पोर्ट एलिजाबेथ - भारत ने द.अफ्रीका के खिलाफ सीरीज जीत ली है। इसके साथ ही भारत ने एक इतिहास रचा है। 26 साल में पहली बार भारत ने द. अफ्रीका में 6 मैचों की सीरिज पर 4-1 से कब्जा किया है। सीरीज के पांचवें मैच में भारत ने द.अफ्रीका को 73 रनों से हराया है। इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 275 रनों का लक्ष्य दिया था। जिसका पीछा करते हुए द. अफ्रीका ने 201 रन ही बनाए। भारत ने सीरीज के पहले तीन मैचों पर लगातार जीत दर्ज की थी। इसके बाद चौथे मैच में द. अफ्रीका ने भारत को हराया था। लेकिन द. अफ्रीका पांचवां वनडे मैच नहीं जीत पाई।
दक्षिण अफ्रीका की शुरूआत अच्छी नहीं रही और उनके शुरुआती तीन विकेट (ऐडेन मारक्रम, जेपी डुमिनी और जेपी डुमिनी) धड़ाधड़ गिरे। इसके बाद हाशिम अमला और डेविड मिलर ने पारी को संभाला और स्कोर को 127 तक लेकर गए। लेकिन 26वें ओवर में मिलर अपना विकेट खो बैठे।
सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने फार्म में वापसी करते हुए शतक जड़ा जिससे भारत ने पांचवें एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में आज यहां दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सात विकेट पर विकेट पर 274 रन बनाए। रोहित ने जीवनदान का फायदा उठाते हुए 126 गेंद में 11 चौकों और चार छक्कों की मदद से 115 रन की पारी खेलने के अलावा कप्तान विराट कोहली (36) के साथ दूसरे विकेट के लिए 105 और श्रेयस अय्यर (30) के साथ चौथे विकेट के लिए 60 रन की साझेदारी की।
तेज गेंदबाज लुंगी एनगिडी (51 रन पर चार विकेट) ने अंतिम ओवरों में दक्षिण अफ्रीका को जोरदार वापसी दिलाई जिससे भारतीय टीम अंतिम आठ ओवर में 38 रन ही जुटा सकी। रोहित का यह दक्षिण अफ्रीका में एकदिवसीय मैचों में सर्वोच्च स्कोर है। इससे पहले यहां खेले 12 मैचों में उनका शीर्ष स्कोर 23 रन था जो उन्होंने जनवरी 2011 में मेजबान टीम के खिलाफ बनाया था।
मौजूदा दौरे में टेस्ट और वनडे की नौ पारियों में भी यह उनका शीर्ष स्कोर है। इससे पहले सेंचुरियन में दूसरे टेस्ट की दूसरी पारी में 47 रन उनका सर्वोच्च स्कोर था। इतना ही नहीं सेंट जार्ज पार्क पर भारत का यह सर्वोच्च स्कोर है। इससे पहले पांच मैचों में भारतीय टीम कभी यहां 200 रन के आंकड़े को नहीं छू पाई थी और उसका सर्वोच्च स्कोर नौ विकेट पर 179 रन था जो उसने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ फरवरी 1997 को बनाया।
श्रृंखला में 3-1 से आगे चल रहे भारत को इस मैदान पर पहली जीत का इंतजार है और अगर आज टीम जीत दर्ज करती है तो दक्षिण अफ्रीका की सरजमीं पर पहली बार द्विपक्षीय वनडे श्रृंखला जीत लेगी। भारत ने इस मैदान पर अब तक खेले पांचों मैच गंवाए है जिसमें चार हार उसे दक्षिण अफ्रीका जबकि एक कीनिया के खिलाफ मिली।
दक्षिण अफ्रीका के कप्तान ऐडन मार्करम ने टास जीतकर गेंदबाजी करने का फैसला किया जिसके बाद रोहित ने शिखर धवन (34) के साथ पहले विकेट के लिए 48 रन जोड़कर टीम को सतर्क शुरुआत दिलाई। धवन अच्छी लय में दिखे और उन्होंने कागिसो रबादा (58 रन पर एक विकेट) के ओवरों में पांच चौके मारे। उन्होंने मोर्ने मोर्कल के ओवर में भी तीन चौके मारे लेकिन इसके बाद रबादा की शार्ट गेंद को पुल करने की कोशिश में डीप स्क्वायर लेग पर एंडिले फेहलुकवायो को कैच दे बैठे। उन्होंने 23 गेंद की पारी में आठ चौके जड़े।
भारत के 50 रन आठवें ओवर में पूरे हुए। रोहित शुरू में जूझने के बाद लय में आ गए। उन्होंने रबादा पर छक्का जड़ा और फिर एनगिडी की गेंद को भी दर्शकों के बीच पहुंचाया। रोहित ने जेपी डुमिनी का स्वागत लगातार दो चौकों के साथ करते हुए 18वें ओवर में भारत का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया। उन्होंने अगले ओवर में तबरेज शम्सी की गेंद पर एक रन के साथ अर्धशतक पूरा किया।
कोहली के खिलाफ शम्सी की गेंद पर विकेटकीपर हेनरिक क्लासेन ने पगबाधा की विश्वसनीय अपील की लेकिन तीसरे अंपायर ने भारतीय कप्तान को नाटआउट करार दिया। रोहित ने शम्सी पर छक्के से कोहली के साथ शतकीय साझेदारी पूरी की लेकिन भारतीय कप्तान इसके बाद गलतफहमी का शिकार होकर रन आउट हो गए। रोहित ने आफ साइड में शाट खेला जिसके बाद कोहली रन के लिए दौड़ पड़े। रोहित भी आगे बढ़े लेकिन फिर रन लेने से इनकार कर दिया मगर कोहली तब तक काफी आगे निकल चुके थे और डुमिनी के सटीक निशाने पर रन आउट हो गए। कोहली ने 54 गेंद का सामना करते हुए दो चौके मारे।
अजिंक्य रहाणे (08) भी इसके बाद रोहित की गलती का शिकार होकर रन आउट हुए जिससे भारत का स्कोर तीन विकेट पर 176 रन हो गया। रोहित इसके बाद भाग्यशाली रहे जब 96 रन के निजी स्कोर पर रबादा की गेंद पर थर्ड मैन पर शम्सी ने उनका बेहद आसान कैच टपका दिया। रोहित ने इस जीवनदान का फायदा उठाकर शम्सी की गेंद पर दो रन के साथ 107 गेंद में अपने करियर का 17वां शतक पूरा किया। रोहित हालांकि शतक पूरा करने के बाद एनगिडी की उछाल लेती गेंद पर क्लासेन को कैच दे बैठे।
हार्दिक पंड्या (00) एक बार फिर नाकाम रहे और अगली गेंद पर क्लासेन को ही कैच थमा गए। एनगिडी ने अपने अगले ओवर में अय्यर को भी क्लासेन के हाथों कैच कराया। भारत ने दो रन के भीतर तीन विकेट गंवाए। भुवनेश्वर ने 47वें ओवर में एनगिडी की गेंद पर चौके के साथ 41वें ओवर के बाद भारत की ओर से पहली बाउंड्री लगाई लेकिन एनगिडी ने महेंद्र सिंह धोनी (13) को पवेलियन भेजा।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें