नई दिल्ली - सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि फ्रांसीसी नागरिक पैट्रिक ब्रिलियंट तीन दिनों में आत्मसमर्पण करे। जस्टिस अशोक भूषण व एके सीकरी की पीठ ने कहा कि ट्रायल कोर्ट मामले में सुनवाई करके फैसला करे। उसके पास जो भी साक्ष्य मौजूद हैं, उन पर गौर करके जल्द निर्णय हो।
पैट्रिक मुंबई स्थित एक अंतरराष्ट्रीय स्कूल का ट्रस्टी है। उस पर आरोप है कि तीन साल की बच्ची का उसने यौन उत्पीड़न किया था। 18 मई, 2017 को उसके खिलाफ केस दर्ज किया गया था। इसके छह माह बाद यानी सात नवंबर को उसे गिरफ्तार किया गया था, लेकिन ट्रायल कोर्ट ने उसे 24 नवंबर को महज 17 दिनों बाद जमानत पर रिहा कर दिया। बॉम्बे हाई कोर्ट से संज्ञान में यह मामला आया तो दो अप्रैल को जमानत रद्द कर दी गई। पैट्रिक ने फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी आदेश दिया है कि आरोपी स्कूल परिसर में नहीं जाएगा।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें