जम्मू-कश्मीर सरकार ने शुक्रवार को कहा कि वर्ष 2016 में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी की मौत के बाद कश्मीर में फैली आठ महीने की अशांति के दौरान 51 लोगों की जान गई और 9000 से अधिक घायल हुए। इसमें पैलेट से घायल 6000 से अधिक लोग भी शामिल हैं।राज्य विधानसभा में नेशनल कांफ्रेंस के एक विधायक के सवाल पर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि, "अशांति में 8 जुलाई 2016 से 27 फरवरी 2017 तक कश्मीर संभाग में 51 लोगों की मौत हुई।" उन्होंने कहा कि, "इस अवधि में गोलियों, पैलेट, पावा शैल और अन्य की गोलीबारी में 9042 लोग घायल हुए।" उन्होंने आगे बताया कि, "इनमें से 6221 लोग पैलेट से, 368 गोली, 4 पावा शैल और 2449 अन्य से घायल हुए।"मुख्यमंत्री ने कहा कि, "करीब 782 लोगों को आंख में चोट लगी, जिसमें से 510 को अस्पताल में भर्ती कराया गया। पैलेट से घायल 5197 लोगों का जिला अस्पतालों में इलाज चल रहा है और बाकी को सुपर स्पेशियलिटी अस्पतालों में भेजा गया।"

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें