Editor

Editor

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की नवनिर्वाचित संसद के पहले सत्र की शुरुआत हो गई है। इसी के साथ नई सरकार को सत्ता सौंपने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। पिछली नेशनल असेंबली के अध्यक्ष अयाज सादिक सत्र की अध्यक्षता कर रहे हैं। पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने नेशनल एसेंबली की पहली बैठक बुलाई है। बता दें कि ये निचले सदन की पहली बैठक है। इसके बाद इमरान खान सदन में अपना बहुमत साबित करेंगे।
नए सदस्यों को शपथ दिलाएंगे स्पीकर:-पिछली नेशनल एसेंबली के स्पीकर अयाज सादिक नए सदस्यों को शपथ दिलाएंगे। इस प्रक्रिया के बाद नए सदन के स्पीकर व डिप्टी स्पीकर का चुनाव किया जाएगा। नए स्पीकर के चुनाव के बाद वर्तमान स्पीकर उन्हें शपथ दिलाएंगे और नए सदन का कार्यभार सौंपेंगे।
इमरान को बहुमत मिलने की उम्मीद:-गौरतलब है कि 25 जुलाई को पाकिस्तान में हुए आम चुनावों में इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। सबसे बड़ा दल बनकर उभरने के बावजूद पीटीआइ बहुमत का आंकड़ा छूने में नाकामयाब रही। उसे 116 सीटें मिली थीं, हालांकि इसमें नौ निर्दलीय सदस्यों के शामिल होने के बाद यह संख्या बढ़कर 125 हो गई है। महिलाओं के लिए आरक्षित 60 सीटों में से 28 सीटों के साथ पीटीआइ की सीटों की संख्या 158 पहुंच गई है। हालांकि 342 सदस्यों के सदन में बहुमत के लिए पीटीआइ को 172 सीटों की जरूरत है, लेकिन कई छोटे दलों से उन्हें समर्थन मिला हुआ है। इमरान खान को कम से कम 180 सदस्यों का समर्थन मिलने की उम्मीद जताई जा रही है।
18 अगस्त को शपथग्रहण:-पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) के चेयरमैन इमरान खान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ ग्रहण की तारीख तय हो गई है। पहले खबर थी कि वे 14 अगस्त को शपथ लेंगे, लेकिन पार्टी प्रवक्ता फैजल जावेद खान ने साफ कर दिया है कि इमरान खान का शपथ ग्रहण समारोह 18 अगस्त को होगा।

वाशिंगटन। स्मार्टफोन और टैबलेट ने जहां हमारे काम को आसान बना दिया है, वहीं कई तरह की परेशानियां भी खड़ी कर दी हैं। खासकर हमारी सेहत को लेकर। इनके जरिये हम ऑफिस के बाद भी जब चाहें ईमेल चेक कर सकते हैं। इससे हम जरूरी ईमेल का जवाब तो तुरंत दे सकते हैं, लेकिन लगातार ईमेल चेक करने की आदत न केवल हमें, बल्कि हमारे परिवार पर भी बुरा असर डालती है। यह बात एक अध्ययन में सामने आई है। इसमें बताया गया है कि जो लोग ऑफिस के समय के बाद भी ईमेल चेक करते हैं वे चिंता से ग्रस्त होने लगते हैं। इसका असर उनके परिवार पर भी पड़ता है।अमेरिका स्थित वर्जीनिया टेक के शोधकर्ताओं द्वारा किए अध्ययन के मुताबिक, ऑफिस के घंटों के बाद यदि आप वास्तव में काम में व्यस्त नहीं होते हैं, तब भी ईमेल चेक करने की आदत आप पर बुरा असर डालती है। वर्जीनिया टेक में एसोसिएट प्रोफेसर विलियम बेकर कहते हैं, ऑफिसों में ऐसा कल्चर बनता जा रहा है, जिसमें बॉस मानते हैं कि उनका कर्मचारी हमेशा ड्यूटी पर है। इसके परिणामस्वरूप कर्मचारी भी बॉस की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए ऑफिस के बाद भी ईमेल चेक करते हैं। यहां तक कि सोने से पहले उनका आखिरी काम और उठने से पहले उनका पहला काम ईमेल चेक करना बन जाता है। यह स्थिति बेहद चिंताजनक है क्योंकि यह कर्मचारी को चिंता में घेर लेती है और इसका असर उसके निजी जीवन पर पड़ने लगता है।
क्या कहते हैं पुराने अध्ययन:-इससे पहले के कई अध्ययन बताते हैं कि जॉब के कारण व्यक्ति पर पड़ने वाले तनाव का असर उसके परिवार पर भी पड़ता है। जब व्यक्ति घर पर अपनी भूमिका नहीं निभा पाता है तो पारिवारिक रिश्तों में विवाद पैदा होने लगते हैं। यह भी कहा गया है कि जब व्यक्ति काम को घर पर लाने लगता है तो सब खत्म हो जाता है।
क्या कहता है अध्ययन:-बेकर कहते हैं, ऑफिसों के कल्चर ने कर्मचारी को हमेशा ऑन की स्थिति में ला दिया है। हमने अध्ययन के दौरान देखा कि कैसे सीमा के बाहर काम करने की आजादी कैसे बिना सीमा के काम में बदल जाती है और कर्मचारी अपनी और अपने परिवार की सेहत को नजरअंदाज कर काम करता रहता है। बेकर कहते हैं, आज काम के घंटों के इतर भी कर्मचारी से काम करने की उम्मीद उस पर अतिरिक्त दबाव डालती है। इससे वो चिड़चिड़ा होने लगता है और चिंता से ग्रस्त हो जाता है। परिवार को समय नहीं दे पाता। ऐसे में कई बार नशे की लत लग जाती है।

नई दिल्ली। अमूमन लंबी दूरी के लक्ष्य को भेदने के लिए स्नाइपर रायफल का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन अफगानिस्तान में ब्रिटिश आर्मी की शाखा स्पेशल एयर सर्विस (एसएएस) के एक स्नाइपर ने .50 कैलिबर मशीन गन से 1.5 मील की दूरी पर मौजूद इस्लामिक स्टेट के कमांडर को मार गिराया। ये आतंकी अमेरिका और ब्रिटिश सेनाओं की ‘किल लिस्ट’ में शामिल था।
पहली बार इतनी दूर भेदा गया लक्ष्य:-ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी मशीन गन से इतनी दूरी से निशाना लगाया गया है। चालीस साल पुरानी इस मशीन गन से निकली गोली सीधे आतंकी के सीने में जा धंसी और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इससे पहले इस मशीन गन का इस्तेमाल 1950 में कोरिया युद्ध के दौरान हुआ था।
मशीन गन की खासियत;-एम 2 ब्राउनिंग या .50 कैलिबर मशीन गन को प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 1918 में डिजायन किया गया। यह सेना की खुली जीप में फिट कर इस्तेमाल में लाई जाती है। दूर तक मार करने वाली यह बंदूक पैदल सेना, हल्के वाहन, नौकाओं और ऊंचाई पर उड़ने वाले विमानों के लिए प्रभावी है।
ऐसे मिली सफलता:-मशीन गन में एक विशेष दूरबीन फिट थी लेकिन वातावरण की गर्मी के चलते स्नाइपर को इतनी दूरी पर खड़े आतंकी की तस्वीर धुंधली नजर आ रही थी। निशाना लगाने से पहले स्नाइपर ने हवा का रुख भांपा और निशाना लगा दिया। आतंकी 20 मिनट से लगातार एक जगह पर खड़े होकर अपने साथियों को कुछ समझा रहा था। तभी तेजी से आई एक गोली ने उसके परखच्चे उड़ा दिए। सब हक्के-बक्के रह गए।
3.5 किमी दूर से लगाया निशाना:-पिछले साल इराक में आईएसआईएस के खिलाफ कनाडियन सेना ने युद्ध छेड़ रखा था। ये आतंकी काफी खतरनाक होते हैं, ऐसे में कनाडा के सैनिकों ने इनसे निपटने का अनोखा प्‍लॉन बनाया था। खबरों की मानें तो आईएसआईएस से निपटने के लिए स्‍पेशल फोर्सेज बनाई गई थी, जिसका नाम ज्वाइंट टॉस्‍क फोर्स 2 है। इस फोर्स के एक स्‍नाइपर ने 3.5 किमी दूर से ही निशाना लगाकर एक आतंकी को मार गिराया। यह अभी तक से सबसे दूर से लगाए गए निशाने का वर्ल्‍ड रिकॉर्ड भी है। इससे पहले ब्रिटिश स्‍नाइपर ने 2,475 किमी दूर से तालिबानी को मारा था।
10 सेकेंड में मर गया आतंकी:-मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कनाडियन स्‍नाइपर ने TAC-50 राइफल से निशाना लगाया था। जिसकी रेंज 3,750 मीटर है। बताते हैं कि सैनिक ने एक ऊंची बिल्‍डिंग के टेरिस पर जाकर आतंकी को निशाना बनाया। इसकी प्लानिंग पहले से कर ली गई थी। स्‍नाइपर ने हवा का रुख और गोली की वेलोसिटी को ध्‍यान में रखकर निशाना लगाया। राइफल का ट्रिगर दबाने के 10 सेकेंड के अंदर से गोली आतंकी को लग गई और उसकी मौत हो गई।

इस्‍लामाबाद। पाकिस्तान में सरकार बनाने वाली तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने सोमवार को जानकारी दी कि प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अब्दुल रज्जाक दाऊद को देश के नव निर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान का वित्त सलाहकार नियुक्त किया जाएगा।बता दें कि पाकिस्तान की नवनिर्वाचित संसद की पहली बैठक सोमवार को होगी जिसमें नई सरकार को सत्ता सौंपने की प्रक्रिया शुरू होगी।क्रिकेटर से नेता बने 65 वर्षीय इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ 25 जुलाई को हुए आम चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी। पार्टी ने प्रेस रिलीज जारी किया और बताया कि निवेश, अर्थव्‍यवस्‍था, व्‍यापार समेत कई मुद्दों पर रज्जाक पीटीआई प्रमुख को सलाह देंगे।असद उमर को पार्टी की ओर से वित्त मंत्री के तौर पर नामित किए जाने की संभावना है। पीटीआई के प्रवक्ता फवाद चौधरी ने बताया कि पार्टी इमरान खान को प्रधानमंत्री और असद कैसर को स्पीकर नामित कर चुकी है। डिप्टी स्पीकर के लिए किसी के नाम की घोषणा नहीं की गई है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि कैबिनेट की सूची को अंतिम रूप नहीं दिया गया है, लेकिन आम सहमति है कि शाह महमूद कुरैशी नए विदेश मंत्री होंगे और परवेज खट्टक गृह मंत्री होंगे।इस्‍लामाबाद स्‍थित प्रेसिडेंट हाउस में 18 अगस्‍त को इमरान खान प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे।

 

इस्‍लामाबाद। पाकिस्तान ने अपने 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मानवीय पहल करते हुए 30 भारतीय कैदियों को रिहा करने का ऐलान किया है। इन कैदियों में 27 मछुआरे शामिल हैं। सरकार ने 30 भारतीय कैदियों को सोमवार को रिहा करने का निर्णय लिया है।मछुआरों को वाघा सीमा पर भारतीय सीमा अधिकारियों के हवाले कर दिया जाएगा। इस संबंध में पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय बयान जारी कर यह जानकारी दी। बयान में यह भी कहा कि भारत की ओर से भी इसी तरीके से जवाब दिए जाने कि उम्मीद है।उल्लेखनीय है कि भारत ने जनवरी में पाकिस्तान को 250 नागरिकों व 94 मछुआरों की एक सूची दी थी। वहीं पाकिस्तान ने अपनी गिरफ्त में मौजूद 58 नागरिकों और 399 मछुआरों की सूची साझा की थी। कैदियों की रिहाई को लेकर हुआ यह समझौता विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पाकिस्तानी उच्चायोग सोहेल महमूद के बीच वर्ष 2017 में हुई बातचीत का नतीजा है।पाकिस्‍तान में 14 अगस्त को 72वां स्वतंत्रता दिवस मनाया जाएगा। पूरे देश में इसकी तैयारी जोर-शोर से की जा रही है। बीते 30 जुलाई को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्‍तान में नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान को फोन कर चुनाव में जीत की बधाई दी और कहा कि दोनों देश मिलकर संयुक्‍त रणनीति बनाएंगे ताकि इनके बीच संबंध मजबूत होने के साथ विकसित हों।

 

लंदन। इंग्लैंड के खिलाफ दूसरा टेस्ट मैच भी हारने वाली भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अंतिम एकादश चुनाव की गलती को स्वीकारा है। कोहली ने कहा कि उन्होंने मैच से पहले टीम का संयोजन गलत किया। लॉर्ड्स पर खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने भारत को पारी और 159 रन से करारी मात दी। इस जीत के साथ मेजबान टीम ने पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-0 की बढ़त ले ली है।
'टीम चयन में हुई गलती';-कोहली ने अंतिम एकादश के चुनाव पर कहा कि उन्होंने स्पिन गेंदबाजों के चुनाव में गलती की, क्योंकि लॉर्ड्स का वातावरण तेज गेंदबाजों के पक्ष में था। कप्तान कोहली ने कहा, मौसम का अंदाजा लगा पाना संभव नहीं था। मैच की शुरुआत में यह बिल्कुल अलग था, लेकिन मेरा मानना है कि मैंने टीम के संयोजन में गलती की। अगले मैच में हमारे पास इस गलती को सुधारने का मौका है।
अब 2-1 पर है नज़र:-कोहली ने कहा कि सबसे सही यहीं होगा कि भारतीय टीम अगले मैच में जीत हासिल कर सीरीज का स्कोर 2-1 करे और इसके बाद सीरीज को रोमांचक बनाए।
'तीसरे टेस्ट तक हो जाउंगा फिट':-दूसरे टेस्ट मैच के दौरान कोहली को पीठ में दर्द की शिकायत भी हुई थी। इस पर कप्तान ने कहा, 'सबसे अच्छी बात यह है कि तीसरा टेस्ट मैच 18 अगस्त से शुरू होना है और ऐसे में हमारे पास पांच दिन का समय है। मैं आश्वस्त हूं कि मैं अगले मैच के लिए बिल्कुल तैयार हो जाएंगे'।

नई दिल्ली। भारत को इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में हुए दूसरे टेस्ट में पारी और 159 से हार का सामना करना पड़ा। इस हार से भारतीय फैंस नाराज और निराश है। भारतीय बल्लेबाजों ने पूरे मैच में जिस तरह बल्लेबाजी की, उसे देखकर लगा कि किसी क्लब के बल्लेबाज इंटरनेशनल क्रिकेट में उतरे हो।भारत ने पहली पारी में 107 और दूसरी पारी में 130 रन बनाए। दोनों पारियों के स्कोर को देखें तो जितनी रन भारत के बल्लेबाजों ने दोनों पारियों में बनाए हैं, उससे ज्यादा तो वोक्स और बेयरस्टो ने एक पारी में ठोक दिए। भारत ने पहली पारी में 107 रन बनाए, इसके बाद इंग्लैंड ने 396 रन बनाकर अपनी पारी घोषित कर दी और 289 की बढ़त हासिल कर ली। पहली पारी में भारतीय बल्लेबाजों का फ्लॉप शो देखने के बाद फैंस को उम्मीद थी कि दूसरी पारी में वह संघर्ष दिखाएंगे लेकिन उन्होंने तो ठान ही रखा था कि पिच पर टिकना ही नहीं है। दूसरी पारी भारत के 4 बल्लेबाज तो खाता तक नहीं खोल पाए, अब ऐसे प्रदर्शन से जीत की उम्मीद करना शायद खुद को धोखा देने जैसा ही होगा।टीम इंडिया के घटिया प्रदर्शन पर अब सोशल मीडिया पर भी मजाक बनने लगा है। कोई कह रहा है कि सुषमा स्वराज भारतीय टीम को वापस बुला लो तो किसी ने भारतीय टीम के गिरे विकेट्स पर कमेंट किया।

 

नई दिल्ली। रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) ने जानकारी दी है कि उसने आज फिर से 774 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी टेलिकॉम डिपार्टमेंट के पास रखवा दी है। कंपनी ने यह कदम दूरसंचार ट्रिब्यूनल की ओर से निर्धारित समय सीमा से काफी पहले उठाया है।कंपनी के इस कदम से उसका वो संकट काफी हद तक कम होगा जिसका सामना वो स्पेक्ट्रम और लाइसेंस रद्दीकरण के संबंध में दूरसंचार विभाग की ओर से मिले कारण बताओ नोटिस के बाद से कर रहा है। लेकिन यह कर्ज में लदी कंपनी के लिए परिसंपत्ति मुद्रीकरण योजना के लिए रास्ता साफ करता है।आरकॉम की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया, “आरकॉम और इसकी सहायक कंपनी रिलायंस टेलीकॉम लिमिटेड ने आज दूरसंचार विभाग (डीओटी) के साथ 774 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी को बहाल कर दिया है, यानी दूरसंचार विवाद निपटान और अपीलीय न्यायाधिकरण (टीडीएसएटी) की ओर से दी गई अंतिम तारीख 10 सितंबर 2018 से चार हफ्ते पहले।”यह बताते हुए कि आरकॉम निर्धारित दिशानिर्देशों का पूरी तरह से अनुपालन कर रहा है, कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया, “बैंक गारंटी की बहाली सुनिश्चित करेगी कि 11,300 करोड़ रुपये का कंपनी का लाइसेंस और स्पेक्ट्रम मूल्य "पूरी तरह संरक्षित है"।”इसमें आगे कहा गया, “कंपनी की परिसंपत्ति मुद्रीकरण योजना जो कि करीब 25,000 करोड़ रुपये की है, जिसमें एमएनसी (मीडिया कन्वर्जेंस नोड्स), टॉवर, ऑप्टिक फाइबर और स्पेक्ट्रम की बिक्री की जानी है, सही रास्ते पर है और इसके शीध्र पूरा होने की उम्मीद है।

 

नई दिल्ली। निजी क्षेत्र की प्रमुख विमानन कंपनी एयर एशिया इंडिया स्वतंत्रता दिवस के मौके पर घरेलू उड़ान टिकटों पर 45 फीसद तक की छूट दे रही है। एयर एशिया की वेबसाइट airasia.com के मुताबिक, स्वतंत्रता दिवस पर यह ऑफर बेंगलुरू, कोलकाता, अमृतसर, नई दिल्ली, रांची और हैदराबाद के लिए है। ऑफर के तहत टिकट की बुकिंग 13 अगस्त से 19 अगस्त तक की जा सकती है। जबकि स्वतंत्रता दिवस पर बुक किए गए टिकटों पर यात्रा की तारीख 19 फरवरी 2019 से 13 अगस्त 2019 तक है।एयरएशिया फ्लाइट टिकटों पर यह ऑफर स्वतंत्रता दिवस की 71 वीं वर्षगांठ से पहले लेकर आया है। एयरएशिया इंडिया की ओर से स्वतंत्रता दिवस पर घरेलू उड़ान टिकटों पर 45 फीसद तक की छूट दी जा रही है।
किन रुट्स पर भर पाएंगे उड़ान;-एयर एशिया के इस ऑफर के तहत बुक कराई गईं टिकिटों पर आप बेंगलुरू, कोलकाता, अमृतसर, नई दिल्ली, रांची और हैदराबाद के लिए टिकट बुक करा सकते हैं।
टिकट बुकिंग पर एयरएशिया की शर्तें:एयरएशिया की वेबसाइट airasia.com के अनुसार, इस ऑफर का लाभ उठाने के लिए ग्राहकों को एडवांस बुकिंग करानी होगी। यह ऑफर पीक पीरियड के दौरान अपलब्ध नहीं होगा। एयरएशिया के मुताबिक, छूट केवल सीटों की उपलब्धता के आधार पर है और यह केवल सिलेक्टेड फ्लाइट के लिए है। विमानन कंपनी की ओर से दिया जा रहा यह ऑफर एयरएशिया के वेब और मोबाइल ऐप पर उपलब्ध है।
इस ऑफर का लाभ कैसे लें:-एयरएशिया की ओर से मिल रहा ऑफर प्रमोशन स्कीम 'अधिक खरीद, अधिक बचत' के तहत है। इसका मतलब है कि आपका ट्रैवल ग्रुप जितना बड़ा होगा छूट उतनी अधिक मिलेगी।
बुकिंग से पहले इन बातों का रखें ध्यान
-सबसे पहले आप अपने प्रस्थान और आगमन की फ्लाइट की तारीख तय कर लें।
-प्रमोशन यात्रा अवधि में बताई गई तारीख का चयन करें।
-एयरएशिया के मुताबिक, यदि आप फ्लाइट टिकट पर एक गेस्ट का चयन करते हैं, तो आपको 15 फीसद छूट मिलेगी, 2 गेस्ट पर 25 फीसद छूट, तीन गेस्ट पर 35 फीसद छूट और चार और अधिक गेस्ट पर 45 फीसद छूट (अधिकतम 9 गेस्ट) का आनंद ले सकते हैं।

नई दिल्ली। कोहली एंड कंपनी को लॉर्ड्स टेस्ट में पारी और 159 रन की बड़ी हार का सामना करना पड़ा। इस जीत के साथ ही इंग्लैंड ने पांच टेस्ट की सीरीज़ में 2-0 की बढ़त बना ली है। क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स के मैदान पर भारत को इस सदी में पहली बार पारी से हार का सामना करना पड़ा है।
लॉर्ड्स में 44 साल बाद पारी से हारा भारत:-बारिश के कारण मैच के पहले दिन का खेल पूरी तरह से से धुल गया था। दूसरे दिन का खेल भी बारिश से बुरी तरह प्रभावित रहा। मैच में भारतीय बल्लेेबाजों ने बेहद शर्मनाक प्रदर्शन किया। पहली पारी में टीम इंडिया 107 और दूसरी पारी में 130 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। भारतीय बल्लेबाज़ इस मैच की किसी भी पारी में 50 ओवर तक भी बल्लेबाज़ी नहीं कर सके। भारत की पहली पारी 35.2 ओवर में सिमट गई तो दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाज़ 47 ओवर ही टिक सके और टीम इंडिया को लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर 44 साल के बाद पारी की हार झेलनी पड़ी। आपको बता दें कि इससे पहले क्रिकेट के मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स के मैदान में भारत सन 1974 में पारी के अंतर से मैच हारी थी और उसके बाद ये पहला मौका है जब टीम इंडिया को इस मैदान पर पारी के अंतर से शिकस्त झेलनी पड़ी है।
लॉर्ड्स में 1974 में मिली सबसे बड़ी हार:-इस ऐतिहासिक मैदान पर भारतीय टीम को तीन बार पारी के अंतर से हार का सामना करना पड़ा है। सबसे पहली बार टीम इंडिया लॉर्ड्स में सन1967 में पारी और 124 रन से हारी थी। इसके बाद सन 1974 में भारत को लॉर्ड्स में अपनी सबसे बड़ी हार का सामना करना पड़ा था। उस मैच में इंग्लैंड ने पारी और 285 रन से भारत को धूल चटाई थी। इसके बाद अब 2018 में भारत को तीसरी बार लॉर्ड्स में पारी और 159 रन से शिकस्त झेसनी पड़ी।
ऐसा रहा है लॉर्ड्स में भारत का रिकॉर्ड:-लॉर्ड्स में मैदान पर भारत और इंग्लैंड के बीच 18 मुकाबले खेले गए हैं। इन 18 मैचों में से 12 बार भारत को हार का सामना करना पड़ा है। वहीं सिर्फ दो मैचों में ही भारतीय टीम जीत दर्ज़ करने में सफल रही थी। उसे जीत मिली है जबकि चार मैच ड्रॉ समाप्त हुए हैं। टीम इंडिया ने इस मैदान पर वर्ष 1986 और वर्ष 2014 में जीत हासिल की थी।

 

Page 6 of 3011

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें