ष छह फरवरी को पाकिस्तानी आतंकी नवीद जट के फरार होने के बाद से सुर्खियों में रहे श्रीनगर सेंट्रल जेल में आइजीपी एनआइए जीपी सिंह की निगरानी में सुबह शुरू हुआ तलाशी अभियान शाम साढ़े चार बजे तक चला। एनआइए के प्रवक्ता ने बताया कि यह तलाशी अभियान कुपवाड़ा से गिरफ्तार अल-बदर से संबंधित दो आतंकियों दानिश अहमद लोन व सोहेल अहमद बट से पूछताछ के दौरान मिले सुराग के आधार पर चलाया गया। दोनों से पूछताछ में पता चला था कि श्रीनगर सेंट्रल जेल में बंद कई आतंकी, अलगाववादी नेता और आतंकियों से सहानुभूति रखने वाले तत्व फोन व इंटरनेट के जरिये पाकिस्तान स्थित अपने आकाओं के साथ लगातार संपर्क में हैं। ये लोग जेल में बंद किशोर कैदियों को आतंकी बनने के लिए उकसाने के अलावा उन्हें विध्वंसकारी गतिविधियों की ट्रेनिंग के लिए पाकिस्तान भी भेजते थे। इन दोनों के खिलाफ एनआइए ने मामला दर्ज कर छानबीन जारी रखी हुई है। एनआइए के प्रवक्ता ने बताया कि जेल की सभी बैरकों के अलावा परिसर के भीतर पार्क व मैदान और कुछ अन्य कक्षों की तलाशी ली गई।
एनएसजी कमांडो व ड्रोन की भी ली गई मदद
जेल में चले तलाशी अभियान में एनएसजी के कमांडो दस्ते व ड्रोन की भी मदद ली गई। इनके अलावा सीआरपीएफ के जवानों, राज्य पुलिस के एक दस्ते समेत एनआइए के 20 दलों ने भाग लिया। तलाशी के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित अधिकारियों व कर्मियों की सेवाएं ली गई। खोजी कुत्तों और जमीन के नीचे दबी वस्तुओं का पता लगाने में समर्थ अत्याधुनिक उपकरणों व सेंसरों का इस्तेमाल भी किया गया। मजिस्ट्रेट, डॉक्टरों का एक दल और कुछ स्वतंत्र गवाह भी जेल परिसर में मौजूद रहे।
एक साल में तीसरी बार मिली आपत्तिजनक सामग्री
कश्मीर में बीते एक साल के दौरान किसी जेल में तलाशी का यह तीसरा मामला है। पिछले वर्ष दो अप्रैल को बारामुला जेल में तलाशी लेते हुए सुरक्षा एजेंसियों ने 14 मोबाइल फोन, टैब व अन्य आपत्तिजनक सामान बरामद किया था। इसके बाद 23 अगस्त 2017 को सुरक्षाबलों ने दोबारा बारामुला जेल में अचानक तलाशी ली और 20 मोबाइल फोन, सिमकार्ड व जिहादी साहित्य बरामद किया था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें