नई दिल्ली - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गो रक्षा के नाम पर कानून तोड़ने वालों को चेतावनी दी और राज्यों से इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा। प्रधानमंत्री ने सचेत किया कि ऐसी घटनाओं को राजनीतिक या साम्प्रदायिक रंग नहीं दिया जाना चाहिए। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने बताया कि संसद सत्र से पहले बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने कहा, गो रक्षा के नाम पर कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सभी राज्य सरकारों को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।
कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री ने इस बात को रेखांकित किया कि अनेकों हिन्दुओं का मत है कि गाय माता जैसी हैं लेकिन यह किसी को कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं देता है। गो रक्षा के नाम पर मारपीट की घटनाओं को लेकर विपक्षी दल बीजेपी पर प्रहार करते रहे हैं जिन घटनाओं में मुसलमानों और दलितों को निशाना बनाए जाने की रिपोर्ट सामने आई है।
राष्ट्रपति चुनाव में आम सहमति बनती तो अच्छा होता
प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति पद के लिये सोमवार को मतदान है और इस बारे में उम्मीदवार को लेकर आम सहमति बनती तो अच्छा होता। प्रधानमंत्री ने हालांकि कहा कि दोनों पक्षों की ओर से प्रचार के दौरान उच्च स्तर की मर्यादा का पालन किया गया है और किसी तरह की गलत भाषा का इस्तेमाल नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दलों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सभी मतदान करें और कोई वोट व्यर्थ नहीं जाए।
भाजपा नीत राजग ने राष्ट्रपति पद के लिये रामनाथ कोविंद को अपना उम्मीदवार बनाया है जबकि कांग्रेस नीत विपक्षी दलों ने मीरा कुमार को अपना प्रत्याशी घोषित किया है। संख्या बल के हिसाब से कोविंद को बड़ी बढ़त है।
भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों को नहीं बचाना चाहिए
मोदी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में सभी का सहयोग मांगा। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद एवं उनके परिवार के कुछ सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के संदर्भ में इसे महत्वपूर्ण माना जा रहा है। बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों को नहीं बचाया जाना चाहिए । इसके कारण ही राजनीतिक नेताओं की छवि प्रभावित हो रही है। अनंत कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि भारत छोड़ों आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ 9 अगस्त को आ रही है और सभी दलों को इसका उत्सव मनाना चाहिए।
टीएमसी ने किया सर्वदलीय बैठक का बहिष्कार
सर्वदलीय बैठक में हिस्सा लेने वालों में कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, राकांपा के शरद पवार, माकपा के सीताराम येचूरी, सपा के मुलायम सिंह यादव, भाकपा के डी राजा शामिल हैं। हालांकि जदयू और तणमूल कांग्रेस से कोई मौजूद नहीं था। तृणमूल कांग्रेस ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि वह इस बैठक का बहिष्कार करेगी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें