Editor

Editor

जिनेवा/लंदन:-संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की एक संस्था द्वारा विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को रिहा किए जाने के फैसले को ब्रिटेन और स्वीडन ने मानने से इनकार कर दिया है। दोनों देशों ने यूएन के फैसले को खारिज करते हुए कहा कि इससे कुछ नहीं बदलने वाला।

यूएन की एक संस्था ने शुक्रवार को जारी एक रिपोर्ट में कहा है कि जूलियन असांजे को रिहा किया जाना चाहिए। संस्था ने ब्रिटेन और स्वीडन से यह भी कहा कि वे पिछले पांच साल से असांजे को मनमाने तरीके से हिरासत में रखे जाने पर उन्हें मुआवजा दें।

यूएन ने क्या कहा:-संयुक्त राष्ट्र कार्य समूह की एक विशेषज्ञ समिति के मौजूदा अध्यक्ष सियोंग-फिल होंग ने कहा, मनमानी हिरासत संबंधी कार्य समूह का मानना है कि जूलियन असांजे को जिन विभिन्न तरीकों से आजादी से वंचित रखा गया है, वह मनमानी हिरासत के बराबर है। इसलिए असांजे की मनमानी हिरासत खत्म होनी चाहिए, उनकी शारीरिक गरिमा और आवाजाही की स्वतंत्रता का सम्मान करना चाहिए और वह मुआवजा पाने के हकदार हैं।

मालूम हो इस कार्य समूह का फैसला बाध्यकारी नहीं होता। लंदन स्थित इक्वाडोर के दूतावास में असांजे एक छोटे से कमरे में रहते हैं, जहां उनपर कई बंदिशें लगी हुई है। असांजे ने अपनी मौजूदा स्थिति की तुलना अंतरिक्ष स्टेशन में रहने की स्थिति से की है। गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलियाई मूल के 44 वर्षीय असांजे 2010 में बलात्कार के मामले में आरोपी हैं, जिसमें स्वीडन उनसे पूछताछ करना चाहता है। असांजे प्रत्यर्पण से बचने के लिए 2012 से लंदन स्थित इक्वाडोर दूतावास में रह रहे हैं। असांजे को डर है कि स्वीडन उन्हें अमेरिका को सौंप देगा, जहां उन पर विकीलीक्स के जरिये गोपनीय अमेरिकी दस्तावेजों को लीक करने का मामला चल सकता है। आरोप साबित होने पर उन्हें 35 साल की जेल हो सकती है।

मोरन (असम):-कांग्रेस नेतृत्व पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि पिछले आम चुनाव में हार का बदला लेने की नीयत से एक परिवार गरीबों के हित में शुरू की गई विकास योजनाओं में बाधा पहुंचा रहा है और राज्यसभा को बाधित कर रहा है।

पूर्वी असम के मोरान में भाजपा की रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, "जो 400 सीट से घटकर 40 सीट पर आ गए वे बाधाएं खड़ी कर रहे हैं। राजनीतिक रूप से विरोधी होने के बावजूद अधिकतर विपक्षी दल और उनके नेता जनता के कल्याण के हित में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के साथ मिलकर काम करने को तैयार हैं लेकिन एक परिवार हर तरीके से काम में बाधा पहुंचाने का काम कर रहा है।"

उन्होंने असम के लोगों से आने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा को वोट देने की अपील की। मोदी ने कहा, "सर्वानंद को लाना है, क्योंकि आपको जीवन में आनंद लाना है।"

प्रधानमंत्री ने कई लंबित विधेय का जिक्र किया जिसमें एक श्रमिकों के बोनस के लिए आय की सीमा बढ़ाने से संबंधित है जबकि दूसरा ब्रह्मपुत्र में नदी परिवहन से जुड़े विषय शामिल हैं। उन्होंने कहा, "हम लोकसभा में विधेयक पारित कराने में सफल रहे लेकिन राज्यसभा में कांग्रेस ने कार्यवाही बाधित कर दी। इस तरह की नकारात्मक राजनीति से किसी का लाभ नहीं होगा और विपक्ष को सकारात्मक भूमिका अदा करनी चाहिए।"

मोदी ने साथ ही जोर दिया कि लोगों के कल्याण के लिए केंद्र और राज्य सरकारों को राजीनिक मतभेदों को दरकिनार करके मिलकर काम करना चाहिए। उन्होंने असम के चाय बागान के मजदूरों की स्थिति का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्हें आवास, पीने का स्वच्छ पानी और बच्चों की शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित रखा गया है।

मोदी ने कहा, "आपने राज्य में अलग अलग पार्टियों को वोट देकर सत्ता में आने का मौका दिया है। आप इस बार भाजपा को मौका देकर देखिये कि किस तरह आपकी जिंदगी बदलती है। किसी भी सरकार ने अपने वादे को पूरा नहीं किया लेकिन भाजपा अपना वादा पूरा करेगी।"असम में इस साल मई में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

 

नई दिल्ली:-कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पर विभिन्न मुद्दों पर बहाने बनाने का आरोप लगाया और कहा कि भाजपा उनकी पार्टी द्वारा बनाई गई सभी गरीब समर्थक नीतियों को खत्म कर रही है।

राहुल ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री का काम देश चलाना है, बहाने बनाना नहीं। लेकिन पिछले 18 महीने से प्रधानमंत्री सिर्फ बहाने बना रहे हैं, देश नहीं चला रहे हैं, जिसके कारण किसान दुखी हैं, श्रमिक दुखी हैं।’’

गांधी ने यहां कांग्रेस कार्यालय में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षों की एक बैठक को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘देश ने नरेंद्र मोदी को बहानेबाजी के लिए नहीं चुना था। देश ने एक नेता चुना और नेता को बहाने नहीं बनाना चाहिए। नेता को वह काम करना चाहिए, जिसके लिए उसे चुना गया।’’

राहुल ने बैठक के बाद कहा, ‘‘हम गरीब विरोधी, किसान विरोधी, श्रमिक विरोधी इस सरकार पर लगातार हमले कर रहे हैं। हम पीसीसी अध्यक्षों से इस बारे में जानना चाहते थे कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम, भोजन का अधिकार अधिनियम और जनजाति विधेयकों की उनके राज्यों में क्या स्थिति है और भाजपा किस तरह इन कानूनों को नष्ट करने की कोशिश कर रही है।’’

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘पीसीसी अध्यक्षों ने एक अच्छी प्रस्तुति दी है। एक विपक्षी दल के नाते हम सरकार पर दबाव बनाना चाहते हैं ताकि वह देश के गरीबों, किसानों, श्रमिकों व मजदूरों की तरफ ध्यान दे।’’

गांधी ने कहा, ‘‘हम भारतीय जनता पार्टी की इस सरकार को देश के सिर्फ तीन-चार मित्र पूंजीपतियों के लिए काम नहीं करने देंगे।’’

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कांग्रेस नेतृत्व की खिल्ली उड़ाई और कहा कि जहां विपक्ष संसद को चलाना चाहता है, वहीं एक परिवार अपनी चुनावी हार का बदला लेने के लिए राज्यसभा को नहीं चलने देना चाहता।

मोदी ने ऊपरी असम के डिब्रूगढ़ जिले में एक सार्वजनिक सभा में कहा, ‘‘जो दल लोकसभा में 400 सीटों से 40 सीटों पर सिमट गया, वह रोड़ा अटका रहा है। विपक्षी पार्टियां चाहती हैं कि संसद चले, लेकिन सिर्फ एक परिवार 2014 के आम चुनाव में अपनी हार का बदला लेने के लिए राज्यसभा नहीं चलने देना चाहता।’’

केंद्रपाड़ा (ओडिशा):-केंद्रपाड़ा जिले के गहिरमाथा समुद्री अभयारण्य में सताभया एकाकुला तट के निकट एक इरावदी डॉल्फिन मृत अवस्था में मिली।

अधिकारियों ने आज बताया कि मत डॉल्फिन को पशु सर्जनों के पास भेजा गया है ताकि उसकी मौत की असली वजह पता चल सके। उसके शरीर पर किसी तरह के बाहरी जख्म का कोई निशान नहीं है।

उन्होंने बताया कि भीतर कणिका राष्ट्रीय उद्यान और समुद्री अभयारण्य में 12 फरवरी से डॉल्फिनों की गिनती का काम शुरू किया जायेगा।

विशाखापत्तनम:-विशाखापत्तनम में शनिवार सुबह अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू या बेड़ा समीक्षा का आगाज हो गया। इसमें हिस्सा लेने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व अन्य गणमान्य लोग यहां पहुंचे।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी फ्लीट रिव्यू कर रहे हैं। वह इस क्रम में आईएनएस सुमित्रा पर सवार हुए और नौसेना के बेड़े का मुआयना कर रहे हैं। आईएनएस सुमित्रा एक गश्ती जलपोत है। इस पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और अन्य गणमान्य लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई।

आईएनएस सुनैना पर संवाददाता भी मौजूद रहे। राष्ट्रपति के जलपोत के पीछे जहाजों की कतार में आईएनएस सुनैना चौथा जहाज था। फ्लीट रिव्यू में भारतीय नौसेना के 71 जहाज हैं, जिसमें आईएनएस विक्रमादित्य और आईएनएस विराट दोनों शामिल हैं।

आईएनएस विराट हालांकि जल्द ही भारतीय नौसेना बेड़े को अलविदा कह देगा। अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू में लगभग 50 देशों की नौसेनाएं और 24 विदेशी जहाज हिस्सा ले रहे हैं। भारत दूसरी बार फ्लीट रिव्यू की मेजबानी कर रहा है।

 

 

 

नई दिल्ली:-भारत में जहां एलजीबीटी समुदाय अपने मानवाधिकार की रक्षा के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 377 हटवाने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रही है। वहीं, पहली बार किन्नरों के लिए एक मॉडलिंग एजेंसी खुल रही है।

यह विचार दिल्ली की किन्नर कार्यकर्ता रुद्राणी क्षेत्री का था। उनका कहना है कि उन्होंने कई सारी सुंदर किन्नरों को निराशा में बदसूरती का अहसास करते देखा है। उन्होंने बताया, 'मैं भी उनमें से एक थी और जब मैं जवान थी तो मेरे पास ऐसा कोई विकल्प नहीं था। हमारे अंदर यह तीव्र भावना होती है कि मुख्यधारा का समाज हमें स्वीकार करे और हम भी वे सारे काम कर सकें जो दूसरे लोग करते हैं। मैं समझती हूं कि इस एजेंसी के खुलने से युवा किन्नर अपने सपनों को पूरा कर पाएंगे।'

छेत्री मित्र ट्रस्ट की संस्थापक हैं जो शहर के लेस्बियन, गे, बाईसेक्सुअल और ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए काम करती है। उन्होंने ही यह मॉडलिंग एजेंसी खोली है।

इस एजेंसी का लक्ष्य शीर्ष के पांच किन्नर मॉडल्स का चुनाव कर उन्हें मुख्यधारा की मीडिया में काम दिलवाना है। इसके लिए वे पूरे भारत में ऑडिशन आयोजित करेंगे। इसके लिए उन्होंने फैशन स्टाइलिस्ट और फोटोग्राफर रिशी राज से हाथ मिलाया है। वे इन मॉडल्स को प्रमुख फैशन पत्रिकाओं में काम दिलवाएंगे।

इस रविवार को नई दिल्ली में वे वॉक इन ऑडिशन आयोजित कर रहे हैं और इसमें चुनी हुई मॉडल्स का फोटो शूट किया जाएगा।

राज ने बताया, 'मैं इस फोटोट में किन्नरों के प्राकृतिक उभयलिंगी सुंदरता को उभारने और उन्हें बढ़ाने की कोशिश करूंगा।' इस उद्यम के लिए बिटगिविंग ऑनलाइन प्लेटफार्म पर एक क्राउडफंडिंग अभियान शुरू किया गया है।

छेत्री ने बताया, 'हम इस उद्यम के लिए फंड इकट्ठा कर रहे हैं। ताकि हम अपने समुदाय के साथ काम कर सकें। हम पिछले आठ महीने से अपने कर्मियों को वेतन नहीं दे पा रहे हैं। इसके अलावा हम यौन कर्मियों को कंडोम तक मुहैया नहीं करवा रहे हैं जबकि उन्हें सबसे ज्यादा खतरा होता है।'

मंगलवार को उच्चतम न्यायालय द्वारा समलैंगिकता के मामले को बड़ी पीठ के हवाले करने के फैसले का एलजीबीटी समुदाय ने स्वागत किया है।

 

कोटा:-आईआईटी खड़गपुर के अंतिम वर्ष के छात्र को अमेरिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने 1.02 करोड़ रुपये की शुरुआती पैकेज पर नौकरी दी है। 21 वर्षीय वात्सल्य सिंह चौहान के पिता बिहार के खगड़िया में एक वेल्डिंग की दुकान चलाते हैं।

आईआईटी खड़गपुर के निदेशक पार्थ प्रतिम चक्रवर्ती ने गुरुवार को अपने फेसबुक पेज पर वात्सल्य को बधाई दी। वात्सल्य का कहना है कि उसने 2009 में एक कोचिंग सेंटर में अपने खराब रिजल्ट को सुधारते हुए आईआईटी प्रवेश परीक्षा में 382 रैंक प्राप्त किया था।

उसने कहा, मुङो माइक्रोसॉफ्ट की ओर से 1.02 करोड़ रुपये का वार्षिक पैकेज मिला है और मैं इस वर्ष अक्तूबर से ज्वाइन करूंगा।

वात्सल्य के पिता चंद्र कांत सिंह चौहान का कहना है कि वह अपने बेटे की सफलता से बहुत खुश हैं और चाहते हैं कि बेटा देश को मान दिलाए। उन्होंने कहा, मेरी 20 साल की तपस्या का फल मिला है और मेरा सपना सच हुआ है।

अहमदाबाद:-दक्षिण गुजरात के नवसारी जिले में राज्य परिवहन की एक बस के एक पुल से पूर्णा नदी में गिर जाने से 37 लोगों की मौत हो गई जबकि 24 अन्य घायल हो गए।

नवसारी के पुलिस अधीक्षक एमएस भरदा ने बताया, पूर्णा नदी पर 20 फुट उंचे पुल से बस के गिर जाने से 37 लोगों की मौत हो गई जबकि 24 अन्य घायल हो गए हैं।

पुलिस हादसे की जांच कर रही है। हादसे में जीवित बचे कुछ यात्री और प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि पुल से गुजरते वक्त बस चालक वाहन पर अपना नियंत्रण खो बैठा और बस पुल पर बनी लोहे की रेलिंग तोड़ती हुई नदी में गिर गई।

भरदा ने बताया कि घायल यात्रियों में से चार की हालत गंभीर है। उन्होंने बताया, घायलों को नवसारी के चार अस्पतालों में स्थानांतरित कर दिया गया है। हम इसकी भी संभावना तलाश रहे हैं कि अगर जरूरत हुई जो गंभीर रूप से घायल लोगों को सूरत के अस्पतालों में स्थानांतरित कर सकें।

गुजरात राज्य सड़क परिवहन निगम की यह बस नवसारी से उकाई जा रही थी, तभी यह दुर्घटना हुई। भरदा ने कहा, हम नहीं जानते कि बस में कितने लोग सवार थे लेकिन यह बताया गया है कि यह पूरी तरह भरी हुई थी।

उन्होंने बताया कि पुलिस, दमकल विभाग, 108 एंबुलेंस सेवा जैसी एजेंसियां मौके पर बचाव कार्य में लगी हुई हैं।

हादसे पर दुख जताते हुए गुजरात की मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट संदेश में कहा, मैंने नवसारी के कलेक्टर और संबंधित अधिकारियों से राहत और बचाव अभियान तेज करने और पीड़ितों तथा उनके रिश्तेदारों को आवश्यक सहायता प्रदान करने का निर्देश दिया है।

अहमदाबाद:-गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल की बेटी अनार पटेल से कथित रूप से करीबी कारोबारी संबंधों वाली एक कंपनी को पांच साल पहले भूमि आवंटन के गुजरात सरकार के एक फैसले से आज राजनीतिक भूचाल आ गया और कांग्रेस ने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला।

माना जाता है कि वर्ष 2010 में गुजरात सरकार ने एक रिसार्ट बनाने के लिए वल्र्डवुडस रिसाटर्स एंड रियलिटी प्राइवेट लिमिटेड को गिर बाघ अभयारण्य के पास 250 एकड़ भूमि आवंटित की। यह आवंटन 15 रूपये प्रति वर्ग मीटर या 60 हजार रूपये प्रति एकड़ की दर पर हुआ।

कांग्रेस ने मोदी पर निशाना साधा और उच्चतम न्यायालय की निगरानी में एसआईटी जांच तथा गुजरात की मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की। मोदी से इस मुद्दे पर खुद को पाक साफ साबित करने के लिए कहते हुए पार्टी ने उनसे पूछा कि अनार पटेल से कथित रूप से करीबी कारोबारी संबंध रखने वाली एक कंपनी को गिर शेर अभयारण्य के पास सरकारी जमीन आवंटित करते समय क्या उन्हें तत्कालीन राजस्व मंत्री आनंदीबेन पटेल के स्पष्ट हितों के टकराव की जानकारी थी।

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता आनंद शर्मा ने एआईसीसी संवाददाता सम्मेलन में कहा, क्या यह आवंटन कैबिनेट के फैसले पर आधारित था और इसकी मंजूरी तत्कालीन मुख्यमंत्री ने दी थी और क्या हितों के टकराव, अगर है तो, क्या खुलासा किया गया था?

अनार पटेल ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा, मेरा मजबूती से विश्वास है कि सामाजिक नैतिकता के साथ नीतिपरक कारोबार करना सभी का अधिकार है। अब तक मैंने जो कुछ भी किया, सही तरीके से किया।

शर्मा ने कहा कि उच्चतम न्यायालय की निगरानी वाली एसआईटी द्वारा निष्पक्ष जांच से ही सच सामने आएगा क्योंकि सीबीआई और ईडी जैसी एजेंसियों पर भरोसा नहीं किया जा सकता।

उन्होंने कहा, हम मांग करते हैं कि इस पूरे मामले की समयपाबंद तरीके से जांच के लिए उच्चतम न्यायालय की निगरानी में एक एसआईटी बनाई जाए। निष्पक्ष जांच के लिए गुजरात की मुख्यमंत्री को इस्तीफा देना चाहिए।

शर्मा ने आरोप लगाया कि इसलिए भूमि का कुल दाम केवल डेढ करोड़ रूपये रहा जबकि इस जमीन की अनुमानित बाजार कीमत करीब 50 लाख रूपये प्रति एकड़ या 250 एकड़ के लिए कुल 125 करोड़ रूपये है।

उन्होंने आरोप लगाया कि कंपनी ने इसके बाद पास की 172 एकड़ कषि योग्य भूमि खरीदी जिससे उसकी मालिकाना कुल भूमि 422 एकड़ हो गई।

इस बीच, गुजरात में सत्तारूढ़ भाजपा ने मुख्यमंत्री के समर्थन में उतरते हुए कहा कि उन पर कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरोप झूठे और मनगढंत हैं।

भाजपा ने कहा कि जब भूमि आवंटन हुआ था तब आनंदीबेन की बेटी पूरे परिदृश्य में नहीं थी। उन्होंने कहा कि मुख्य विपक्षी दल के पास भूमि आवंटन में कथित अनियमितताएं साबित करने के कोई सबूत नहीं हैं।

अहमदाबाद में एक बयान में प्रदेश भाजपा प्रवक्ता आईके जडेजा ने कहा कि ये आरोप कांग्रेस द्वारा गैरजरूरी तरीके से मुख्यमंत्री और उनकी बेटी को इस मामले में घसीटने तथा उनकी सार्वजनिक छवि खराब करने का जघन्य प्रयास हैं।

 

 

 

गाजीपुर:-नगर विकास मंत्री आजम खान ने दावा किया है कि पाक दौरे में पीएम मोदी मोस्ट वांटेड अपराधी दाऊद इब्राहिम से भी मिले थे। बादशाह कहें तो प्रमाण के रूप में फोटोग्राफ भी दिखा सकता हूं।नवाज शरीफ के यहां उनकी मां से मुलाकात के दौरान अडानी और जिंदल भी मौजूद थे।

करंडा क्षेत्र के बड़सरा गांव में अबु कलाम इंटर कालेज के वार्षिक समारोह में शामिल होने आये आजम खान ने अंधुउ हैलीपैड पर पत्रकारो से वार्ता में आजम ने केंद्र सरकार को डील वाली सरकार बताते हुए कहा कि वाराणसी तो क्योटो नहीं बन पाया, लेकिन जापान के पीएम इसी नाम पर हजारों करोड़ की डील करके चले गए।

आजम खान ने यह भी कहा की हमारे पीएम पाक के पीएम को पश्मीना की साल और मलीहाबादी आम भेजते हैं तो वहां से सीक कबाब आते हैं। कबाब लौकी से नहीं बनते।  इसके भी मेरे पास सबूत हैं। स्मार्ट सिटी के बारे में  कहा की बंगाल, यूपी और बिहार को इसलिए शामिल नही किया क्योंकि वहाँ बीजेपी की सरकार नही है। यूपी में कानून व्यवस्था के बारे में कहा की बीजेपी शासित राज्यों में सबसे ज्यादा अपराध हो रहे हैं। मीडिया पर भी आजम ने हमला बोला। यहां तक कह दिया कि मोदी के कारण मीडिया बीजेपी शासित राज्यों में हो रहे अपराधों को नहीं दिखाता है।

मंत्री ने कहा की नगर विकास का बजट केंद्र ने 40 प्रतिशत कम कर दिया है। बीजेपी यहां पहले ही हार मान चुकी है इसीलिए बजट रोक दिए गए हैं। बीजेपी को चुनाव लड़ने वाले नहीं मिल रहे हैं। कांग्रेस का यूपी में कुछ नही बचा है। बीएसपी का भी हाल पिछले चुनाव जैसा होगा।

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें