Editor

Editor

लंदन। लॉर्ड्स में भारतीय टीम को हराने में मेजबान टीम के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन का शानदार योगदान रहा। इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने कहा कि एंडरसन काफी स्पेशल हैं जो अपनी बढ़ती उम्र के साथ और भी बेहतरीन होते जा रहे हैं। 36 वर्ष के एंडरसन ने लॉर्ड्स में टेस्ट प्रारूप में अपने 100 विकेट पूरे किए और उनकी शानदार गेंदबाजी के दम पर इंग्लैंड को दूसरे टेस्ट में पारी व 159 रन से जीत मिली। टेस्ट क्रिकेट में तेज गेंदबाज के दौर पर विकेट लेने के मामले में एंडरसन से आगे ग्लेन मैक्ग्रा ही हैं। एंडरसन के नाम पर टेस्ट में अब 553 विकेट हो चुके है और मैक्ग्रा को पीछे छोड़ने के लिए उन्हें 10 विकेट की जरूरत और है।रूट ने कहा कि वो टीम के काफी स्पेशल हैं। वो ऐसे खिलाड़ी हैं जो किसी टीम में बार-बार नहीं आता और हम उनकी मौजूदगी का भरपूर लुत्फ उठाते हैं। अब उनकी उम्र के बारे में बात होती है लेकिन इस वक्त वो पहले से ज्यादा अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं। दूसरे टेस्ट मैच के दौरान उन्होंने काफी बेहतरीन गेंदबाजी की। उन्होंने हमें ब्रॉड के साथ मिलकर एक मजबूत आधार दिया साथ ही टीम के अन्य गेंदबाजों ने भी काफी अच्छा प्रदर्शन किया। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में लॉर्ड्स पर अपने 100 विकेट पूरे किए। ये देखना अपनेआप में काफी शानदार था। वो इंग्लैंड क्रिकेट टीम का अहम हिस्सा हैं।रूट ने कहा कि गेंदबाजों के दम पर ही वो भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज में 2-0 की बढ़त बनाने में कामयाब रहे हैं। जेम्स एंडरसन ने दूसरे टेस्ट में 43 रन देकर 9 विकेट लिए जबकि क्रिस वोक्स और स्टुअर्ट ब्रॉड ने चार-चार विकेट लिए। इस टेस्ट में भारतीय टीम ने जीत के लिए सबकुछ किया जो वो कर सकते थे लेकिन मेरी नजर में हमने वैसी ही गेंदबाजी की जैसा की हम चाहते थे। दूसरे टेस्ट में क्रिस वोक्स को मैन ऑफ द मैच चुना गया। वोक्स के बारे में रूट ने कहा कि वो क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में हमारी टीम के अहम सदस्य हैं। इस बार समर उनके लिए ज्यादा अच्छा नहीं ररा। इंजरी की वजह से वो काफी वक्त तक क्रिकेट से दूर रहे। वोक्स ने अपनी टीम के लिए सेंचुरी भी बनाई और अच्छी गेंदबाजी भी की।

नई दिल्ली। क्रिकेट के मक्का लॉर्ड्स में मिली पारी और 159 रनों की बड़ी हार के बाद कोहली एंड कंपनी पूर्व भारतीय दिग्गज़ों के निशाने पर आ गई है। बल्लेबाज़ों के इस निराशाजनक प्रदर्शन के बाद टीम इंडिया की चारों ओर आलोचना हो रही है। लॉर्ड्स में मिली इस हार के बाद भारतीय टीम पांच मैचों की सीरीज़ में 0-2 से पिछड़ गई है। लॉर्ड्स में मिली करारी हार के बाद भारत के पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों ने कोहली एंड कंपनी पर जमकर निशान साधा है। वीरेंद्र सहवाग, बिशनसिंह बेदी और वीवीएस लक्ष्मण ने दूसरे टेस्ट में निराशाजनक प्रदर्शन के लिए टीम को लताड़ लगाई है।टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने ट्‍वीट कर टीम इंडिया के प्रदर्शन पर निराशा जाहिर की। सहवाग ने लिखा कि, भारत का खराब प्रदर्शन। हम टीम के साथ है, लेकिन बगैर संघर्ष किए हारना निराशाजनक रहा। उम्मीद करते हैं कि टीम इस स्थिति से वापसी करेगी। बिशनसिंह बेदी ने लिखा, भारत का दूसरे टेस्ट में बहुत खराब प्रदर्शन रहा। समस्या क्या है यह सब जानते है, लेकिन बोलता कोई नहीं है। ‍हमारे क्रिकेटरों को चरित्र दिखाना होगा और पूरे आत्मविश्वास के साथ खेलना होगा। लॉर्ड्स पर बल्लेबाजों का लचर प्रदर्शन चिंता की बात रही।वहीं टीम इंडिया के लिए कई मौकों पर संकटमोचक की भूमिका निभा चुके वीवीएस लक्ष्मण ने कहा उम्मीद जताई है कि भारतीय टीम अपनी गलतियों से सबक लेकर नॉटिंघम टेस्ट मैच में वापसी करेगी। उन्होंने लिखा, विपरित परिस्थितियों और विपक्षी टीम की रणनीति को समझने में टीम इंडिया नाकाम रही और बिना लड़े आत्मसमर्पण कर बैठी। उम्मीद करता हूं कि बल्लेबाज ज्यादा जिम्मेदारी से खेलेंगे।पूर्व भारतीय बल्लेबाज मोहम्मद कैफ ने कहा कि टीम का प्रदर्शन देखना निराशाजनक रहा। भारतीय टीम दोनों पारियों में कुल मिलाकर 82 ओवर ही खेल पाई। इंग्लैंड ने सभी क्षेत्रों में भारत को पीछे छोड़ा।

नई दिल्‍ली। पिछले कुछ समय से चीन उइगर मुस्लिमो को लेकर लेकर सुर्खियों में बना हुआ है। चीन हमेशा से ही इन्‍हें अपने लिए खतरा मानता आया है और हमेशा से ही ये लोग चीन की सरकार और सेना के निशाने पर रहते आए हैं। इस संबंध में हाल ही में आई संयुक्‍त राष्‍ट्र की रिपोर्ट में चौंकाने वाले तथ्‍य सामने आए हैं। इस रिपोर्ट में यहां तक कहा गया है कि चीन की तरफ से इन पर निगरानी रखने के नाम पर लाखों उइगर मुस्लिमों को शिविरों में कैद कर दिया गया है। यह रिपोर्ट बताती है कि चीन 20 लाख अन्य उइगर मुसलमानों को विचारधारा बदलने का पाठ भी पढ़ा रहा है। यूएन ने इस पर गहरी चिंता व्‍यक्‍त की है। चीन में इस साल अप्रैल में जारी श्वेत पत्र के अनुसार, उइगर और हुई समुदाय के साथ देश में करीब दो करोड़ मुस्लिम आबादी है। उइगरों की तुलना में हुई मुस्लिमों को शांतिपूर्ण माना जाता है। उइगर मुस्लिमों को लेकर जताई जा रही चिंता के बीच बेहद कम लोग इनके बारे में जानते हैं। आज हम आपको इनके बारे में जानकारी दे रहे हैं।
शिनजियांग प्रांत में बहुसंख्‍यक हैं उइगर मुस्लिम:-दरअसल, उइगर मुस्लिम चीन के पश्चिमी शिनजियांग प्रांत में बहुसंख्यक हैं और चीन ने इस प्रांत को स्वायत्त घोषित कर रखा है। इस प्रांत की सीमा मंगोलिया और रूस सहित आठ देशों के साथ मिलती है। तुर्क मूल के उइगर मुसलमानों की इस क्षेत्र में आबादी एक करोड़ से ऊपर है। इस क्षेत्र में उनकी आबादी बहुसंख्यक है। यहां के इस बहुसंख्‍यक समुदाय को कम करने के लिन चीन की सरकार ने यहां पर हॉन समुदाय के लोगों को बसाना शुरू किया था। चीन की सरकार ने यहां के ऊंचे पदों पर भी हॉन समुदाय के लगों को बिठा रखा है। इसका नतीजा अब सामने आने लगा है।
कभी पूर्वी तुर्किस्‍तान था आज का शिनजियांग:-चीन द्वारा हमेशा से ये कहा जाता रहा है कि इस प्रांत में रहने वाले उइगर मुस्लिम चीन से अलग होने की मांग के तहत 'ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट' चला रहे हैं। अमेरिका ने 'ईस्ट तुर्किस्‍ताना इस्लामिक मूवमेंट' को उइगरों का एक अलगाववादी समूह कहा है। लेकिन वह ये भी मानता है कि यह संगठन आतंकी घटनाओं को अंजाम नहीं दे सकता है। इसको समझने के लिए हमें इतिहास के कुछ पन्‍ने पलटने होंगे। दरअसल, आज का शिनजियांग पूर्व का पूर्वी तुकिस्‍तान है। 1949 में इसको एक अलग राष्‍ट्र के तौर पर मान्‍यता दी गई थी। लेकिन इसी वर्ष यह चीन का हिस्सा बन गया। 1990 में जब सोवियत संघ का पतन हुआ तब इस क्षेत्र के लोगों ने भी खुद को आजाद कराने के लिए काफी प्रयास किया। उस वक्‍त इस आंदोलन को मध्य एशिया में कई मुस्लिम देशों ने भी समर्थन दिया था।
कौन है डोल्‍न इसा:-डोल्‍कन इसा उइगर मुस्लिमों के बड़े नेता है। वह जर्मनी में रहते हैं और म्यूनिख स्थित वर्ल्ड उइगर कांग्रेस (डब्लूयूसी) की एग्जीक्यूटिव कमेटी के चेयरमैन हैं। दो वर्ष पहले उनका भारत आने का प्रोग्राम था, लेकिन भारत ने उनका वीजा रद कर दिया था। इसकी वजह ये थी कि उनके खिलाफ इंटरपोल की तरफ से रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था। 2014 में चीन ने इसा को मोस्‍ट वांटेड की लिस्‍ट में शामिल किया है। इसा पर 2014 में शिनजियांग प्रांत हिंसा फैलाने का भी आरोप है।
उइगर मुस्लिमों पर पाबंदी:-इस क्षेत्र में चीन ने उइगर मुस्लिमों की धार्मिक स्वतंत्रता पर अंकुश लगा रखा है। हाल ही में चीन की सरकार ने वहां की एक मस्जिद को ध्‍वस्‍त कर दिया था। 2014 में भी इसी तरह की कार्रवाई की गई थी। इसके तर्क में कहा गया था कि कानून से बड़ा कोई धर्म नहीं होता है। इससे पहले 2014 में शिनजियांग की सरकार ने रमजान के महीने में मुस्लिम कर्मचारियों के रोजा रखने और मुस्लिम नागरिकों के दाढ़ी बढ़ाने पर पाबंदी लगा दी थी। चीन का यहां तक कहना है कि धार्मिक गतिविधियां देश के कानून के तहत होनी चाहिए।
विरोध के चलते नहीं तोड़ पाए मस्जिद;-इसके अलावा कुछ दिन पहले चीन के स्वायत्त क्षेत्र निंगसिआ हुई के वुजहांग शहर में स्थित वेईझोऊ जामा मस्जिद को गिराने के लिए भी अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। लेकिन भारी प्रदर्शन के चलते इसको फिलहाल टाल दिया गया। चीनी अधिकारियों का कहना है कि 2015 में इस मस्जिद का पुनर्निर्माण किया गया था। कई गुंबदों और मीनारों के साथ मध्य-पूर्व शैली में बनी इस मस्जिद के निर्माण से पहले इजाजत नहीं ली गई थी। यदि चीनी शैली के मुताबिक मस्जिद में गुंबदों को तोड़कर उसकी जगह पैगोडा बना दिया जाए, तो इसे तोड़ा नहीं जाएगा लेकिन हुई मुस्लिम समुदाय को यह स्वीकार्य नहीं है।
शिनजियांग में हिंसा का इतिहास
- 2008 में शिनजियांग की राजधानी उरुमची में हुई हिंसा में 200 लोग मारे गए जिनमें अधिकांश हान चीनी थे।
- 2009 में उरुमची में ही हुए दंगों में 156 उइगर मुस्लिम मारे गए थे। तुर्की ने इसको एक बड़ा नरसंहार करार दिया था।
- 2010 में उइगर मुस्लिमों के खिलाफ हुई हिंसा।
- 2012 में विमान हाइजैक करने के आरोप में छह उइगर गिरफ्तार किए गए। यह विमान हाटन से उरुमची जा रहा था।
- 2013 में प्रदर्शन कर रहे उइगर मुस्लिमों पर पुलिस ने फायरिंग की जिसमें 27 लोगों की मौत हो गई।
- 2016 में बीजिंग में एक कार बम धमाके में पांच लोग मारे गए जिसका आरोप उइगरों पर लगा।

बॉलीवुड एक्ट्रेस आलिया भट्ट इनदिनों अपनी जल्द रिलीज होने वाली फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ की शूटिंग में बिज़ी हैं। फ़िलहाल, आलिया दूसरे शेड्यूल के लिए बुल्गारिया में बिजी थी, और अब वो वापस इंडिया लौंट आईं है। आलिया को मुंबई एअरपोर्ट पर स्पॉट किया गया। इस दौरान वो फैंस की भीड़ में फंसी नजर आई। कोई उनको धक्का ना दे इसलिए वो बहुत बचती दिखी। फैंस उनसे सेल्फी लेने के लिए उनके पास आ रहे थे लेकिन आलिया उन फैंस से डरती नजर आई। आखिर में भले ही आलिया ने फैंस को सेल्फी दे दी लेकिन फिर भी अगर इन तस्वीरों को गौर से देखेंगे तो आपको पता चलेगा कि, फैंस की भीड़ में वो डरी हुई दिखी। बात दें, आलिया फ़िलहाल फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ की शूटिंग ने बिज़ी हैं। इस फिल्म की शूटिंग बुल्गारिया में चल रही हैं। इस फिल्म में आलिया के अलावा रणबीर कपूर और अमिताभ बच्चन मुख्य भूमिका में हैं। पिछले दिनों समधी राजन नंदा के निधन के बाद बुल्गारिया से मुंबई लौट आए थे।बात दें, अफेयर के बाद अब रणबीर कपूर और आलिया भट्ट की शादी की चर्चाएं भी तेज हो गई हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार, बॉलीवुड का ये कपल अगले साल शादी के बंधन में बंध सकता है। और तो और रणबीर के माता-पिता ने भी आलिया को पसंद कर लिया हैं। पिछले काफी समय से रणबीर और आलिया अपने रिलेशनशिप को लेकर चर्चाओं में है। दोनों को कई बाद एक दुसरे के साथ क्वॉलिटी टाइम स्पेंड करते हुए देखा गया है। इसके बाद से ही इन दोनों की शादी को लेकर खबर जोर पकड़ी हैं। खबर के मुताबिक, कपूर परिवार के एक करीबी दोस्त ने दिए इंटरव्यू में कहा- रणबीर की किसी भी गर्लफ्रेंड को उनके पिता ऋषि कपूर ने कभी अस्वीकार नहीं किया, वो दीपिका हों, कटरीना हों या कोई और। लेकिन रणबीर की मां नीतू कभी उनकी किसी गर्लफ्रेंड्स से नहीं घुली-मिली जितनी वो आलिया से घुली-मिली हैं। उन्होंने कभी भी उनकी गर्लफ्रेंड्स रही दीपिका या कटरीना से बात नहीं की जितनी बात वो आलिया से की हैं। आलिया को वह बहुत पसंद करती हैं। इसके बाद तो यहीं लगता हैं कि, अगले साल तक ये कपल शादी कर सकता ह

सैफ और करीना का बेटा तैमूर अली खान इन दिनों बी-टाउन का सबसे चहेता स्टारकिड है। तैमूर के घर से निकलते ही उसकी तस्वीरें खींचने वालों का जमावड़ा लग जाता है। दो दिन पहले ही एक वीडियो सामने आया था जिसमें एक शख्स तैमूर के काफी नजदीक आकर फोटो खिंचवाने के लिए पहुंच गया था। इस शख्स को तैमूर की नैनी ने उस वक्त तो डपट कर हटा दिया, लेकिन इस घटना के बाद से लगता है कि सैफ और करीना अपने बेटे की सुरक्षा को लेकर चिंतित हो गए हैं। अब हम नहीं जानते कि इसी घटना के बाद ऐसा हो रहा है या फिर किसी दूसरी वजह से, लेकिन नन्हें नवाब को जल्द बॉडीगार्ड मिलने जा रहा है।तैमूर के आस-पास जिस ढंग से तस्वीरें खिंचवाने के लिए भीड़ लग जाती है, उसे देखकर हमें जरा भी अचंभा नहीं हो रहा है कि सैफ और करीना अपने बेटे की सुरक्षा को लेकर अब और ज्यादा सतर्क हो गए हैं। तैमूर की दीवानगी इस कदर है कि कोई भी नई फोटो सामने आते ही इंटरनेट पर कुछ ही घंटों में तैरने लगती है। यहां तक कि तैमूर ​ट्विटर पर भी हिट है और अक्सर किसी न किसी बहाने ट्विटर पर तैमूर का जिक्र चलता ही रहता है।दो दिन पहले जो वीडियो सामने आया था उसमें तैमूर भी फोटोग्राफर्स के साथ खेलने के मूड में नजर आ रहा था। यहां तक कि जब फोटोग्राफर्स तैमूर की तस्वीरें ले रहे थे उस दौरान भी तैमूर मुस्कुरा रहा था। तैमूर के लिए कैमरे को फेस करना अब आम है। तैमूर अब बड़ा हो रहा है और फोटोग्राफर्स को देख कर कुछ कहने की कोशिश भी करता है। पिछले दिनों जब करीना से हमने बेटे तैमूर को लेकर बात की थी, तब अभिनेत्री ने कहा था कि कैसे उनके बेटे पर कुछ ज्यादा ही अटेंशन है और कई दफा ये बात उन्हें चिंतित भी करती है। करीना ने कहा था- ‘मुझे लगता हे कि यह थोड़ा ज्यादा है, लेकिन मैं इसे लेकर कुछ कर भी नहीं सकती हूं। मैं चाहती हूं कि उसे इतनी अटेंशन न मिले और वह नॉर्मल बच्चों की तरह दुनिया को देखे। अभी वह चीजों को समझता नहीं है, लेकिन कभी न कभी हमें उसे यह बातें समझानी होंगी।’ बहरहाल, तैमूर को पसंद करने वालों की कमी नहीं है, लेकिन लगता है कि ये बढ़ी हुई पॉपुलैरिटी अब रिस्की होने लगी है।

इस साल 24 फरवरी को बॉलीवुड की दिग्गज अदाकारा श्रीदेवी दुनिया को अलविदा कहकर चली गईं। श्रीदेवी के जाने से ना सिर्फ बॉलीवुड इंडस्ट्री बल्कि उनके फैंस को भी तगड़ा झटका लगा। आज श्रीदेवी की बर्थ एनीवर्सिरी है और बीती रात ही जाह्नवी कपूर ने अपनी जिंदगी की एक खास तस्वीर को सोशल मीडिया पर साझा किया है।इस तस्वीर में बोनी कपूर के साथ श्रीदेवी और जाह्नवी नजर आ रही है। तस्वीर से अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह किसी वैकेशन के दौरान ली गई है। तस्वीर में छोटी जाह्नवी मां की गोद में नजर आ रही है। अपनी जिंदगी के इस खास तस्वीर को साझा करते हुए जाह्नवी ने कैप्शन में कुछ भी नहीं लिखा है लेकिन उनकी भावनाएं इस तस्वीर के जरिए पूरी तरह से झलक रही है।बता दें कि इस साल अपने भांजे की शादी में शिरकत होने के लिए श्रीदेवी परिवार संग दुबई गई थी। शादी की रस्में खत्म होने के बाद पूरा परिवार वापस मुंबई लौटा लेकिन श्रीदेवी ने अकेले ही वहां पर कुछ दिन और बिताने का फैसला किया। दुबई से ही चौंकाने वाली खबर आई कि होटल के बाथरुम में ही उनकी मौत हो गई।जहां श्रीदेवी के निधन की खबर काफी चौंकाने वाली थी वहीं कोई भी इस बात पर यकीन नहीं कर पा रहा था कि वह अब इस दुनिया में नहीं रही। श्रीदेवी का इस तरह से जाना हर किसी को सालता रहेगा और इस बात में भी कोई दो राय नहीं है कि उनकी जगह की भरपाई कोई नहीं कर सकता है।बात करें जाह्नवी की तो इस साल उन्होंने धर्मा प्रोडक्शन तले बनी फिल्म धड़क से बॉलीवुड में डेब्यू किया है। इस फिल्म में जाह्नवी ईशान खट्टर के अपोजिट नजर आई है। शशांक खैतान द्वारा निर्देशित फिल्म धड़क मराठी फिल्म सैराट का हिंदी रीमेक है। इस फिल्म ने वर्ल्डवाइड 100 करोड़ का आकड़ा पार कर लिया है। अब जाह्नवी करण जौहर की नई फिल्म ‘तख्त’ में नजर आएंगी।

बिग बॉस 10 के विनर रहे मनवीर गुर्जर एक बार फिर खूब सुर्खियां बटोर रहे हैं। जी हां, मनवीर ने कुछ ऐसा किया हैं जिस कारण उनकी चर्चा खूब हो रही हैं। मनवीर ने काम्या पंजाबी को बड़े ही अनोखे अंदाज में जन्मदिन की बधाई दी है। मनवीर गुर्जर ने काम्या के सोशल मीडिया पर बधाई देते हुए लिखा- ‘दोस्तों की दोस्त दुश्मनों की दुश्मन। नाम तो सुना ही होगा नाम है काम्या पंजाबी @iamkamyapunjabi। सबसे विश्वसनीय व्यक्ति को जन्मदिन बहुत-बहुत मुबारक हो, जिस पर सबसे ज्यादा विश्वास कि‍या जा सकता है, मैंने कभी अपने जीवन में ऐसे शख्स से मुलाकात नहीं की है! भगवान तुम्हारी जिंदगी खूब सारी खुशि‍यों से भर दे।’मनवीर ने बर्थडे विश के साथ एक फोटो भी शेयर की हैं। इस फोटो में मनवीर और काम्या के अलावा कुछ दोस्त भी नजर आ रहे हैं। जिस तरह से मनवीर ने दिल खोलकर काम्या को बर्थडे विश किया हैं। इससे वो बहुत इंप्रेस होते हुए। काम्या ने भी इसका जवाब बहुत मजेदार तरीके से दिया हैं। काम्या ने लिखा- ‘पहली लाइन बहुत ही पसंद आई, शुक्र‍िया गब्बर के पापा।’ बात दें, काम्या ने मनवीर को गब्बर इस लिए कहा क्योंकी मनवीर के पेट डॉग का नाम है गब्बर है।बता दें, पिछले दिनों मनवीर गुर्जर और काम्या पंजाबी के बीच रिलेशन को लेकर खूब चर्चा हुई। इन दोनों की नजदीकियां पार्टी और कई इवेंट्स में नजर आने लगी थी। इसके बाद खबर आने लगी की मनवीर और काम्या के बीच अफेअर चल रहा हैं। लेकिन काम्या ने इन सभी खबरों को झुठलाते हुए, अपनी बात रखी थी। काम्या ने दिए इंटरव्यू में कहा- ‘काम्या पंजाबी एक मजाक बन गई है, उसका नाम उसके हर दुसरे दोस्त के साथ जोड़ा जाता है। मैं इसके लिए किसी को को सफाई देना पसंद नहीं करती। मैं मीडिया को अपने जीवन का हिस्सा मानती हूं। तो मैं कहना चाहती हूं कि वह सिर्फ और सिर्फ मेरे एक बेहद अच्छे दोस्त हैं। इन सभी बकवास खबरों से हमारी दोस्ती नहीं टूटेगी। मेरे और मनवीर के बीच ऐसा कुछ नहीं हैं।’

बॉलीवुड की ‘चांदनी’ श्रीदेवी का आज जन्मदिन है। उनका जन्मदिन ना सिर्फ बी-टाउन सेलेब्स बल्कि उनके फैंस भी मना रहे हैं। इस दिन मुंबई एअरपोर्ट पर श्रीदेवी के परिवार को देखा गया। चेहरे से गमगीन नजर आ रहे श्रीदेवी के पति बोनी कपूर और बेटियां जाह्नवी-ख़ुशी नजर आई। यह तीनों एक दुसरे के साथ दिए हुए हाथों में हाथ पकड़े दिखाई दिए। उनके इस दौरान इस सभी के चेहरे पर श्रीदेवी से बिछड़ने का गम साफ़ दिखाई दे रहा था। श्रीदेवी के जन्मदिन के मौके पर जाह्नवी ने अपने इंस्टाग्राम से अपने बचपन की एक तस्वीर शेयर की। जिसमें वो अपने पापा बोनी और मां श्रीदेवी के साथ दिख रही हैं। शेयर की गई तस्वीर के साथ जाह्नवी ने कैप्शन में लिखा था- ‘Happy birthday mam’। कुछ घंटो पहले शेयर इस तस्वीर को 4लाख 38हजार194 लोगों ने लाइक्स किया हैं।बता दें, साल जुलाई में जाह्नवी ने फिल्म ‘धड़क’ के साथ बॉलीवुड में डेब्यू किया हैं। इस फिल्म में जाह्नवी के अलावा ईशान खट्टर भी एहम भूमिका में नजर आए थे। इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा बिज़नस किया हैं। फिल्म में जाह्नवी के एक्टिंग को भी पसंद किया गया। पहली फिल्म के रिलीज के बाद ही जाह्नवी को एक और फिल्म मिल गई हैं। जाह्नवी फिर से एक बाद करण जौहर की मल्टी-स्टारर फिल्म में नजर आने वाली हैं। जाह्नवी की इस फिल्म का नाम ‘तख्त’ है। इस फिल्म में जाह्नवी के अलावा रणवीर सिंह, करीना कपूर, आलिया भट्ट, भूमि पेडनेकर, विकी कौशल और अनिल कपूर मुख्य भूमिका ने दिखाई देंगे। खबर के मुताबिक, इस फिल्म में जाह्नवी विकी कौशल की पत्नी भी भूमिका में होंगी।

 

बेंगलुरु। भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) का चंद्रयान-2 अब चांद की सतह पर उतरकर सिर्फ परीक्षण नहीं करेगा, बल्कि उतरने से पहले चांद का चक्कर लगाएगा। चंद्रयान चांद की सतह को बारीकी से देखेगा और उसके बाद लैंडिंग होगी। पहले के प्लान के मुताबिक, लैंडर ऑर्बिटर से अलग होने के बाद सीधे लैंड कर जाता। यह फैसला 19 जून को चौथी टेक्निकल मीटिंग के बाद लिया गया था।इसके बाद लैंडर के हार्डवेयर में कई बदलाव करने पड़े। लैंडर में पांचवां लिक्विड इंजिन और नया लेग कॉन्फिगरेशन लगाया गया है। इस कारण मिशन में देरी हो गई जबकि पहले ही लॉन्च की तीन तारीखें निकल चुकी हैं। हालांकि, टीम ने अभी भी यह तय नहीं किया है कि लैंडर चांद के कितने चक्कर लगाएगा लेकिन उन्हें पता है कि यह जिस कक्षा में होगा वह अंडाकार होगी। इसमें सबसे नजदीकी जगह 30 किमी और सबसे दूर की जगह 100 किमी पर होगी।
पहले था सीधे लैंडिंग का प्लान:-इसरो की पूर्व योजना के मुताबिक लैंडर 100 किमी दूरी पर अलग हो जाता और चांद की ओर 18 किमी तक सीधे उतरता। वहां से इसकी दिशा बदलती और यह से 8.5 किमी तक सतह के बराबर चलता। इसके बाद धीरे से यह लैंड हो जाता। यह जानकारी चंद्रयान-2 से जुड़े के सीनियर सदस्य ने दी। एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने बताया कि पहले लैंडर को जमीन को समझने के लिए समय दिया जाना था क्योंकि 6,000 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से यह लैंडिंग के लिए शून्य तक पहुंचता। नया प्लान लैंडर के लिए लैंडिंग आसान कर देगा। लैंडर माइक्र स्टार सेंसर्स की मदद से अपनी गति देख सकेगा और लैंडिंग के लिए वील्स खोल सकेगा।
क्‍या है इसरो की योजना
1- अभियान को जीएसएलवी मार्क 3 प्रक्षेपण यान द्वारा प्रक्षेपण करने की योजना है।
2- इस अभियान में भारत में निर्मित एक लूनर ऑर्बिटर (चन्द्रयान) तथा एक रोवर एवं एक लैंडर शामिल होंगे। इस सब का विकास इसरो द्वारा किया जाएगा।
3- इसरो के अनुसार यह अभियान विभिन्न नयी प्रौद्योगिकियों के इस्तेमाल तथा परीक्षण के साथ-साथ नए प्रयोग भी करेगा।
4- पहिएदार रोवर चन्द्रमा की सतह पर चलेगा तथा वहीं पर विश्लेषण के लिए मिट्टी या चट्टान के नमूनों को एकत्र करेगा।
5- आंकड़ों को चंद्रयान-2 ऑर्बिटर के माध्यम से पृथ्वी पर भेजा जाएगा।
6- मायलास्वामी अन्नादुराई के नेतृत्व में चंद्रयान-1 अभियान को सफलतापूर्वक अंजाम देने वाली टीम चंद्रयान-2 पर भी काम कर रही है।

मुंबई। महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधी दल (एटीएस) ने शनिवार को पुणे में देसी हथियारों का जखीरा पकड़ने का दावा किया है। बता दें कि उसने यह कार्रवाई शुक्रवार को अतिवादी समूह से जुड़े तीन लोगों की गिरफ्तारी के एक दिन बाद की है। पुलिस का आरोप है कि यह लोग राज्य के कई स्थानों पर विस्फोट की साजिश रच रहे थे।एटीएस ने शुक्रवार को वैभव राउत, शरद कलासकर और सुधानवा गोंदेलकर को पकड़ा था। इस दौरान पुलिस ने राउत के यहां से बड़ी मात्रा में विस्फोटक सामग्री पकड़ी थी। उससे मिली पूछताछ के आधार पर ही शनिवार को पुणे में छापा मारा गया था।इस दौरान पुलिस को 11 देसी पिस्तौल, एक एयरगन, दस पिस्तौल की नाल, छह पिस्तौल की मैग्जीन, छह अधबनी पिस्तौल के अलावा बम बनाने की सामग्री जब्त की है। वहीं एटीएस ने तीनों संदिग्धों से जुड़े होने के आरोप में शनिवार को 16 लोगों से पूछताछ की है।

 

 

 

Page 7 of 3011

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें