दिल्ली - अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को दो दशक से अधिक समय तक भारतीय पुलिस सहित विभिन्न एजेंसियां तलाश रही हैं। लेकिन 2013 में खुद उसने दिल्ली के तत्कालीन पुलिस आयुक्त नीरज कुमार को फोन किया था। उसने धमकाने वाले लहजे में कहा था कि अब तो रिटायर हो रहे हैं, अब तो पीछा छोड़ दो।
एक न्यूज चैनल से बातचीत में नीरज ने सोमवार को खुद यह खुलासा किया। उन्होंने कहा, मेरी देखरेख में क्रिकेट स्पॉट फिक्सिंग की जांच चल रही थी। उस दौरान केस की कड़ियां दाऊद के साथ जुड़ रही थी। जांच से संकेत मिल रहे थे कि इस फिक्सिंग नेटवर्क का मुखिया दाऊद ही है। इसी सिलसिले में दाऊद ने खुद फोन कॉल किया। उसने कहा, अब रिटायर हो रहे हो, अब तो पीछा छोड़ दो। यह साफतौर पर धमकी थी। उसका इशारा साफ था कि सेवानिवृत्ति के बाद सुरक्षा नहीं मिलेगी। ऐसे में उनके साथ कुछ भी हो सकता है।
कुमार ने कहा, उन्होंने अपने 37 साल के करियर में नौ साल सीबीआई में सेवाएं दी। उन्होंने 1993 में मुंबई धमाकों की भी जांच की है। इस दौरान तीन बार दाऊद से बात हुई। पूर्व पुलिस आयुक्त ने दाऊद के आत्मसमर्पण पर दो टूक कहा कि उन्हें नहीं लगता कि वह ऐसा करेगा। वह उन शर्तों पर आत्मसमर्पण करना चाहता है, जो भारतीय कानून एवं संविधान के तहत संभव नहीं है।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें