Editor

Editor


सियोल - दक्षिण कोरिया के साथ तनावपूर्ण संबंध को खत्‍म करने की दिशा में उत्‍तर कोरिया तेजी से अग्रसर है। अगले महीने दक्षिण कोरिया में विंटर ओलंपिक शुरू होने जा रहा है और उत्‍तर कोरिया ने दोस्‍ती के नए युग की शुरुअात के लिए इसे ही चुना है। वहीं तैयारियों का जायजा लेने के लिए उत्‍तर कोरिया का एक प्रतिनिधि दल सियोल भी पहुंच चुका है। मगर इसके साथ दक्षिण कोरिया में विरोध का स्‍वर भी फूटने लगा है।
सोमवार को सियोल में 100 से ज्‍यादा की संख्‍या में प्रदर्शनकारियाें ने उत्‍तर कोरियाई नेता किम जोंग उन की तस्‍वीर जलाकर अपना विरोध जताया। विंटर ओलंपिक में उत्‍तर कोरिया की भागीदारी को लेकर सियोल के सेंट्रल रेलवे स्‍टेशन के बाहर बड़ा प्रदर्शन किया गया और इस जगह को इसलिए चुना गया क्‍योंकि वहां से उत्‍तर कोरियाई प्रतिनिधि दल गुजरने वाला था जिसका नेतृत्‍व किम जोंग उन की कथित पूर्व प्रेमिका हियान सॉन्‍ग वोल का, जो सियोल पहुंचे उत्‍तर कोरियाई प्रतिनिधि दल का नेतृत्‍व कर रही हैं।
हियान उत्‍तर कोरिया के मशहूर मोरंगबॉन्‍ग बैंड की हेड भी हैं। हियान के सियोल पहुंचने को लेकर भी मामला गरमाया हुआ है। प्रदर्शनकारियाें ने उनके सामने ही किम जोंग उन की तस्‍वीर में आग लगा दी। इसमें उत्‍तर कोरिया का झंडा भी जल गया।
हियान के सियोल दौरे को लेकर दक्षिण कोरिया की मीडिया में भी काफी उत्‍सुकता देखने को मिली। मगर उन्‍होंने किसी से बात नहीं की।
उत्तर और दक्षिण कोरिया खेल के मैदान में संयुक्त महिलाओं की आइस हॉकी टीम को एक साथ उतारेंगे। इसके अलावा उत्तर कोरिया के खिलाड़ी स्केटिंग और स्कींइग में भी उतरेंगे।
दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई-इन के पद संभालने के बाद हुआ यह दौरा संभव हुआ है। मून उत्तर कोरिया के साथ बातचीत के पक्षधर हैं। दो सप्ताह पहले दोनों पड़ोसी देशों में बातचीत के बाद उत्तर कोरिया ओलंपिक में अपने एथलीटों और अधिकारियों का दल भेजने पर सहमत हुआ। दोनों कोरिया में हुए समझौते पर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ ने शनिवार को मुहर लगा दी।
विंटर ओलंपिक नौ फरवरी से दक्षिण कोरिया के प्योंगचांग में शुरू होगा। इसमें दोनों कोरिया एक ही झंडे के तहत उद्घाटन समारोह में मार्च पास्ट करेंगे। महिला आइस हॉकी की उनकी संयुक्त टीम होगी। हियोन के नेतृत्व में 140 सदस्यीय ऑरकेस्ट्रा के दो कंसर्ट होंगे। दक्षिण कोरिया और ओलंपिक आयोजकों को उम्मीद है कि इस 'शांति के ओलंपिक' से कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव कम होगा।

 


मॉस्को - रूस के विदेश मंत्री ने अमेरिका के द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों पर अपने बयान दिए हैं। रूसी विदेश मंत्री सरगेई लावरोव ने कहा, रूस पर अमेरिका के द्वारा लगाए जाने वाले प्रतिबंध निराधार हैं साथ ही ये मास्को की विदेश नीति को प्रभावित नहीं करेंगे। शिन्हुआ न्यूज एजेंसी के मुताबिक एक अखबार को दिए इंयरव्यू में लावरोव ने कहा, "हम मानते हैं कि जिन कारणों को लेकर रूस पर प्रतिबंध लगाए गए हैं वे बिना किसी आधार के हैं। उन्होंने आगे कहा कि रूस की नीति खुली, इमानदार और रचनात्मक है जो अमेरिका बदल नहीं सकता है।
लावरोव की ये टिप्पणी तब आई है जब अमेरिकी राष्ट्रपति प्रशासन के द्वारा उच्च रैंकिंग रूसी अधिकारियों और मॉस्को पर नई आर्थिक प्रतिबंध लागू करने की दो रिपोर्ट को जारी किया है। उन्होंने आगे कहा कि रूस की विदेश नीति देश के राष्ट्रीय हितों पर आधारित है और वह किसी भी विदेशी दबाव में नहीं आने वाली है।
लावरोव ने आगे कहा, "हमारी विदेश नीति को समाज में व्यापक समर्थन प्राप्त है, इस बात का सबसे बड़ा सबूत यही है कि विदेशी राष्ट्र और कुछ कंपनियों हम पर दबाव डालकर हमारी विदेश नीति को बदलने का प्रयास कर रही है जो बेमतलब है।"
बता दें कि अगस्त 2017 में, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने रूस के खिलाफ नए प्रतिबंधों के एक नए पैकेज पर हस्ताक्षर किए थे। रूस और वाशिंगटन के बीच काफी समय से रिश्ते खटास हैं। सीरिया में युद्ध, यूक्रेन में संघर्ष और क्रेमलिन के कथित हस्तक्षेप में असहमति के बीच ही इन दोनों राष्ट्रों के बीच रिश्ते मधुर नहीं हैं। इसके 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के समय इन दोनों देशों के बीच तनाव उत्पन्न हुए थे।


वाशिंगटन - अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रिपब्लिकन को सुझाव दिया है कि वह तथाकथित ‘परमाणु-विकल्प’ (न्यूक्लियर ऑप्शन) का इस्तेमाल करें, जिसमें 100 सदस्यों वाली सीनेट में 60 की बजाए साधारण बहुमत हासिल करने की जरूरत है। फिलहाल अमेरिका में पांच साल में पहली बार सरकारी कामकाज बंद होने को लेकर डेमोक्रेट्स के साथ गहन बातचीत का दौर जारी है।
अमेरिकी कांग्रेस कार्रवाई में बमुश्किल इस्तेमाल होने वाला परमाणु या संवैधानिक विकल्प एक संसदीय प्रक्रिया है, जो अमेरिकी सीनेट को किसी नियम या कानून को बहुमत वोट के जरिए निरस्त करने की इजाजत देती है।
सीनेट के बहुमत नेता मिच मैककॉनेल ने कहा कि रिपब्लिकन द्वारा इस विकल्प के इस्तेमाल की संभावना बेहद कम है। संघीय सरकार के लाखों कर्मचारी काम पर नहीं लौटेंगे, क्योंकि सीनेट ने संघीय सरकार के खर्चों के लिए धन देने वाले जरूरी विधेयक को डेमोक्रेटिक सीनेटरों के विरोध के चलते पारित नहीं किया।
इस कारण मुश्किल में यूएस
मौजूदा समय में अमेरिका में बड़ा आर्थिक संकट पैदा हो गया है और वो भी ट्रंप के राष्‍ट्रपति कार्यकाल के एक साल पूरे होने के मौके पर। इसकी वजह से वह जश्‍न भी नहीं मना पाए। दरअसल सरकारी खर्चों को लेकर एक अहम आर्थिक विधेयक पर सांसद की मंजूरी नहीं मिल सकी, जिस कारण अमेरिकी सरकार को शटडाउन करना पड़ा। इसका मतलब यह हुआ कि अब वहां कई सरकारी विभाग बंद करने पड़ेंगे और लाखों कर्मचारियों को बिना सैलरी के घर बैठना होगा। आपको बता दें कि अमेरिका में एंटी डेफिशिएंसी एक्ट लागू है, जिसमें फंड की कमी होने पर संघीय एजेंसियों को अपना कामकाज रोकना पड़ता है।
पहले भी हो चुका है शटडाउन
अमेरिकी इतिहास में यह पहला मौका नहीं है, जब सरकार को शटडाउन से जूझना पड़ रहा है। इससे पहले अक्टबूर 2013 में बराक ओबामा के राष्ट्रपति रहने के दौरान भी दो हफ्तों तक संघीय एजेंसियों को बंद करना पड़ा था, जिस कारण 8 लाख कर्मचारियों को बगैर वेतन के घर बैठना पड़ा। वहीं 1981, 1984, 1990 और 1995-96 में भी शटडाउन की नौबत आ चुकी है।
ट्रंप के खिलाफ बढ़ा विरोध
राष्ट्रपति के रूप में शनिवार को एक साल पूरा करने वाले ट्रंप का अमेरिका में विरोध बढ़ गया है। कई अमेरिकी शहरों में लाखों महिलाएं अपने पुरुष समर्थकों के साथ सड़कों पर उतरीं और ट्रंप के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। ह्वाइट हाउस में ट्रंप का पहला साल काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा है। उन्होंने पिछले साल 20 जनवरी को अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी।
हालांकि ट्रंप ने इन प्रदर्शनों पर तंज कसते हुए ट्विटर पर लिखा, 'हमारे देश में बहुत खुशनुमा मौसम है। यह महिलाओं की रैली के लिए सबसे अच्छा दिन है। पिछले 12 महीने में ऐतिहासिक उपलब्धियों और अप्रत्याशित आर्थिक सफलताओं की खुशी मनाने के लिए बाहर निकलो। पिछले 18 साल में महिला बेराजगारी सबसे कम है।'


दावोस - स्विटजरलैंड के दावोस में आयोजित होने जा रहे वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में भाग लेने के लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रवाना हो चुके हैं। इसको लेकर दावोस में रह रहे भारतीय मूल के लोगों खास तौर से कारोबारियों में विशेष उत्साह देखा जा रहा है। इन्हीं में से भारतीय मूल के एक कारोबारी मेहुल पटेल ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) पर विश्व स्तर के आर्थिक मुद्दों के संभावित समाधानों पर मंथन किया जाएगा।
पीएम मोदी के स्विस दौरे को लेकर पटेल ने कहा, भारत इस समय वैश्विक आर्थिक शिखर सम्मेलन में मजबूत उपस्थिति दर्ज करा रहा है। उन्होंने आगे कहा कि, "यह संभवतः एकमात्र ऐसा मंच है जहां विश्व के सभी नेता, निवेशक और उद्यमी एक साथ आते हैं और उन मुद्दों पर चर्चा करते हैं जिन समस्याओं का कंपनियों और देशों को सामना करना पड़ रहा है।
यहां बौद्धिक स्तर पर चर्चा और बहस होती है जिसके अच्छे परिणाम आते हैं। पटेल ने आगे कहा, "यहां पीएम मोदी के दावोस दौरे को लेकर लोगों में काफी उत्साह है। अमेरिका और यूरोप के लोगों में भी इस समय दावोस में भारत की मजबूत उपस्थिति को लेकर चर्चा है।"
आपको बता दें कि विश्व आर्थिक मंच की 48 वीं वार्षिक बैठक में भाग लेने के लिए पीएम मोदी आज दावोस के लिए रवाना हो चुके हैं। उनके साथ वित्त मंत्री अरुण जेटली, वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु और अन्य भी शामिल होंगे।


मुंबई - बॉलीवुड एक्टर आमिर खान अपनी अगली फिल्म 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' की शूटिंग में बिजी हैं। इस फिल्म में आमिर के साथ कैटरीना और और दंगल गर्ल फातिमा सना शेख नजर आएंगी।
जानकारी के लिए बता दें कि फातिमा ने 2 साल पहले फिल्म 'दंगल' से बॉलीवुड में कदम रखा था। फातिमा की पहली फिल्म तो सुपरहिट रही थी। लेकिन ताज्जुब की बात यह है कि हिट फिल्म देने के बावजूद उन्हें एक भी फिल्म नहीं मिली है। 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' के अलावा उनके पास कोई ‌फिल्म नहीं है।
खबरों की मानें तो फातिमा प्रोडक्‍शन हाउस से कॉन्टैक्ट करती रहती हैं लकिन कोई भी उन्हें फिल्म देने के लिए तैयार नहीं है। ऐसी अफवाह है कि आमिर खान से नजदीकियों के कारण ही कोई उन्हें काम नहीं दे रहा है।
फातिमा आमिर खान की खोज हैं। फिल्मों में काम के लिए वो कई प्रोडक्‍शन हाउस में बात कर चुकी हैं। लेकिन उन्हें यह कहकर मना कर दिया जाता है कि वो आमिर खान की प्रोडक्ट हैं। वहीं उन्हें काम देंगे। बता दें कि फिल्म में आमिर खान और अमिताभ बच्चन पहली बार साथ में काम करने जा रहे हैं। इस फिल्म के लिए आमिर के ट्रेनर ही फातिमा को ट्रेन्ड कर रहे हैं।


मुंबई - सोनाक्षी सिन्हा और दिलजीत दोसांझ की आने वाली नई फिल्म ‘वेलकम टू न्यूयॉर्क” का ट्रेलर रिलीज हो गया है। खास बात यह है कि सलमान ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्रेलर को शेयर किया है।
करण जौहर, दिलजीत दोसांझ, सोनाक्षी सिन्हा, राणा दग्गुबति, रितेश देशमुख, लारा दत्ता और बोमन ईरानी जैसे सितारों से सजी ‘वेलकम टू न्यूयॉर्क’ साल 2018 की बहुप्रतीक्षित कॉमेडी फिल्मों में से एक है।
डायरेक्टर चाकरी तोरेती ने अपनी फिल्म के बारे में बताया है कि, ‘हमारी फिल्म की कास्ट बहुत ही कमाल की है। जब दर्शकों के सामने यह फिल्म पेश होगी तो वो इस बात का अहसास करेंगे। मेरी खुशनसीबी है कि मैं ऐसे जबरदस्त कलाकारों के साथ काम कर पाया। ’


दिल्ली - फिल्म पद्मावत को लेकर विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। इतने महीनों के विवाद के बाद फिल्म की रिलीज डेट फाइनल की गई और 25 जनवरी को फिल्म रिलीज करने का फैसला लिया गया। इस हफ्ते शुक्रवार को रिलीज होने वाली फिल्म पद्मावत को लेकर बवाल और बढ़ गया है। ऐसे में थिएटर मालिकों के लिए भी खतरा बढ़ गया है। ऐसे में उन्होंने रिस्क लेते हुए फिल्म की टिकट पर पैसे बढ़ा दिए हैं। लेकिन आपको अंदाजा नहीं होगा कि थिएटर मालिकों ने फिल्म के टिकट के कितने रेट बढ़ा दिए हैं। दिल्ली के कुछ सिनेमा हॉल में टिकट 2500 रुपये रखा गया है। फिल्म को लेकर दर्शकों का क्रेज देखने लायक है। 2500 रुपये का टिकट होने के बावजूद लोग इसे बिना कुछ सोचे समझे बुक कर रहे हैं। थिएटर मालिक भी जानते हैं कि 25-28 तक हॉलिडे होने के कारण लोग फिल्म देखने सिनेमा घरों तक जरूर पहुंचेंगे। ऐसे में लोगों की मजबूरी का फायदा उठाना वे बखूबी जानते हैं।
बता दें कि फिल्म को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। करणी सेना ने फिल्म पर पूरी तरह से बैन लगाने की मांग की है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद फिल्म को सबी राज्यों में रिलीज किया जाएगा। हाल ही में करणी सेना के विरोध के बाद राजस्थान के भीलवाड़ा में एक युवक 350 फीट ऊंचे मोबाइल टॉवर पर पेट्रोल की बोतल लेकर चढ़ गया है। टॉवर पर चढ़ें इस युवक ने फिल्म को बैन करने की बात कही है। उसका कहना है कि जब तक फिल्म बैन नहीं होगी, वह नीचे नहीं उतरेगा। बता दें कि जिस टॉवर पर चढ़कर युवक प्रदर्शन कर रहा , उसी के नीचे करणी सेना के कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। बता दें कि यह टॉवर बीएसएनएल के दफ्तर मेंही मौजूद है और अब स्थानीय प्रशासन युवक से समझाइश करने में जुटे हैं।


नई दिल्ली - बॉलीवुड एक्ट्रैस आलिया भट्ट और एक्टर रणबीर कपूर पहली बार अयान मुखर्जी की फिल्म 'ब्रह्मास्त्र' में नजर आने वाले हैं। दोनों नए साल के मौके पर दोनों अयान मुखर्जी के साथ इजरायल गए थे और वहीं नया साल मनाया था। दोनों के एक फिल्म में नजर आने की खबरों के साथ ही दोनों के लिंकअप की खबरें भी आने लग गई थी। जानकारी मिली है कि रणबीर कपूर इन खबरों को लेकर खासा नाराज हैं।
रणबीर कपूर ने इन खबरों को लेकर करन जौहर और आलिया भट्ट की जमकर क्लास लगा दी हैं। एक सूत्र के हवाले से खबर में कहा गया है कि रणबीर कपूर ने करन जौहर और आलिया भट्ट के पीआर टीम को इन सब खबरों पर तुरंत रोक लगाने के लिए कहा है।

 


मुंबई - टीवी सीरियल 'नागिन' से नाम कमाने वाली अदा खान ठगी का शिकार हो गईं। दरअसल उनके डेबिट कार्ड से बदमाशों ने दो लाख रुपये इस्तेमाल कर डाले। अदा भी आम इंसानों की तरह फर्जीवाड़े का शिकार हो गईं।
अदा खान ने बताया कि उन्हें मैसेज आया कि उनके बैंक अकाउंट से 24 हजार रुपये कट गए हैं। इस मेसेज से उन्हें शॉक लगा, क्योंकि डेबिट कार्ड तो उनके बैग में ही था। इसके बाद अदा समझ गईं कि कोई उनके कार्ड का इस्तेमाल कर उनके पैसे निकाल रहा है। इसके बाद लगातार 4 मैसेज आए, इस तरह उनके अकाउंट बदमाशों ने 2 लाख रुपये से ज्यादा निकाल लिए।
इसके बाद अदा ने अपना डेबिट कार्ड उन्होंने ब्लॉक कराया। अदा ने कहा कि उन्हें पुलिस और बैंक ने इस मामले में काफी सपोर्ट किया। अब अदा अपने डेबिट कार्ड को लेकर काफी सतर्क हो गई हैं। बता दें कि इस तरह की धोखाधड़ी का मामला पहले एक्ट्रेस दिलजीत कौर और एक्टर नकुल मेहता के साथ भी हो चुका है। अदा 'नागिन-2' में नजर आ चुकी हैं।

 


मुंबई - मराठी फिल्मों के एक्टर प्रफुल्ल भालेराव की ट्रेन एक्सीडेंट में मौत हो गई हैं। सूत्रों के मुताबिक, हादसा सोमवार सुबह 4.20 बजे उस वक्त हुआ जब प्रफुल्ल वेस्टर्न लाइन की लोकल ट्रेन से मलाड से गोरेगांव जा रहे थे। उनकी बॉडी मलाड स्टेशन के पास ही मिली। फिलहाल बॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है।
बता दें कि प्रफुल्ल ने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट अपनी पहचान बनाई थी और उन्हें पॉपुलर टीवी सीरिज 'कुन्कू' के लिए जाना जाता है। इसमें उन्होंने गण्या का रोल निभाया था। प्रफुल्ल ने मराठी फिल्म 'बरायन' में भी काम किया है, जो हाल ही में रिलीज हुई है।
हालांकि उन्हें पहचान टीवी सीरिज 'कुन्कू' से ही मिली और इसके बाद वो महाराष्ट्र के घर-घर में पहचाने जाने लगे। इसके अलावा उन्होंने कुछ और मराठी सीरियल्स में भी काम किया है, जिनमें 'तू माझा संगति', नकुशी और ज्योतिबा फुले में काम किया है।

Page 7 of 2166

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें