जम्मू कश्मीरः रमजान के दौरान सीमा पर आतंकियों के खिलाफ कोई ऑपरेशन नहीं चलाया जाएगा। जम्मू कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती द्वारा रखी गई इस मांग को केंद्र ने मान लिया है। अब जब तक रमजान चलेंगे तब तक जम्मू कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ कोई ऑपरेशन नहीं चलेगा। इसका मतलब यह है कि रमजान के दौरान आतंकियों के खिलाफ कोई भी ऑपरेशन नहीं चलाएगी। इसके लिए महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार के सामने मांग रखी थी। जिसे केंद्र सरकार ने मान लिया है।बताया जा रहा है कि जम्मू कश्मीर की सीमा पर या कहीं भी आतंकियों द्वारा हमला किया जाता है तो उसकी जवाबी कार्यवाई सेना करेगी। लेकिन सेना पहल नहीं करेगी और न ही आतंकियों के खिलाफ कोई अभियान चलाया जाएगा। इसका मतलब है कि रमजान के पाक महीने में जम्मू कश्मीर में सीमा पर शांति स्थापित की जा सके। सरकार की तरफ से जम्मू-कश्मीर में शांति कायम करने की दिशा में यह एक बड़ा कदम है। इसके पहले जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घाटी में रमजान के दौरान एकतरफा सीजफायर की मांग की थी। ये बात अलग है कि महबूबा मुफ्ती की मांग पर अलग अलग राजनीति दलों ने विरोध किया था। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि ये जरूरी है कि जो लोग इस्लाम के नाम पर बेगुनाहों का खून बहाते हैं, उन्हें समाज से अलग किया जाए। बिना किसी वजह किसी का खून बहाना या भय का माहौल पैदा करना सामान्य जीवनशैली के खिलाफ है। पाकिस्तान ने 2018 में जम्मू कश्मीर में इंटरनेशनल बॉर्डर और लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) के पास 720 से अधिक बार सीजफायर का उल्लंघन किया । सीजफायर उल्लंघन की यह घटना पिछले 7 साल में सबसे अधिक है।केंद्रीय गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने इस साल अक्टूबर तक इंटरनेशनल बॉर्डर और लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) के पास 724 बार सीजफायर उल्लंघन किया है जबकि वर्ष 2016 में यह संख्या 449 थी।गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने आंकड़े का हवाला देते हुए कहा कि अक्टूबर तक सीमा पार से हुई गोलीबारी में कम से कम 12 स्थानीय नागरिक मारे गए और 17 सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए। इसके अनुसार सीमा पार से हुई गोलीबारी में कुल 79 स्थानीय नागरिक और 67 सुरक्षा कर्मी घायल हुए।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें