बेंगलुरुः कर्नाटक में चुनाव नतीजे आने के बाद सियासी घमासान और तेज हो गया है। किसी भी पार्टी को पूर्ण बहूमत नहीं मिलने के बाद यहां कुर्सी के लिए सियासी जंग जारी है। खैर, इन सब के बीच सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण बीजेपी ने गुरुवार को सरकार बना ली। लेकिन विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए बीजेपी सरकार को 15 दिन का समय दिया गया है। अभी बीजेपी के पास 104 विधायक हैं और पूर्ण बहूमत के लिए उन्हें 8 और सीटों की जरूरत है। इसकी के चलते कांग्रेस और जेडीएस ने अपने विधायकों पर पकड़ मजबूत कर ली है। लेकिन इसके बावजूद जेडीएस और कांग्रेस के कुछ विधायकों के 'गायब' होने की भी खबरें सामने आ रही हैं। कांग्रेस ने भी इस खबर की पुष्टि करते हुए अपने एक विधायक के 'गायब' होने का दावा भी किया है। वहीं टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक, कांग्रेस अपने विधायकों को पंजाब या आंध्र प्रदेश भेजने पर विचार कर रही है, ताकि इनकी खरीद-फरोख्त को रोका जा सके।कांग्रेस नेता डी गुंडुराव ने दावा कि विजयनगर के कांग्रेस विधायक आनंद सिंह से पार्टी का संपर्क नहीं हो पा रहा है। वहीं दूसरी ओर बेंगलुरु के एगल्टन रिज़ॉर्ट पहुंचे कांग्रेस विधायक खदेर ने कहा कि उनके सभी विधायक पार्टी के संपर्क में हैं और जो दो विधायक रिज़ॉर्ट नहीं पहुंचे हैं, वे भी पहुंच जाएंगे। खदेर ने कहा कि वह भी मंगलौर से अभी वापस आए हैं। आपको बता दें कि एगल्टन रिसार्ट बेंगलुरु के सबसे महंगे होटेलों में से एक है। कांग्रेस ने अपने विधायकों के ठहरने के लिए 132 कमरों वाले इस रिजॉर्ट को बुक किया है। गुजरात में राज्यसभा चुनाव के दौरान भी कांग्रेस ने अपने विधायकों को यहीं रखा था। कर्नाटक विधानसभा पहुंचे कांग्रेस सांसद डीके सुरेश ने कहा कि आनंद सिंह को छोड़कर कांग्रेस के सभी विधायक उनके साथ हैं। इससे पहले कांग्रेस के विधायक अमरगौड़ा लिंगागौड़ा ने कहा था कि बीजेपी की तरफ से उन्हें पार्टी में आने का ऑफर दिया गया है। उन्होंने यह भी कहा था कि बीजेपी मंत्री पद का लालच देकर कांग्रेस विधायकों को तोड़ना चाहती है लेकिन कांग्रेस विधायक बीजेपी के झांसे में नहीं आएंगे। गौरतलब है कि 224 सीटों वाली कर्नाटक विधानसभा की 222 सीटों पर मतदान हुआ था। इस चुनाव में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी, जबकि कांग्रेस को 78 सीटें और जेडीएस को 38 सीटें मिली हैं। ऐसे में माना जा रहा था कि कांग्रेस और जेडीएस मिलकर सरकार बना लेंगे। लेकिन सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते राज्यपाल ने बीजेपी को पहले न्यौता दिया। अब भविष्य में बीजेपी किस तरीके से सरकार चलाती है और कांग्रेस-जेडीएस कैसे अपने विधायकों को अपने साथ रखती हैं ये देखना दिलचस्प रहेगा।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें