खेल

खेल (3681)

'इंडियन प्रीमियर लीग' का बुखार 2008 से भारत में सभी पर चढ़ा हुआ हैं, जिसमें चौक्के-छक्के की बारिश देखने को मिलती हैं और पैसा-वसूल आयोजन होता हैं। हर सीजन नया रिकॉर्ड बनाता हैं। आज हम बताने जा रहे हैं ऐसे ही कुछ बल्लेबाजों के बारे में जिनके नाम आईपीएल में सबसे ज्यादा रन बनाने का कीर्तिमान हैं और आपको जानकर हैरानी होगी कि ये चारों भारतीय खिलाड़ी हैं। आइये जानते हैं उन 4 बल्लेबाजों के बारे में...
1. सुरेश रैना:-चेन्नई सुपर किंग्स से आठ सीज़न और गुजरात लायंस से दो सीज़न खेल चुके सुरेश रैना आईपीएल के टॉप स्कोरर हैं। 161 मैचों की 157 पारियां खेल चुके रैना 4540 रन अपने खाते में जोड़ चुके हैं। उन्होंने इतनी ही पारियों में 402 चौके और 173 छक्के जड़े हैं। 34.13 का औसत और 139 का स्ट्राइक रेट रखने वाले रैना अपने आईपीएल कैरियर में 31 अर्धशतक लगाने के साथ साथ एक शतक भी जड़ चुके हैं। यूँ तो रैना अपनी 157 पारियों में 24 बार नाबाद रहे हैं मगर उन्हें सात बार बिना कोई रन जोड़े भी लौटना पड़ा है।
2. विराट कोहली:-आईपीएल में 149 मैचों की 141 पारियां खेल चुके विराट कोहली दस सीज़न रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ओर से खेलते हुए 4418 रन बना चुके हैं।129 के स्ट्राइक रेट के साथ खेलने वाले विराट का सर्वोच्च स्कोर 113 रन है। अपने आईपीएल कैरियर के दौरान 4 शतक और 30 अर्धशतक लगा चुके कोहली का औसत 37.44 है। विराट आईपीएल में खेलने के दौरान 382 चौके और 159 छक्के लगा चुके हैं।
3.रोहित शर्मा;-डेक्कन चार्जर्स और मुंबई इंडियन्स की ओर से खेल चुके रोहित शर्मा 159 मैचों की 154 पारियों में 4207 रन अपने नाम कर चुके हैं।130.89 के स्ट्राइक रेट के साथ खेलने वाले रोहित दस सीज़न में 32 अर्धशतक और एक शतक लगा चुके हैं। 32.61का औसत रखने वाले सलामी बल्लेबाज रोहित का सर्वोच्च स्कोर 109 रन नाबाद है।वह इस दौरान 172 छक्के और 354 चौके जड़ चुके हैं।
4. गौतम गंभीर:-148 मैचों की 147 पारियां खेल चुके गौतम गंभीर कोलकाता नाइटराइडर्स और दिल्ली डेयरडेविल्स की ओर से शानदार प्रदर्शन कर चुके हैं। वह इतनी पारियों में 4132 रन अपने खाते में शामिल कर चुके हैं। 35 अर्धशतक लगा चुके गंभीर के नाम एक शतक नही हैं। महज़ 58 छक्के लगा पाये गौतम के नाम सबसे ज्यादा चौके (484) दर्ज़ हैं। 124.6 के स्ट्राइक रेट के साथ खेलने वाले इस खिलाड़ी का सर्वोच्च स्कोर 93 रन है।

नई दिल्ली। चेन्नई और राजस्थान के बीच खेले गए आइपीएल मैच में शेन वॉटसन के दमदरा प्रदर्शन की बदौलत सीएसके ने इस सीजन की अपनी तीसरी जीत दर्ज की। राजस्थान को 64 रन से मात देने के बाद चेन्नई की टीम अंक तालिका में टॉप पर आ गई है। चेन्नई की इस जीत के हीरो रहे शेन वॉटसन। वॉटसन ने राजस्थान के गेंदबाज़ों की जमकर धुलाई करते हुए सिर्फ 57 गेंदों में 106 रन की पारी खेली। इस दौरान उनके बल्ले से 9 चौके और 6 छक्के भी निकले। इस धुआंधार पारी के दौरान वॉटसन ने डेविड वॉर्नर के एक रिकॉर्ड की बराबरी कर ली।
वॉटसन ने की वॉर्नर के रिकॉर्ड की बराबरी:-आइपीएल में राजस्थान की टीम के खिलाफ शेन वॉटसन का ये पहला मैच रहा। इससे पहले वो कभी भी इस टूर्नामेंट में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ नहीं खेल थे। 2015 तक वॉटसन राजस्थान से खेलते थे और जब रायल्स पर दो साल का बैन लगा तो फिर वो बैंगलोर के लिए खेलने लगे। लेकिन इस बार की नीलामी में चेन्नई ने उन्हें अपने बेड़े में शामिल कर लिया। राजस्थान के खिलाफ जमाया गया शतक वॉटसन का आइपीएल में तीसरा शतक रहा। ये सेंचुरी लगाते ही वॉटसन ने डेविड वॉर्नर के आइपीएल में लगाए गए तीन शतकों की बराबरी कर ली है।आपको बता दें कि साल 2013 में राजस्‍थान रॉयल्‍स की तरफ से खेलते हुए वॉटसन ने चेन्‍नई के खिलाफ ही पहला शतक ठोंका था। अब जब 2018 में वह चेन्‍नई में शामिल हैं तब उन्‍होंने राजस्‍थान के खिलाफ सेंचुरी जमा दी। आइपीएल इतिहास में ऐसा कारनामा करने वाले इकलौते खिलाड़ी हैं।
आइपीएल में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले खिलाड़ी:-आइपीएल में सबसे ज़्यादा शतक लगाने वाले खिलाड़ियों की बात करें तो शेन वॉटसन इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर आते हैं। इस सूची में सबसे पहला नाम क्रिस गेल का है। गेल के नाम आइपीएल में अभी तक 6 शतक लगाने का रिकॉर्ड दर्ज हैं। वहीं दूसरे नंबर पर विराट कोहली का नाम है। कोहली ने आइपीएल में अभीतक 4 शतक जमाए हैं। तीसरे नंबर पर डेविड वॉर्नर और शेन वॉटसन काबिज हैं। इन दोनों ही खिलाड़ियों ने आइपीएल में 3-3 सैंकड़े जड़े हैं।
खिलाड़ी                      IPL में शतक
क्रिस गेल                        06 शतक
विराट कोहली                   04 शतक
शेन वॉटसन                     03 शतक
डेवि़ड वॉर्नर                     03 शतक
मौजूदा आइपीएल में अभी तक दो ही शतक लगे हैं पहला क्रिस गेल ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ ठोका था और वहीं दूसरा शतक उसके अगले ही दिन चेन्नई की तरफ से खेलते हुए शेन वॉटसन ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ जड़ दिया।

नई दिल्ली। पुणे के मैदान पर राजस्थान और चेन्नई के बीच खेले गए मैच में धौनी की चेन्नई सुपर किंग्स ने 64 रन की बड़ी जीत दर्ज की। इस मैच मैं शेन वॉटसन ने राजस्थान के गेंदबाज़ों की जमकर पिटाई करते हुए आइपीएल का अपना तीसरा शतक ठोक दिया। इस मैच के दौरान टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के लिए फैंस की दीवानगी खीब नज़र आई।
धौनी के साथ घटी ये घटना:-पुणे में चेन्नई और राजस्थान के बीच मुकाबला खेला जा रहा था। चेन्नई की पारी के 12वें ओवर में सुरेश रैना के आउट होने के बाद एमएस धौनी मैदान पर बल्लेबाज़ी के लिए आ रहे थे। जब धौनी मैदान पर आ रहे थे तभी तभी एक शख्स उनकी तरफ दौड़ता हुआ आया और उसने धौनी के पास आकर उनके पैर पकड़ लिए। वो फैन मैदान पर आ रहे धौनी के पैरों में गिर गया।
धौनी ने ऐसे जीता दिल:-पहले उसने धौनी के घुटने पकड़े और फिर जमीन पर बैठकर उनके पैर पकड़ लिए। फैन के ऐसा करने के बाद भी धौनी हमेशा की तरह कूल रहे और उन्होंने न ही अपने फैन को डांटा और न ही कुछ कहा। उन्होंने तो बस अपने इस फैन को पैर छूने से रोका और साइड हटे और मैदान पर आगे बढ़ गए।धौनी बल्लेबाज़ी के लिए आगे बढ़े तो वो फैन उनके साथ बातें करते हुए आगे जाने लगा। धौनी के साथ कुछ कदम तक चहलकदमी करने के बाद वो वहां से दूर हट गया और अपना दिल पकड़कर ऊपर वाले को इस बड़े दिन के लिए शुक्रिया अदा करने लगा।खास बात ये है कि धौनी का ये फैन उनकी टीम चेन्नई की पीली जर्सी में नज़र आया। उसकी जर्सी पर धौनी के नाम के साथ-साथ उनकी जर्सी का नंबर 7 भी लिखा हुआ था। इस पूरे मामले में सबसे हैरान करने वाली बात ये है कि इतनी देर तक धौनी के पास कोई अज्ञात व्यक्ति बना रहा लेकिन कोई भी सिक्योरिटी गार्ड वहां नज़र नहीं आया।इस मैच में धौनी बड़ी पारी तो नहीं खेल सके और वो 05 रन बनाकर आउट हो गए, लेकिन पुणे के फैंस में धौनी को लेकर दिवानगी देखते ही बनती थी। पुणे के मैदान में भी चेन्नई की ही तरह पीले रंग की जर्सी ही नज़र आ रही थी। धौनी को लेकर फैंस की दिवानगी इतनी थी कि आइसीसी तक को ट्वीट करना पड़ गया।
नई नहीं है धौनी के प्रति फैंस की दिवानगी:-ये कोई पहला मौका नहीं है जब धौनी के फैंस अपने चेहेते खिलाड़ी से मिलने के लिए मैदान पर आ गए हों। इससे पहले भी बहुत बार धौनी के चाहनेवाले मैच के बीच में मैदान पर घुसकर उनके पैर छू चुके हैं।

कोलकाता। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने शुक्रवार को कोलकाता स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट क्लब में महिला क्रिकेट टीम की तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी पर डाक टिकट जारी किया। इस मौके पर झूलन भी मौजूद थीं।पांच रुपये के मूल्य वाले इस डाक टिकट पर झूलन के साथ विक्टोरिया मेमोरियल की तस्वीर है। उनकी उपलब्धियों के सम्मान में इसे जारी किया गया है। 35 वर्षीया झूलन के नाम अंतरराष्ट्रीय महिला क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट (203) लेने का कीर्तिमान दर्ज है। अपने 166वें मैच में झूलन गोस्वामी ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना 200वां विकेट चटकाया था। झूलन ने द. अफ्रीका की सलामी बल्लेबाज लारा वूलवार्ट को आउट करके यह उपलब्धि अपने नाम दर्ज करवाई थी। इसी साल फरवरी में वो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 200 विकेट लेने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनी थीं। आपको बता दें कि पुरुषों में भारत के लिए सबसे पहले 200 विकेट कपिल देव ने 1991 में लिए थे।मई 2017 में झूलन महिला क्रिकेट की सबसे सफल गेंदबाज बनी थी। उन्होंने आस्ट्रेलिया की कैथरीन फिट्जपैट्रिक का लगभग एक दशक पुराना रिकार्ड तोड़ा था। झूलन ने 2002 में पदार्पण किया था और उन्हें 2007 में आइसीसी की साल की सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटर भी चुना गया।

 

नई दिल्ली। भारत के पूर्व बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने खुलासा किया है कि 2005 जिम्बाब्वे दौरे के दौरान सौरव गांगुली के खिलाफ तत्कालीन कोच ग्रेग चैपल का ईमेल सबसे पहले उन्होंने देखा था। एक किताब के विमोचन के दौरान यहां फैनैटिक स्पोर्ट्स म्यूजियम में कहा, ग्रेग अपना ईमेल लिख रहे थे और मैं उनके बगल में बैठा था। मैंने देखा कि वह बीसीसीआइ को कुछ लिख रहे थे और मैंने दादा को जाकर इसके बारे में बताया। मैंने कहा कि वह बीसीसीआइ को लिख रहे हैं और यह बहुत ही गंभीर मामला है।ग्रेग चैपल को मई 2005 में भारत का कोच बनाया गया था और एक साल बाद जिम्बाब्वे दौरे के दौरान सौरव गांगुली को कप्तानी से हटा दिया था। सचिन तेंदुलकर की आत्मकथा 'प्लेइंग इट माई वे' में भी चैपल के बारे में लिखा गया है, जिसमें हरभजन सिंह ने कहा है, भारतीय क्रिकेट को इतनी क्षति पहुंचाई कि उससे उबरने में कम से कम तीन वर्ष का समय लग गया। जहीर खान ने चैपल के बारे में कहा, उनका अपना व्यक्तिगत एजेंडा था।सहवाग से यह पूछे जाने पर कि एक क्रिकेटर के तौर पर उनके लिए सबसे यादगार पल कौन था? सहवाग ने कहा, मेरा पहला टेस्ट शतक। सहवाग ने 2001 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 105 रन बनाए थे।सहवाग ने आगे कहा, जब मैं वनडे खेलता था तो लोग यह कहते थे कि मैं टेस्ट क्रिकेट नहीं खेल सकता। इसलिए जब मैं पहला शतक लगाया तो गांगुली को गले लगाया क्योंकि उन्होंने मुझे टेस्ट क्रिकेट में खेलने का मौका दिया। मैं खुद का साबित करना चाहता था।उन्होंने गांगुली और कोच जॉन राइट द्वारा सलामी बल्लेबाज के रूप में खिलाए जाने के प्रश्न पर कहा, मैंने उनसे कहा सचिन ने हमेशा बल्लेबाजी की शुरुआत की है और सौरव ने भी सलामी बल्लेबाज के रूप में ही खेला है। मुझे मध्यक्रम में ही बल्लेबाजी करने दीजिए। लेकिन सौरव और जॉन ने कहा कि आपको बाहर बैठना पड़ेगा क्योंकि टीम में तुम्हारे लिए यही एक जगह है।

कोलकाता। कहते हैं अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता, लेकिन आइपीएल में अक्सर अकेला चना ही भाड़ फोड़ता है। क्रिकेट टीम गेम है लेकिन इसके सबसे छोटे प्रारूप में कभी-कभार कुछ खिलाड़ी इस कदर हावी हो जाते हैं कि उनकी टीम वन मैन आर्मी लगने लगती है। शनिवार को ईडन गार्डेंस स्टेडियम में यूं तो कोलकाता नाइटराइडर्स और किंग्स इलेवन पंजाब के 11-11 खिलाड़ी ही उतरेंगे लेकिन इस मैच को दो खिलाडिय़ों के बीच महामुकाबले के तौर पर देखा जा रहा है। एक तरफ हैं पंजाब के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज क्रिस गेल तो दूसरी ओर हैं कोलकाता के मध्यक्रम के सबसे खतरनाक खिलाड़ी आंद्रे रसेल। दो हमवतन, जमैका के जांबाज, जिन्होंने वेस्टइंडीज के लिए साथ में कई मैच खेले और जिताए हैं, अब ईडन में एक-दूसरे के खिलाफ उतरेंगे। इतना तो तय है कि ईडन में इन दोनों में से जिसका भी बल्ला जितनी जोर से गरजेगा, उस टीम की जीत लगभग पक्की होगी। रविचंद्रन अश्विन की पंजाब जहां कोलकाता को उसी के घर में हराकर अंक तालिका मे नंबर वन बनना चाहेगी, वहीं दिनेश कार्तिक की कोलकाता पंजाब को मात देकर जीत की हैट्रिक मनाकर नंबर वन के पायदान पर बने रहने को कोई कसर नहीं छोड़ेगी।
पूरे शबाब में हैं दोनों टीमें : पंजाब ने पिछले तीन मैच जीते हैं, वहीं कोलकाता ने भी पिछले दो मैच जीतकर शानदार वापसी की है। वैसे आंकड़े पर जाएंगे तो वे हमेशा की तरह कोलकाता की तरफदारी कर रहे हैं। दोनों टीमें अब तक 17 बार भिड़ी हैं। कोलकाता ने 10 और पंजाब को 7 बार जीत मिली है। कोलकाता के गेंदबाजों की असली परीक्षा तो अब होगी, जब उन्हें जबरदस्त फॉर्म में चल रहे गेल को रोकना होगा। ईडन में गेल और भी रौद्र रूप धारण कर सकते हैं क्योंकि वे एक समय कोलकाता टीम का हिस्सा रहे हैं और यहां की परिस्थितियों से भली-भांति वाकिफ हैं। स्पिन तिकड़ी सुनील नारायण, कुलदीप यादव और पीयूष चावला पर गेल को रोकने का दारोमदार होगा।
मध्यक्रम की जान हैं रसेल : केकेआर की मध्यक्रम की जान रसेल ने ईडन में दिल्ली के खिलाफ पिछले मैच में 12 गेंदों पर 41 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली थी। चेन्नई के खिलाफ मैच में भी उन्होंने 36 गेंदों पर नाबाद 88 रन बनाए थे। नीतीश राणा भी इस समय शानदार फॉर्म में है और पिछले दो मैचों में जीत के नायक रहे हैं। वह अच्छी गेंदबाजी भी कर रहे हैं। रॉबिन उथप्पा का पिछले मैच में फॉर्म में लौटना और कप्तान कार्तिक के बल्ले से रन निकलना भी कोलकाता के लिए बड़ी राहत है।

बेंगलुरु। आइपीएल के 11वें संस्करण में शुरुआत से ही उतार-चढ़ाव से गुजर रही दिल्ली डेयरडेविल्स अपने नए कप्तान गौतम गंभीर के नेतृत्व में भी खास प्रदर्शन नहीं कर पा रही है और शनिवार को अपने अगले मुकाबले में विराट कोहली की रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर (आरसीबी) के खिलाफ पटरी पर लौटने के लिए जोर लगाएगी।गंभीर ने आइपीएल में दो बार कोलकाता नाइटराइडर्स को चैंपियन बनाया है लेकिन उनके नेतृत्व में दिल्ली…
नई दिल्ली। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर (आरसीबी) के कप्तान विराट कोहली जब फॉर्म में आते हैं उनकी बल्लेबाजी देखने लायक होती है। विराट आइपीएल के 11वें सत्र में हुए चार मैचों में अब तक 201 रन बना चुके हैं।इसके बावजूद आरसीबी के कप्तान का मानना है कि एबी डिविलियर्स उनसे बेहतर खिलाड़ी हैं। वह ऐसे खिलाड़ी हैं जिनके जैसा मैं नहीं खेल सकता। विराट ने कहा कि वह डिविलियर्स की तरह…
रोमांचक और करीबी मैचों के अलावा आइपीएल में मेरा ध्यान दो चीजों पर गया है। पहला क्वालिटी सीम गेंदबाजी देखने को नहीं मिल रही है। इस श्रेणी में हमें बहुत ही कम मैच बदलने वाले देखने को मिले हैं। दूसरे विदेशी बल्लेबाजों से बड़े शॉट लगाने की उम्मीद की जा रही थी, लेकिन स्पिन के सामने उनका प्रदर्शन उस स्तर का नहीं रहा है। ऐसे कई मौके आए जब बल्लेबाज…
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की ज़िन्दगी पर एक किताब 'विनिंग लाइक सचिन: थिंक ऐंड सक्सीड लाइक तेंदुलकर' लिखी गई है। लेकिन उनके जीवन से जुडी कुछ और अहम बातें उनकी किताब के जरिए सामने आई हैं। पिता के एक फैसले ने सचिन की जिंदगी बदल दी। सचिन मुंबई के बांद्रा में आईईएस स्कूल में पढ़ते थे और वहां क्रिकेट की टीम नहीं थी। सचिन के कोच और गुरु रमाकांत आचरेकर…
Page 3 of 263

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें