रायपुर। एड्स की वजह से पत्नी की मौत के बाद पति ने अपनी दो जुड़वा बेटियों को राजधानी के मातृछाया अनाथ आश्रम में छोड़ दिया। दोनों बच्चियां भी एचआईवी पॉजिटिव हैं। दो मासूम जिंदगियां अब वक्त के भरोसे जीवन के संघर्ष में आगे बढ़ रही थीं। इन नन्ही परियों की जिंदगी ने अचानक करवट ली और फरिस्ते बनकर मां-बाप के रूप में उनकी जिंदगी में इलन और मेरीमा आए। यूएसए के न्यू जर्सी के रहने वाले इस नि:संतान दंपति ने गुरूवार को राजधानी के अनाथालय से इन दोनों बच्चियों को गोद लेने की कानूनी औपचारिकताएं पूरी कीं। इसके साथ ही 5 साल की इन मासूम जुड़वा बहनों को एक बार फिर मां-पिता का साथ मिल गया।
इस तरह बना रिश्ते का संयोग:-न्यू जर्सी के रहने वाले इलन जॉर्ज और मेरीमा एरिस के बच्चे नहीं थे। यह कमी उनकी जिंदगी को अधूरा बना रही थी। इसी बीच उन्होंने भारत में किसी बच्ची को गोद लेने के बारे में विचार बनाया। इलन ने बताया कि इंटरनेट पर सर्च के दौरान उन्हें इन बच्चियों के बारे में पता चला। इसके बाद उन्होंने दिल्ली स्थित सेंट्रल रिसर्च एडाबसन सेंटर से चर्चा की और बच्चियों को गोद लेने की इच्छा जताई। फिर वे मातृछाया आकर बच्चियों से मिले और उन्हें गोद लेने की औपचारिक कार्रवाई पूरी की।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें