खेल

खेल (3297)


मेलबर्न - आॅस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ ने माना है कि वो इंग्लैंड के खिलाफ हाल ही में खत्म हुई एशेज सीरीज के बाद खुद को मानसिक रूप से अस्वस्थ महसूस कर रहे थे। स्टीव स्मिथ फिलहाल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर हैं। स्मिथ ने कहा कि पिछले एक साल के दौरान भारत और बांग्लादेश के कठिन दौरे और एशेज सीरीज में इंग्लैंड के साथ पांच टेस्ट मैचों में कप्तान के तौर पर खेलने के बाद उन्हें इस आराम की सख्त जरूरत थी। 28 वर्षीय आॅस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा, 'मुझे अपने मानसिक रूप से अस्वस्थ होने के बारे में तब पता चला जब मैंने इंग्लैंड के खिलाफ पांच वनडे मैचों की सीरीज में आराम करने का फैसला किया।'
आॅस्ट्रेलियाई टीम फिलहाल तीन देशों की टी20 सीरीज में व्यस्त है। इस सीरीज में न्यूजीलैंड और इंग्लैंड की टीमें शिरकत कर रही हैं। स्टीव स्मिथ की अनुपस्थिति में डेविड वॉर्नर टीम की कमान संभाल रहे हैं। स्मिथ ने कहा, 'आप जब टीम के साथ जुड़े होते हैं तो इस बारे में सोचना भी नहीं चाहते कि आप थके हैं। लेकिन, मुझे वनडे सीरीज में आराम करने के बाद पता चला कि मैं वास्तव में मानसिक रूप से काफी थका हुआ था।' स्टीव स्मिथ ने मलबर्न में एलन बॉर्डर मेडल जीतने के बाद यह बात कही।


सेंचुरियन - भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच छह मैचों की टेस्ट सीरीज जारी है। सीरीज का आखिरी मैच शुक्रवार को सेंचुरियन में खेला जाना है। वनडे सीरीज में कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी ने जहां मैदान पर धमाल मचाया हुआ है तो वहीं सोशल मीडिया पर दोनों भिड़ पड़े। कुलदीप ने इंस्टाग्राम पर एक फोटो शेयर की, जिसपर चहल ने ऐसा कमेंट किया कि कुलदीप ने उन्हें बदले में लिख दिया कि मैं तुम्हें अकेले गेंदबाजी करने नहीं दूंगा।
दरअसल दोनों के बीच ये मजेदार भिड़त तब शुरू हुई जब कुलदीप ने पहाड़ पर अकेले बैठे हुई एक फोटो शेयर की। कुलदीप ने एक फोटो शेयर की औैर कैप्शन में लिखा, 'टेबल माउंटेन के टॉप पर बैठकर केपटाउन शहर को देखना शानदार अनुभव।' ये फोटो कुछ दिन पहले की है। इस फोटो पर चहल ने कमेंट किया, 'भाई प्लीज कूदना मत।'
इन दोनों ने मिलकर वनडे सीरीज के पांच वनडे तक कुल 30 विकेट लिए हैं। इनमें से 16 कुलदीप के नाम हैं और 14 चहल के नाम पर हैं।
कुलदीप ने लिखा, 'परेशान मत हो दोस्त, मैं तुम्हें अकेले गेंदबाजी नहीं करने दूंगा।'
चौथा वनडे छोड़ दें तो इन दोनों ने अभी तक सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया है। दोनों आखिरी वनडे में जितने भी विकेट लेते हैं वो दक्षिण अफ्रीका में उनके रिकॉर्ड को और मजबूत कर देगा। दक्षिण अफ्रीका में किसी द्विपक्षीय सीरीज में ओवरसीज स्पिनर के सबसे ज्यादा वनडे विकेट लेने का रिकॉर्ड इन दोनों में से किसी एक के नाम हो जाएगा। पहले ये रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के कीथ अर्थटन के नाम था, जिन्होंने 1998-99 सीजन में 12 विकेट लिए थे। फिलहाल कुलदीप और चहल दोनों ही अर्थटन से आगे हैं। आखिरी वनडे में ये तय हो जाएगा कि कौन रहेगा सबसे आगे।


नई दिल्ली - टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कप्तान विराट कोहली की जमकर तारीफ की है। वीरू की माने तो उन्होंने जितने भी कप्तान देखे हैं, उनमें विराट बेस्ट हैं। इसके अलावा वीरू ने विराट की तुलना सौरव गांगुली से करते हुए कहा है कि वो 'दादा' का अपग्रेडेड वर्जन हैं।
टेस्ट सीरीज के दौरान वीरू ने जहां विराट की जमकर आलोचना की थी, वनडे सीरीज के बाद उनके सुर बिल्कुल बदले हुए नजर आ रहे हैं। वीरू ने एक न्यूज चैनल पर कहा, 'सीरीज जीतने की बात करें तो विराट नंबर-1 कप्तान है। अगर हम उनकी कप्तानी में पिछली आठ सीरीज देखें तो पाएंगे कि वो अभी तक के सबसे बेहतर कप्तान हैं।'
आपको बता दें कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला टेस्ट गंवाने के बाद वीरू ने ही विराट को आड़े हाथों लिया था। तब वीरू ने कहा था विराट अगर सेंचुरियन टेस्ट में फेल होते हैं, तो उन्हें खुद को ड्रॉप कर देना चाहिए। तब वीरू ने टीम सिलेक्शन को लेकर विराट की क्लास लगाई थी। उन्होंने तब कहा था, 'शिखर धवन के एक मैच में फेल होने पर उन्हें हटा देना, भुवनेश्वर कुमार को बिना किसी कारण टीम से हटाना गलत है। ऐसे में अगर विराट खुद रन नहीं बनाते तो उन्हें खुद को भी ड्रॉप कर देना चाहिए।'
वीरू ने बाकी कप्तानों से तुलना को लेकर कहा, 'अभी ये जल्दबाजी होगी। जहां पिछले कप्तान पहुंचे हैं, वहां तक पहुंचने के लिए उसे और ज्यादा समय और अनुभव चाहिए।' वीरू ने कहा कि समय के साथ विराट मैच्योर होते जाएंगे और उन पर बाकी कप्तानों की तरह कप्तानी का दबाव भी नजर नहीं आता। उन्होंने कहा, 'उसे कप्तानी के साथ आत्मविश्वास आया है। बाकी लोगों से बेहतर तरीके से वो कप्तानी में अपने खेल को आगे लेकर गया है।'
उन्होंने कहा, 'अगर एग्रेशन की बात करें तो विराट की तुलना सौरव गांगुली के की जा सकती है। इतना ही नहीं वो सौरव गांगुली का अपग्रेडेड वर्जन हैं। गांगुली की कप्तानी में हमने ओवरसीज कुछ शानदार जीत देखीं।' वीरू ने कहा, 'मुझे याद है कि द्रविड़ ने एक बार कहा था कि विराट का एग्रेशन उसे सूट करता है। एग्रेशन जरूरी नहीं कि आपको सफलता दिलाई लेकिन विराट के केस में ये उनकी ताकत है।'


देहरादून - ऑस्ट्रेलिया, नाम सुनते ही पांच बार विश्व कप खिताब कब्जा चुके इस देश की क्रिकेट में बादशाहत जेहन में उभर आती है। पर, अगर आपको पता चले कि इसी ऑस्ट्रेलिया के भावी क्रिकेटरों का ‘द्रोण’ एक भारतीय युवा है तो यकीनन सर गर्व से ऊंचा हो जाता है। मूलत: कोटद्वार (उत्तराखंड) के रहने वाले मानवेंद्र बिष्ट ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट बोर्ड क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से संबद्ध अंडर 9, अंडर 14 बालक टीम और अंडर 13 बालिका टीम के कोच की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। खास बात यह है कि हाल में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से संबद्ध सिडनी सिक्सर्स की ओर से जूनियर टीमों के लिए आयोजित बिग बैश लीग में मानवेंद्र की कोचिंग में गार्डोन डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट क्लब की अंडर-13 बालिका टीम ने खिताब हासिल किया।
सिडनी से फोन पर ‘हिन्दुस्तान’ से बातचीत में मानवेंद्र ने बताया कि सेंट जोसफ कॉन्वेंट और डीएवी पब्लिक स्कूल कोटद्वार से उनकी स्कूली शिक्षा पूरी हुई। स्कूली पढ़ाई के साथ ही क्रिकेट का शौक बढ़ता गया। इसके बाद यहीं डॉ. पीतांबर दत्त बड़थ्वाल राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय से बीएससी किया। इसी दौरान कॉलेज की क्रिकेट टीम में चयन हुआ और गढ़वाल विश्वविद्यालय की टीम में कई बार प्रतिनिधित्व किया। एमसीए के बाद गुरुग्राम में आईटी जॉब के दौरान कई कारपोरेट टूर्नामेंट में प्रतिभाग किया।
मानवेंद्र बताते हैं कि ऑस्ट्रेलियाई बच्चों में क्रिकेट का जज्बा बचपन से ही दिखता है। इसे और बढ़ाने में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से मिलने वाली सुविधाएं भी बड़ी मदद करती हैं। उन्होंने बताया कि ऑस्ट्रेलियाई बच्चे ‘बैकफुट’ में सबसे मजबूत होते हैं। इसकी एक वजह ऑस्ट्रेलिया में हरे घास के मैदान और एस्ट्रोटर्फ पिच पर अभ्यास करना है।
ऑस्ट्रेलिया में जूनियर क्रिकेट मानक
स्टेज एक (अंडर 10/11)
मैच का समय: 120 मिनट
ओवर (एक पारी): 20
पिच की लंबाई: 16 मीटर,
खिलाड़ी: 07, बाउंड्री: 40 मीटर
स्टेज 2 (अंडर 12/ 13)
मैच का समय: 120 या 180 मिनट,
ओवर: टी-20 (अधिकतम 30),
पिच लंबाई: 18 मीटर,
खिलाड़ी: 09, बॉल: 142 ग्राम
क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया तीन श्रेणी कम्युनिटी कोच, रिप्रजेंटेटिव कोच और हाई परफॉर्मेंस कोच के तौर पर कोचों को तैयार कर रहा है। मानवेंद्र ने बताया कि हाल में उन्होंने एकवर्षीय कम्युनिटी कोच कोर्स पूरा कर लिया है। अब उनकी नजर रिप्रजेंटेटिव कोच और उसके बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया में कोचिंग की सबसे ऊंची श्रेणी यानी हाई परफॉर्मेंस कोच के कोर्स पर है। वह बताते हैं कि जिन तीन टीमों की जिम्मेदारी उन्हें मिली है, उनका बेहतर प्रदर्शन ही उनके अगले कोर्स की बुनियाद बनेगा। मानवेंद्र कहते हैं कि उच्चतम कोर्स करने के बाद उनका लक्ष्य भारत में क्रिकेट कोचिंग को नए आयाम देना है।


पोर्ट एलिजाबेथ - भारत और साउथ अफ्रीका के बीच छह दिवसीय वनडे मैच की सीरीज खेली जा रही है। इस सीरीज के पांचवें मैच में कुछ ऐसा हुआ जो रबाड़ा को भारी पड़ गया। दरअसल, धवन के आउट होने पर रबाडा ने उन्हें हाथ हिलाकार बाय-बाय का इशारा किया। साथ ही उन्हें पवेलियन लौटने का भी इशारा किया। रबाड़ा के इस हरकत पर आईसीसी ने एक्शन लेते हुए उनपर फाइन लगा दिया। रबाड़ा पर उनकी मैच फीस का 15 प्रतिशत फाइन लगाया गया है। रबाडा का ये बरताव इंडियन फैंस को बिल्कुल पसंद नहीं आया था और सोशल मीडिया पर उन्होंने इसे लेकर अपना गुस्सा भी जाहिर किया था।
मंगलवार को खेले गए मैच के दौरान दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज कगीसो रबाडा ने मैदान पर जंग का आगाज कर दिया। लेकिन उनको ये आगाज भारी पड़ गया। दरअसल मैच के दौरान साउथ अफ्रीका ने टॉस जीतते हुए भारत को पहले बल्लेबाजी करने का न्यौता दिया। शिखर धवन और रोहित शर्मा ने मिलकर अच्छी शुरुआत की। इनफॉर्म धवन काफी तेजी से रन बना रहे थे और ये बात दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज कगीसो रबाडा को रास नहीं आ रही थी।
रबाडा ने धवन को आउट करने के लिए एक जाल बुना और वो उसमें फंस भी गए। धवन 23 गेंद पर 34 रन बनाकर रबाडा की शॉर्ट पिच गेंद पर आउट हुए। धवन के आउट होते ही रबाडा ने हाथ से उन्हें 'Bye bye' का इशारा किया और साथ ही पवेलियन लौटने का भी इशारा किया। रबाडा का ये व्यवहार भारतीय फैन्स को बिल्कुल पसंद नहीं आया और उन्होंने सोशल मीडिया पर इसको लेकर अपना गुस्सा भी अच्छे से जाहिर किया था।


पोर्ट एलिजाबेथ - भारत ने दक्षिण अफ्रीका में 25 साल का सूखा आखिरकार खत्म कर दिया। छह मैचों की वनडे सीरीज में 4-1 की बढ़त के साथ ही भारत ने सीरीज पर भी कब्जा कर लिया है। ये पहला मौका है जब भारतीय टीम ने दक्षिण अफ्रीका को उसी की धरती पर वनडे सीरीज में पटखनी दी है।
इस सीरीज विन में चार खिलाड़ियों का सबसे बड़ा योगदान रहा है। कप्तान विराट कोहली, शिखर धवन, युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव का। रिस्ट स्पिनर कुलदीप और युजवेंद्र ने मिलकर पांच मैचों में 30 विकेट झटके हैं।
कुलदीप ने 16 और चहल ने 14 विकेट लिए हैं। दोनों के बीच की जुगलबंदी भी क्रिकेट फैन्स को खूब पसंद आ रही है। वैलेंटाइन्स डे के मौके पर चहल ने कुलदीप के साथ फोटो शेयर करते हुए एक खास मेसेज लिखा है।

 

पोर्ट एलिजाबेथ - भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ छह मैचों की सीरीज का पांचवां वनडे 73 रनों से जीत लिया। इसके साथ ही टीम इंडिया ने सीरीज अपने नाम कर ली और वनडे रैंकिंग में भी नंबर-1 बन गई। विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम टेस्ट के बाद अब वनडे में भी नंबर-1 टीम बन गई है। वनडे सीरीज में टीम इंडिया 4-1 से आगे है। सीरीज से पहले…
पोर्ट एलिजाबेथ - विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने इतिहास रच डाला। पोर्ट एलिजाबेथ में मंगलवार को खेले गए छह मैचों की सीरीज का पांचवां वनडे जीतने साथ ही टीम इंडिया ने सीरीज पर कब्जा जमा लिया। इस जीत के हीरो रहे रोहित शर्मा, जिन्होंने 115 रनों की पारी खेली और मैन ऑफ द मैच भी चुने गए। दक्षिण अफ्रीका में सभी फॉरमैट मिलाकर ये रोहित का पहला…
पोर्ट एलिजाबेथ - भारत ने दक्षिण अफ्रीका को वनडे सीरीज में हराकर इतिहास रच डाला है। ये पहला मौका है, जब भारत ने दक्षिण अफ्रीका में कोई वनडे सीरीज जीती है। मंगलवार को पोर्ट एलिजाबेथ में खेले गए पांचवें वनडे को जीतकर भारत ने सीरीज पर कब्जा जमा लिया है, अब छठा मैच शुक्रवार को खेला जाएगा। छह मैचों की सीरीज में भारत 4-1 से आगे है। रोहित शर्मा की…
पोर्ट एलिजाबेथ - भारत ने द.अफ्रीका के खिलाफ सीरीज जीत ली है। इसके साथ ही भारत ने एक इतिहास रचा है। 26 साल में पहली बार भारत ने द. अफ्रीका में 6 मैचों की सीरिज पर 4-1 से कब्जा किया है। सीरीज के पांचवें मैच में भारत ने द.अफ्रीका को 73 रनों से हराया है। इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 275 रनों का लक्ष्य दिया था।…
Page 5 of 236

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें