जमशेदपुर - रेलवे में अब हथेली के निशान से आरक्षित टिकट बनेंगे। इसके लिए टाटानगर व अन्य स्टेशनों के आरक्षण केंद्रों पर जल्द ही पॉम बॉयोमेट्रिक मशीन लगेगी। उत्तर-मध्य रेलवे झांसी में नई व्यवस्था का ट्रायल हो रहा है। यहां सफलता के बाद देशभर के मॉडल स्टेशनों पर मशीन लगाने का काम शुरू होगा।
एक-दो दिनों में दो बार टिकट बुक कराने पर पॉम बॉयोमेट्रिक मशीन से शिनाख्त होगी, क्योंकि मशीन पर हथेली रखने से दूसरी बार आने की पुष्टि हो जाएगी। इससे बुकिंग कर्मचारी सतर्क हो जाएंगे। रेलवे में आरक्षित टिकट की कालाबाजारी रोकने की यह नई पहल है। एक दिन में कई बार टिकट बनाने वालों की मशीन से शिनाख्त होने पर उसे आरपीएफ को सौंपा जाएगा।
सात हजार टिकट रोज बनते हैं -
टाटानगर स्टेशन के आरक्षण केंद्र व जमशेदपुर के टेल्को, साकची और बिष्टूपुर स्थित सिटी काउंटर से रोज 45 जोड़ी ट्रेनों के लिए सात-आठ हजार टिकट बुक होते हैं। वाणिज्य विभाग ने टिकट की कालाबाजारी रोकने के लिए टाटानगर स्टेशन के आरक्षण केंद्र पर दो-दो बार टोकन सिस्टम मशीन लगाई, लेकिन व्यवस्था शुरू होने के साथ बंद हो गई।
दलाल होते रहे हैं गिरफ्तार -
आरपीएफ हर वर्ष दस-पंद्रह टिकट दलालों को आरक्षण केंद्र व सिटी काउंटर में छापेमारी कर रेलवे ऐक्ट के तहत पकड़ती है। रेलवे अदालत में पेश कर जेल भेजा जाता है।
सुविधा
- स्टेशन के आरक्षण केंद्र में लगेंगी पॉम बॉयोमेट्रिक मशीन
- एक दिन में दो बार टिकट बनवाने वालों की होगी शिनाख्त

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें