Editor

Editor


सियोल - अगले शुक्रवार को होने वाली ऐतिहासिक बैठक से पहले उत्तर और दक्षिण कोरिया के अधिकारियों ने सोमवार को यहां इस वार्ता के प्रोटोकॉल को अंतिम रूप दिया। गत मार्च में दोनों देशों के शीर्ष नेताओं की वार्ता पर मुहर लगने के बाद उत्तर और दक्षिण कोरिया के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच यह तीसरी बैठक थी। यह बैठक दोनों देशों की सीमा पर उत्तर कोरिया की तरफ स्थित तोंगिलगाक पवेलियन में हुई।
दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय ने यह जानकारी देते हुए बताया कि अधिकारियों की इस बैठक में शिखर वार्ता के प्रोटोकॉल और सुरक्षा के मुद्दे को अंतिम रूप दिया गया। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन अगले शुक्रवार को दोनों देशों की सीमा पर स्थित पीस हाउस में बैठक करेंगे।
तकनीकी रूप से ऐसा पहली बार होगा, जब किम दक्षिण कोरिया की जमीन पर कदम रखेंगे। पिछले सप्ताह उत्तर कोरिया ने एलान किया था कि अब वह परमाणु और मिसाइल परीक्षण नहीं करेगा। शीर्ष नेताओं की मुलाकात से पहले उत्तर कोरिया का यह बयान काफी मायने रखता है। इस अहम बैठक के बाद मई में किम और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच भी मुलाकात होनी है।

 


ब्रसेल्स - बेल्जियम के एक न्यायाधीश ने सोमवार को पेरिस में 2015 में हुए आतंकी समूह आईएस हमलों में प्रमुख जीवित संदिग्ध सलह अब्दसेलम को 20 सालों की सजा सुनाई है। अब्दसेलम के सहयोगी सोफियन अयारी को भी आतंक वादी हत्या के प्रयास के आरोप में 20 साल की जेल की सजा सुनाई गई है।
हालांकि, उनके वकील ने तर्क दिया कि 28 वर्षीय अब्दसेलम को उनकी इस छोटी सी गलती के कारण बरी कर दिया जाना चाहिए।बता दें कि अभियोजन पक्ष ने मार्च 2016 में उसकी गिरफ्तारी से पहले ब्रसेल्स शूटआउट के आरोप में आरोपी बताया था जिसके बाद उसके लिए 20 सालों की सजा की मांग की थी।
फ्रांस के पेरिस में हुए आतंकी हमले में 150 से ज्यादा लोग मारे गए थे। यह हमला भारत में 26 नवंबर को हुए आतंकी हमले की तर्ज पर ही किया गया था। लोगों को बंधक बनाकर आतंकियों ने इत्मिनान से मौत के घाट उतारा। घटना के बाद फ्रांस में आपातकाल लागू कर दिया गया है। भारत का समय फ्रांस के समय से साढ़े 4 घंटे आगे का था। यानी जब फ्रांस में रात के साढ़े आठ बजे हमला हो रहा था तब भारत में रात के एक बजे थे।


लंदन - द डचेज ऑफ कैंब्रिज यानि रॉयल पैलेस की केट मिडिलटन जल्द ही तीसरे बच्चे की मां बनने वाली हैं। रॉयल केनसिंग्टन ने आधिकारिक तौर पर इस बात की घोषणा की। केट को प्रसव पीड़ा शुरु होने के बाद तत्काल लंदन के सेंट मैरी अस्पताल के निजी लिंडो विंग में भर्ती कराया गया है। ये वहीं जगह है जहां उन्होंने अपने दो बच्चे प्रिंस जॉर्ज और प्रिंसेस चार्लेट को जन्म दे चुकी हैं। केनसिंग्टन पैलेस ने बताया- उनकी रॉयल हायनेस द डचेज ऑफ कैंब्रिज को प्रसव पीड़ा शुरु होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसकी सूचना मिलते ही अस्पताल के बाहर जर्नलिस्ट, फोटोग्राफर और कैमरा वालों की भीड़ इकट्ठी हो गई है।
अस्पताल में केट और उनके न्यू बेबी की देखरेख पैलेस की घरेलु और निजी डॉक्टर ही करेंगे। ये उन डॉक्टरों की टीम होगी जिन्होंने जॉर्ज और चार्लेट के समय केट की देखभाल की थी। वहीं किसी इमरजेंसी के हालात में विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम भी उपस्थित रहेगी। इसके पहले बच्चे को जन्म देते समय उनके पास 23 विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम उपस्थित थी। थियेटर स्टाफ भी उपस्थित थे, जिसमें लैब टेक्नीशियन, बाल विशेषज्ञ, बैक-अप कंसल्टेंट भी तैयार थे।
शाही घराने का कहना है कि डचेज ऑफ कैंब्रिज की नॉर्मल डिलिवरी होगी। जॉर्ज के समय अस्पताल में भर्ती होने के 10 घंटे बाद ही उनकी डिलिवरी हो गई थी। लेकिन चार्लेट के समय अस्पताल पहुंचने के 34 मिनट के बाद ही रॉयल हायनेस की डिलिवरी हो गई थी। पैलेस की तरफ से इस खुशखबरी की सूचना पारंपरिक और नए दोनों तरीकों से दी गई।
प्रेस को एक ईमेल जारी किया गया जबकि पैलेस के नाम से ट्विटर पर इस संबंध में एक ट्वीट भी किया गया। इसके अलावा बंकिंघम पैलेस के बाहर एक फ्रेम में भी इस सूचना को प्रसारित किया जाएगा। अपने पहले के दोनों बच्चों की तरह ही केट नेचुरल बर्थ की कामना करती हैं और उन्हें इस बात का पता नहीं है कि ये लड़का होगा लड़की।
बताया जा रहा है कि बाहर इंतजार कर रहे जर्नलिस्टों को बच्चे का नाम, जन्म का समय, हेयर कलर और बच्चे का वजन जानने की बेहद बेसब्री है। उम्मीद की जा रही है कि बच्ची हुई तो एलिस, एलेक्जेंड्रा, एलिजाबेथ, मैरी और विक्टोरिया नाम रखा जा सकता है और अगर लड़का हुआ तो आर्थर, अल्बर्ट, फ्रेडरिक, जेम्स औऱ फिलिप नाम रखा जा सकता है।
प्रिंस जॉर्ज औऱ प्रिंसेस चार्लेट भी अपने घर आने वाले नए मेहमान के स्वागत के लिए बेहद उत्साहित हैं। केट की प्रेगनेंसी के बारे में केनसिंग्टन पैलेस ने पिछले साल 4 सितंबर को घोषणा कर दी थी। वे 22 मार्च से ही मैटरनिटी लीव पर चली गई थी लेकिन उन्होंने 1 अप्रैल को रॉयल पैलेस के इस्टर समारोह में शामिल हुई थी।

 


लाहौर - पाकिस्तानी शहर लाहौर में रविवार को हजारों पख्तूनों ने सरकार की अवहेलना कर एक बड़ी रैली की। इसमें शामिल पख्तून पाकिस्तानी सुरक्षा बलों के खिलाफ नारे लगा रहे थे। रैली से कुछ घंटों पहले ही सुरक्षा बलों ने पख्तून नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की थी।
मालूम हो कि तेजी से बढ़ रहे पख्तून प्रोटेक्शन मूवमेंट (पीटीएम) ने इन दिनों पाकिस्तानी सेना की नाक में दम किया हुआ है। रविवार की रैली में भी पीटीएम नेता मंजूर पख्तीन ने शीर्ष सैन्य नेतृत्व की अधिकारों के कथित दुरुपयोग और गंदी चालों के लिए तीखी आलोचना की। पीटीएम पिछले तीन महीनों से सुरक्षा बलों की पख्तूनों पर कार्रवाई के खिलाफ देशव्यापी अभियान चला रहा है।
पख्तून वास्तव में खतरनाक स्वतंत्र जातीय समूह हैं जो पाकिस्तान और अफगानिस्तान की सीमा के दोनों ओर रहते हैं। अफगानिस्तान और पाकिस्तानी तालिबान में पख्तूनों का दबदबा है। जिसकी वजह से क्षेत्र में लगातार सैन्य अभियान होते रहते हैं

 


बीजिंग - चीन के विदेश मंत्री वांग यी भारत चीन सीमा वार्ता के लिए नए विशेष प्रतिनिधि होंगे। वांग ने अपने वरिष्ठ सहकर्मी यांग जाइची की जगह ली है, जो अब कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चीन (सीपीसी) के पोलितब्यूरो सदस्य बन गए हैं। बता दें कि 64 वर्षीय वांग 64 की नियुक्ति की पुष्टि रविवार को उस वक्त हुई जब विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने उन्हें भारत-चीन सीमा वार्ता के लिए विशेष प्रतिनिधि नियुक्त किए जाने पर बधाई दी। वांग ने सुषमा के साथ द्विपक्षीय वार्ता की।
वांग यी हाल के वर्षों में ऐसे पहले चीनी अधिकारी हैं जो स्टेट काउंसेलर और विदेश मंत्री दोनों के पद पर हैं। स्टेट काउंसेलर भारत-चीन सीमा वार्मा के विशेष प्रतिनिधि के तौर पर नामित हैं। वहीं, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भारत के विशेष प्रतिनिधि हैं। बता दें कि विशेष प्रतिनिधि सीमा मुद्दों के अलावा भारत-चीन संबंधों के सभी पहलुओं पर नजर रखेंगे और नियमित अंतराल पर द्विपक्षीय संबंधों की प्रगति की समीक्षा करेंगे। जाहिर है कि पिछले दिनों डोकलाम सीमा को लेकर भारत और चीन के बीच तनातनी का माहौल बना रहा।
प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस महीने के आखिरी सप्ताह में मुलाकात करेंगे। पिछले साल डोकलाम में दोनों देशों के बीच लंबे समय तक चले सैन्य गतिरोध के बाद दोनों देशों के लिए यह बैठक कई मायनों में अहम मानी जा रही है। पेइचिंग में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने बताया कि राष्ट्रपति जिनपिंग और पीएम मोदी के बीच वुहान में 27 और 28 अप्रैल को अनौपचारिक शिखर बैठक होगी।

 


बीजिंग - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27-28 अप्रैल को वुहान में आयोजित शिखर वार्ता में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात करेंगे। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने उम्मीद जताई है कि दोनों नेताओं के बीच होने वाली मुलाकात पूर्ण रूप से सफल होगी। वांग ने भारत को शंघाई सहयोग संगठन [ एससीओ ] का सदस्य बनने पर बधाई दी और भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का स्वागत किया। दोनों देशों के विदेश मंत्रियों- सुषमा स्वराज व वांग यी के बीच बीजिंग में हुई एक बैठक में इस पर सहमति बनी।
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने चीनी समकक्ष वांग यी से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों पर और रिश्तों में सुधार के लिए उच्च स्तरीय संवाद की गति को तेज करने पर चर्चा की। साझा कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27-28 अप्रैल को चीन दौरे पर रहेंगे, इस दौरान पीएम मोदी की चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात होगी।
साझा कॉन्फ्रेंस के दौरान सुषमा स्वराज ने कहा कि वर्ष 2018 में चीन सतलज और ब्रह्मपुत्र नदी के डेटा भारत को उपलब्ध कराएगा, इसके अलावा भारत और चीन के बाद आतंकवाद, क्लाइमेट चेंज और ग्लोबल हेल्थकेयर जैसे अहम मुद्दों पर बातचीत हुई। सुषमा स्वराज ने बताया कि पीएम मोदी और शी चिनफिंग के बीच कई अहम मुद्दों पर बातचीत होगी और कई समझौतों को अंतिम रूप दिया जाएगा।
दरअसल शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए सुषमा स्वराज शनिवार को चार दिन के दौरे पर यहां पहुंची हैं। द्विपक्षीय मुलाकात से पहले वांग ने बीजिंग स्थित दिआयुतई स्टेट गेस्ट हाउस में सुषमा की अगवानी की।
वांग को पिछले माह स्टेट काउंसिलर बनाया गया है जिसके बाद वह चीन के पदक्रम में शीर्षस्थ राजनयिक बन गए हैं। साथ ही वह विदेश मंत्री के पद पर भी बने हुए हैं। स्टेट काउंसिलर बनाए जाने के बाद वांग से सुषमा की यह पहली मुलाकात है।
मुलाकात के दौरान सुषमा ने वांग को स्टेट काउंसेलर बनाए जाने तथा भारत चीन सीमा वार्ताओं के लिए विशेष प्रतिनिधि नियुक्त किए जाने पर बधाई दी। वांग ने कहा कि द्विपक्षीय संबंधों में उल्लेखनीय विकास हुआ है और दोनों देशों के नेताओं की देखरेख में इस साल एक सकारात्मक गति भी देखने को मिली है।
उन्होंने कहा कि इस साल चीन की नेशनल पीपल्स कांग्रेस के समापन की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति शी चिनफिंग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से एक अत्यंत महत्वपूर्ण फोन कॉल मिला। वांग ने कहा कि इस कॉल ने दोनों देशों के बीच वार्ता प्रक्रिया में सकारात्मक गति दी।
उन्होंने कहा कि हमारे दोनों नेताओं ने विचारों का गहन आदान-प्रदान किया और चीन भारत संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण सहमति पर पहुंचे। वांग ने कहा कि एससीओ में भारत की सदस्यता ने संगठन की संभावनाओं और उसके प्रभाव को व्यापक किया है। साथ ही हमें भारत चीन सहयोग के लिए एक नया मंच भी मुहैया कराया है और मेरा मानना है कि भारत संगठन में सकारात्मक तथा उत्साहवर्द्धक योगदान देता रहेगा।
पिछले साल डोकलाम गतिरोध के बाद दोनों देशों ने तनाव घटाने तथा संबंधों को सुधारने के लिए विभिन्न स्तरों पर वार्ता सहित अपने प्रयास तेज किए हैं।
सुषमा और वांग की मुलाकात से ठीक पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल तथा चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) के शीर्ष अधिकारी यांग जिशी के बीच शंघाई में मुलाकात हुई थी।
सुषमा 24 अप्रैल को एससीओ के विदेश मंत्री स्तरीय बैठक में शिरकत करेंगी और मंगोलिया के लिए रवाना होंगी। डोकलाम में 73 दिनों तक चले सैन्य गतिरोध के बाद भारत और चीन अपने संबंधों को सुधारने का प्रयास कर रहेे हैं। दोनों देशों के बीच हाल ही में द्विपक्षीय वार्ताओं और उच्चस्तरीय बैठकों में तेजी दिखाई दी है।
बैठक के बाद सुषमा ने कहा कि चीन ने सतलज और ब्रह्मपुत्र नदियों पर डाटा शेयरिंग की पुष्टि की है। चूंकि इससे वहां रह रहे लोगों के जीवन पर सीधा प्रभाव पड़ता है, इसलिए हम इसका स्वागत करते हैं। इसके साथ ही इस साल के कैलाश मानसरोवर यात्रा नाथू ला पास के जरिए शुरू होगी।
सुषमा और वांग ने चीन-भारत संबंधों को बढ़ावा देने के लिए एक-दूसरे की सराहना की, जिनमें पिछले साल डोकलाम में 73 दिनों के सैन्य गतिरोध के कारण खटास आ गई थी। वांग ने कहा कि इस साल हमारे नेताओं के मार्गदर्शन में चीन-भारत संबंधों ने अच्छा विकास किया है और सुषमा ने उसमें बहुत महत्वपूर्ण योगदान दिया है, जिसकी हम सराहना करते हैं।
उन्होंने कहा कि इस वर्ष चीन के एनपीसी के समापन की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति शी चिनफिंग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से एक बहुत ही महत्वपूर्ण फोन आया। इस दौरान दोनों नेताओं ने विचारों का आदान-प्रदान किया और चीन-भारत संबंधों को आगे बढ़ाने पर महत्वपूर्ण आम सहमति जताई थी। हमें उसे लागू करने के लिए बहुत मेहनत करनी होगी।
सुषमा ने वांग को स्टेट काउंसलर और भारत के साथ सीमा मुद्दे पर चीन के विशेष प्रतिनिधि बनने की बधाई दी। सुषमा ने कहा कि मैं बीजिंग में हूं, इसकी मुझे बहुत प्रसन्नता है और मैं आपसे फिर से मिलकर बहुत खुश हूं। मैं आपको चीन के स्टेट काउंसलर के रूप में पदोन्नत होने और विदेश मंत्री के रूप में फिर से नियुक्ति के लिए बधाई देती हूं। उन्होंने कहा कि मैं आपके भारत के साथ सीमा मुद्दे पर चीन के विशेष प्रतिनिधि बनने से बहुत खुश हूं।

 


मुंबई - बॉलीवुड एक्टर सलमान खान ने काले हिरण शिकार मामले में जोधपुर जेल से जमानत पर रिहा होकर निकले सलमान खान ने तुरंत अपनी फिल्म ‘रेस 3’ के बचे हुए हिस्से की शूटिंग मुंबई में शुरू कर दी थी।
इन दिनों वह फिल्म की शूटिंग में काफी बिजी हैं। इसके बाद हमने आपको पहले ही बता दिया था कि सलमान खान, जैकलिन फर्नांडिस, डेजी शाह, अनिल कपूर, बॉबी देओल और शाकिब सलीम फिल्म के गाने ‘अल्लाह दुहाई है’ की शूटिंग कश्मीर में पूरी करेंगे।
हाल ही में सलमान और जैकलीन फिल्म का आखिरी गाना है, जो अब शूट किया जाना बाकी है। सोमवार को सलमान और जैकलिन इस गाने की शूटिंग के लिए कश्मीर निकल गए हैं। दोनों स्टार्स को मुंबई एयरपोर्ट पर स्पॉट किया गया है। दोनों बेहद स्टाइलिश अंदाज के साथ एयरपोर्ट पर स्पॉट हुए।

 


मुंबई - भारतीय फिल्‍म निर्देशक अनुराग कश्यप यौन उत्पीड़न का शिकार हो चुके हैं। खबरों की मानें तो अनुराग जब 11 साल को थे तब से ही उनका यौन उत्पीड़न हुआ था।उन्होंने इस बात का खुलासा पिछले साल चले ‘MeToo' कैंपेन का जिक्र करते हुए किया।
अनुराग ने बताया कि यौन उत्पीड़न के बारे में उन्होंने पहली बार 19 साल की उम्र में आवाज उठाई थी। खबरों के अनुसार, अनुराग ने कहा है कि बॉलीवुड में कार्यस्थल पर जब किसी के साथ भी यौन उत्पीड़न जैसी घटना होती है तो उसे खुद सामने आकर बोलना चाहिए।
जब तक पीड़ित खुद मुंह नहीं खोलेगा तब तक यह अभियान कामयाब नहीं हो सकता है। अपने ऊपर हुए अत्याचार पर पीड़ित को बोलना चाहिए तभी लोग उसके पक्ष में खड़े हो सकते हैं।
बता दें कि अनुराग एनएच10, बॉम्‍बे वेलवेट, मसान, शानदार और क्‍वीन जैसी फिल्मों के निर्देशक भी रह चुके हैं।

 


मुंबई - बॉलीवुड एक्टर सलमान खान द्वारा वाल्‍मीकि समाज पर कथित आपत्तिजनक टिप्पणी का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। सलमान ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर उनके खिलाफ दर्ज FIR को रद्द करने की मांग की है।
जानकारी के मुताबिक याचिका में यह भी मांग की गई है कि सभी राज्य सरकारों के पुलिस को ये निर्देश दिया जाए कि उनके खिलाफ इस मामले से संबंधित कोई भी शिकायत दर्ज न करे। उनके खिलाफ महाराष्ट्र, गुजरात और दिल्ली में जो केस या याचिकाएं दायर हुई हैं उसपर रोक लगाई जाए। दरअसल, वाल्‍मीकि समाज ने सलमान की एक टिप्‍पणी पर आपत्ति जताते हुए उनके खिलाफ अलग-अलग राज्यों में एफआईआर दर्ज कराई है।
ये है पूरा मामला
गौरतलब है कि पिछले साल दिसंबर में बॉलीवुड के दबंग यानी सलमान खान और शिल्‍पा शेट्टी का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था, जिसमें दोनों आपस में बातचीत करते हुए वाल्मीकि समाज के खिलाफ जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए दिखाई दे रहे हैं। दरअसल, इस इंटरव्यू में सलमान पर वाल्मीकि समाज का उपहास उड़ाने का आरोप लगा। कथित शब्द से वाल्मीकि समाज के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची और समाज के लोगों ने अलग-अलग शहरों में सलमान खान के खिलाफ केस दर्ज कराया। शिल्पा शेट्टी ने इस मामले में वाल्मीकि समाज से माफी मांग ली थी।


मुंबई - बॉलीवुड एक्ट्रैस इलियाना डिक्रूज को लेकर काफी दिनों से खबरे आ रही थी कि वह प्रेग्नेंट हैं। हाल ही में उन्होंने इस खबर को लेकर सच बताया हैं। अपने इंस्टाग्राम पर दो खूबसूरत तस्वीरों के जरिए उन्होंने जवाब दिया है। इलियाना की ये तस्वीरें उनके बॉयफ्रैंड एंड्रू निबोन ने खींची हैं। पहली तस्वीर में एक्ट्रेस ने लिखा, Inhale the good sh*t—Exhale the bullsh*t। ? @andrewkneebonephotography। वहीं शेयर की गई इस दूसरी तस्वीर में एक्ट्रैस ने लिखा, प्रेग्नेंट नहीं हूं। #notpregnant ?? ?@andrewkneebonephotography ♥️।
इलियाना ने अपनी प्रैग्नेंसी की चर्चा का अंत कर दिया है। लेकिन उनकी शादी को लेकर अभी भी संशय बना हुआ है। इन खबरों को हवा इलियाना ने सोशल मीडिया पर बॉयफ्रैंड एंड्रू निबोन को 'हबी' लिखकर दी थी। लेकिन जब इस बारे में एक्ट्रैस से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैं नहीं जानती क्या कमेंट करूं।
उन्होंने कहा था, मेरी प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ बहुत अच्छी चल रही है। मैं अपनी पर्सनल लाइफ को प्राइवेट रखती हूं। मुझे नहीं लगता इस पर कोई कमेंट बनता है। इस पर ज्यादा बात नहीं करना चाहिए, लेकिन बहुत कुछ है दुनिया को देखने के लिए।

 

Page 5 of 2553

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें