Editor

Editor


नई दिल्ली - केंद्र सरकार पेट्रोल एवं डीजल के विकल्प लाने पर विचार कर रही है। मेथानॉल को पेट्रोल का और डाई मिथाइल ईथर (डीएमई) डीजल का विकल्प बनाया जाएगा। पेट्रोल-डीजल की तरह ये खनिज नहीं हैं बल्कि हाइड्रोकार्बन पदार्थ हैं जो प्राकृतिक गैस, बायोमॉस एवं कोयले से प्राप्त होते हैं। सरकार का मानना है कि ये वैकल्पिक ईधन कम प्रदूषणकारी एवं सस्ते होंगे। नीति आयोग के वैज्ञानिक सलाहकार वीके सारस्वत के नेतृत्व में मेथानॉल एवं डीएमई के इस्तेमाल का रोडमैप तैयार करने के लिए कई टास्क फोर्स गठित की गई हैं।
एक टास्क फोर्स विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी मंत्रालय की एजेंसी प्रौद्यौगिकी सूचना, पूर्वानुमान एवं मूल्यांकन परिषद (टाईफैक) के कार्यकारी निदेशक प्रभात रंजन के नेतृत्व में बनी है। पहली बैठक में रंजन ने कहा कि मेथानॉल एवं डीएमई को मौजूदा वाहनों में बिना किसी बदलाव के 15 फीसदी तक पेट्रोल एवं डीजल के साथ मिलाया जा सकता है। मेथानॉल एवं डीएमई का इस्तेमाल अभी देश में रसायन उद्योग में होता है। इनका खासा उत्पादन भी होता है। लेकिन जितना उत्पादन होता है खपत उससे ज्यादा है। इसलिए विदेशों से भी मंगाया जाता है। लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि ये ऐसे पदार्थ हैं जिन्हें जितनी मात्र में चाहें उत्पादन कर सकते हैं। दुनिया का 55 फीसदी मेथानॉल अकेले चीन पैदा करता है।
आपको बता दें कि विदेशों से आयातित मैथानॉल की कीमत 16 रुपये प्रति किलोग्राम है। नीति आयोग की योजना है कि 2022 तक पेट्रोल और डीजल में 15 फीसदी मेथानॉल एवं डीएमई मिलाया जाए। इसके बाद देश मेथानॉल अर्थव्यवस्था में क्रमबद्ध तरीके से आगे बढ़ेगा।
क्या होंगे फायदे
हरित ईंधन- पूरी तरह से सल्फरमुक्त होने के कारण मेथानॉल पेट्रोल एवं डीजल की तुलना में यह काफी हद तक हरित ईंधन है।
प्रदूषण कम- ये ईंधन धुआं कम पैदा करते हैं साथ ही कम पीएम उत्सर्जित करते हैं। इन्हें कोयले और बायोमॉस से प्राप्त किया जाता है।
देश में उत्पादन- कोयला बिजली उत्पादन के लिए उपयुक्त नहीं है क्योंकि उसमें 40 फीसदी तक राख है। लेकिन उससे मैथानॉल तैयार हो सकता है।
सस्ता विकल्प- मेथॉनाल और डीएमई की उत्पादन लागात पेट्रोल-डीजल की तुलना में काफी कम होने के कारण यह सस्ता विकल्प है।


मुंबई/न्यायॉर्क (हम हिंदुस्तानी)-रियालंस एंटरटेनमैंट, जिसका अनिल धीरू अम्बानी नेतृत्व कर रहे हैं, अब एरोज़ इंटरनैशनल के साथ मिलकर फैंट्म फिल्म्स के माध्यम से बालीवुड में फिल्मों का तड़का लगाएंगे। जिसके संदर्भ में दोनों एंटरटेनमैंट कम्पनियों के मध्य समझौता हो गया। फैंट्म फिल्म्स द्वारा 25 मई 2018 से बेनाम फिल्म का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा। जिसकी डायरैक्शन विक्रमादित्य मोटवानी एवं अभिनेता हर्षवर्धन कपूर करेंगे। अभी तक फिल्म के नाम को उजागर नहीं किया गया लेकिन खबर मिली है कि इस फिल्म का निर्माण मुम्बई में धर्मा सैट के अधीन किया जाएगा। इससे पहले डायरैक्टर मोटवानी द्वारा अभिनेता राजकुमार राव के साथ सुपरहिट फिल्म दी है जबकि अब वे पुन: से एक और फिल्म का निर्माण करने की तैयारी में जुट गए हैं।


*सहायक विदेश मंत्री को ज्ञापन सौंपा
वाशिंगटन (हम हिन्दुस्तानी)-अमेरिकी संगठन वल्र्ड मुहाजिर कांग्रेस (डब्ल्यू.एम.सी.) ने कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है और उसने अमेरिका से पाक को दी जाने वाली सभी वित्तीय सहायता रोक देने की मांग की है। डब्ल्यू एम.सी. ने दक्षिण एवं मध्य एशिया के कार्यकारी सहायक विदेश मंत्री एलिस जी.वेल्स को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें कहा गया है कि डब्ल्यू एम.सी. अमेरिकी प्रशासन और संसद से अपील करती है कि वह ऐसे किसी भी देश को सहायता अथवा सहयोग देना बंद करे जो कि हमारे अस्तित्व से घृणा करते हैं और पाकिस्तान कोई अपवाद नहीं है।" इसमें कहा गया है कि अमेरिका पाकिस्तान को आर्थिक, सैन्य और वित्तीय सहायता मुहैया कराने वाला अब तक का सबसे बड़ा दानदाता है और पाकिस्तान का शक्तिशाली सुरक्षा तंत्र इस मदद का इस्तेमाल आतंकवाद का सफाया करने के बजाए आंतकवाद को मदद पहुंचाने और सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने में कर रहा है। गौरतलब है कि मुहाजिर उर्दू भाषी लोगों का समूह है जो विभाजन के बाद भारत से चला गया था।

 

मुंबई/न्यायॉर्क (हम हिंदुस्तानी)-पोस्टर और टीज़र पर मिली अभूतपूर्व प्रतिक्रिया के बाद ‘मान्सून शूटआउट’ के निर्माताओं ने अब अपने दर्शकों को एक सुखद आश्चर्य देने का फैसला किया है। तभी तो अरिजीत सिंह की आवाज़ में रिकॉर्ड फिल्‍म का पहला गीत आज रिलीज़ किया है, जिसका शीर्षक 'पल' है। इस गीत में विजया वर्मा और गीतांजली को बारिश के मौसम में रोमांस करते दिखाया गया है। वीडियो में अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी और गायक अरिजित सिंह भी आपको नजर आयेंगे।
उम्‍मीद की जाती है कि ‘पल’ गीत सीज़न के सबसे रोमांटिक गीतों में से एक होगा। फिल्‍म के इस खूबसूरत और यादगार गीत को शब्‍द दिये हैं सुमंत वाढेरा ने और संगीत से सजाया है रोचक कोहली ने। गौरतलब है कि इसी हफ्ते जारी किये गये फिल्‍म के पोस्टर और टीज़र को दर्शकों से अद्भुत प्रतिसाद मिला है और यह सिलसिला अभी भी जारी है। इस बीच अब फिल्‍म का पहला गीत भी रिलीज़ कर दिया गया है। उम्‍मीद है कि इसे भी वैसा ही प्रतिसाद मिलेगा। दरअसल, बारिश का यह गीत इतना मन को लुभाने वाला है कि रोमांटिक लोगों से यह तुरन्त कनेक्‍ट हो जाएगा। ‘मान्सून शूटआउट’ अमित कुमार द्वारा निर्देशित एक क्राइम थ्रिलर है, जिसे गुनीत मोंगा, अनुराग कश्यप, अरुण रंगाचारी और विवेक रंगाचारी ने प्रोड्यूस किया है। फिल्म की मुख्य भूमिकाओं में नवाजुद्दीन सिद्दीकी, विजय वर्मा, नीरज कबी और तनिष्ठा चटर्जी जैसे कलाकार हैं। यह फिल्म 2013 के कान फिल्म समारोह में दिखायी गयी थी और यहां तक कि अमित कुमार को गोल्डन कैमरा कैटेगरी के अंतर्गत नॉमिनेट भी किया गया था।
कुल मिलाकर अरिजीत का गाया यह गीत आपकी लांग नाइट डा्इव के लिए अगला सर्वश्रेष्ठ गीत साबित होगा।


नई दिल्ली - क्रेडिट रेटिंग देने वाली अमेरिकी संस्था मूडीज ने भारत की 'सॉवरेन कंट्रीज' रेटिंग में 14 वर्षों बाद सुधार करते हुए बीएए2 कर दिया है। मूडीज द्वारा किया गया यह सुधार भारत के लिए बड़ा सकारात्मक कदम है। मूडीज ने इससे पहले वर्ष 2004 में संस्था ने भारत की क्रेडिट रेटिंग में सुधार करते हुए उसे बीएए3 किया था। वर्ष 2015 में संस्था ने भारत की क्रेडिट रेटिंग को स्थिर से बढ़ाकर सकारात्मक कर दिया था। बीएए3 न्यूनतम निवेश श्रेणी की रेटिंग थी जो जंक दर्जे से थोड़ी ही ऊपर है।
देश की अर्थव्‍यवस्‍था में हुआ सुधार
मूडीज ने भारत सरकार के बॉन्ड की रेटिंग BAA3 से बढ़ाकर BAA2 कर दी है और इसके शार्ट टर्म लोकल करेंसी की रेटिंग भी P-2 से P-3 कर दिया है। देश में हो रहे लगातार आर्थिक रिफॉर्म के कारण रेटिंग बढ़ाई गई है। BAA3 रेटिंग सबसे कम निवेश वाली स्थिति को दर्शाता है। इस रेटिंग में बदलाव यानि मूडीज के अनुसार भारत में निवेश का माहौल सुधरा है। इसलिए रेटिंग को BAA3 से बढ़ाकर BAA2 कर दिया है।
आर्थिक सुधारों में तेज वृद्धि
मूडीज़ का कहना है कि आर्थिक सुधारों से तेज वृद्धि होगी। वित्त वर्ष 2018 में जीडीपी ग्रोथ 6.7 फीसदी और वित्त वर्ष 2019 में 7.5 फीसदी रहने की संभावना है। वित्त वर्ष 2020 के बाद वृद्धि की रफ्तार में तेज बढ़त संभव है। इससे पहले 2004 में भारत की रेटिंग BAA3 थी और 2015 में रेंटिंग को स्टेबल से पॉजिटिव किया गया। मूडीज के अनुसार, रेटिंग में सुधार देश की सरकार द्वारा लिए जा रहे निर्णयों, उनका अर्थव्यवस्था पर किस तरह का असर पड़ रहा है उन आधारों पर लिया जाता है। मूडीज का मानना है कि मोदी सरकार ने सरकारी कर्ज के वृद्धि का जोखिम कम कर दिया है।
अमित शाह ने दी बधाई
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी मूडीज़ की रेटिंग आने के बाद मोदी सरकार की तारीफ की। उन्होंने लिखा कि पीएम मोदी की लोकप्रियता और उनकी सरकार के काम के कारण लगातार सुधार हो रहा है। इससे पहले भारत ने वर्ल्ड बैंक की 'ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस' लिस्ट में भी 30 अंकों का सुधार किया था।


लखनऊ - ‘जिले में भ्रष्टाचार कम नहीं हो रहा है। बिना घूस के कोई काम नहीं हो पा रहा है। भ्रष्टाचार उसी तरह व्याप्त है, जैसे पूर्व में सपा और बसपा सरकारों में था। प्रधानमंत्री आवास योजना में पात्र व्यक्तियों को मकान देने में अनियमितताएं बरती जा रही हैं। सरकार की ओर से किए जा रहे अच्छे कार्यों का संदेश जनता में नहीं जा रहा है।’
भ्रष्टाचार रोकने का दम भरने वाली योगी सरकार की नाक के नीचे जिले में व्याप्त भ्रष्टाचार का यह आरोप किसी विपक्षी दल के विधायक का नहीं है। जिलों में सरकारी तंत्र की कार्यशैली की यह बानगी पेश की है लखीमपुर की पलिया सीट के भारतीय जनता पार्टी के विधायक हरविंदर उर्फ रोमी साहनी ने। सरकार और संगठन के बीच संतुलन साधने की भाजपा की मुहिम के तहत जिलों में सरकारी तंत्र की कार्यशैली और योजनाओं का हाल जानने के लिए गठित विधायकों के कोर ग्रुप की 21 सितंबर को हुई बैठक में साहनी ने यह फीडबैक दिया।
यह फीडबैक तब दिया गया, जब योगी सरकार छह माह की अपनी उपलिब्धयों का बखान कर रही थी। सरकारी तंत्र की कारगुजारियों को उजागर करने वाले साहनी भाजपा के अकेले विधायक नहीं थे। खेलकूद एवं युवा कल्याण मंत्री चेतन चौहान की अध्यक्षता और नगर विकास राज्य मंत्री गिरीश चंद्र यादव की मौजूदगी में हुई इस बैठक में मौजूद भाजपा के तीन और विधायकों ने पुलिस और सरकारी तंत्र की कलई खोली।
मुजफ्फरनगर के चरथावल क्षेत्र के विधायक विजय कश्यप ने बताया कि उनके जिले में पुलिस विभाग में भ्रष्टाचार व्याप्त है। भ्रष्टाचार के कारण थानों में पुलिस विधायकों की नहीं सुनती है। जौनपुर के बदलापुर क्षेत्र के विधायक रमेश चंद्र मिश्र ने बताया कि जिले में ग्राम्य विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत अधिकारी व थानों में तैनात सिपाही पांच साल से अधिक समय से एक ही स्थान पर तैनात होने के कारण क्षेत्रीय जनता की समस्याओं का समाधान नहीं हो पा रहा है। जिले में बिजली आपूर्ति मात्र चार-पांच घंटे से अधिक नहीं हो पा रही है। कुशीनगर के विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी ने भी बिजली संकट को गंभीर बताते हुए इसके शीघ्र निदान पर जोर दिया।
मुख्यमंत्री कार्यालय ने दिया कार्रवाई का निर्देश
कोर ग्रुप की बैठक की रिपोर्ट भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री कार्यालय को भेजी गई थी। मुख्यमंत्री कार्यालय ने विधायकों से मिले फीडबैक को गंभीरता से लेते हुए इसे संबंधित विभागों को कार्रवाई के लिए भेजा है। विभागों से कहा गया है कि विधायकों की ओर उठाये गए बिंदुओं पर त्वरित कार्रवाई की जाए।

 


श्रीनगर - कश्मीर घाटी के 20 वर्षीय फुटबॉलर माजिद इरशाद जो कुछ ही दिनों पहले आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा था, उसने शुक्रवार को सुरक्षाबलों के सामने सरेंडर कर दिया। माजिद के इस फैसले की सेना ने तारीफ की है सेना ने कहा कि ये एक बहादुरी वाला फैसला है, हम माजिद के इस फैसले की सराहना करते हैं और यकीन दिलाते हैं कि वो दोबारा अपनी आम जिंदगी में वापस जाएगा।
बता दें कि लश्कर से जुड़ने के माजिद के फैसले ने उसके परिवारवालों से लेकर रिश्तेदार और करीबी दोस्तों को काफी हैरान कर दिया था। बताया जा रहा है कि माजिद के सरेंडर में उसकी मां ने अहम रोल अदा किया है। माजिद की मां ने उससे वापस लौट आने की अपील की थी।
ग्रेजुएशन कर रहा माजिद
माजिद अनंतनाग के सरकारी डिग्री कॉलेज से ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा है। वह सादिकाबाद इलाके का रहने वाला है और उसका दोस्त यावर नासिर पहले ही जुलाई में हिजबुल मुजाहिद्दीन के साथ जुड़ चुका है। संगठन में शामिल होने के सिर्फ 15 दिनों के अंदर तीन अगस्त को नासिर एक एनकाउंटर में मारा गया था। माजिद की सोशल मीडिया पर एक फोटो पिछले दिनों वायरल हो गई थी जिसमें उसे एके-47 पकड़े देखा जा सकता है। इस फोटो के बाद ही सबको पता चल सका कि अब माजिद फुटबॉलर नहीं बल्कि लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य बन गया है।
समाजसेवी संस्था से जुड़ा था माजिद
लश्कर से जुड़ने से पहले माजिद एक समाजसेवी संस्था के साथ काम करता था। समाज कल्याण से जुड़े कामों को करने वाली इस संस्था में माजिद बतौर कार्यकर्ता जुड़ा था और वह इमर्जेंसी हेड था। अनंतनाग के एसएसपी अल्ताफ अहमद खान ने बताया कि माजिद अपने हमउम्र साथियों से प्रभावित हो गया। उसके कुछ साथी कुछ समय पहले ही आतंकी संगठनों से जुड़े हैं। खान की मानें तो पुलिस के लिए युवाओं का कट्टरपंथी ताकतों के प्रति झुकाव और आतंकी संगठन में शामिल होना चिंता का विषय है। अपने फेसबुक पर माजिद ने लिखा, 'सितारों की तरफ क्यों देखना जब एक ज्यादा बड़ा सितारा यहां है।' माजिद के एक रिश्तेदार ने कहा, 'वह बहुत प्रतिभाशाली बच्चा है। हम बस यही दुआ करते हैं कि एक रोज वह सुरक्षित वापस लौट आएगा।'

 


नई दिल्ली - भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने शुक्रवार को गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 7० उम्मीदवारों की अपनी पहली लिस्ट जारी कर दी है। इसमें कांग्रेस छोड़कर आए छह विधायकों के नाम भी शामिल हैं। उम्मीदवारों की सूची जारी करने के मामले में विपक्षी कांग्रेस आगे रहते हुए बीजेपी पार्टी ने ज्यादातर मौजूदा विधायकों को उनके निवार्चन क्षेत्र से टिकट दिया है।
ध्यान देने योग्य बात यह है कि इस सूची में कांग्रेस छोड़ने वाले 14 विधायकों में से छह विधायकों को भी बीजेपी ने टिकट दिया है। इन विधायकों ने अगस्त में कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। कांग्रेस से आए विधायकों को उनके संबंधित निवार्चन क्षेत्रों से टिकट दिया गया है। भगवा पार्टी ने अपनी सूची में ज्यादातर मौजूदा विधायकों को टिकट दिया है।
मुख्यमंत्री विजय रूपानी अपनी पारंपरिक राजकोट पश्चिम निवार्चन सीट से चुनाव लड़ेंगे। उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल मेहसाणा से चुनाव लड़ेंगे। पटेल का यह पारंपरिक निवार्चन क्षेत्र है। इसके साथ ही बीजेपी की राज्य इकाई के प्रमुख जीतूभाई वघानी भावनगर पश्चिम से चुनाव लड़ेंगे। इससे पहले जीतू वघानी ने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था।
अटकलों के विपरीत और आश्चर्यजनक तौर पर पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पीएएएस) के दोनों सदस्य वरुण पटेल व रेशमा पटेल को उम्मीदवारों की पहली सूची में शामिल नहीं किया गया है। बीजेपी के दो विधायकों वाधवान निवार्चन क्षेत्र की वषार्बेन दोशी और धारी निवार्चन क्षेत्र से बीजेपी विधायक नलिन कोटाडिया को टिकट नहीं मिला है। इसके बजाय धनजीभाई पटेल वधवान और धारी से दिलीप संघानी चुनाव लड़ेंगे।
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार दोपहर बाद पार्टी नेताओं को राज्य मुख्यालय में बैठक के लिए बुलाया था। यह बैठक देर रात तक चलती रही। इसमें बीजेपी की राज्य इकाई के अध्यक्ष वघानी, उपमुख्यमंत्री पटेल, राज्य के गृहमंत्री प्रदीपसिंह जडेजा व नेता भिखूभाई डलसानिया मौजूद थे। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री मोदी और दिल्ली-गुजरात के दूसरे वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की। इसके बाद सूची जारी की गई।
गुजरात में दो चरणों में नौ व 14 दिसंबर को मतदान होने हैं। इसमें पहले चरण में 19 जिलों के 89 निवार्चन क्षेत्रों और दूसरे चरण में 14 जिलों के 93 निवार्चन क्षेत्रों में मतदान होना है। मतगणना 18 दिसंबर को हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के साथ की जाएगी।
उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल मेहसाणा से और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष जीतुभाई वाघानी भावनगर पश्चिम से चुनाव लड़ेंगे। गुजरात में दो चरण में चुनाव होना है। पहले चरण का मतदान 9 दिसंबर और दूसरे चरण के लिए 14 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। चुनाव के नतीजे 18 दिसंबर को हिमाचल के साथ ही आएंगे।

 


पटना - जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए बड़ी खुशखबरी है, चुनाव आयोग ने जदयू के चुनाव चिन्ह तीर पर अपना फैसला सुनाते हुए कहा है कि चुनाव चिन्ह 'तीर' पर शरद यादव का नहीं, बल्कि नीतीश कुमार का हक है। चुनाव आयोग के फैसले के बाद नीतीश गुट में खुशी की लहर है।
जदयू नेता संजय झा ने कहा- शरद के साथ ही कांग्रेस की हुई है हार
जदयू नेता औैर पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव संजय झा ने इस फैसले का स्वागत किया है और कहा है कि पार्टी के पक्ष में चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला दिया है और इस फैसले का गुजरात चुनाव पर बड़ा असर पड़ेगा, उन्होंने कहा कि सच्चाई की जीत हुई है। उन्होंने कहा कि यह शरद यादव के साथ ही कांग्रेस की भी बड़ी हार है।
संजय झा ने कहा कि कांग्रेस इस पूरे खेल में शामिल थी और अब कांग्रेस के हाथ कुछ नहीं लगा है, इससे सबसे बड़ा घाटा शरद यादव को ही हुआ है।
नीरज कुमार ने कहा- अब इस उम्र में क्या करेंगे शरद?
जदयू नेता नीरज कुमार ने शरद यादव पर हमला करते हुए कहा कि अब शरद जी लालू यादव-लालू यादव करेंगे। चुनाव आयोग ने अपना फैसला सुना दिया है, अब शरद यादव क्या करेंगे? दरअसल वो लोगों के बहकावे में आकर बेवजह की जिद पाल लिए थे, अब तेजस्वी और तेजप्रताप के चाचा बनेंगे।
बता दें कि शरद यादव और नीतीश कुमार के गुट ने पार्टी सिंबल पर अपनी-अपनी दावेदारी पेश की थी और फैसला चुनाव आयोग को देना था और आज आयोग ने नीतीश के पक्ष में फैसला दे दिया है।
चली थी लंबी सुनवाई, आयोग ने फैसला रख लिया था सुरक्षित
चुनाव आयोग के समक्ष जनता दल यूनाइटेड के दोनों (नीतीश और शरद) गुटों के बीच मंगलवार को घंटों सुनवाई चली थी और उसके बाद चुनाव आयोग ने फैसला सुरक्षित रख लिया था।
शरद गुट की तरफ से जहां कपिल सिब्बल ने आयोग के सामने पक्ष रखा था, वहीं नीतीश गुट से राकेश द्विवेदी ने इस मामले की वकालत की थी, सोमवार को जहां शरद गुट की तरफ से सुनवाई हुई तो वहीं मंगलवार को नीतीश गुट ने अपना पक्ष चुनाव आयोग के समक्ष रखा था।
शरद गुट ने माना था जेडीयू के अधिकांश सदस्य नीतीश के साथ
सोमवार को घंटों चली इस सुनवाई में शरद गुट इस बात को तो मानने के लिए तैयार हुआ कि जेडीयू के अधिकांश सांसद, विधायक और विधान परिषद सदस्य नीतीश कुमार के साथ खड़े हैं, लेकिन वो पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति और राष्ट्रीय परिषद के अस्तित्व पर ही प्रश्न चिन्ह लगा रहे हैं।
शरद गुट ने नीतीश कुमार को राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं मानते हुए 2013 में बनी पार्टी कार्यसमिति को ही वैध मान रहा था, जिसमें कुल 1098 सदस्य थे। वहीं चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, 10 अप्रैल 2016 को शरद यादव के नेतृत्व में हुई जेडीयू के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में उन्होंने पार्टी अध्यक्ष पद पर बने रहने में असमर्थता जताते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम अध्यक्ष पद के लिए आगे बढ़ाया था।
चुनाव आयोग की वेबसाइट पर दर्ज जानकारी के मुताबिक, 23 अप्रैल 2016 को नीतीश कुमार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। अध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने अक्टूबर में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषणा की, जिसमें शरद यादव सहित कुल 195 लोगों के नाम शामिल हैं। वर्तमान में राष्ट्रीय कार्यकारिणी में से 138 लोगों का समर्थन नीतीश कुमार को प्राप्त है, जो कि हलफनामे के साथ चुनाव आयोग को सौंपा गया था।


नई दिल्ली - 'पद्मावती' की मुश्किलें दिन पर दिन बढ़ती ही जा रही हैं। अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट भी सुनवाई के लिए राजी हो गया है। दरअसल, एक एक जनहित याचिका में ये मांग की गई थी कि फिल्म से आपत्तिजनक सीन हटा दिए जाएं। ये याचिका एक वकील ने की थी। इस याचिका को कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है और अब इस पर सुनवाई होगी। विरोध करने वालों का कहना है कि फिल्म में महारानी पद्मावती का चित्रण सही ढ़ंग से नहीं किया गया है और इतिहास के साथ भी छेड़छाड़ की गई है।
शुक्रवार है सुनवाई, अगली तारीख 20...
'पद्मावती' मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट में शुक्रवार को सुनवाई है, जहां अगली सुनवाई की तारीख 20 दिसंबर रखी गई है। याचिका में मांग की गई है कि फिल्मी की रिलीज पर रोक लगाई जाए, क्योंकि फिल्म से रानी पद्मावती की छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है। साथ ही याचिका में सेंसर बोर्ड को कमेटी बनाकर आपत्तिजनक सीन हटाने का आग्रह किया है।
याचिका में ये भी कहा गया है कि जब दिल्ली के शासक अलाउद्दीन खिजली की गलत नजर रानी पद्मिनी पर पड़ी थी तो उन्होंने 16000 अन्य महिलाओं के साथ जौहर कर लिया था। उनका चरित्र महान था और वह आज भी हमारी आन-बान-शान हैं। फिल्म में इतिहास की मनगढ़ंत कहानी बनाई गई है।
पर्यटको से कहा वापस जाओ...
दूसरी तरफ पूरे देशभर में चल रहे विरोध के बीच राजपूत समाज के सदस्यों ने फिल्म के प्रति विरोध जताने के लिये 17 नवंबर को चित्तौड़गढ़ किले के बंद का आह्वान किया था। जिसे अमल में लाते हुए लगातार विरोध जारी है। सर्व समाज संगठन और जौहर स्मति संस्थान के अध्यक्ष उम्मेद सिंह ने बताया कि पादन पोल में फिल्म पद्मावती पर प्रतिबंध लगाये जाने के लिये पिछले आठ दिनों से चल रहा धरना जारी है, चित्तौड़गढ़ किला आज पर्यटकों के लिये बंद रहेगा।
6 बजे तक चलेगा धरना...
सर्व समाज विरोध समिति के सदस्य रणजीत सिंह ने बताया, "हमने सुबह 10 बजे से चित्तौड़गढ़ किले के पदन पोल गेट के नाम से पहचाने जाने वाले पहले गेट को बंद कर दिया है। हम किसी को किले में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। यह एक शांतिपूर्ण विरोध है और 6 बजे तक जारी रहेगा।" उन्होंने कहा, "किले में आने वाले पर्यटकों को वापस जाने के लिए कहा गया।"
घूमर गाने पर भी एतराज...
फिल्म में दिखाए गए घूमर गाने पर भी विरोधियों ने स्वर उठाए है। सर्व समाज संगठन और अन्य धार्मिक संगठनों ने फिल्म पद्मावती में दिखाए घूमर गाने पर पद्मनी को लोगों के सामने नृत्य करते दिखाए जाने पर ऐतराज जताया है।

Page 7 of 1927

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें