हैदराबाद - हैदराबाद में ट्रैफिक नियमों को लेकर सख्‍ती बरतते हुए पिछले एक माह की अवधि में करीब 69 पैरेंट्स को जेल में कैद की सजा दी गयी है क्‍योंकि इन्‍होंने अपने नाबालिग बच्‍चों को ड्राइविंग की अनुमति दी थी। हैदराबाद की ट्रैफिक पुलिस ने बगैर लाइसेंस 14 से 16 साल की उम्र के बच्‍चों को कार, मोटरबाइक, स्‍कूटर और ऑटो तक चलाते देखा है। डिप्‍टी कमिश्‍नर ऑफ पुलिस एवी रंगनाथ ने कहा, 69 किशोरों के पिता को स्‍थानीय कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्‍हें एक से तीन दिनों के लिए जेल भेजा गया और जुर्माना लगाया गया।
रंगनाथ ने बताया, ‘जनवरी में सिलसिलेवार सड़क दुर्घटनाओं के बाद फरवरी के पहले सप्‍ताह में नाबालिगों द्वारा किए जा रहे ड्राइविंग पर पुलिस ने कार्रवाई शुरू की। पिछले दो सालों से हम अदालतों के जरिए जुर्माना लगा रहे हैं, लेकिन इससे कोई फायदेमंद प्रभाव नहीं पड़ा।‘
उन्‍होंने आगे बताया,’जनवरी की सड़क दुर्घटनाओं के बाद हमने किशोरों द्वारा ड्राइविंग मामले पर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का हवाला देते हुए स्‍थानीय कोर्ट से आग्रह किया कि इसे गंभीरता से लेना होगा क्‍योंकि इससे दूसरों के साथ-साथ उन नाबालिग की जान को भी खतरा है। कोर्ट भी इसपर राजी हो गयी। रंगनाथ ने बताया कि जेल में बंद पैरेंट्स ने इस सख्‍त कार्रवाई के लिए पुलिस की सराहना की और बधाई दिया। इस साल के अंत तक यह ड्राइव जारी रहेगा।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें