खेल

खेल (3681)

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) की टीम सनराइजर्स हैदराबाद को लीग के 11वें संस्करण के दौरान बड़ा झटका लगा है। उसके तेज गेंदबाज बिली स्टेनलेक चोट के कारण सीजन के बाकी बचे मैचों से बाहर हो गए हैं। फ्रेंचाइजी ने एक बयान जारी कर यह जानकारी दी।बयान के अनुसार, सनराइजर्स हैदराबाद के तेज गेंदबाज बिली स्टेनलेक आइपीएल के 11वें संस्करण के बाकी बचे मैचों से बाहर हो गए हैं। भारत और आस्ट्रेलिया के ऑर्थोपेडिक विशेषज्ञों ने बिली स्टेनलेक को चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ मैच में लगी चोट के बाद आराम करने की सलाह दी है। फील्डिंग के दौरान स्टेनलेक की उंगली में फ्रैक्चर हो गया। इसे ठीक करने के लिए सर्जरी की जरूरत है ताकि वह अपनी पुरानी स्थिति में वापस आ सकें।चेन्नई और हैदराबाद के बीच रविवार को मैच हुआ था और इसी मैच में स्टेनलेक की उंगली चोटिल हो गई थी।आस्ट्रेलिया का यह तेज गेंदबाज अपने उपचार के लिए स्वदेश रवाना होगा।आपको बता दें कि हैदराबाद की टीम ने इस सीज़न के अपने शुरुआत तीन मैच जीते थे और इसमें बिली स्टेनलेक ने भी अहम भूमिका निभाई थी। स्टेनलेक ने इस सीजन के 4 मैचों में पांच विकेट चटकाए। इस दौरान उन्होंने आइपीएल का अपना सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन भी किया। उन्होंने कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ 21 रन देकर 2 विकेट हासिल किए थे। बिली स्टेनलेक ने मौजूदा आइपीएल की अभी तक की सबसे तेज़ गेंद भी फेंकी है। उन्होंने 151.38 कि.मी प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंद फेंकी थी।

क्रिकेटर विराट कोहली और अनुष्का शर्मा का प्यार एक-दूसरे के लिए कई मौकों पर नजर आता है। पिछले साल शादी के बंधन में बंधे इन दोनों सेलेब्स को कई मौकों पर एक-दूसरे पर प्यार लुटाते हुए देखा गया है। दोनों की लव स्टोरी तब से ही चर्चाओं में है, जब दोनों रिलेशनसिप में थे। क्रिकेट मैच के दौरान भी दोनों की करीबियां अक्सर नजर आ ही जाती हैं। बीते दिनों ही एक वीडियो वायरल हो गया था, जिसमें मैच के बाद विराट कोहली फोन कर अपनी वाइफ अनुष्का शर्मा को ढूंढते हुए नजर आ रहे थे और अब हम आपको जो बताना चाह रहे हैं, वह जानकार आप ‘विरुष्का’ की लव स्टोरी के कायल हो जाएंगे।अनुष्का शर्मा को विराट के वार्डरॉब से इतना लगाव है कि कई मौकों पर वह विराट की टी-शर्ट पने हुए नजर आती हैं। ऐसा एक दफा नहीं हुआ है, बल्कि कई दफा अनुष्का शर्मा, विराट कोहली के कपड़े पहने हुए नजर आ चुकी हैं। भई अब इन तस्वीरों को देखकर तो आपको अंदाजा हो ही गया होगा कि ये कपल एक-दूसरे को किस हद तक पसंद करते हैं। इससे पहले भी विराट ओर अनुष्का एक ही जैसे शूज पहने हुए भी नजर आ चुके हैं।अनुष्का और विराट दोनों अपने-अपने कामों में मशगूल होने के बावजूद भी एक-दूसरे के लिए समय निकालना नहीं भूलते हैं। अनुष्का जहां इन दिनों शाहरुख खान की अपकमिंग फिल्म ‘जीरो’ की शूटिंग निपटाने में मशगूल हैं, वहीं विराट एक शहर से दूसरे शहर लगातार टी-20 मैच खेल रहे हैं। इसके बावजूद भी दोनों अपने टाइट शेड्यूल से एक-दूसरे के लिए वक्त निकाल ही लेते हैं। दोनों अपने प्यार का इजहार अक्सर सोशल मीडिया पर भी करते हुए नजर आ जाते हैं।

नई दिल्ली। आइपीएल के 24वें मुकाबले में धौनी की चेन्नई सुपर किंग्स का मुकाबला विराट कोहली की रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर से होगा। मौजूद आइपीएल में चेन्नई की टीम शानदार फॉर्म में चल रही है, वहीं कोहली की टीम को भी आखिरी मैच में जीत तो मिली है, लेकिन कोहली की टीम इस जीत के सिलसिले को जारी रखना चाहेगी। मौजूदा आइपीएल में धौनी की टीम ने पांच मैचों में सिर्फ एक में हार का सामना किया है। चेन्नई के बल्लेबाजों ने हर मैच में शानदार प्रदर्शन किया है। शेन वाटसन और अंबाती रायडू की सलामी जोड़ी फॉर्म में है जो बेंगलोर के गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ खतरनाक साबित हो सकती है।दिल्ली के खिलाफ बैंगलोर की आखिरी मैच में जीत मिली। चैलेंजर्स की रॉयल जीत में धुरंधर बल्लेबाज एबी डीविलियर्स की भूमिका कमाल की रही। उन्होंने 39 गेंदों पर नाबाद 90 रन की पारी खेलकर अपनी टीम को जीत दिलाई। एबी को मैन ऑफ द मैच भी चुना गया। सुरेश रैना ने हैदराबाद के खिलाफ 43 गेंदों पर नाबाद 54 रन की पारी खेली और वो कोहली को पीछे छोड़ते हुए आइपीएल के इतिहास में एक बार फिर से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बन गए। सुरेश रैन, ड्वेन ब्रावो और कप्तान धौनी के रहते चेन्नई किसी भी परिस्थिति में कहीं से भी मैच जीत सकती है। इन तीनों में वो काबिलियत है कि यह टीम को बड़ा स्कोर प्रदान कर सकते हैं और किसी भी लक्ष्य तक टीम को पहुंचा भी सकते हैं।कोहली ने पांच मैचों में 57.75 की औसत से 231 रन दिए हैं। डिविलियर्स ने दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ 39 गेंदों में 90 रनों की पारी खेली और अगर वह चेन्नई के खिलाफ भी इस तरह का प्रदर्शन जारी रखते हैं तो बेंगलोर के लिए इससे बड़ी खुशी की बात नहीं होगी।गेंदबाजी में दीपक चहर ने काफी प्रभावित किया है। दीपक को शार्दुल ठाकुर का भी अच्छा साथ मिला है। दोनों ने क्रमश: पांच और चार मैच खेले हैं तथा छह-छह विकेट लिए हैं।

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) की टीम सनराइजर्स हैदराबाद को लीग के 11वें संस्करण के दौरान बड़ा झटका लगा है। उसके तेज गेंदबाज बिली स्टेनलेक चोट के कारण सीजन के बाकी बचे मैचों से बाहर हो गए हैं। फ्रेंचाइजी ने एक बयान जारी कर यह जानकारी दी।बयान के अनुसार, सनराइजर्स हैदराबाद के तेज गेंदबाज बिली स्टेनलेक आइपीएल के 11वें संस्करण के बाकी बचे मैचों से बाहर हो गए हैं। भारत और आस्ट्रेलिया के ऑर्थोपेडिक विशेषज्ञों ने बिली स्टेनलेक को चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ मैच में लगी चोट के बाद आराम करने की सलाह दी है। फील्डिंग के दौरान स्टेनलेक की उंगली में फ्रैक्चर हो गया। इसे ठीक करने के लिए सर्जरी की जरूरत है ताकि वह अपनी पुरानी स्थिति में वापस आ सकें।चेन्नई और हैदराबाद के बीच रविवार को मैच हुआ था और इसी मैच में स्टेनलेक की उंगली चोटिल हो गई थी।आस्ट्रेलिया का यह तेज गेंदबाज अपने उपचार के लिए स्वदेश रवाना होगा।आपको बता दें कि हैदराबाद की टीम ने इस सीज़न के अपने शुरुआत तीन मैच जीते थे और इसमें बिली स्टेनलेक ने भी अहम भूमिका निभाई थी। स्टेनलेक ने इस सीजन के 4 मैचों में पांच विकेट चटकाए। इस दौरान उन्होंने आइपीएल का अपना सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन भी किया। उन्होंने कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ 21 रन देकर 2 विकेट हासिल किए थे। बिली स्टेनलेक ने मौजूदा आइपीएल की अभी तक की सबसे तेज़ गेंद भी फेंकी है। उन्होंने 151.38 कि.मी प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंद फेंकी थी।

नई दिल्ली। आइपीएल 2018 में दिल्ली के खराब प्रदर्शन के बाद डेयर डेविल्स को एक और बड़ा झटका लगा है। गौतम गंभीर ने बीच सीजन में ही दिल्ली की टीम की कप्तानी छोड़ दी है। गौतम गंभीर की जगह अब दिल्ली की टीम की कमान श्रेयस अय्यर को सौंपी गई है।
ऐसा रहा है दिल्ली का प्रदर्शन:-मौजूद आइपीएल में दिल्ली की टीम ने 6 मैच खेले हैं और इनमे से 5 मैचों में डेयरडेविल्स को हार का सामना करना पड़ा है और सिर्फ एक ही मैच में उसे जीत मिली है। अंकतालिका में दिल्ली की टीम सबसे नीचे है। गंभीर अपनी टीम के खराब प्रदर्शन को लेकर काफी परेशान थे और अब उन्होंने इस टीम का कप्तानी छोड़ने का फैसला किया है।इस आइपीएल में दिल्ली की टीम के साथ-साथ गौतम गंभीर भी खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। उन्होंने मौजूदा आइपीएल में अभी तक 6 मैचों में सिर्फ 85 रन बनाए हैं, जिसमें उन्होंने एक अर्धशतक भी जड़ा है। ये अर्धशतक उन्होंने पंजाब के खिलाफ मोहाली में खेले गए मैच में लगाया था। इस मुकाबले में गंभीर ने 55 रन की पारी खेली थी।
घर वापसी का नहीं हुआ फायदा:-आपको बता दें कि गौतम गंभीर इससे पहले भी 2008, 2009 और 2010 में दिल्ली की टीम से खेल चुके हैं। वो आइपीएल में दूसरी बार दिल्ली की टीम से जुड़े जब इस साल जनवरी में आइपीएल की नीलामी में दिल्ली की टीम ने उन्हें 2.8 करोड़ रुपये में खरीदा था, लेकिन उनकी ये पारी दिल्ली की टीम की हालत नहीं सुधार सकी। वो 6 मुकाबलों में कप्तानी करने के बाद अपनी टीम को सिर्फ एक जीत ही दिला सके।
केकेआर को दो-दो बार बनाया चैंपियन:-कोलकाता नाइट राइडर्स ने 2011 में गंभीर को कप्तान बनाया। तब केकेआर ने रिकॉर्ड 11.04 करोड़ में उन्हें खरीदा था। उस साल केकेआर 'टीम पहली बार आइपीएल में चौथे स्थान पर रही। अगले ही साल 2012 में गंभीर की कप्तानी में केकेआर की टीम पहली बार आइपीएल चैंपियन बनी। गंभीर को 2014 में रिटेन किया गया और केकेआर ने दूसरी बार खिताब पर कब्जा किया था।

 

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर (आरसीबी) और चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के मुकाबले को आप गुरु-शिष्य के बीच मुकाबले के रूप में भी देख सकते हैं। निश्चित तौर पर गुरु महेंद्र सिंह धौनी ही हैं और शिष्य विराट कोहली हैं। धौनी की कप्तानी में ही विराट ने टेस्ट और वनडे में पदार्पण किया था। उन्हीं के नेतृत्व में ही उनकी कप्तानी निखरी। धौनी बहुत ज्यादा टीम बैठकों में विश्वास नहीं रखते और अन्य खिलाड़ियों को खुलकर खेलने का मौका देते हैं। मैदान में भी वह कभी अपना आपा नहीं खोते, इसी वजह से उन्हें कैप्टन कूल कहते हैं।
धौनी हैं कैप्टन कूल:-बस टीम के विकेट लेने पर ही धौनी उत्साह में दिखाई देते हैं। इसके अलावा उनके हावभाव में मुश्किल ही बदलाव आता है। हां कभी-कभी वह किसी धीमे फील्डर को घूरते नजर आ जाते हैं या फिर किसी खराब थ्रो पर थोड़ी नाराजगी जताते हैं, लेकिन अगर कोई कैच छूट जाती है या कोई गेंदबाज चौका खाता है, तब भी वह शांत बने रहते हैं। इस वजह से खिलाड़ी उनका सम्मान करते हैं और शायद उनके लिए यह आखिरी चीज होगी कि वह कभी दर्शकों के सामने उनका अपमान करें। शायद वह ड्रेसिंग रूम के भीतर जाकर उन्हें समझाते हों और उस चीज को कोई खिलाड़ी बुरा भी नहीं मानेगा।
कोहली हैं अग्रेसिव कप्तान:-कोहली शायद इसके पूरी तरह से उलट हैं। वह मैदान पर अपनी भावनाएं छिपाते नहीं हैं और उनकी खुशी व निराशा टीवी पर अक्सर दिखाई देती रहती है। हालांकि हर कोई देख सकता है कि उन्होंने खुद पर बहुत मेहनत की है ताकि कैच छूटने या खराब फील्डिंग पर वह गुस्सा न हों। कप्तानी संभालने के बाद वह अपनी भावनाओं को काबू में रखना सीख रहे हैं, खासतौर से मैदान में अपनी निराशा को वह आसानी छिपा लेते हैं। एबी डिविलियर्स की बदौलत आखिरी मैच में जीत के बाद आरसीबी को उम्मीद होगी कि वह इस जीत की लय को बरकरार रखेगी। उन्हें उम्मीद होगी कि उनके कप्तान फिर से शतक लगाने वाली फॉर्म में लौटें, जैसे वह कुछ सत्र पहले थे। इन पिचों पर गेंदबाजी करना आसान नहीं है और ऐसे में उन्हें काफी मुश्किल हो रही है।
एकजुटता है चेन्नई की ताकत:-सीएसके को देखकर लग रहा है, जैसे वे कभी दूर गए ही नहीं थे। जिस ढंग से यह टीम एकजुट दिख रही है और दबाव को झेल रही है, वह शानदार है। इसका सीधा सा कारण है कि टीम के प्रमुख खिलाड़ी दो साल के प्रतिबंध के बाद भी लगभग वही हैं और उनके प्रशंसक सिर्फ चेन्नई तक सीमित नहीं हैं बल्कि पूरे भारत में हैं और इसके पीछे एकमात्र कारण महेंद्र सिंह धौनी हैं

नई दिल्ली। सनराइजर्स हैदराबाद के युवा तेज़ गेंदबाज़ सिद्धार्थ कौल ने मंगलवार को मुंबई के खिलाफ शानदार प्रदर्शन कर अपनी टीम को जीत दिला दी। इस मैच में कौल ने 23 रन देकर तीन विकेट लेकर मुंबई की टीम की कमर तोड़ दी। शानदार प्रदर्शन कर अपनी टीम को मैच जीताने के बावजूद भी कौल को बीसीसीआइ ने फटकार लगाई है। इस वजह से पड़ी फटकार :-युवा तेज गेंदबाज सिद्धार्थ…
नई दिल्ली। सीमित ओवर क्रिकेट में कलाई के स्पिनरों के बढ़ते दबदबे के बीच सचिन तेंदुलकर ने कहा कि लेग स्पिन गेंदबाजी करने वाला ऑफ स्पिनर बहुभाषी की तरह होता है। निश्चित तौर पर उनकी इस टिप्पणी से रविचंद्रन अश्विन का हौसला बढ़ेगा, जो सीमित ओवरों के प्रारूप में राष्ट्रीय टीम में वापसी करने के लिए कलाई से स्पिन कराने के कौशल को आजमा रहे हैं।इन दिनों अश्विन ऑफ स्पिन…
नई दिल्ली। अपने सबसे बेहतरीन गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार के बिना ही सनराइजर्स हैदराबाद की टीम ने मुंबई इंडियंस को लो स्कोरिंग मैच में हराकर इतिहास रच दिया। हैदराबाद की टीम ने आइपीएल के दूसरे सबसे छोटे लक्ष्य को बचाते हुए मुंबई को 31 रन से मात दे दी। हैदराबाद 18.4 ओवर में 118 रन पर पवेलियन लौट गई थी। जवाब में हैदराबाद ने तेज गेंदबाज सिद्धार्थ कौल के दम पर…
नई दिल्ली - अगले साल इंग्लैंड में होने वाले विश्कप-2019 में भारत अपने अभियान की शुरुआत दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2 जून की बजाय 4 जून को करेगा। विश्वकप के दौरान यह बदलाव बीसीसीआइ की लोढ़ा समिति की सिफारिश के कारण है। बीसीसीआइ को लोढ़ा समिति की सिफारिश के मुताबिक आइपीएल और अंतरराष्ट्रीय मैच के बीच 15 दिन का अनिवार्य अंतर रखना होगा। क्रिकेट विश्व कप अगले साल 30 मई…
Page 1 of 263

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें