नई दिल्ली - उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को कहा कि 16 दिसंबर 2012 को एक छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में चार अभियुक्तों की पुनर्विचार याचिकाओं पर अगले महीने सुनवाई करेगा। उच्चतम न्यायालय ने चारों अभियुक्तों की मौत की सजा को बरकरार रखा था। अभियुक्तों ने न्यायालय से अपने उस आदेश पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया है।
एक अभियुक्त ने दायर की याचिका
अभियुक्तों में से एक ने पुनर्विचार याचिका दायर की है जबकि तीन अन्य अभियुक्तों के वकील ने प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ से कहा कि वे तीन सप्ताह के अंदर ऐसी याचिकाएं दायर करेंगे। न्यायालय ने कहा कि वह उन याचिकाओं पर 12 दिसंबर को सुनवाई करेगा। न्यायालय ने पांच मई को चार अभियुक्तों मुकेश (29), पवन (22), विनय शर्मा (23) और अक्षय कुमार सिंह (31) की मौत की सजा को बरकरार रखा था। सुनवाई के दौरान अभियुक्त मुकेश के वकील एम एल शर्मा ने पीठ से कहा कि कुछ ऐसे मुद्दे थे जिन पर शीर्ष अदालत ने अपना फैसलॉ सुनाते हए गौर नहीं किया था। पीठ में न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति अशोक भूषण भी शामिल थे। शर्मा ने पीठ के समक्ष दावा किया कि उस रात बस में मुकेश की मौजूदगी के बारे में अभियोजन की बातों में विसंगति है। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि अभियुक्त को पुलिस ने प्रताड़ित किया और उन्होंने इस संबंध में सुनवाई अदालत और दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष याचिका दायर की थी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें