उत्तर प्रदेशः वाराणसी में फ्लाइओवर के पिलर गिरने से करीब 15 लोगों के मरने की खबर है। इस घटना ने सबको हिला कर रख दिया है। एनडीआरएफ की तरफ से चलाए गए राहत कार्य में मलबे में दबे सभी लोगों को बाहर निकाला गया और उन्हें तुरंत उपचार पहुंचाया गया। बताया जा रहा है कि यह हादसा सीधा प्रशासन की लापरवाही है। इस फ्लाइओवर को बनाने के लिए और जल्दी से जल्दी इसका काम निपटाने के लिए दबाव बनाया जा रहा था। जिसके चलते फ्लाइओवर का पिल्लर गिर गया और करीब 15 लोगों की जान चली गई।
शुरू से विवादों में रहा फ्लाईओवर:-दरअसल अखिलेश सरकार में 1 अक्टूबर 2015 को चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर के विस्तारीकरण का शिलान्यास हुआ और फिर तेजी से निर्माण शुरू किया गया। तब से लेकर आज तक इस फ्लाईओवर का निर्माण विवादों में ही रहा। अखिलेश सरकार के दौरान भी कई बार इसकी डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) बदली गई।
वक्त पर काम नहीं हुआ पूरा:-दरअसल 2017 में योगी सरकार आई तो इस पुल का काम जल्द पूरा करने के निर्देश जारी किए गए। फ्लाईओवर का निर्माण मार्च 2019 तक पूरा होना था, लेकिन अधिकारियों ने वाहनों के दबाव का हवाला देकर अक्टूबर 2019 तक काम को पूरा करने वक्त मांगा।
63 में से 45 पिलर ही अब तक तैयार:-मिली जानकारी के मुताबिक 1710 मीटर लंबे इस फ्लाईओवर का निर्माण 30 महीने में पूरा होना था, लेकिन अभी तक इस फ्लाईओवर का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है। इस फ्लाईओवर प्रोजेक्ट की लागत 77.41 करोड़ रुपये है, जिसके अंतर्गत 63 पिलर बनने हैं। लेकिन अभी तक 45 पिलर ही तैयार हुए हैं।
परियोजना प्रबंधक के खिलाफ FIR:-खबरों की मानें तो 19 फरवरी को यूपी सेतु निगम के परियोजना प्रबंधक के खिलाफ सिगरा थाने में लापरवाही को लेकर मुकदमा भी दर्ज कराई गई थी. कहा जा रहा है कि फ्लाईओवर के निर्माण को लेकर कई बार प्रशासन को भी अलर्ट किया गया था। इस पुल का निर्माण रूट डायवर्ट करके कराई जाए वरना बड़ा हादसा हो सकता है, लेकिन फ्लाईओवर के निर्माण के दौरान रूट डायवर्ट नहीं किया गया। नियम के मुताबिक इस तरह के निर्माण के दौरान कार्यस्थल को सील कर दिया जाता है। निर्माण क्षेत्र से चार-चार फीट दाएं और बाएं बैरीकेडिंग की जाती है। लाल झंडे और लाइट लगाई जाती है, लेकिन वाराणसी में ऐसा कोई कदम नहीं उठाया गया।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें