खेल

खेल (4013)

वेस्टइंडीज़। वेस्टइंडीज दौरे पर टेस्ट सीरीज के लिए गई श्रीलंका टीम को उसके अहम खिलाड़ियों एंजेलो मैथ्यूज और लाहिरु गमागे के बाहर होने के कारण बड़ा झटका लगा है। एंजेलो को निजी कारणों से घर वापस जाना पड़ा है, वहीं तेज गेंदबाज उंगली में चोट के कारण बाहर हो गए हैं।गमागे को पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले गए पहले टेस्ट मैच के आखिरी दिन अंगुली में चोट लगी थी। शेनन गेब्रिएल की गेंद उनके दस्तानों में लगी थी। हालांकि, इसके बावजूद उन्होंने बल्लेबाजी जारी रखी थी। गमागे अब अपनी टूटी हुई अंगुली के साथ वापस श्रीलंका लौटेंगे।मैथ्यूज ने पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में 11 और 31 रन बनाए थे। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया की मैथ्यूज जब अपनी हैमस्ट्रिंग की चोट की वजह से निदाहस ट्रॉफी में खेलने से चूक गए तो वह बहुत निराश थे। वह वेस्टइंडीज में मजबूत वापसी करने के लिए दृढ़ थे लेकिन एक जरूरी पारिवारिक आवश्यकता ने उन्हें इस दौरे को बीच में छोड़कर जाने के लिए मजबूर कर दिया है।आपको बता दें कि वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए पहले टेस्ट मैच में श्रीलंका को 226 रनों से हार का सामना करना पड़ा था। दोनों टीमों के बीच 14 जून से दूसरा टेस्ट मैच खेला जाना है।श्रीलंका ने इस दौरे के लिए 15 खिलाड़ियों के बजाए 17 खिलाड़ियों का चयन किया था। ऐसे में उनके पास धनंजय डी सिल्वा, महेला उदावते, कासुन राजिथा और असिथा फर्नादो जैसे अतिरिक्त खिलाड़ी हैं।

बेंगलुरु। अफगानिस्तान के खिलाफ ऐतिहासिक टेस्ट मैच में भले ही विराट कोहली नहीं खेल रहे हैं लेकिन भारत के नियमित कप्तान बीसीसीआइ के सालाना पुरस्कार समारोह में आकर्षण का केंद्र रहे जिन्हें लगातार दो सत्र के लिए पॉली उमरीगर ट्रॉफी (वर्ष के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर) प्रदान की गई। कोहली को ये अवॉर्ड चौथी बार मिला है और वो इस सम्मान को चार बार पाने वाले पहले खिलाड़ी हैं। चौथी बार इस सम्मान से नवाज़े जाने वाले कोहली के लिए इस बार का ये अवॉर्ड पहली तीन बार के मुकाबले बेहद खास रहा। क्योंकि टीम इंडिया के कप्तान को इस बार ये अवार्ड उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा के सामने मिला।शानदार फॉर्म में चल रहे कोहली ने 2016-17 और 2017-18 में जबर्दस्त प्रदर्शन किया। वह फिलहाल आइपीएल के दौरान गर्दन में लगी चोट का उपचार करा रहे हैं जिसकी वजह से वह सरे के लिए काउंटी क्रिकेट भी नहीं खेल सके। कोहली 15 जून को एनसीए में फिटनेस टेस्ट देंगे। पुरस्कार समारोह में अफगानिस्तान की राष्ट्रीय टीम भी मौजूद थी जो गुरुवार से भारत के खिलाफ पहला टेस्ट खेलेगी।इस अवार्ड शो में पिछले जमाने और मौजूदा पीढ़ी के भारतीय क्रिकेटर एक ही छत के नीचे मौजूद थे। अंशुमन गायकवाड़ और सुधा शाह को सीके नायडू लाइफटाइम अचीवमेंट सम्मान दिया गया। जलज सक्सेना और परवेज रसूल को घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छे प्रदर्शन का पुरस्कार मिला। जलज और रसूल को रणजी ट्रॉफी में सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर और क्रुणाल पांड्या को विजय हजारे वनडे चैंपियनशिप में उनके प्रदर्शन के लिए पुरस्कार मिले। पांड्या भारत-ए के साथ दौरे पर होने के कारण पुरस्कार लेने के लिए मौजूद नहीं थे।अन्य मुख्य पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर स्मृति मंधाना को चुना गया। वहीं, मयंक अग्रवाल (माधवराव सिंधिया), आर्यमान बिरला (एमए चिंदबरम ट्रॉफी- सर्वाधिक स्कोरर), दिल्ली के तेजस बरोका (एमए चिंदबरम ट्रॉफी-सर्वाधिक विकेट ), दीप्ति शर्मा (जगमोहन डालमिया ट्रॉफी- सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटर), दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (घरेलू टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन) को भी अवार्ड मिला।

बेंगलुरु। बीसीसीआइ के समारोह में लेक्चर देने आए केविन पीटरसन ने भारतीय क्रिकेट के दिग्गज़ों के सामने ही बीसीसीआइ की नीति पर दबे शब्दों में सवाल उठा दिए। इस समारोह ने इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने टेस्ट क्रिकेट को बचाने के लिए डे-नाइट टेस्ट का समर्थन किया और कहा कि इस प्रारूप को जिंदा रखने का यहीं एकमात्र तरीका है। पहली बार किसी विदेशी क्रिकेटर ने एमएके पटौदी स्मृति व्याख्यान दिया। उन्होंने इस मौके पर कहा, ‘यदि हम पांच दिनों का क्रिकेट बचाना है तो इसे खेलना भी होगा। इस खेल में क्रिकेटरों के पास कई तरह से खुद को साबित करने के मौके रहते हैं। टेस्ट क्रिकेट को बचाना है तो हमें डे-नाइट टेस्ट खेलने की अब जरूरत है।आपको बता दें कि बीसीसीआइ डे-नाइट टेस्ट खेलने को लेकर सहज नहीं है। इसी वजह से भारतीय टीम ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के दिन रात के टेस्ट मैच के प्रस्ताव को नकार दिया था। बीसीसीआइ ने ये कहकर इस प्रस्ताव को ठुकराया था कि अभी बीसीसीआइ डे-नाइट टेस्ट खेलने को लेकर सहज नहीं है और अब केविन पीटरसन ने बीसीसीआइ के समारोह में आकर डे-नाइट टेस्ट का समर्थन कर दिया। पीटरसन ने मंगलवार को छठे एमएके पटौदी मेमोरियल लेक्चर में टेस्ट क्रिकेट को मशहूर करने के सुझाव दिए।इंग्लैंड के पूर्व कप्तान ने अपनी बात रखते हुए कहा कि दिन-रात प्रारूप, समान वेतन और सस्ते टिकटों के माध्यम से टेस्ट क्रिकेट में लोगों को आकर्षित किया जा सकता है।पीटरसन इस कार्यक्रम में लेक्चर देने वाले पहले गैर-भारतीय खिलाड़ी बने हैं। उनका मानना है कि टेस्ट क्रिकेट बेहद अहम और जरूरी है, लेकिन खेल के हर प्रारूप में अपना एक अलग महत्व है। उन्होंने कहा, क्रिकेट में लगभग हर देश में हर प्रारूप में खेलने के बाद मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि पांच दिन तक चलने वाला टेस्ट क्रिकेट सभी प्रारूपों से ऊपर है।उन्होंने टी-20 प्रारूप की भी तारीफ करते हुए कहा, 20-20 रोमांच, उत्साह, तेजी प्रदान करता है। यह फील्डिंग को नए स्तर पर ले गया है और साथ ही बल्लेबाजी को परिभाषित किया है। टेस्ट क्रिकेट की गिरती लोकप्रियता पर पीटरसन ने हालांकि चिंता जताई और इसे उबरने के सुझाव दिए।उन्होंने कहा, टेस्ट क्रिकेट को बेहतर बनाते हैं। इसे नए रंगों से सजाते हैं। मैदानों को भरते हैं, शाम को खेलते हैं। अपंयारों को माइक देते हैं ताकि वो दर्शकों से बात कर सकें। स्लेजिंग को एक तय दायरे तक अपनाते हैं। दर्शकों से बेहतर संवाद करते हैं। पीटरसन ने सिर्फ तकनीकी तौर पर ही नहीं आर्थिक तौर पर भी टेस्ट क्रिकेट के प्रति सुझाव दिए।उन्होंने कहा, टेस्ट मैच में बराबर की मार्केटिंग नीति को लाया जाए। टेस्ट चैंपियनशिप की मार्केटिंग करके इसे और बेहतर बनाया जाए। मैदान पर दर्शकों को सस्ते टिकट दिए जाएं।


बेंगलुरु - भारत और अफगानिस्तान के बीच खेला जाना वाला एकमात्र टेस्ट मैच 14 जून से खेला जाएगा। इस टेस्ट मैच के शुरू होने के साथ ही बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में इतिहास रच जाएगा, क्योंकि ये अफगानिस्तान का पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच होगा। लेकिन इस ऐतिहासिक टेस्ट मैच में बारिश बड़ी बाधा बन सकती है। बारिश की वजह से टॉस का रोल और ज़्यादा अहम हो जाता है और ये भी अहम हो जाता है कि इस ऐतिहासिक टेस्ट मैच के लिए किस तरह की तैयार की गई है।
पिच बनाने में कम समय बचा है क्योंकि बारिश की वजह से क्यूरेटर और ग्राउंड स्टाफ पर भी दबाव है। सहायक पिच क्यूरेटर प्रशांत राव ने कहा कि वे एक स्पोर्टिंग पिच देने का वादा करते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि यहां पिच गेंदबाजों के साथ बल्लेबाजों के लिए भी मददगार होगी।
आपको बता दें कि आइपीएल के दौरान बेंगलुरु की पिच पर काफी स्पिन देखने को मिली थी। अगर इस मैच में पिच स्पिन गेंदबाज़ों के लिए मददगार हुई तो ये टीम इंडिया के लिए खतरे के संकेत हो सकते हैं, क्योंकि सभी जानते हैं कि अफगानिस्तान के पास एक से बढ़कर एक स्पिन गेंदबाज़ हैं। अफगानिस्तान के फिरकी गेंदबाज़ों ने आइपीएल में सभी बल्लेबाज़ों को खासा परेशान भी किया था। अफगानिस्तान के पास राशिद खान, मुजीब उर रहमान जैसे गेंदबाज़ हैं। तो ऐसे में अगर पिच फिरकी गेंदबाज़ों के लिए मददगार साबित हुई तो भारत की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। वहीं पूर्व भारतीय खिलाड़ी लालचंद राजपूत ने भी भारतीय टीम मैनजमेंट को आगाह किया था कि बेंगलुरु में टर्निंग पिच तैयार न कराई जाए।
पिछले सप्ताह पिच बनाने का काम शुरू होने के बाद बारिश और सूरज की रौशनी की कमी के चलते पिच को तम्बू से ढककर काम करने का फैसला किया गया लेकिन बाद में सूरज की रौशनी मिलने से रविवार को खुले में काम किया गया।
सहायक पिच क्यूरेटर ने कहा कि समय पर काम पूरा करने के लिए वे दिन रात काम कर रहे हैं। आइपीएल के बाद भी उनको ब्रेक का समय नहीं मिला है। पिच के बारे में उनका कहना था कि हम भारत या अफगानिस्तान के लिए विकेट तैयार नहीं कर रहे बल्कि क्रिकेट के लिए कार्य कर रहे हैं। हम ऐसी पिच बना रहे हैं जिसमें घास के अलावा टर्न भी रहेगा। बारिश ने कुछ चीजें खराब की है लेकिन हम चाहते हैं कि कार्य समय पर पूरा हो।
गौरतलब है कि टीम इंडिया में कप्तान विराट कोहली नहीं खेल रहे। उनकी अनुपस्थिति में अजिंक्य रहाणे कप्तानी करेंगे।

 


बेंगलुरु - अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट मैच के लिए भारतीय टीम में शामिल करुण नायर ने अफगानी कप्तान असगर स्टानिकजई के बड़े बोले बयान पर पलटवार किया है। स्टानिकजई ने कहा था कि उनका स्पिन आक्रमण भारत से बेहतर है। इस पर नायर ने कहा, ‘यह बड़ा बयान है क्योंकि उन्होंने अभी टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला है। हमारे चारों स्पिनर टेस्ट क्रिकेट में खुद को साबित कर चुके हैं।
इसके साथ ही करुण नायर ने अपनी बल्लेबाज़ी के बारे में कहा कि वह दो साल पहले की तुलना में बेहतर बल्लेबाज हैं और उनका ध्यान ब्रिटेन दौरे की बजाय टेस्ट क्रिकेट में वापसी पर है।
नायर ने सोमवार को यहां टीम के अभ्यास सत्र के बाद कहा, ‘मैं अब पहले से फिट हूं। डेढ़ साल से मैं टीम से बाहर हूं और अपनी तकनीक पर काम कर रहा हूं। मैंने बल्लेबाजी और फिटनेस पर काम किया और घरेलू क्रिकेट में रन बनाए। मैं दो साल पहले से अब बेहतर बल्लेबाज हूं।’ नायर को अफगानिस्तान के खिलाफ अगर अंतिम एकादश में शामिल किया जाता है तो पिछले साल मार्च में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैच के बाद यह उनका पहला अंतरराष्ट्रीय मैच होगा।
ब्रिटेन के भारत-ए के सफल दौरे से वह इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के लिए टीम में जगह बना सकते हैं। हालांकि नायर इतने आगे की नहीं सोचना चाहते। उन्होंने कहा, ‘अभी उसमें काफी समय बाकी है। अभी मुझे एक टेस्ट मैच और उसके बाद ए सीरीज खेलनी है। मैं ज्यादा आगे की नहीं सोच रहा। ए सीरीज के लिए तैयारियां चल रही हैं, लेकिन मैं फिलहाल टेस्ट मैच में अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं।’


नई दिल्ली - अफगानिस्तान के खिलाफ खेले जाने वाले एकलौते टेस्ट मैच के लिए टीम इंडिया में नवदीप सैनी को शामिल किए जाने के बाद गौतम गंभीर ने पूर्व भारतीय कप्तान बिशन सिंह बेदी और पूर्व भारतीय बल्लेबाज़ चेतन चौहान पर निशाना साधा है।
मोहम्मद शमी के यो-यो टेस्ट में फेल होने के बाद नवदीप सैनी को उनकी जगह अफगानिस्तान के खिलाफ खेले जाने वाले एकलौते टेस्ट मैच में जगह दी गई। नवदीप सैनी के टीम इंडिया में शामिल होने के बाद गंभीर ने इन दोनों खिलाड़ियों पर निशाना साधाकर एक ट्वीट किया।
ऐसे साधा गंभीर ने निशाना
गंभीर ने अपने ट्वीट में लिखा कि, डीडीसीए के सदस्यों बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान के प्रति मेरी 'संवेदनाएं, भारतीय टीम में 'बाहरी' नवदीप सैनी को शामिल किया गया है। मुझे बताया गया है कि काले आर्मबैण्ड (हाथ पर बांधने वाले पट्टे) बेंगलुरु में 225 रुपये में मिल रहे हैं। सर, ध्यान रखिए कि नवदीप पहले भारतीय है और फिर बाद में स्थानीय।'
गंभीर ने इस ट्वीट इसलिए किया है, क्योंकि एक बार दिल्ली की टीम में नवदीप सैनी का चयन करवाने के लिए गौतम को काफी माथापच्ची करनी पड़ी थी। रणजी टीम के चयन के लिए दिल्ली के चयनकर्ता बैठे तो कप्तान के नाते गंभीर ने नवदीप का नाम आगे बढ़ाया। चयनकर्ताओं ने इस पर एतराज जाहिर किया कि दिल्ली से बाहर के लड़के को क्यों खिलाया जाए? लेकिन गंभीर नहीं माने। बैठक रद हो गई। दिग्गज स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने भी नवदीप के चयन पर एतराज जाहिर किया। इसके बाद हुई बैठक में भी बात नहीं बनी। गौतम गंभीर अपनी बात पर अडिग थे कि वह कप्तान के नाते इस गेंदबाज को अपनी टीम में लेना चाहते हैं। आखिरकार कप्तान की चली और नवदीप को दिल्ली की टीम में चुन लिया गया।
बेदी और चेतन का ही नाम क्यों?
गंभीर ने अपने ट्वीट में सिर्फ चेतन चौहान और बिशन सिंह बेदी का नाम इसलिए लिखा है, क्योंकि जब नवदीप सैनी के चयन के लिए गंभीर अड गए थे तब बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान ने ऐतराज जताया था। उस समय चेतन चौहान डीडीसीए के उपाध्यक्ष थे।

नई दिल्ली - संजू सैमसन और मोहम्मद शमी को यो-यो टेस्ट में फेल होने के कारण टीम इंडिया से बाहर कर दिए गए। IPL-11 में अपने बल्लेबाजी से धूम मचाने वाले युवा विकेट कीपर बल्लेबाज संजू सैमसन का चयन इंग्लैंड दौरे के लिए भारत की ए टीम में चुने गए थे लेकिन शनिवार को जब भारत ए टीम के खिलाड़ी इंग्लैंड दौरे के लिए रवाना हो रहे थे तब केरल…
मैनचेस्टर - क्रिकेट के खेल में कई बार खिलाड़ी चोटिल हो जाते हैं तो वो मैदान से बाहर जाकर अपना उपचार कराते हैं। चोट ज़्यादा गंभीर हो तो मैच के दौरान ही वो अस्पताल जाकर स्कैन करवाते हैं, लेकिन इस बीच मैच चलता रहता है, मैच नहीं रुकता। लेकिन इंग्लैंड में काउंटी क्रिेकेट के एक मैच में ऐसी घटना घटी जिसमें न तो कोई खिलाड़ी चोटिल हुआ और न ही…
नई दिल्ली। स्कॉटलैंड के खिलाफ खेले गए एकमात्र वनडे मैच में इंग्लैंड की टीम को 6 रन से मात झेलनी पड़ी। इस जीत के साथ ही स्कॉटलैंड की टीम ने इतिहास रच दिया, क्योंकि इंग्लैंड के खिलाफ इस टीम की ये पहली जीत रही। इस हार के बाद इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन को विश्वास है कि इंग्लैंड की टीम इस हार के बाद सबक लेगी और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ…
नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी को उनके फैंस सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल कर रहे हैं। फैंस के ऐसा करने की वजह अफरीदी का एक सोशल मीडिया पोस्ट है। अफरीदी द्वारा किए गए उस पोस्ट को देखने के बाद कुछ फैंस ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की और अफरीदी की जमकर खिंचाई भी की।शाहिद अफरीदी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट किया था। उस ट्वीट में दो…
Page 5 of 287

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें