नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग जिस तरह से पहले मैदान पर गेंदबाज़ों की धुनाई करते थे, ठीक उसी तरह अब वो ट्विटर पर अपनी बेबाक राय रखते हैं। क्रिकेट से संन्यास के बाद से ही सहवाग ट्विटर पर दुनिया के तमाम गंभीर मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं। इस बार सहवाग ने छोटे बच्चों की किताबों के छपे कॉन्टेंट को लेकर एक ट्वीट किया है।
सहवाग ने उठाया ये मुद्दा:-सहवाग ने अब प्राइमरी स्कूल की किताबों में छपे कॉन्टेंट पर एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट में सहवाग ने इंग्लिश की किताब में छपे कॉन्टेंट पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में अंग्रेजी की किताब में बड़े परिवार पर लिखी गई बातों पर गुस्सा जाहिर किया है। किताब में छात्रों को यह पढ़ाया जा रहा है कि एक बड़ा परिवार कभी सुखी जीवन नहीं बिताता। इस किताब में बड़े परिवार की परिभाषा कुछ इस तरह से बताई गई है - 'बड़े परिवार में माता-पिता के अलावा दादा-दादी के अलावा कई बच्चे होते हैं। एक बड़ा परिवार कभी भी सुखी जीवन नहीं जीता।'
कॉन्टेंट आथॉरिटी पर उतारा गु्स्सा:-सहवाग ने ट्वीट में इन बातों को हाइलाइट करते हुए इन पर गुस्सा जाहिर किया है। उन्होंने लिखा, 'स्कूल की किताब में इस तरह की और भी बहुत सारी बकवास शामिल है। मतलब साफ है कि किताब में कॉन्टेंट के लिए जिम्मेदार अथॉरिटी कॉन्टेंट का निरीक्षण ठीक से नहीं कर रही है।' यानी इन कॉन्टेंट के लिए जिम्मेदार अथॉरिटी अपना होमवर्क ठीक से नहीं कर पा रही। सहवाग के इस ट्वीट पर हजारों लोगों ने अपनी सहमति जताई है और ऐसे कॉन्टेंट के लिए संबंधित विभाग के प्रति नाराजगी जाहिर की है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें