Editor

Editor

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यभार संभालने के विरोध में आयोजित मार्च में लाखों महिलाएं शामिल हुई। ठीक एक वर्ष बाद ट्रंप और उनके प्रशासन की नीतियों के खिलाफ समूचे अमेरिका के शहरों में प्रदर्शनकारी एकत्रित हुए। समाचार एजेंसी एफपी के मुताबिक, इनमें से न्यूयॉर्क में सबसे विशाल मार्च निकाला गया। करीब 85,000 प्रदर्शनकारियों ने इंटरनेट पर इसके लिए पंजीकरण कराया। हालांकि, प्रदर्शनकारियों की वास्तविक संख्या इससे अधिक हो सकती है। मेयर के कायार्लय के अनुसार, 2०17 में यह संख्या चार लाख थी।न्यूयॉर्क में रहने वाली लीजा और मेरेली ने मार्च के बाद एफे को बताया कि लोग सेंट्रल पार्क के पश्चिम में होने वाली रैली में शामिल होने के लिए सुबह ही जुटने लगे थे और यह रैली ऊर्जा, सशक्तिकरण और एकता की भावना से भरपूर थी। रैलियों में ट्रंप की नीतियों की व्यापक आलोचना हुई और उनमें शामिल लोग व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति के आने के एक वर्ष पूरे होने को लेकर नारा लगाते हुए कह रहे थे, “वेलकम टू द फर्स्ट ईयर, वाय द हेल आर यू स्टिल हेयर? (अपने पहले वर्ष में आपका स्वागत है, आप अब भी यहां क्यों है?)हालांकि, ट्रंप ने प्रदर्शनकारियों के रुख को नजरअंदाज करते हुए ट्विटर पर लिखा, “हमारे महान देश में इस समय खूबसूरत मौसम है, सभी महिलाओं के मार्च में शामिल होने के लिए यह दिन बिल्कुल उपयुक्त है।” ट्रंप ने साथ ही कहा कि अमेरिका में 'पिछले 18 वर्षों में महिला बेरोजगारी अपने न्यूनतम स्तर पर रही है।'इस सबके बावजूद, बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों में ट्रंप प्रशासन की आव्रजन और स्वास्थ्य सुविधा नीतियों के खिलाफ नाराजगी नजर आई। उन्होंने महिलाओं, आव्रजकों और एलजीबीटी समुदाय के सदस्यों के लिए समान अधिकारों की मांग की और यौन उत्पीड़न के खिलाफ नारीवादी नारे लगाए। नेवादा की राजधानी लास वेगास में मार्च 'पावर टू द पोल्स' अभियान पर केंद्रित रहेगा।अन्य प्रमुख शहर जहां शनिवार को हजारों लोग सड़कों पर उतरे उनमें वॉशिंगटन, डेनवेर, सैन फ्रांसिस्को और लॉस एंजेलिस रहे। अर्जेंटीना, केन्या, चीन, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और रोम जैसे देशों में शनिवार और रविवार को सैकड़ों वैश्विक महिला अधिकार मार्च और कार्यक्रम आयोजित किए गए

 

 

रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में स्थानीय पुलिस को छापेमारी के दौरान एक ऐसा जानवर मिल गया, जिससे सभी पुलिसकर्मी चौंक गए। दरअसल, स्थानीय पुलिस हथियारों को ढूंढने के लिए एक संदिग्ध के घर के बेसमेंट में छापेमारी कर रही थी।पुलिस ने बताया कि अवैध हथियारों के कब्जे और तस्करी के मामले में पुलिस एक संदिग्ध के घर में छापेमारी कर रही थी। इसी दौरान पुलिस को बेसमेंट से मगरमच्छ मिल गया।पुलिस ने बयान में बताया कि घर के बेसमेंट में जब मगरमच्छ निकला तो उस समय कई पुलिसकर्मी वहां मौजूद थे। हालांकि, इससे कोई घायल नहीं हुआ।पुलिस द्वारा जारी की गईं तस्वीरों में मगरमच्छ एक पूल में दिखाई दे रहा है। वहीं, एक पड़ोसी ने बताया कि यह मगरमच्छ साल 2005 से घर में था।

अमेरिका में पांच साल में दूसरी बार शटडाउन होने से ना सिर्फ अमेरिका में सरकारी कामकाज ठप है बल्कि उसका सीधा असर भारत पर पड़ सकता है। भारत के निर्यात को बड़ा झटका लगा है और उसकी वजह है दोनों देशों के बीच का कारोबार। भारतीय इंजिनियरिंग एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (ईईपीसी) ने शनिवार को कहा कि अमेरिका की संघीय सरकार के ठप के चलते देश का निर्यात प्रभावित होगा, क्योंकि अमेरिका सबसे ज्यादा निर्यात किए जानेवाले देशों में से एक है।ईईपीसी इंडिया के अध्यक्ष रवि पी. सहगल ने बताया कि अमेरिकी संघीय सरकार की बंदी की ख़बर निश्चित तौर पर भारतीय निर्यातकों के लिए बुरी ख़बर है। क्योंकि, देश से सर्वाधिक निर्यात की जानेवाली अर्थव्यवस्थाओं में अमेरिका प्रमुख है। रवि पी. सहगल ने कहा कि इंजिनियरिंग क्षेत्र के लिए अमेरिका नंबर वन निर्यात गंतव्य है और मौजूदा वित्त वर्ष में इसमें मजबूत बढ़ोतरी देखी जा रही है। गौरतलब है कि सीनेट के डेमोक्रेट सांसदों की ओर से संघीय सरकार के एक अल्पकालिक व्यय उपाय पर रोक लगाने के बाद ट्रंप सरकार ने शनिवार को शटडाउन की घोषणा की।
क्या है शटडाउन
- अमेरिका में एंटीडेफिशिएंसी एक्ट लागू है।
- इस एक्ट के तहत अमेरिका में पैसे की कमी होने पर संघीय एजेंसियों को अपना कामकाज रोकना पड़ता है, यानि उन्हें छुट्टी पर भेज दिया जाता है।
- इस दौरान उन्हें वेतन भी नहीं दिया जाता।
- ऐसी स्थिति में सरकार संघीय बजट लाती है, जिसे प्रतिनिधि सभा और सीनेट, दोनों में पारित कराना जरूरी होता है।

 

10 दिन पहले मरी महिला को अंतिम संस्कार को ले जा रहे कर्मचारी उस वक्त हैरान रह गए जब उन्होंने महिला को कफन को खोला। कर्मचारियों देखा कि कफन में बंद महिला के शव से ही बच्चे का जन्म हुआ। घटना दक्षिण अफ्रीका के म्थ्यासी गांव की है।महिला की मौत की मौत एक अस्पताल में 10 दिन पहले हो चुकी थी। महिला 33 वर्ष की थी और 9 माह की गर्भवती थी। महिला का नाम नॉमवेलिसो नॉमासोन्तो म्दोयी था जो कि पहले पांच बच्चों की मां थी।
घटना को देख घबरा गए लोग:-लिंडोकुहले नाम के शव दाह ग्रह के मालिक फुंडिले मकराना ने मीडिया को बताया कि वह इस अजीबो गरीब घटना को देखकर हैरान रह गए। वह घटना से इतना ज्यादा घबरा गए थे कि यह तक नहीं देख बच्चे कि पैदा हुआ बच्चा लड़का था या लड़की।उन्होंने बताया कि वह पिछले 20 साल से मुद्रों का अंतिम संस्कार करने का काम कर रहे हैं। लेकिन ऐसी घटना के बारे में कभी नहीं सुना किसी मरी महिला ने बच्चे को जन्‍म दिया हो।
बड़े ताबूत में दफनाए गए मां-बच्चा:-घटना से घबराए कर्मियों ने जल्द ही महिला और उसके बच्चे को एक बड़े ताबूत में रखकर शनिवार को दफना दिया। वहीं महिला के परिवार ने भी मौत के बाद बच्चे के जन्म की घटना पर हैरानी जताई है। उन्होंने कहा कि ऐसा सुनना भी डरावना लगता है।महिला की मां ने बताया कि उसकी बेटी को सांस लेने में कुछ तकलीफ हो रही थी और अचानक ही उसकी मौत हो गई थी। उन्होंने कहा कि एक तो अपनी बेटी की अचानक मौत से ही घबराई हुई थीं कि अब बच्चे के जन्म की घटना से उन्हें दोहरा सदमा पहुंचा है। उन्होंने मीडिया को बताया कि जब उन्हें पता चला कि उनकी बेटी ने मौत के 10 बाद बच्चे को जन्म दिया है तो वह हैरान रह गईं।वहीं चिकित्सा क्षेत्र के विशेषज्ञों का मानना है कि ऐसा संभव है कि महिला के पेट में गैस बनी हो और उसके दबाव में बच्चा बाहर निकल आया हो। चूंकि मरने के बाद इंसान की मांसपेशिया शिथिल पड़ जाती हैं इस कारण भी बच्चे का जन्म संभव है।

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में ऑपरेशन खत्म हो गया है। यहां सुरक्षाबलों ने सभी आतंकियों को मार गिराया है। वहीं इस आतंकी हमले में 5 लोगों की मौत हो गई है और 6 लोग घायल हो गए।लगभग 15 घंटे चले इस ऑपरेशनमें सुरक्षा बलों ने आतंकियों की चंगुल में फंसे 126 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। इसमें से 41 विदेशी मेहमान हैं। फिलहाल सुरक्षा बलों ने पूरे होटल को अपने नियंत्रण में ले लिया है।आपको बता दें कि काबुल के के होटल इंटरकॉन्टिनेंटल में शनिवार की शाम को आतंकी हमला हुआ। हमला रात करीब 9 बजे हुआ। आतंकी होटल में घुसते ही गेस्ट और होटल स्टाफ पर फायरिंग करने लगे। पहले कबर आई थी कि इस हमले में 15 लोगों की मौत हो गई और दर्जनों घायल हो गए। लेकिन बाद में ये संख्या 5 बताई गए।पहले आतंकियों ने कई गेस्ट को कमरे में बंद कर बंधक बना लिया था। वहीं सुरक्षा बलों ने अब दो आतंकी को मार गिराया, लेकिन 1-2 आतंकी अभी भी होटल में छिपे हुए हैं। आतंकियों ने आज सुबह फिर से गोलीबारी शुरू की।इस हमले को वर्ष 2008 में 26 नवंबर को मुंबई में हुए आतंकी हमले की तरह माना जा रहा है। उस दिन मुंबई के ताज होटल में 6 आतंकी घुस आए थे और तीन दिनों में 30 लोगों की जान ले ली थी।
11.10am: काबुल के इंटरकॉन्टिनेंटल होटल में चल रहा ऑपरेशन खत्म, सभी आतंकियों को मार गिराया गया। स्थानीय सरकार ने दी जानकारी।
10.49am: अफगान मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, गृहमंत्री के प्रवक्ता ने बताया कि तीन आतंकी मारे गए हैं, जबकि 126 लोगों को बचाया गया है। इनमें से 41 विदेशी मेहमान हैं। उन्होंने 5 लोगों के मारे जाने और 6 लोगों के घायल होने की पुष्टि की। वहीं सुरक्षा बल होटल को पूरी तरह से अपने कब्जे में लेने की कोशिश में लगे हैं।
9amः सुरक्षा बलों ने टोलो न्यूज को बताया कि अभी तक 30 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। दो आतंकियों को भी मार गिराया या है। जबकि एक बंदूकधारी आतंकी अभी भी आठवीं मंजिल पर छिपा हुआ है।
8:52am: टोलो न्यूज के मुताबिक , अतिरिक्त स्पेशल फोर्स और विदेशी सेना होटल इंटरकॉन्टिनेंटल पहुंची। 10 घंटे से चल रहा है ऑपरेशन। अफगानिस्तान के लोग समेत कुछ विदेशी मेहमान के भी अंदर फंसे होने का संदेह।
8am: टोलो न्यूज ने 3 लोगों के घायल होनेकी पुष्टि की। जिसमें से वजीर अकबर खान को अस्पताल ले जाया गया । जबकि बाकियों को काबुल इमरजेंसी अस्पताल और मिलिट्री हॉस्पिटल्स में ला जाए गए।पहले ऐसी खबरें आईं थीं कि दो आतंकियों को मार गिराया गया है, लेकिन अफगानिस्तान के गृह मंत्री के उपप्रवक्ता नसरत रहिमी ने बताया कि जवाबी कार्रवाई में सिर्फ आतंकी मारा गया है। तीन आतंकी अभी भी होटल के अंदर छिपे हुए हैं और फिर से गोलीबारी शुरू कर दी है। आतंकियों ने होटल के एक कमरे में कुछ लोगों को भी बंधक बनाया हुआ।
कैसे घुसे आतंकी:-रिपोर्ट्स में बताया गया है कि चार हमलावर हथियारों के साथ होटल के अंदर घुसे थे, इसके बाद पुलिस ने पूरे इलाके को घेर लिया। हमलावरों ने कईयों को होटल में बंधक भी बनाकर रखा हुआ है। मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। पूरे इलाके में सुरक्षा मजबूत कर दी गई है।होटल के ऊपर से उड़ता हेलीकॉप्टर।हमला स्थानीय समय के मुताबिक रात 9 बजे हुआ है। होटल के पास मौजूद कुछ लोगों ने बताया कि उन्होंने होटल के अंदर गोलीबारी और विस्फोट की आवाज सुनी थी। होटल की चौथी मंजिल से आग की लपटे निकलती हुई देखी गई हैं। इस मंजिल पर चार रेस्तरां और स्विमिंग पुल हैं। अफगान गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कई लोगों की मौत की पुष्टि की है। अभी तक किसी भी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। होटल में कई विदेश मेहमान भी ठहरे हुए थे, हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ कि किस देश के कितने नागरिक हमले में मारे गए हैं।होटल के एक रूम में छुपे युवक ने बताया कि होटल की लाइट काट दी गई है। वहीं हमले में बचे एक युवक ने बताया कि हमलावर लोगों को होटल की ऊपर की मंजिलों से नीचे फेंक रहे थे। उसने बताया कि उसने होटल के बाहर चार शव देखे हैं, साथ ही उसने बताया कि हमलावर 'अल्लाह हू अकबर' के नारे लगा रहे थे। बता दें, साल 2011 में भी इस होटल पर तालिबानी आतंकियों ने हमला कर दिया था। उस वक्त नौ हमलावरों सहित 21 लोगों की मौत हुई थी।

टीम इंडिया के शानदार बल्लेबाज शिखर धवन ने गुरुवार को पाकिस्तानी क्रिकेटर और टेनिस स्टार सानिया मिर्जा के पति शोएब मलिक को ट्वीट किया। शिखर के इस ट्वीट पर सभी उनके फैन हो गए। सभी ने उनकी तारीफ की। दरअसल, शिखर धवन ने लिखा, जनाम शोएब मलिक, उम्मीद करता हूं कि आप जल्दी ठीक हो जाएं और जल्द ही मैदान पर उतरें। ख्याल रखें अपना।दरअसल, हुआ कुछ यूं कि ईशांत शर्मा की पत्नी प्रतिमा सिंह ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की। इस तस्वीर में प्रतिमा की आंख के ऊपर चोट लगी थी और उन्होंने उसपर बैंडेज लगाया हुआ था। प्रतिमा की इस फोटो पर ईशांत ने कमेंट किया कि विनर...देख कर खेलो, क्यों साउथ अफ्रीका में टेंशन दे रही हो। दोनों की प्यारी चैट शुरू हो जाती है, लेकिन इसी बीच एक शख्स बीच में कूद पड़ता है और भारतीय क्रिकेट टीम की परफॉर्मेंस को लेकर कमेंट करता है। जिसके बाद ईशांत को गुस्सा आ जाता है और वो उसे अपने अंदाज में समझाते हैं। यहां तक की प्रतिमा भी उन्हें ऐसा जवाब देती है कि जिसके बाद उस शख्स को अपने कमेंट्स डिलीट करने पड़े।

इंडियन प्रीमियर लीग का 11वां संस्करण इस साल अप्रैल में शुरू होने वाला है। इसके लिए आयोजकों ने तैयारियां अभी से शुरू हो गई हैं। इस बार के आईपीएल का मुख्य स्पॉन्सर मोबाइल फोन निर्माता कंपनी 'विवो' है। आईपीएल में अपने ब्रांड के प्रमोशन के लिए इस बार कंपनी ने बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान को चुना है। आमिर खान विवो के नए चेहरे के रूप में काम करेंगे। चाइनीज मोबाइल निर्माता कंपनी 'विवो' अभिनेता रणवीर सिंह के साथ 20 महीने पहले से चले आ रहे अपने करार को आगे नहीं बढ़ाने पर विचार कर रही है।विवो ने आईपीएल के स्पॉन्सरशिप के अधिकार लेने के लिए 2199 करोड़ की पांच साल की डील की थी जो 2018 से 2022 तक है, जिसके तहत हर साल 440 करोड़ खर्चा होते है। आमिर खान इस समय देश के टॉप 5 ब्रांड आइकन में शामिल हैं, जिसमें भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली भी इस लिस्ट में शामिल हैं। आमिर खान इससे पहले 2008 में सैमसंग मोबाइल कम्पनी के ब्रांड एम्बेसडर के रूप में किसी मोबाइल को प्रमोट करते हुए दिखे थे।

पूर्व ऑलराउंडर मनोज प्रभाकर ने मौजूदा टेस्ट सीरीज में भारत के टीम चयन की आलोचना करते हुए कहा कि सीमित ओवर क्रिकेट में फार्म के आधार पर खिलाड़ियों को टेस्ट मैच के लिए चुनना शर्मनाक है। भारत ने पहले दो टेस्ट में अजिंक्य रहाणे को बाहर रखा जबकि भुवनेश्वर कुमार को दूसरे टेस्ट से बाहर कर दिया और उनकी जगह ईशांत शर्मा को टीम में शामिल किया। केपटाउन में शुरुआती दिन भुवनेश्वर ने शुरू में तीन विकेट झटके थे जिससे दक्षिण अफ्रीका ने 12 रन के अंदर तीन विकेट गंवा दिए थे। लेकिन भारतीय टीम इस मैच में 208 रन के लक्ष्य का पीछा नहीं कर सकी और हार गई।
टेस्ट में नई गेंद खेलना विशेषज्ञ का काम है:-प्रभाकर ने ईडन गार्डन्स में पत्रकारों से कहा, 'यह शर्मनाक है। अगर आप टेस्ट टीम का चयन टी20 अंतरराष्ट्रीय या वनडे टीम की फार्म के आधार पर करना शुरू कर देंगे तो आप खत्म हो। टेस्ट मैच में नई गेंद से खेलना एक विशेषज्ञ का काम है। उन्होंने कहा, 'हमारे पास ऋषभ पंत है, क्या आप उसे टेस्ट में खिलाओगे? वह 25-30 गेंद में शतक बना सकता है। प्रभाकर दिल्ली के गेंदबाजी कोच हैं और यहां सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी टी20 टूर्नामेंट के लिए आए हुए हैं। उन्होंने कहा, 'टेस्ट में आपको अलग तकनीक की जरूरत होती है। लेकिन वनडे में कोई बल्लेबाज दोहरा शतक बनाता है तो उसका स्थान स्थिर हो जाता है। रहाणे को खिलाना चाहिए था। हमारी यही समस्या है।
पहले 20 ओवर में अच्छा प्रदर्शन जरूरी:-इतना ही नहीं, मनोज प्रभाकर ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में पहले 20 ओवरों में अगर टीम अच्छी बल्लेबाजी और गेंदबाजी नहीं कर सकती, तो हम मेजबान टीम से नहीं जीत सकते। सबसे अहम चीज है कि आप किस तरह गेंद का सामना करते हैं। अगर आप सामने से आ रही गेंद का सामना नहीं कर सकते, तो आप पिच पर टिक नहीं सकते। गेंद को जाने देना भी सीखना जरूरी है। मैं भी सलामी बल्लेबाज रहा हूं और जब मैं संघर्ष कर सकता हूं, तो वे क्यों नहीं कर सकते?

लीजिए भाई.. ! बेसब्रीभरा इंतज़ार खत्म हुआ और वह दिन आ ही गया। हम बात करें है आगामी फिल्म मनमर्जियां की। इस फिल्म को लेकर तैयारी तो बहोत पहली ही हो चुकी थी पर कई वजहों से फिल्म का काम ठप्प पड़ गया था। दरअसल आनन्द एल राय चाहते थे कि मनमर्जियां का निर्देशन अनुराग कश्यप करे लेकिन अनुराग अपनी फिल्म मुक्काबाज़ की शूटिंग में व्यस्त थे। अब जबकि मुक्काबाज़ फिल्म रिलीज हो चुकी है इसलिए अनुराग कश्यप ने मनमर्जियां की कमान संभाल ली है। इस बात की जानकारी ट्वीटर पर दी गई है।आनन्द एल राय के होम प्रोडक्शन में बन रही फिल्म मनमर्जियां का निर्देशन पहले अश्विनी अय्यर तिवारी करने वाले थे। अश्विनी ने बरेली की बर्फी फिल्म का निर्देशन किया था। लेकिन बात नहीं बनी और और अब अनुराग मनमर्जियां का डायरेक्शन करने वालें हैं। ट्वीटर पर किए गए इस पोस्ट में इस बात की भी घोषणा कर दी गई है कि फिल्म की शूटिंग अगले महीने से शुरू की जाएगी। यह एक लव स्टोरी फिल्म होगी, जिसमे विकी कौशल और तापसी पन्नू के साथ अभिषेक बच्चन फ़िल्म में लीड रोल प्ले कर रहे हैं। ऐसा पहली बार होगा जब अनुराग कश्यप अभिषेक बच्चन के साथ किसी फिल्म में काम करेंगे।खबर है कि फिल्म की शूटिंग पंजाब, मुंबई और उत्तर भारत के कुछ इलाकों में होने की संभावना है। जैसे ही अनुराग ने फ्री हुए वैसे उन्होंने आनन्द एल राय से जाकर मुलाक़ात की। आनन-फानन में फिल्म के कलाकारों को मीटिंग में बुला लिया गया। आनन्द और अनुराग ने तापसी, विकी और अभिषेक को फिल्म के मुख्य दृश्यों की जानकारी दी और ज़ोरदार तैयारी के लिए कहा

 

 

 

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का आज जन्दीन है। वे 32 साल के हो गए हैं। अपनी मेहनत के नाते वे आज एक मुकाम पर हैं। टीवी की दुनिया से शुरुवात की और आज बॉलीवुड की बड़ी फ़िल्में कर रहें हैं। अभिनेता को तो सुबह से ही बधाइयाँ मिल रही होगी लेकिन सवाल यह है कि सुशांत जन्मदिन कहाँ और किस तरह मनाएंगे। वैसे इस सवाल का जवाब मिस्टर राजपूत से बेहतर और कौन दे सकता हैं। हालही में सुशांत की मुलाक़ात मीडिया से हुई थी। जब उनसे पूछा गया कि क्या दुसरे अभिनेताओं की तरह आप भी अपने बर्थडे में शूटिंग करेंगे या जश्न मनाएंगे? जवाब में सुशांत ने कहा, ‘अरे बिलकुल नहीं। मै अपने जन्मदिन पर कभी काम नहीं करता। मै बिलीव करता हूँ कि काम.. काम के समय ही करना बेहतर होता है। वैसे भी एक्टिंग करना बॉलीवुड मेरे लिए किसी सेलिब्रेशन से कम नहीं।’लेकिन हमारी जानकारी के मुताबिक़ इस समय सुशांत सिंह चम्बल में हैं अपनी अगली फिल्म की शूटिंग के लिए। अभिषेक चौबे की फिल्म चम्बल में अभिनेता मुख्य भूमिका निभा रहें हैं। तो जाहिर है कि वे अपनी टीम के साथ ही अपना जन्मदिन वहीं मनाएंगे। इस फिल्म में सुशांत के साथ भूमि पेडनेकर, मनोज वाजपेयी, रणवीर शौरी और आशुतोष राणा मुख्य भूमिका में होंगे। सुनने में आया है कि इस फिल्म में सुशांत डकैत बनने वाले हैं। यह फिल्म चंबल के डाकुओं पर आधारित है। चंबल की घाटी में ही फिल्म की शूटिंग की जाएगी।टीवी के बाद फिल्मी दुनिया में कदम रखने वाले सुशांत सिंह राजपूत पहली फिल्म काई पो छे से ही लाइमलाइट में बने। उसके बाद शुद्ध देसी रोमांस, ब्योमकेश बख्शी और एम.एस.धोनी जैसी हिट फिल्में की।

Page 8 of 2163

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें