खेल

खेल (4286)

लंदन। लॉर्ड्स टेस्ट मैच शुरु होने से पहले इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने भारतीय टीम का मनोबल तोड़ने के लिए माइंडगेम खेलने का सहारा लिया है। दूसरे टेस्च मैच की पूर्व संध्या पर जो रूट ने कहा कि पहले टेस्ट मैच में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं करने के बावजूद जीत हासिल करने से उनकी टीम का मनोबल बढ़ा है। रूट ने मैच की पूर्व संध्या पर आज यहां पत्रकारों से कहा, ‘इससे (बर्मिंघम की जीत से) हमारा काफी मनोबल बढ़ा है। पिछले सप्ताह की सबसे रोचक बात यह रही कि हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं किया, कुछ क्षेत्र हैं जिनमें हम सुधार कर सकते हैं, लेकिन हमने दबाव में जीत हासिल करने का तरीका निकाला और मैच को अपने पक्ष में मोड़ा।’ मेजबान इंग्लैंड ने पिछले सप्ताह एजबेस्टन में भारत को 31 रन से हराकर पांच मैचों की श्रृंखला में 1-0 से बढ़त बनाई थी।उन्होंने कहा, ‘इससे हमारी टीम के जज्बे का पता चलता है। हाल में कुछ विपरीत परिणाम हासिल करने के बाद इस तरह की जीत दर्ज करना हमारे लिये अच्छा संकेत है।’ रूट ने कहा, ‘अगर हम कुछ क्षेत्रों में छोटे छोटे सुधार कर सकते हैं और पिछले सप्ताह हमने जहां अच्छा प्रदर्शन किया उसमें इसे जोड़ सकते हैं तो हम पिछले सप्ताह की तुलना में सुधार देखेंगे।’रूट ने कहा, ‘जब भी यहां खेलने के लिये उतरते हो तो पिच भिन्न हो सकती है। गर्मियों के शुरू में हमारा प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा लेकिन दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इसमें काफी स्पिन थी जबकि भारत के खिलाफ (2014) में दूसरी पारी में विकेट ने स्पिनरों को मदद पहुंचायी थी। यह बड़ा कारक हो सकता है।’उन्होंने कहा, ‘पिछले दो अवसरों पर जिसने भी पहली पारी में अच्छा प्रदर्शन किया उसने मैच पर पकड़ मजबूत बनायी इसलिए हमें अच्छी शुरुआत करनी होगी।’ इंग्लैंड ने लार्ड्स पर पिछले नौ टेस्ट मैचों में से केवल तीन में ही जीत दर्ज की है।

नई दिल्ली। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के छह साल बाद भी अपने अनूठे रिकॉर्ड के चलते शीर्ष पर कायम हैं। भारत के लिए 463 वनडे मैच खेलने वाले सचिन वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक चौके लगाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में अभी भी शीर्ष पर कायम हैं।
सचिन हैं वनडे में सबसे ज़्यादा चौके लगाने वाले खिलाड़ी;-वर्ष 2012 में अंतर्राष्ट्रीय वनडे क्रिकेट से संन्यास ले चुके सचिन के नाम 452 पारियों में 2016 चौके लगाने का रिकार्ड है। सचिन के बाद श्रीलंका के दिग्गज सलामी बल्लेबाज सनथ जयसूर्या हैं, जिन्होंने 445 मैचों की 433 पारियों में 1500 चौके लगाए हैं। जयसूर्या के टीम साथी रहे पूर्व कप्तान कुमार संगाकारा 404 वनडे मैचों में 1385 चौकों के साथ तीसरे नंबर पर हैं।
चौथे नंबर पर हैं पोंटिंग:-अपनी कप्तानी में आस्ट्रेलिया को दो बार खिताब जीता चुके पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग 375 मैचों में 1231 चौकों के साथ चौथे नंबर पर हैं। आस्ट्रेलिया के ही पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट 287 मैचों में 1162 चौके लगाकर इस मामले में पांचवें नंबर पर है।वेस्टइंडीज के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल मौजूदा समय में एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने अभी तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास नहीं लिया है और 1000 से अधिक चौके लगाए हैं। गेल 276 वनडे मैचों में अब तक 1061 चौके जड़ चुके हैं।इनके अलावा पूर्व भारतीय विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (251 मैचों में 1132 चौके), सौरभ गांगुली (311 मैचों में 1122 चौके), श्रीलंका के दिग्गज महेला जर्यवर्धने (448 मैचों में 1119 चौके) हैं।पूर्व भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज और दीवार के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ ने 344 मैचों में 950 चौके जरुर जड़े हैं, लेकिन उनके नाम केवल 42 छक्के दर्ज हैं।सचिन के नाम जहां सर्वाधिक चौके लगाने के रिकॉर्ड है तो वहीं पाकिस्तान के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी शाहिद अफरीदी के नाम सर्वाधिक छक्के उड़ाने का रिकॉर्ड है। अफरीदी ने 398 मैचों में 351 छक्के लगाए हैं। इसके बाद क्रिस गेल 275 छक्कों के साथ दूसरे नंबर पर है।

भारत-इंग्लैंड सीरीज के पहले टेस्ट ने एक बार फिर साबित किया कि यह फॉर्मेट किसी भी क्रिकेटर के लिए सबसे बड़ी परीक्षा क्यों है। मुकाबले के लिए इससे अच्छी बात क्या हो सकती है कि नतीजे की सुई कभी इधर तो कभी उधर घूम रही थी। अंत में वही टीम जीती जिसने उत्साह को बनाए रखा और जब जरूरत हुई तब उसने कर दिखाया।
कोहली ने साबित किया खुद को 'विराट':-विराट कोहली द्वारा दृढ़ विश्वास और दृढ़ संकल्प के साथ मुश्किल हालातों का अध्ययन करना, उनके शॉट्स का चयन और हर मैच में उनका गेंदबाजों पर हावी होना असाधारण है। सही मायने में वह दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज हैं। बर्मिघम में बेशक वह धारा प्रवाह बल्लेबाजी नहीं कर पाए लेकिन हार ना मानने के उनके स्वभाव ने उन्हें ऊपर बनाए रखा। यह बल्लेबाजी कला का भी एक उदाहरण है। भले ही वह आपका दिन ना हो लेकिन आप रन बनाते हैं। यह एक बड़ा उदाहरण है जिसे टीम को भी अपनाने की जरूरत है। मुझे पूरा विश्वास है कि इस बल्लेबाजी क्रम के पास ऐसी परिस्थितियों में रन बनाने की क्षमता है। विराट को टीम के साथ आगे बढ़ना होगा। विश्वास वापस पाने की जरूरत है। उन्हें अपने दिमाग में रखना होगा कि इस दौरे पर उनके लिए यह चुनौती है। भारत के लिए अच्छी बात यह है कि उसके गेंदबाज अच्छी लय में हैं।
अश्विन फिर करेंगे इंग्लैंड को परेशान:-सभी गेंदबाजों ने बढ़िया खेल दिखाया, खासतौर से अश्विन ने। उन्होंने अपनी गेंदबाजी में काफी विविधता दिखाई है और आगे भी वह विरोधी टीम के लिए एक बड़ा डर बने रहेंगे। मुझे याद है कि मैं अश्विन के बारे में इस सीरीज से पहले बात कर रहा था और जिस तरह से उन्होंने अपने आप को पेश किया है, उससे मुझे खुशी है। वह विदेशों में सफलता पाने के लिए जरूरी बातों को लेकर सचेत थे और जब से उन्हें टीम में अपनी जगह को लेकर युवाओं से चुनौती मिलने लगी तब से उन्होंने अपनी गेंदबाजी में सुधार किया। वह पूरी सीरीज में इंग्लैंड के नाक में दम करते रहेंगे।

पांच गेदबाज़ों के साथ उतरे भारत:-दायें हाथ के ओलिवर पोप का चयन आर अश्विन के ऑफ स्पिन के खिलाफ जवाबी हमले के तौर पर इंग्लैंड के चयनकर्ताओं द्वारा किया गया है। भारत को लॉर्डस में दूसरे स्पिनर को खिलाने के बारे में सोचने की जरूरत है। वहां गर्मी है और इतिहास कहता है कि लॉर्डस में गेंद स्पिन होती है। जहां तक मेरा मानना है, कुलदीप यादव सही विकल्प होने चाहिए। भारत को पांच गेंदबाजों के साथ उतरना चाहिए। क्रिस वोक्स की वापसी इंग्लिश टीम में संतुलन बनाएगी।

 

मुंबई। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने पहली बार अपने संन्यास लेने को लेकर बात की है। धौनी ने एक कार्यक्रम में अपनी संन्यास के फैसले को लेकर कहा कि वो 2019 विश्व कप तक कोई फैसला नहीं लेने जा रहे हैं। इसके साथ ही साथ धौनी ने विराट कोहली की तारीफ करते हुए कहा कि वह पहले ही ‘महानतम’ बनने के करीब पहुंच गया है।धौनी की कप्तानी के दौरान ही विराट कोहली एक उदीयमान युवा क्रिकेटर से मंझा हुए बल्लेबाज बने। धौनी ने कहा कि, ‘वह (कोहली) सर्वश्रेष्ठ है और पहले ही उस मुकाम पर पहुंच चुका है जहां वह महानतम बनने के करीब है। इसलिए मैं उसके लिये बहुत खुश हूं। और जिस तरह से वह पिछले कुछ वर्षों में हर देश में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है वह लाजवाब है।’इस पूर्व कप्तान ने एक समय उनके साथ उप कप्तान रहे कोहली की बल्लेबाजी की जमकर तारीफ की। कोहली ने अपनी शुरुआती क्रिकेट धौनी की कप्तानी में खेली और एक प्रतिभाशाली किशोर से विश्व के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज बने। इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में अपनी 149 रन की पारी से भारतीय कप्तान ने आखिरी किला भी फतह कर दिया। धौनी को खुशी है कि कोहली टीम को आगे लेकर जा रहे हैं। धौनी ने कहा, ‘वह टीम को आगे लेकर जा रहा है और आप एक नेतृत्वकर्ता से यही चाहते हो। इसलिए उसको मेरी शुभकामनाएं।’इस स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ने अपने क्रिकेट भविष्य को लेकर लग रही अटकलबाजियों को भी विराम देते हुए स्पष्ट किया कि इंग्लैंड में 2019 में होने वाले विश्व कप तक वह कोई फैसला नहीं करने जा रहे हैं।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने शिखर धवन को आड़े हाथों लिया है क्योंकि उन्होंने क्रिकेट के लंबे प्रारूप के लिए खुद को नहीं बदला। धवन अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं और गावस्कर उनकी इस अप्रोच से खुश नहीं हैं और वो चाहते हैं कि वो लाल गेंद के क्रिकेट में अपने खेल में कुछ बदलाव लाएं। इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में धवन को पुजारा के उपर तरजीह देते हुए अंतिम ग्यारह में शामिल किया गया था और उन्होंने पहली पारी में विजय से साथ मिलकर पहले विकेट के लिए 50 रन की साझेदारी की थी और 26 रन बनाए थे। जबकि मैच की दूसरी पारी में उन्होंने सिर्फ 13 रन बनाए थे। गावस्कर ने कहा कि शिखर धवन अपने खेल में किसी तरह का बदलाव नहीं करना चाहते हैं और यही उनके असफल होने का कारण है। शिखर के बारे में बोलते हुए सुनील गावस्कर ने कहा कि वो जिस तरह का खेल खेलकर सफल हुए हैं वैसा ही खेलना चाहते हैं। आप जिस तरह के शॉट वनडे में खेलते हो वैसा ही टेस्ट में नहीं खेल सकते। वनडे जैसा शॉट अगर आप टेस्ट में खेलोगे तो आपको अपना विकेट गवांना पड़ेगा। वनडे में स्लिप पर कम खिलाड़ी होते हैं और आपका गेंद बाउंड्री से बाहर चला जाता है लेकिन टेस्ट में ऐसा नहीं होता। टेस्ट के लिए आपको अपने खेल में बदलाव करना पड़ता है। गावस्कर ने कहा कि इंग्लैंड में किस तरह खेलना चाहिए इसके बारे में जानने के लिए उनके पास अजिंक्य रहाणे को छोड़कर कोई भी भारतीय बल्लेबाज नहीं आया। मेरे पास कोई भी बल्लेबाज अब तक सलाह लेने नहीं आया। इससे पहले सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीरेंद्र सहवाग, वीवीएस लक्ष्मण हमेशा ही विदेशी दौरे के लिए मुझसे बात करते थे। मुझे लगता है कि ये पीढ़ी कुछ अलग है और उनके पास बल्लेबाजी कोच के अलावा हर फील्ड के लिए कोच उपलब्ध है। सिर्फ रहाणे ही मुझसे सलाह लेने कभी-कभी आते हैं।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने वर्तमान में टीम की कमान संभाल रहे विराट कोहली को कप्तान के तौर पर और अधिक जिम्मेदारी लेने की सलाह दी है। गांगुली ने कहा, 'अगर आप कप्तान हैं, तो टीम की हार के लिए आपकी आलोचना होगी और जीत के लिए आपकी ही प्रशंसा की जाएगी। कोहली को टीम से निकालने से पहले अपने बल्लेबाजों को उचित मौका देना चाहिए'।उन्होंने कहा, 'कप्तान को अपने खिलाड़ियों का आत्मविश्वास बढ़ाना चाहिए। यह उसकी टीम है और केवल वहीं उनकी मानसिकता को बदल सकता है। कप्तान को अपने खिलाड़ियों के साथ बैठना होगा और उन्हें बताना होगा कि वह कर सकते हैं, ताकि वे खुद को साबित करके दिखाएं'।गांगुली ने कहा कि कोहली को अपने खिलाड़ियों को समय देना चाहिए और उन्हें बताना चाहिए कि वे मैदान पर बिना किसी डर के खेलें। यह सच है कि अंतिम एकादश में लगातार बदलाव से खिलाड़ियों को यह डर महसूस होता है कि इतने वर्षो के बाद भी वे टीम प्रबंधन का विश्वास हासिल नहीं कर पा रहे हैं।उल्लेखनीय है कि इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए पहले टेस्ट मैच में भारतीय टीम को कोहली की ओर से खेली गई शतकीय पारी के बावजूद हार का सामना करना पड़ा।

नई दिल्ली। वेस्टइंडीज और बांग्लादेश के बीच खेले गए तीसरे टी-20 मैच में बांग्लादेश ने मेजबान टीम को 19 रन से हराकर ना केवल मैच जीता बल्कि सीरीज पर भी कब्जा किया। टेस्ट सीरीज गंवाने के बाद बांग्लादेश ने जबरदस्त वापसी करते हुए वनडे और टी-20 सीरीज में वेस्टइंडीज को हराया।तीसरे टी-20 मैच में बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की। टीम के ओपनर्स तमीम इकबाल और लिटन दास ने…
नई दिल्ली। वेस्टइंडीज़ के ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ आंद्रे रसेल ने बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे टी-20 मैच में तूफानी पारी खेली। हालांकि इस बेहतरीन पारी के बावजूद भी वो अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके। मेहमान टीम बांग्लादेश ने विंडीज़ को 19 रन से हराकर 2-1 टी-20 सीरीज़ पर भी कब्ज़ा जमा लिया। इससे पहले बांग्लादेश की टीम ने वेस्टइंडीज़ को वनडे सीरीज़ में भी 2-1 से मात दी था।रसेल ने…
नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के तूफानी गेंदबाद मिचेल स्टार्क के फैंस के लिए खुशी की बात है, इस गेंदबाज ने बताया कि वह पाकिस्तान के खिलाफ होने वाली टेस्ट सीरीज के लिए पूरी तरह फिट हो जाएंगे और उम्मीद है कि वह सीरीज में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सफेद कपड़ो में खेलते भी दिखाई देंगे।स्टार्क ने कहा कि निश्चित तौर पर मैं पाकिस्तान के खिलाफ यूएइ में होने वाली टेस्ट सीरीज…
नई दिल्ली। 9 अगस्त से लॉर्ड्स में खेले जाने वाले दूसरे टेस्ट से पहले इंग्लैंड के दिग्गज़ तेज़ गेंदबाज़ जेम्स एंडरसन के साथ एक हादसा हो गया। दूसरे टेस्ट से पहले एंडरसन को चोट लग गई, हालांकि उन्हें ये चोट गोल्फ खेलते हुए लगी है। एंडरसन की चोट के बावजूद भी उन्हें इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड द्वारा दूसरे टेस्ट के लिए चुनी गई टीम में शामिल किया है।एंडसन को…
Page 4 of 307

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें