खेल

खेल (4286)

नई दिल्ली। क्रिकेट के खेल में कई बार खिलाड़ी चोटिल हो जाते हैं लेकिन फिर भी उन्हें अपनी टीम को जीत दिलाने के लिए मैदान पर उतरना पड़ता है। ऐसी ही एक घटना घटी इंग्लैंड में खेले जा रहे काउंटी के एक मैच में। यॉर्कशायर और लंकाशायर के बीच इंग्लिश काउंटी चैंपियनशिप के मुकाबले में एक बल्लेबाज के साथ भी ऐसा ही हुआ। वो अपनी टीम को हार से बचाने के लिए अनोखे अंदाज में बल्लेबाजी के लिए मैदान में जाते हुए देखा।
चोट के बावजूद मैदान पर उतरे लिविंगस्टोन:-ये खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि लंकाशायर के कप्तान लियाम लिविंगस्टोन थे। लिविंगस्टोन को इस काउंटी मैच के पहले दिन अंगूठे में चोट लगी थी। वे अपनी टीम को हार से बचाने के लिए चौथी पारी में अपनी टीम को हार से बचाने के लिए मैदान पर उतरे, लेकिन वो जिस मैदान पर एक शिन पैड लगाकर आए। वो शिनपैड उन्होंने अपने अंगूठे को बचाने के लिए लगाया था। यह पैड आमतौर पर विकेटकीपर पहनते हैं।
फिर हुआ कुछ ऐसा:-लिविंगस्टोन 11वें क्रम पर बल्लेबाजी के लिए उतरे, लेकिन उन्हें एक भी गेंद का सामना नहीं करना पड़ा क्योंकि जो रूट ने जेम्स एंडरसन को बोल्ड कर दिया। लंकाशायर की पारी 204 रनों पर सिमट गई और यॉर्कशायर ने यह मैच 118 रनों से जीत लिया।
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी हुआ है ऐसा:-क्रिकेट के इतिहास में कई ऐसे किस्से हैं, जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कई खिलाड़ी चोटिल होने के बावजूद भी अपने देश का सम्मान बचाने के लिए मैदान पर उतरे।
टूटे जबड़े से साथ उतरे कुंबले:-भारत के पूर्व कप्तान अनिल कुंबले ने वेस्टइंडीज़ में टूटे जबड़े के साथ गेंदबाज़ी की थी। साल 2002 में भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेले गये टेस्ट मैच में अनिल कुंबले के सिर में मर्वन डिल्लन की बाउंसर लग गयी थी। भारतीय लेग स्पिनर के सिर और जबड़े से खून बहने लगा था तो जो तकरीबन 20 मिनट तक बंद नहीं हुआ था।लेकिन अगले दिन कुंबले ने जबड़े और सिर से लगी पट्टी पहनकर मैदान में उतरे और 14 ओवर गेंदबाज़ी की जिसमें उन्होंने लारा को आउट भी किया था। मैच के बाद जब कुंबले का इलाज हुआ तो उनके जबड़े में फ्रैक्चर निकला। जिसकी वजह से उन्होंने बाकी सीरीज में भाग नहीं लिया था।
टूटी नाक के साथ खेला ये खिलाड़ी:-इंग्लैंड के तेज गेंदबाज़ स्टुअर्ट ब्रॉड को वरुण एरॉन की बाउंसर लग गयी थी। जिससे उनके नाक में फ्रैक्चर हो गया था। हालाँकि उन्होंने इस मैच में अपनी बल्लेबाज़ी रोक दी थी। लेकिन उन्होंने इस मैच में चोटिल होने के बावजूद 3 विकेट लिए और 21 गेंदों पर 31 अहम रन भी पहली पारी में बनाये थे। इंग्लैंड ने इस पांचवें टेस्ट को एक पारी और 244 रन से जीता लिया था।
फ्रैक्चर के बाद भी की गेंदबाज़ी:-पाकिस्तानी तेज गेंदबाज़ वहाब रियाज ने अभी हाल ही में बीते साल 2015 में बहादुरी का परिचय दिया है। श्रीलंका के साथ तीन मैचों की सीरीज के दुसरे मैच में रियाज के हाथ फ्रैक्चर हो गया था। उन्हें दुश्मंता चमीरा की गेंद लगी थी और उनके हाथ में हेयरलाइन फ्रैक्चर हो गया था। इस चोट के बावजूद भी रियाज ने 9 ओवर की गेंदबाज़ी की और जब दर्द काफी बढ़ गया तो वह मैदान से बाहर चले गये थे। पाकिस्तान ने इस मैच में जीत हासिल की थी।
प्लास्टर के साथ खेला ये खिलाड़ी:-दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान स्मिथ को साल 2009 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चोट के बावजूद बल्लेबाज़ी करने के लिए "ब्रेवेस्ट मैन इन क्रिकेट" का ख़िताब दिया गया था। सिडनी में आखिरी टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 394 रन का स्कोर खड़ा किया था। जवाब में स्मिथ ने तेजी से 30 रन बनाये थे। लेकिन मिचेल जॉनसन की गेंद पर वह चोटिल हो गये। दूसरी पारी में जब दक्षिण अफ्रीका कठिन परिस्थितियों में था, तब स्मिथ 11वें नंबर पर बल्लेबाज़ी के लिए उतरे थे। उनके टूटे हुए हाथ पर प्लास्टर चढ़ा था। इसके बावजूद उन्होंने 17 गेंदों तक बल्लेबाज़ी और मिचेल जॉनसन ने उन्हें आउट कर दिया था। जिसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने इस मैच को जीत लिया।
मैल्कम मार्शल ने की एक हाथ से बल्लेबाज़ी:-सन 1984 में हेडिंग्ले टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ मैल्कम मार्शल का एक हाथ टूट गया था। बड़ी चोट की वजह से वह 11वें नम्बर पर बल्लेबाज़ी के लिए उतरे थे। क्योंकि लार्री गोम्स का शतक पूरा होने वाला था। चोटिल मार्शल ने गोम्स शतक पूरा करवाया और दूसरी पारी में गेंदबाज़ी भी की। जहाँ उन्हें 7 विकेट मिले और वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड पर रिकॉर्ड 8 विकेट से जीत हासिल की।

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज मिचेल जॉनसन ने बिग बैश लीग से संन्यास की घोषणा कर दी है हालांकि अभी तक ये सामने नहीं आया है कि वह आइपीएल में खेलेंगे या नहीं। जॉनसन के मैनेजर ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि बिग बैश के बदले प्रारुप के कारण उन्होंने ये फैसला किया। इस बार क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने टूर्नामेंट के फॉर्मेट में बदलाव करते हुए देश में और देश के बाहर 14 मैच करवाने का फैसला किया है। जॉनसन के मैनेजर ने बताया कि 37 साल के इस गेंदबाज के लिए इतनी क्रिकेट ममुकिन नहीं है। जॉनसन पिछले दो साल से पर्थ स्कॉचर्स के मुख्य गेंदबाज थे। जॉनसन ने हाल ही में यूएई में आयोजित होने वाली टी-10 लीग के लिए अनुबंध किया है। वहीं इस साल वह आइपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स की तरफ से खेलते दिखाई दिए थे।ऑस्ट्रेलिया के इस तेज गेंदबाज ने पर्थ की तरफ से खेलते हुए 19 मैच में 20 विकेट लिए हैं। वह भी 22.75 की शानदार औसत से। पर्थ की तरफ से उन्होंने अपना आखिरी मैच पिछले साल खेला था। इस साल की शुरुआत में पाकिस्तान क्रिकेट लीग से भी अलग होने का फैसला किया था। इस तेज गेंदबाज ने साल 2015 में इंटरनेशनल और प्रथम श्रेणी क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। साल 2005 में अपने इंटरनेशनल क्रिकेट का आगाज करने वाले जॉनसन ने 153 वनडे में 239 विकेट लिए हैं। वह भी 26 से कम की औसत से। इसके अलावा 73 टेस्ट मैच में 313 विकेट भी उनके नाम दर्ज है। जॉनसन गेंदबाजी के अलावा ठीक-ठाक बल्लेबाजी भी कर लेते थे। टेस्ट में उन्होंने 1 शतक और 11 अर्धशतक लगाए हैं।2013-14 में खेली गई एशेज सीरीज में जॉनसन ने कहर ढाया था। उस सीरीज में उन्होंने अपने दम पर इंग्लैंड को चित कर दिया था। उस एशेज में जॉनसन ने पांच टेस्ट में उन्होंने कुल 37 विकेट निकाले थे और अपनी टीम को इंग्लैंड पर 5-0 की धमाकेदार जीत दिलाई थी।

 

 

 

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के सीनियर बल्लेबाज गौतम गंभीर ने जेम्स एंडरसन की कही बात पर टीम इंडिया के कप्तान विराट को सलाह दी है कि उन्हें कुछ भी साबित करने की जरूरत नहीं है। आपको बता दें कि विराट ने कहा था कि अगर भारतीय टीम जीत रही है तो उनका व्यक्तिगत फॉर्म उनके या फिर टीम के लिए कोई मायने नहीं रखता। इस पर एंडरसन ने उन्हें झूठा बताया था और कहा था कि वो इंग्लैंड में अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हैं क्योंकि पिछले टेस्ट सीरीज में वो फेल हो गए थे। गंभीर ने एंडरसन के इस बात का जबाव देते हुए कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ विराट बेहतरीन प्रदर्शन करेंगे और साबित कर देंगे कि वो इस वक्त दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं। गंभीर ने कहा कि विराट को अतिरिक्त दबाव लेने की जरूरत नहीं है और ना ही पिछले इंग्लैंड दौरे के बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत है। सबसे अहम बात ये है कि उन्होंने पूरी दुनिया में खुद को साबित किया है और इस वक्त वो दुनिया के टॉप तीन बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं। विराट ने अपनी कप्तानी में हमेशा ही बेहतरीन प्रदर्शन करके टीम को लीड किया है। गंभीर ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग का उदाहरण देते हुए कहा कि भारत में उन्होंने सिर्फ एक शतक लगाया था लेकिन यहां के क्रिकेट फैंस भी उन्हें महान खिलाड़ी मानते हैं।

 

नई दिल्ली। इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले टेस्ट सीरीज के पहले तीन मैचों में रिषभ पंत को भारतीय टीम में जगह दी गई है। साहा की गैरमौजूदगी में रिषभ को टीम में शामिल किया गया। रिषभ ने पिछले घरेलू सीजन के साथ-साथ आइपीएल में भी शानदार प्रदर्शन किया था और इसी के बूते उन्हें टेस्ट टीम में शामिल किया गया। रिषभ जहां विकेट के पीछे और आगे दोनों जगह बेहतरीन प्रदर्शन का माद्दा रखते हैं वहीं वो अपनी फिटनेस को लेकर भी खूब काफी सतर्क रहते हैं। रिषभ पंत अपनी फिटनेस एक एक्रोबेटिक्स स्किल्स के वीडियो अपने इंस्टाग्राम पर भी शेयर करते रहते हैं। हाल में ही उन्होंने एक वीडियो पोस्ट कया था। इस वीडियो में साफ दिख रहा है कि वो कमाल की कलाबाजी कर रहे हैं। रिषभ की इस वीडियो को क्रिकेट फैंस ने खूब पसंद किया और काफी मजेदार कमेंट्स भी किए साथ ही उनकी फिटनेस की भी जमकर तारीफ की लेकिन उनके साथी खिलाड़ी युजवेंद्र चहल ने इस वीडियो पर मजेदार कमेंट किया।चहल ने वीडियो देखकर लिखा कि- अपोलो सर्कस से ऑफर आया है भाई। तुम्हारे इस वीडियो को देखने के बाद हां कर दूं। चहल के इस कमेंट पर रिषभ ने जबाव दिया कि हां, प्लीज लेकिन मैं आपके साथ ही सर्कस ज्वाइन करूंगा।

ईशान खट्टर की हाल ही में रिलीज हुई फिल्म ‘धड़क’ बॉक्स आॅफिस पर शानदार प्रदर्शन कर रही है। धर्मा प्रोडक्शन की इस फिल्म में ईशान के अपोजिट श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी ने अपना डेब्यू किया है। ईशान की बात करें तो वह इन दिनों फिल्म को मिल रही सक्सेस का लुत्फ उठाते हुए नजर आ रहे हैं। पिछले कई दिनों से फिल्म के प्रमोशन में जुटे ईशान अब फुर्सत के कुछ पलों में अपने शौक पूरे करते हुए नजर आए हैं। दरअसल ईशान हाल ही में भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी के साथ फुटबॉल खेलते हुए नजर आए हैं।मुंबई में महेन्द्र सिंह धोनी ने मुंबई में ‘धड़क’ फेम ईशान खट्टर के साथ फुटबॉल का लुत्फ लिया है। आॅल स्टार फुटबॉल क्लब की ओर से आयोजित इस मैच में धोनी और ईशान को मैदान पर साथ में वक्त गुजारते हुए भी देखा गया है। महेन्द्र सिंह धोनी का फुटबॉल का शौक किसी से छिपा नहीं है। वह अक्सर फुटबॉल खेलते हुए भी नजर आ जाते हैं। इसके अलावा आॅल स्टार फुटबॉल क्लब की बात करें तो यह क्लब सिलेब्रिटीज के बीच में फुटबॉल के मुकाबलों का आयोजन करता रहता है। रणबीर कपूर से लेकर डीनो मोरिया और अभिषेक बच्चन समेत कई सेलेब्स इस क्लब के लिए फुटबॉल खेलते हुए पहले भी नजर आ चुके हैं। अब इन सेलेब्स में ईशान के रूप में नया नाम जुड़ा है।इस मैच के दौरान ईशान की फिल्म के डायरेक्टर शशांक खेतान भी मैदान पर नजर आए हैं। बहरहाल, धोनी के साथ ईशान को मैदान में देखकर तो यही लग रहा है कि वह मास्टर से मैदान मारने के टिप्स ले रहे हैं। खैर, ‘धड़क’ ईशान खट्टर की दूसरी फिल्म थी और इस फिल्म के लिए भी उन्हें काफी तारीफ मिल रही है। ईशान प्रोफेशनल डांसर भी हैं और अब अपनी दूसरी ही फिल्म से उन्होंने एक्टिंग में भी अपनी छाप छोड़ दी है।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को ये लगता है कि 'जब तक भारत जीत रहा है और वो रन नहीं भी बना रहे हैं तो ये मायने नहीं रखता'। विराट की इस बात पर इंग्लैंड क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने कहा कि अगर विराट को लगता है कि उनका फॉर्म टीम के लिए मायने नहीं रखता तो वो झूठ बोल रहे हैं। विराट को वर्ष 2014 में हुए टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड के खिलाफ रन बनाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी थी और पांच टेस्ट मैचों में उन्होंने सिर्फ 134 रन बनाए थे। ये विराट का टेस्ट सीरीज में सबसे खराब प्रदर्शन में से एक है। भारतीय टीम को इंग्लैंड के खिलाफ एक अगस्त से टेस्ट सीरीज खेलनी है।विराट कोहली ने मौजूदा दौरे की शुरुआत में कहा था कि जब तक भारतीय टीम अच्छा प्रदर्शन कर रही है तब तक वो अपनी फॉर्म को लेकर चिंतित नहीं हैं। उन्होंने अपनी फॉर्म को लेकर पूछे गए सवाल पर ये बात कही थी। हालांकि वो इंग्लैंड के खिलाफ वर्ष 2016-17 में अपने घरेलू सरजमीं पर खेले गए पांच टेस्ट मैचों के दौरान 655 रन बनाने में सफल रहे थे और इस टेस्ट सीरीज को भारत ने 4-0 से जीता था। एंडरसन ने कहा कि विराट अपनी कप्तानी में जरूर भारतीय टीम को जीत दिलाना चाहते होंगे और यहां जीतना उनके लिए काफी मायने रखता है। वो अपनी टीम के लिए रन बनाने को बेकरार होंगे। विराट के खिलाफ एंडरसन का टेस्ट में काफी अच्छा रिकॉर्ड है और वर्ष 2014 में टेस्ट सीरीज के दौरान विराट को उन्होंने छह पारियों में से चार बार आउट किया था।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार गेंदबाज युजवेंद्र सिंह चहल का जन्म 23 जुलाई 1990 को हुआ था। सोमवार को उनका 28वां जन्मदिन है, मौजूदा समय में युजवेंद्र चहल भारतीय क्रिकेट टीम में स्पिन गेंदबाजी के ट्रंपकार्ड हैं वो दाहिने हाथ से लेग स्पिन गेंदबाजी करते हैं। कम लोगों को पता होगा कि क्रिकेट से पहले चहल देश के लिए शतरंज का प्रतिनिधित्व भी कर चुके हैं। चहल ने…
नई दिल्ली। भारत क्रिकेट टीम को इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की सीरीज एक अगस्त से खेलनी है। इस टेस्ट सीरीज से पहले भारतीय टीम के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव काफी चर्चा में हैं। वजह ये है कि कई पूर्व क्रिकेटर लगातार कह रहे हैं कि भारत को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कुलदीप को टीम का हिस्सा बनाया जाना चाहिए। इस फेहरिस्त में एक नाम और जुड़…
नई दिल्ली। श्रीलंका और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए दो टेस्ट मैचों की सीरीज में प्रोटियाज का जो हाल हुआ उसके बारे में इस टीम ने शायद ही कभी सोचा होगा। दक्षिण अफ्रीका को दोनों ही टेस्ट मैचों में मेजबान टीम के हाथों बड़े अंतर से हार का सामना करना पड़ा। पहले टेस्ट मैच में श्रीलंका ने दक्षिण अफ्रीका को 278 और दूसरे मैच में 199 रन के बड़े…
नई दिल्ली। भारत के सफल तेज गेंदबाजों में से एक जहीर खान का मानना है कि भले ही इंग्लैंड दौरे के दौरान भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह चोटिल है लेकिन इसके बावजूद भारत के पास मजबूत बैंच स्ट्रेंथ है। इस सीरीज से पहले भुवनेश्वर की चोट पर संशय बना हुआ है तो बीसीसीआइ के अनुसार जसप्रीत बुमराह दूसरे टेस्ट से पहले तक फिट नहीं हो पाएंगे। अब इन दोनों की…
Page 8 of 307

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें