खेल

खेल (3297)

Ind vs SA 2nd ODI: टीवी पर ''अदृश्य'' रहा मैच का 5 ओवर


नई दिल्ली - सेंचुरियन के मैदान में खेले जा रहे भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच दूसरे वनडे का मजा तब किरकिरा हो गया जब ब्रोडकॉस्टिंग एरर के चलते मैच का लाइव प्रसारण टीवी पर नहीं देखा जा सका। टीवी दर्शकों को समझ नहीं आ रहा था कि मैच कैसे देखें। चैनल अॉपरेटरों से बात हुई तो पता चला कि मैच का प्रसारण ब्रोडकॉस्टिंग एरर के चलते टीवी पर कुछ देर तक नहीं होगा।
पांच ओवर का खेल खत्म हो जाने के बाद चैनलों पर मैच का प्रसारण शुरू हुआ। तब तक दक्षिण अफ्रीका की तरफ खेलने आए अमला और डीकॉक ने 22 रन स्कोर कर चुके थे।
इससे पहले भारत ने टॉस जीत कर दक्षिण अफ्रीका को पहले बल्लेबाजी का निमंत्रण दिया। भारत की तरफ से गेंदबाजी की शुरुआत भुवनेश्व कुमार ने की। भुवी का साथ बुमराह दे रहे हैं। वहीं दक्षिण अफ्रीका की तरफ से पारी की शुरुआत हाशिम अमला और डी कॉक ने की है।
दोनों ही टीमें जीत के सिवाय कुछ और नहीं चाहेंगी। भारत ने पहला मैच जीत कर 1-0 की बढ़त बना ली है। भारत की कोशिश अब अपनी बढ़त को आगे ले जाने की है तो मेजबान टीम की कोशिश बराबरी करने की होगी।
भारतीय टीम ने इस मैच के लिए प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव नहीं किया है। वहीं, द. अफ्रीका की टीम में चोटिल डू प्लेसिस की जगह खाया जोंडो और तबरेज़ शम्सी को टीम में शामिल किया गया है। खाया जोंडो का यह डेब्यू मैच है।

 


पटना - कला संस्कृति व खेल मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि ने अंडर-19 विश्वकप में बिहार के लाल अनुकूल राय के प्रदर्शन पर खुशी जाहिर की। उन्होंने शनिवार को ‘हिन्दुस्तान’ को बताया कि वर्ल्डकप में शानदार प्रदर्शन करने वाले बिहार के इस खिलाड़ी को राज्य सरकार सम्मानित करेगी। अनुकूल को आगे और बेहतरीन प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित भी किया जाएगा। ऋषि ने कहा कि टीम इंडिया को विश्व विजेता बनाने में पूरे टूर्नामेंट में 14 विकेट लेकर अनुकूल ने अपनी दमदार मौजूदगी दर्ज की। उनके इस प्रदर्शन से पूरे राज्य के निवासी खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने दी बधाई
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अंडर-19 क्रिकेट विश्वकप जीतने पर टीम इंडिया को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें दी है। उन्होंने कहा कि अपने कड़े संघर्ष से टीम इंडिया ने फाइनल जीत कर पूरे देशवासियों को गौरवान्वित किया है। सीएम ने विश्व कप में बिहार के लाल अनुकूल राय के शानदार प्रदर्शन पर उनके पिता से फोन पर बात कर उन्हें भी बधाई एवं शुभकामनायें दी।

 


नई दिल्ली - नामचीन क्रिकेटर्स को आम जीवन जीने का हक नहीं है। उनका सेलिब्रीटी होना कभी-कभी उनके लिए भारी पड़ जाता है। वे चाहकर भी भीड़ वाले इलाके में खुलेआम नहीं घूम पाते। ऐसा करने पर उन्हें भारी भीड़ का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन अपने दादा यानी भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने एक हद तक इस समस्या का तोड़ निकाल लिया था। वे भीड़ भाड़ वाले इलाके में गए और उन्हें किसी ने पहचाना भी नहीं।
ये बात अभी की नहीं है बल्कि कई साल पहले गांगुली ने जनता के बीच बिना किसी सुरक्षा के जाने की हिमाकत की थी। उन्होंने इस बात का खुलासा अपनी किताब ''अ सेंचुरी इज़ नॉट एनफ'' में किया है। सौरव गांगुली ने अपने जीवन के यादगार लम्हों में से एक इस वाकये का भी जिक्र किताब में किया है। किताब के अनुसार गांगुली कोलकाता में सरदार के भेष में दुर्गा पूजा में शामिल हुए थे। उन्हें सरदार के रूप में उनकी पत्नी डोना ने तैयार किया था।
गांगुली ने बताया, "मैंने देवी की प्रतिमा की विदाई में सरदार बनकर शामिल होने का मन बना लिया था। यानी कि मूर्ति विसर्जन में गांगुली शामिल हुए थे। गांगुली के अनुसार उनके सभी भाई-बहनों ने उनका मजाक उड़ाया। किसी को विश्वास नहीं था कि गांगुली अपनी पहचान छिपाने में सफल होंगे। गांगुली ने इस चुनौती को स्वीकार कर लिया।
गांगुली ने प्रयास किया कि वे ट्रक में सवार होकर विसर्जन में शामिल हों। लेकिन पुलिस ने उन्हें अनुमति नहीं दी। तब गांगुली अपनी बेटी के साथ कार में गाए। जहां एक पुलिस इंस्पेक्टर ने गांगुली की कार के अंदर झांका। गांगुली को गौर से देखा और मुस्करा दिया। तब गांगुली को थोड़ी शर्मिंदगी महसूस हुई लेकिन तभी उन्होंने पुलिस वाले को चुप रहने का इशारा किया। आखिरकार गांगुली की कोशिश रंग लाई और वे मूर्ति 'विसर्जन' में शामिल हो सके।


माउंट माउंगानुइ - भारत ने ऑस्ट्रेलिया को आठ विकेट से हराकर रिकार्ड चौथी बार अंडर 19 विश्व कप जीत कर इतिहास रच दिया। अंडर 19 क्रिकेट टीम ने 'गुरू' राहुल द्रविड़ को उनके कोचिंग कैरियर की सबसे बड़ी कामयाबी से नवाजा । भारतीय गेंदबाजों ने उम्दा प्रदर्शन करते हुए आस्ट्रेलिया को 216 रन पर आउट कर दिया । जवाब में भारत ने सिर्फ दो विकेट खोकर 38 . 5 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया ।
दिल्ली के मनजोत कालरा ने 102 गेंद में नाबाद 101 रन बनाये जबकि कप्तान पृथ्वी शॉ और टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने वाले शुभमान गिल आज जल्दी आउट हो गए थे । भारत ने चौथा खिताब जीतकर आस्ट्रेलिया को पछाड़ा जिसके नाम तीन खिताब हैं ।
यह प्रदर्शन कोच द्रविड़ को भी शानदार तोहफा रहा जिन्हें आखिरकार विश्व कप ट्राफी अपने नाम करने का मौका मिला । दो साल पहले बांग्लादेश में टीम उपविजेता रही थी। भारत ने छह साल पहले उन्मुक्त चंद की अगुवाई में यह खिताब जीता था । विराट कोहली ने 2008 और मोहम्मद कैफ ने 2000 में खिताबी जीत दिलाई थी ।
इस बार भारत शुरू ही से प्रबल दावेदार माना जा रहा था और प्रदर्शन भी उसी तरह का रहा । दूसरी टीमों और भारत के प्रदर्शन में जमीन आसमान का अंतर था।
शॉ ( 29 ) और गिल ( 31 ) के विकेट जल्दी गंवाने के बाद हार्विक देसाइ ( नाबाद 47 ) और कालरा ने 86 रन की साझेदारी करके टीम को जीत तक पहुंचाया । आस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले मैच में 86 रन बनाने वाले कालरा ने एक बार फिर उम्दा पारी खेली । उसने अपनी पारी में आठ चौके और तीन छक्के लगाये । जैसे ही देसाइ ने विजयी चौका जड़ा, भारतीय खिलाड़ी मैदान पर उमड़ पड़े और दर्शक दीर्घा में चहुंओर तिरंगा लहराता दिखाई दिया । इससे पहले जोनाथन मेरलो के 76 रन के बावजूद आस्ट्रेलियाई टीम भारतीय स्पिनरों शिवा सिंह और अनुकूल रॉय का सामना नहीं कर सकी और 216 रन पर आउट हो गई । एक समय आस्ट्रेलिया के चार विकेट पर 183 रन थे और वह 250 रन की ओर बढती नजर आ रही थी । इसके बाद भारतीय स्पिनरों ने ताबड़तोड़ विकेट लेकर उसके मंसूबों पर पानी फेर दिया । जासन संघा की टीम ने आखिरी छह विकेट 33 रन पर गंवा दिये । आस्ट्रेलिया ने इससे पहले टास जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया लेकिन उसके बल्लेबाज अच्छी शुरूआत को बड़ी पारियों में नहीं बदल सके ।
मेरलो और परम उप्पल ( 34 ) ने चौथे विकेट के लिये 75 रन की साझेदारी की । इसके बाद मेरलो ने नाथन मैकस्वीनी ( 23 ) के साथ 49 रन जोड़े । शिवा ने मैकस्वीनी का रिटर्न कैच लेकर आस्ट्रेलिया पर दबाव बना दिया । उस समय स्कोर पांच विकेट पर 183 रन था। इससे पहले राय ने उप्पल को रिटर्न कैच लेकर पवेलियन भेजा । भारतीय स्पिनरों ने बीच के ओवरों में रनगति पर अंकुश लगाये रखा ।
सलामी बल्लेबाज जैक एडवडर्स ( 28 ) और मैक्स ब्रायंट ( 14 ) टिक नहीं सके । तेज गेंदबाज ईशान पोरेल ने दोनों बल्लेबाजों को उछाल लेती गेंद पर कवर में लपकवाया । इस टूर्नामेंट की एक और खोज कमलेश नागरकोटी ने आस्ट्रेलियाई कप्तान संघा ( 13 ) समेत दो विकेट लिये।वहीं शिवम मावी को एक विकेट मिला।

 

मुंबई महानगर में लैक्मे फैशन वीक 2018 की धूम मची है। इस इवेंट में बॉलीवुड की तमाम हस्तियाँ अपनी स्टाइल में रैंप पर जलवा बिखेर रहें हैं। फैशन डिजाइनर अनुश्री रेड्डी द्वारा गढ़े कपड़ों में फेमस टेनिस प्लेयर सानिया मिर्ज़ा ने भी अपने हुस्न के जलवे दिखाए। पिंक कलर की लहंगा चोली में वे लाजवाब देख रहीं थी। जैसे ही उन्होंने रैंप करना शुरू किया सभी की निगाहें फटी की फटी रह गई।अनुश्री रेड्डी बहोत ही तेज़ी से फैशन की दुनियां में अपने कदम बढ़ा रहीं हैं। उन्होंने कई अभिनेत्रियों के लिए लहंगे डिजाइन किए हैं। वहीं सानिया की बात करें तो हर साल ही वे शो का हिस्सा बनती है। इसके अलावा अक्सर ही वे स्रुखियों में रहती हैं। 69वें गणतंत्र दिवस के मौके पर सानिया ने तिरंगे के साथ एक फोटो शेयर की थी। सोशल मीडिया पर सानिया की पोस्ट बड़ी ही तेज़ी से वायरल हुई थी। लोग उनकी पोस्ट को लेकर भावुक हो उठे थे। दरअसल सानिया इन दिनों चोट के चलते टेनिस कोर्ट से बाहर चल रही हैं। सानिया ने कई मौकों पर देश का नाम रौशन किया है। उन्होंने 2010 में पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से शादी की थी। जिसेक बाद से ही उन्हें कई बार लोगो की नफरत भी झेलनी पड़ी है। हालाकि वे अभी भी भारत के लिए ही खेल रही हैं। आपको बता दें कि सानिया मिर्जा की एक फोटो 2008 में आई थी, जिसमें वो तिरंगे की ओर पैर करके बैठी हुई नजर आई थीं। इस फोटो पर काफी बवाल हुआ था और बात कोर्ट तक पहुंची थी। ख़बरों की माने तो जल्द ही सानिया की बायोपिक भी बन सकती है जिसका निर्माण रोहित शेट्टी करने वालें हैं।

अंडर 19 भारतीय क्रिकेट टीम के कोच राहुल द्रविड़ की मेहनत आज रंग लाई है। क्रिकेट खेलते हुए भले ही विश्व कप जीतने का उनका सपना साकार न हो सका हो। लेकिन उनके मार्गदर्शन में भारतीय टीम ने दमखम से विश्व कप जीत लिया है। अपने 16 साल के शानदार कैरियर के दौरान उन्होंने कई रिकॉर्ड तोड़े। क्रिकेट के क्षेत्र में अहम योगदान के लिए कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त किए। आज बतौर कोच विश्व कप भी जीत चुके हैं।राहुल द्रविड़ ने अपने क्रिकेट करियर को 12 साल की उम्र में शुरू किया था। द्रविड़ ने कर्नाटक की अंडर 15, अंडर 17 और अंडर 19 स्तर की टीमों का प्रतिनिधित्व किया। 1991 में उन्हें कर्नाटक की रणजी टीम में चुना गया था।1996 में सिंगापुर में एक दिन के सिंगर कप में श्रीलंका के खिलाफ खेलने के लिए उन्हें राष्ट्रीय टीम में चुना गया। उसी वर्ष उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ फिर से टेस्ट सीरीज़ के लिए चुना गया। राहुल द्रविड़ ने खुद को एक तकनीकी रूप से सही खेलने वाले बल्लेबाज के रूप में स्थापित किया। 2005 में, सौरभ गांगुली की कप्तानी के अंतर्गत, विश्व कप में भारतीय टीम की विफलता के बाद उन्हें भारतीय टीम का कप्तान बनाया गया था।द्रविड़ की कप्तानी में भारत ने कई यादगार जीत हासिल की। 2007 विश्व कप में भारतीय टीम की विफलता के बाद राहुल द्रविड़ ने कप्तानी को खारिज कर दिया और वह भारतीय टीम के एक बहादुर खिलाड़ी के रूप में बने रहे। राहुल द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ केवल एक टी -20 मैच खेला है। वे 2009 के बाद भी एक दिवसीय मैच खेलते रहे। 2012 में राहुल ने क्रिकेट सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया।
राहुल द्रविड़ के पुरस्कार
1998 – अर्जुन पुरस्कार
2000 – विस्डेन क्रिकेटर ऑफ द ईयर
2004 – आईसीसी प्लेयर ऑफ द इयर
2004 – पद्म श्री राष्ट्रीय पुरस्कार
2004 – आईसीसी टेस्ट प्लेयर पुरस्कार

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को आठ विकेट से हराकर रिकार्ड चौथी बार अंडर 19 विश्व कप जीत कर इतिहास रच दिया है। अंडर 19 क्रिकेट टीम ने 'गुरू' राहुल द्रविड़ को उनके कोचिंग कैरियर की सबसे बड़ी कामयाबी से नवाजा है। भारतीय गेंदबाजों ने उम्दा प्रदर्शन करते हुए आस्ट्रेलिया को 216 रन पर आउट कर दिया। जवाब में भारत ने सिर्फ दो विकेट खोकर 38.5 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया।…
नई दिल्ली - अंडर-19 टीम के कप्तान पृथ्वी शॉ की तुलना मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से की जाती है। बता दें कि पृथ्वी को आज जो उपल्ब्धि मिली है उसके लिए उन्होंने मेहनत भी खूब की है। दरअसल, पृथ्वी जब 4 साल के थे, तब उनकी मां का देहांत हो गया था। पृथ्वी के पिता पर पूरे परिवार के साथ पृथ्वी की कोचिंग की भी पूरी जिम्मेदारी थी। लेकिन इसके…
डरबन - भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच छह मैचों की सीरीज का पहला मैच डरहम में गुरुवार को खेला गया। 270 रनों के लक्ष्य हासिल करने में भले ही विराट कोहली की सेंचुरी का बड़ा हाथ रहा, लेकिन सोशल मीडिया पर महेंद्र सिंह धौनी के विनिंग चौके की चर्चा ज्यादा रही। इसके अलावा धौनी ने जब विनिंग शॉट जड़ा, तो रवि शास्त्री का रिऐक्शन भी खूब वायरल हो रहा…
नई दिल्ली - साल 2017 में शिवम मावी का चयन 2018 आईसीसी अंडर 19 विश्व कप के लिए भारतीय अंडर 19 टीम में हुआ। शिवम दाहिने हाथ से बल्लेबाजी और गेंदबाजी करते है और ये हरफनमौला खिलाड़ी के रूप में जाने जाते हैं। इस साल लीग मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 विकेट लेकर तहलका मचाने वाले शिवम से एक बार फिर उम्मीद है कि वो अच्छा प्रदर्शन करेंगे। बता…
Page 10 of 236

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें