Editor

Editor


वॉशिंगटन - अमेरिका में अलास्का के दक्षिणी तट से कुछ दूर मंगलवार को 8.2 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आया। इसके अलावा अलास्का व कनाडा के पश्चिमी तट पर सुनामी की भी चेतावनी जारी की गई है।
अमेरिका भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण ने बताया कि भूकंप स्थानीय समयानुसार सुबह 9.31 बजे अलास्का की खाड़ी में आया। यह इलाका कोडिआक से करीब 280 किलोमीटर दूर है। उन्होंने बताया कि भूकंप का केंद्र चिनियाक में समुद्र तल से 10 किलोमीटर अंदर था।
सुनामी चेतावनी केंद्र के अनुसार उपलब्ध डेटा के मुताबिक इस भूकंप से सुनामी आने की आशंका है, जो तटीय क्षेत्रों में काफी तबाही मचा सकती है। जापान का मौसम विभाग भी स्थिति पर नजर बनाए हुए है, लेकिन उसने सुनामी का अलर्ट जारी नहीं किया है।


सिडनी - फोर्ब्स की पत्रिका में छपे एक लेख में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को सफलता के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सीखने की बात कही गई है। ट्रंप इस समय अमेरिका में कामबंदी को लेकर मुश्किलें झेल रहे हैं। सिडनी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर सालवेटोर बबोंस ने अपने लेख में मोदी की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा कि विश्व आर्थिक फोरम में सभी की निगाहें उन पर हैं। उन्होंने यह भी लिखा कि कामबंदी को लेकर मुश्किलें झेल रहे ट्रंप का वहां आना तय नहीं है, लेकिन अगर आते भी हैं तो भी उनका इंतजार मोदी जैसा नहीं हो रहा है।
बबोंस ने अपने लेख में ट्रंप को सलाह दी है कि उन्हें नरेंद्र मोदी से काफी कुछ सीखना चाहिए। मोदी ने जिस तरह अपने देश में पिछले कुछ समय में फैसले किए हैं और अंतरराष्ट्रीय मंच पर उभर कर आए हैं, वह सराहनीय है। उन्होंने यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी ने अपने देश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाया है, जबकि इसके उलट अमेरिका आर्थिक संकट झेलने के करीब है। बबोंस ने मोदी सरकार के कई फैसलों की प्रशंसा की। उन्होंने लिखा कि मोदी ने कई ऐसे फैसले लिए हैं, जो कड़े हैं और लोगों को पसंद नहीं आए, लेकिन इन फैसलों से भारत को फायदा हुआ।

 


दुबई - राजस्थान के नागौर जिले के दो युवकों की दुबई के शिला टाउन (हत्था) में दर्दनाक हादसे में मौत हो गई। वहीं एक युवक गंभीर घायल हो गया। ख़बरों के मुताबिक, घटना सोमवार 22 जनवरी की शाम की है, जिसमें स्नान कर रहे नागौर जिले के तीन युवकों के ऊपर दीवार आ गिरी। दुर्घटना में कुचामनसिटी व डेगाना कस्बों के दो युवकों की मौके पर ही मौत हो गई वहीं डीडवाना का एक युवक गंभीर घायल हो गया।
दुबई बलदिया की सफाई गाड़ी टकराई दीवार से -
जानकारी के अनुसार दुबई बदलिया (नगर निगम) की सफाई करने वाली गाड़ी अनियंत्रित होकर दीवार से टकरा गई। गाड़ी पर कचरा ढोने के लिए बहुत वजनी टैंक लगा था, नतीजन संतुलन नहीं बनने पर गाड़ी पास ही बनी मोटी दीवार से जा टकराई। दीवार के पीछे स्नान कर रहे नागौर जिले के युवकों पर दीवार जा गिरी।
ये हुए हादसे का शिकार-
इस दुर्घटना में कुचामनसिटी के गुलजारपुरा निवासी महबूब पुत्र शमसुदीन मणियार व डेगाना के सलीम पुत्र रतन खां कायमखानी छावटावाले की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं डीडवाना निवासी अजमत खां कायमखानी दुर्घटना में गंभीर घायल हो गया।

 


नई दिल्ली - प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज 48वें विश्व आर्थिक मंच (वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम) के अधिवेशन को संबोधित करेंगे। उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए मोदी भारत की ताकत का एहसास कराएंगे। वे भारत को एक नए, युवा और उन्नत होकर उभर रहे एक देश के रूप में प्रस्तुत कर सकते हैं।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को स्विस राष्ट्रपति एलेन बर्सेट से मुलाकात की और द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की।
भारत को खुली अर्थव्यवस्था वाले देश के रूप में पेश करते हुए उनकी कोशिश दुनिया के आर्थिक जगत के इस महाकुंभ में ‘मेक इन इंडिया’ के तहत वैश्विक कंपनियों को देश में निवेश के लिए प्रोत्साहित करने की होगी। भारत की वैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास में अहम भागीदार, भारत में कारोबार को आसान बनाने, भ्रष्टाचार और काला धन घटाने, टैक्स प्रणाली सरल बनाने और देश के निरंतर विकास के लिए उठाए गए जरूरी कदमों पर भी प्रधानमंत्री चर्चा कर सकते हैं।
दावोस रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि डब्ल्यूईएफ कार्यक्रम के अलावा स्विटजरलैंड के राष्ट्रपति अलेन बेरसेट और प्रधानमंत्री स्टेफन लोफवेन से द्विपक्षीय बातचीत की उम्मीद है। मुझे यकीन है कि द्विपक्षीय मुलाकातें फलदायक होंगी। इन देशों के साथ हमारे संबंध और आर्थिक सहयोग मजबूत होगा।’
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘समकालीन अंतरराष्ट्रीय प्रणाली और वैश्विक सरकारी ढांचे के सामने मौजूदा और उभर रही चुनौतियों पर नेताओं, सरकारों, नीति निर्माताओं, कॉरपोरेट और सामाजिक संगठनों द्वारा गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत है।’
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को स्विट्जरलैंड के शहर दावोस के लिए रवाना हुए। उनके साथ एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी दावोस गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार दोपहर करीब 2.45 बजे (भारतीय समयानुसार) फोरम को संबोधित करेंगे। वहीं कार्यक्रम का समापन आखिरी दिन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भाषण के साथ होगा।
दावोस सम्मेलन मे इस साल का थीम 'क्रिएटिंग ए शेयरड फ्यूचर इन ए फ्रैक्चर्ड वर्ल्ड' है। इसमें बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान, ऑस्ट्रेलियाई अभिनेत्री केट ब्लेन्चेट और संगीतकार एल्टन जॉन का सम्मान किया जाएगा।
कोटक बैंक के कार्यकारी उपाध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक उदय कोटक ने कहा- विश्व आर्थिक मंच की शिखर बैठक में भारत को खुली अर्थव्यवस्था के रूप में पेश करने पर जोर होगा। देश को खुद को अग्रणी भूमिका के रूप में पेश करने की जरूरत है, सेल्समैन की तरह नहीं।
आईसीआईसीआई बैंक प्रमुख चंदा कोचर ने कहा- भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों में व्यापक सुधार देखने को मिल रहा है। इससे चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था सात प्रतिशत की वृद्धि दर हासिल कर पाएगी।
स्पाइसजेट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजय सिंह ने कहा- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास भारत में किए गए महत्वपूर्ण सुधारों, युवा आबादी और दुनिया के लिए एक बड़े बाजार तथा 1.4 अरब भारतीयों के बारे में बताने के लिए महान कहानी है। इस कहानी को बताने के लिए मोदी से बेहतर और कोई नहीं हो सकता है।
विश्व आर्थिक मंच
साल 1971 में स्विट्जरलैंड में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का एक गैर लाभकारी संस्था के रूप में गठन हुआ था। इसका मुख्यालय जेनेवा में है। इसको पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के लिए एक अंतरराष्ट्रीय संस्था के रूप में मान्यता प्राप्त है।
स्विटजरलैंड का अत्यंत सुंदर शहर
दावोस लैंड वासर नदी के तट पर स्थित स्विटजरलैंड का खूबसूरत शहर है। यह शहर दोनों ओर स्विस आल्प्स पर्वत की प्लेसूर और अल्बूला शृंखला से घिरा हुआ है। यहां पर विश्व आर्थिक मंच की बैठक हर साल होती है।

 


तोक्यो - जापान के एक लोकप्रिय स्की रिसोर्ट के नजदीक ज्वालामुखी फटने के बाद आज चार लोग घायल हो गये जबकि एक अन्य व्यक्ति लापता हो गया। वहीं राजधानी तोक्यो में आज दुर्लभ रूप से बर्फ की मोटी चादर बिछ गई, जिसकी वजह से हजारों यात्री रास्ते में फंसे रहे और 180 लोग घायल हो गये।
जापान मौसम विज्ञान एजेंसी ने आसपास के निवासियों से अनुरोध किया है कि वे माउंट कूसत्सू शिरीन से दूर रहें। यह अनुरोध 'मामूली ज्वालामुखी गतिविधि की बात सामने आने के बाद किया गया है।
जापानी सरकार के शीर्ष प्रवक्ता योशीहाइड सुगा के मुताबिक, तोक्यो से उत्तर-पश्चिम में स्थित गुनमा स्की रिसोर्ट में चार लोग घायल हो गये।
स्थानीय दमकल विभाग के अधिकारी युजी शिनोहारा ने बताया कि चार लोग घायल हो गये हैं। उन्होंने बताया, ''हम अभी भी उनकी मदद का प्रयास कर रहे हैं।
शिनोहारा ने बताया, ''हिमस्खलन जाहिरा तौर पर एक ज्वालामुखी विस्फोट के कारण हुआ है। अन्य स्थानीय अधिकारी ने पुष्टि किया कि प्रशासन एक अन्य लापता व्यक्ति की तलाश कर रहा है।
तोक्यो में बर्फबारी के बाद 180 लोग घायल
जापान की राजधानी तोक्यो में आज दुर्लभ रूप से बर्फ की मोटी चादर बिछ गई, जिसकी वजह से हजारों यात्री रास्ते में फंसे रहे और दर्जनों घायल हो गये। सार्वजनिक यातायात भी इस स्थिति की वजह से चरमरा गया।
जापान मौसम एजेंसी ने तोक्यो के कुछ हिस्सों में 23 सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की है जो कि फरवरी, 2014 के बाद से अब तक की सबसे बड़ी बर्फबारी है।
कल शाम मौसम से यातायात काफी प्रभावित रहा। दुनिया के सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले शहरों में से एक तोक्यो में लाखों लोगों को अपने घरों तक पहुंचने में खासी मश्क्कत करनी पड़ी।
सार्वजनिक प्रसारणकर्ता एनएचके ने बताया कि कम से कम 180 लोगों को इस बर्फी जमी हुई सड़क पर चोटे आई हैं और करीब 700 यातायात दुर्घटनाएं हुई हैं।

 


वॉशिंगटन - अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक फंडिंग बिल को साइन करके तीन दिनों से चले आ रहे शटडाउन को सोमवार को खत्म कर दिया है। इस नए बिल के तहत आठ फरवरी तक अमेरिकी सरकार को कामकाज के लिए पैसे मिलते रहेंगे। इस बिल के तहत बच्चों के लिए जारी इंश्योरेंस प्रोग्राम को कम से कम छह माह तक के लिए फंड दिया जा सकेगा। लेकिन इस नए बिल पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के समय के इंश्योरेंस प्रोग्राम के लिए पैसे नहीं मिल सकेंगे जो कि डेमोक्रेटिक पार्टी की सबसे बड़ी मांग थी।
अमेरिकी सीनेट ने सरकार के इस फंडिंग बिल को मंजूरी देकर इसे पास कर दिया है और साथ ही इस बिल को उनका समर्थन भी मिला। फिर से राष्ट्रपति ट्रंप के पास साइन होने और तीन दिनों से चले आ रहे शटडाउन को खत्म करने के लिए भेजा गया। अमेरिकी सांसदों ने इस नए बिल को 266 के मुकाबले 150 वोट्स देकर पास कराया और कम समय की फंडिंग को अपना समर्थन दिया। इससे पहले सोमवार को सीनेट ने सरकार का कामकाज फिर से शुरू करने के लिए वोटिंग की और तीन दिनों से चली आ रही बंद को खत्म किया जिसने सरकारी एजेंसियों और कई हजारों लोगों को खासा प्रभावित किया था।


नई दिल्ली - पेट्रोल, डीजल के दाम में आज उछाल दर्ज किया गया। भाजपा सरकार के 2014 में सत्ता में आने के बाद दोनों पेट्रोलियम उत्पादों का यह उच्चतम स्तर है। पेट्रोलियम मंत्रालय ने दाम में तेजी को देखते हुए उत्पाद शुल्क कटौती की मांग की है।
सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों की ईंधन कीमत सूची के अनुसार दिल्ली में पेट्रोल का भाव बढ़कर 72.38 रुपये प्रति लीटर पहुंच गया। मार्च 2014 के बाद यह इसका सबसे ऊंचा स्तर है। दिसंबर मध्य से कीमत में 3.31 रुपये लीटर की वृद्धि हुई है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 80 रुपये के आंकड़े को पार कर गई है। जबकि मुंबई में डीजल का भाव 67.30 रुपये लीटर पर पहुंच गया है। इसका कारण स्थानीय बिक्री कर (वैट) का अधिक होना है।
तेल कंपनियों के अनुसार दिसंबर- मध्य से डीजल में 4.86 रुपये लीटर की वृद्धि हुई है। अंतरराष्ट्रीय तेल बाजारों में दाम में तेजी को देखते हुए पेट्रोलियम मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय से 2018-19 के केंद्रीय बजट में उत्पाद शुल्क में कटौती की मांग की है। संसद में बजट अगले सप्ताह पेश किया जाएगा। पेट्रोलियम सचिव के डी त्रिपाठी ने कल कहा था कि मंत्रालय ने उद्योग से मिले सुझाव के आधार पर सिफारिशें विचार के लिये भेजीं हैं। हालांकि, उन्होंने इस बारे में कोई ब्योरा देने से मना कर दिया।
केंद्र सरकार पेट्रोल पर 19.48 रुपये प्रति लीटर तथा डीजल पर 15.33 रुपये प्रति लीटर उत्पाद शुल्क लेती है। जबकि दिल्ली में पेट्रोल पर वैट (मूल्य वर्द्वित कर) 15.39 रुपये और डीजल पर 9.32 रुपये है। दो प्रमुख मानक ब्रेंट और अमेरिकी वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड आज बढ़कर क्रमश: 69.41 डालर प्रति बैरल तथा 63.99 डालर प्रति बैरल पर पहुंच गये। पिछले साल जून से पेट्रोल और डीजल की कीमत दैनिक आधार पर संशोधित की जा रही है। आज जहां पेट्रोल का दाम 15 पैसे प्रति लीटर बढ़ा वहीं डीजल 19 पैसे महंगा हुआ।
प्रमुख शहरों में पेट्रोल और डीजल की कीमत और बढ़ोत्तरी
दिल्ली में पेट्रोल की कीमत
1 जनवरी: 69.97 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 72.38 रुपये प्रति लीटर
दिल्ली में डीजल की कीमत
1 जनवरी: 59.70 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 63.20 रुपये प्रति लीटर
मुंबई में पेट्रोल की कीमत
1 जनवरी: 77.87 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 80.25 रुपये प्रति लीटर
मुंबई में डीजल की कीमत
1 जनवरी: 63.35 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 67.30 रुपये प्रति लीटर
कोलकाता में पेट्रोल की कीमत
1 जनवरी: 72.72 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 75.09 रुपये प्रति लीटर
कोलकाता में डीजल की कीमत
1 जनवरी: 62.36 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 65.86 रुपये प्रति लीटर
चेन्नई में पेट्रोल की कीमत
1 जनवरी: 72.53 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 75.06 रुपये प्रति लीटर
चेन्नई में डीजल की कीमत
1 जनवरी: 62.690 रुपये प्रति लीटर
23 जनवरी: 66.64 रुपये प्रति लीटर

 


नई दिल्ली - रेल यात्रियों को सुरक्षित यात्रा अनुभव प्रदान करने के लिए भारतीय रेल देश भर के अपने सभी ट्रेनों में और स्टेशनों पर अत्याधुनिक सीसीटीवी कैमरा लगाएगी।
रेलवे ने वित्त वर्ष 2018-19 में सभी 11,000 ट्रेनों में सीसीटीवी प्रणाली स्थापित करने के लिए करीब 3,000 रुपये का प्रावधान किया है। साथ ही इससे भारतीय रेल नेटवर्क के सभी 8,500 स्टेशनों पर सुरक्षा का प्रावधान किया जाएगा। वर्तमान में, रेलवे के 395 स्टेशनों और करीब 50 ट्रेनों में सीसीटीवी प्रणाली लगी है। वित्त मंत्री अरुण जेटली अपने 2018-19 के बजट में रेल परिचालन में सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए किए जाने वाले प्रावधानों का विवरण जारी करें
रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सभी मेल/एक्सप्रेस और प्रीमियम ट्रेनों में (राजधानी समेत) शताब्दी, दूरंतो और लोकल पैसेंजर सेवाओं में अगले दो सालों में आधुनिक निगरानी प्रणाली स्थापित कर दी जाएगी।
रेलवे सीसीटीवी कैमरा स्थापित करने के लिए वित्त जुटाने के लिए विभिन्न विकल्पों की तलाश कर रही है और जरूरत पड़ने पर बाजार से भी संसाधन जुटाएगी।
पिछले साल रेलवे दुर्घटनाओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए इस साल रेल बजट में सुरक्षा और दुर्घटना से बचाव को शीर्ष प्राथमिकता दी जाएगी। उसके यात्रियों के लिए सुविधाएं बढ़ाने को प्राथमिकता दी जाएगी।


-बाल मुकुंद ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार)


पेट्रोल के लगातार बढ़ते दाम से आम आदमी हलकान है और उस पर तेल कंपनियों ने एक बार फिर पेट्रोल के दाम बढ़ा दिए हैं। यानी अब आदमी को और महंगाई का बोझ सहना पड़ेगा। तेल के भावों में निरंतर वृद्धि से रोजमर्रा की उपभोक्ता वस्तुओं की कीमतों में आग लग गयी है। सब्जी फल महंगे हो जाने से रसोई का हिसाब बिगड़ गया है। ट्रकों ने मालभाड़ा बढ़ा दिया है जिससे आम उपभोग की वस्तुओं का महंगा होने स्वाभाविक है। दूसरी तरफ केंद्र और राज्य सरकारों ने अपने टैक्स में कोई कमी नहीं की है। यदि टैक्स में कमी हो तो जनता को राहत मिल सकती है। मगर जनता को राहत कोई देना नहीं चाहता।
पेट्रोलयम पदार्थों के भाव अनियंत्रित हो जाने से समाज के हर वर्ग का बजट बिगड़ा है और जनता कराहने को मजबूर है। आम बजट से पहले कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें मोदी सरकार के लिए मुसीबत बन गई हैं। ब्रेंट क्रूड की कीमतें दिसंबर 2014 के बाद पहली बार 70 डॉलर प्रति बैरल को पार कर गई हैं। इस तेजी का असर पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर देखा जा रहा है। इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड की लगातार बढ़ रही कीमतें मोदी सरकार के लिए बड़ी मुसीबत बन सकती हैं। देश में रिटेल महंगाई अपने 17 महीनों के टॉप पर है। वहीं, क्रूड महंगा होने से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में भी इजाफा हो रहा है। डीजल की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर हैं। क्रूड अगले 2 महीनों में 75 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकता है। पिछले 6 माह की बात करें तो क्रूड में 57 फीसदी से ज्यादा तेजी आ चुकी है। जून में क्रूड 44.48 डॉलर के लेवल पर था। शनिवार को दिल्ली में पेट्रोल 71.7 रुपए प्रति लीटर तो डीजल 62.44 रुपए प्रति लीटर के रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गया। वहीं, पेट्रोल-डीजल महंगा होने से आम आदमी की जेब पर बोझ लगातार बढ़ रहा है। देश भर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में केवल 12 रुपये का अंतर रह गया है। डीजल का रेट देश में 67 रुपये प्रति लीटर के पार चला गया है, वहीं पेट्रोल भी 80 रुपये के करीब पहुंच गया है। कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के चलते अभी पेट्रो उत्पादों के रेट में जल्द राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। इससे इनको जीएसटी में शामिल करने की मांग भी जोर पकड़ती जा रही है। देश में यहां पहुंचा पेट्रोल का 80 रुपये दाम देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में शनिवार को पेट्रोल का दाम 80 रुपये प्रति लीटर के करीब पहुंच गया है। मुंबई में यह 79.58 रुपये प्रति लीटर है। दिल्ली में भी पेट्रोल 70 रुपये के पार जाकर के 71ण्89 रुपये है। कोलकाता में पेट्रोल का भाव 74.60 रुपए और चेन्नई में 74.55 रुपए प्रति लीटर है। जयपुर शनिवार को पेट्रोल का दाम आज 74.64 रुपये प्रति लीटर और डीजल 66.89 रुपये में बिक रहा है। सभी तेल कंपनियों के पेट्रोल पंपों पर कीमतें समान हैं। देश के दो बड़े शहरों में प्राइस में केवल 8 रुपये का अंतर देखने को मिला है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो फरवरी-मार्च तक पेट्रोल के दाम 100 रुपये प्रति लीटर हो जाएंगे। इसे अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में भारी बढ़ोत्तरी कहें या डॉलर के मुकाबले पैसे का कमजोर होना, लेकिन एक बात तो साफ है कि अगर इसपर लगाम नहीं लगाई गई तो देश में आम लोगों का तेल निकल जाएगा।
क्रूड की कीमतों में आई तेजी से इंपोर्ट करने वाले देशों की चिंता बढ़ती जा रही है। सोमवार को ब्रेंट क्रूड की कीमतें 70 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गईं जो पिछले 3 साल का टॉप लेवल है। पिछले 6 माह की बात करें तो क्रूड में 57: से ज्यादा की तेजी आ चुकी है। जून में क्रूड 44.48 डॉलर के लेवल पर था। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, ओपेक देशों के अलावा रूस में तेल का प्रोडक्शन घटा देने से मार्केट में सप्लाई कमजोर हुई है। वहीं, पिछले कुछ दिनों से यूएसए में भी रिग्स काउंट की संख्या घटी है। इन वजहों से मार्केट में ओवरबॉट की स्थिति बनी है, जिसका असर क्रूड की कीमतों पर दिख रहा है। ऐसे में ब्रेंट क्रूड 70 डॉलर के पार पहुंच गया, वहीं डबल्यूटीआई क्रूड की कीमतें भी 64.53 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई है। जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑइल के वायदा सौदे होते हैं तो ये कंपनिया वर्तमान परिस्थितियों का रोना रोकर पेट्रोल डीजल के दाम क्यों बढ़ाती हैं? हर बार अंतरराष्ट्रीय बाजार में महंगे क्रूड ऑइल को लगातार बढ़ रही पेट्रोल डीजल की कीमत का कारण बताया जाता है, लेकिन सच तो यह कि भारतीय बाजार में बेचे जाने वाले कुल पेट्रोलियम पदार्थ का 80 प्रतिशत भाग अंतरराष्ट्रीय बाजार से खरीदा जाता है, जबकि 20 प्रतिशत देश के प्राकृतिक संसाधनों से आता है। ऐसे में क्या कंपनियों के लिए पेट्रोलियम पदार्थ के दाम बढ़ाना इतना जरूरी है? 3 अक्टूबर को एक्साइज ड्यूटी में कटौती किए जाने के बाद से क्रूड में लगातार तेजी बनी हुई है। 3 अक्टूबर के बाद से जहां इंटरनेशन मार्केट में क्रूड 27 प्रतिशत महंगा हो चुका है, वहीं इंडियन बास्केट में क्रूड की कीमतें 17 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ चुकी हैं। इस रेश्यो (अनुपात) में पेट्रोल-डीजल की कीमतें न बढ़ने से ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के मार्जिन पर भी दबाव बना हुआ है।
भारत विश्व में ऊर्जा का चैथा सबसे बड़ा उपभोक्ता है, लेकिन यहाँ प्रति व्यक्ति ऊर्जा खपत कम है। निजी वाहनों की संख्या में बढ़ोत्तरी के साथ, भारत में पेट्रोल और पेट्रोलियम उत्पादों की समग्र खपत बढ़ रही है। वर्ष 2011-12 में 5 प्रतिशत की एक पंजीकृत वृद्धि हुई थी और बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए सरकार को अधिक से अधिक पेट्रोल आयात करना पड़ता है। यदि संपूर्ण देश का खर्च माना जाता है तो पेट्रोलियम उत्पादों पर आयात बिल का भुगतान करने के लिए 80-90 प्रतिशत किया जाता है, जो देशों के व्यय के रूप में माना जाता है। इसलिए आपूर्ति की तुलना में पेट्रोल की अधिक मांग भारत में इसकी बढ़ती कीमत का एक प्रमुख कारक है। लेकिन पेट्रोल के दाम में बढ़ोत्तरी का एक उल्टा प्रभाव है। चूंकि सभी वस्तुओं को भारत भर में पेट्रोल या डीजल पर चलने वाले वाहनों पर ले जाया जाता है, इसलिए पेट्रोल के मूल्य में वृद्धि से इन वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी के परिणाम भी मिलते हैं। इन सब से आम आदमी सबसे अधिक पीड़ित होता है। वह पहले से ही मुद्रास्फीति का दबाव सहन कर रहा है और पेट्रोल की कीमत में कोई भी वृद्धि उसकी वास्तविक घरेलू आय को कम कर देगा। आज हर भारतीय खाद्य पदार्थों पर अपनी आय का लगभग आधा खर्च करता है। अगर भारत में पेट्रोल की कीमत बढ़ती रहती है तो सभी खाद्य पदार्थ महंगे हो जाएंगे। इससे बचत कम और व्यय अधिक होगा। इसके परिणाम स्वरूप भारत में रियल एस्टेट, बैंकिंग और अन्य क्षेत्रों पर असर पड़ेगा। अंत में अधिक से अधिक लोगों को गरीबी रेखा की ओर धकेल दिया जाएगा।

 

डी-32, मॉडल टाउन, मालवीय नगर, जयपुर
मो.- 9414441218, E-mail : bmojha53@gmail.com


मुंबई (हम हिंदुस्तानी)-भारतीय सिनेमा जगत में हर साल कई नए कलाकार आते हैं; नोरा फतेही भी ऐसे ही प्रतिभाशाली कलाकारों में शामिल हैं, जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत से लेकर आज तक अपना नृत्य कौशल दिखाया है।
मॉडलिंग और डांसिंग के बाद अभिनय के क्षेत्र में कदम रखने वाली नोरा, अब संजय सूरी के साथ बॉलीवुड की फिल्म में अपनी नई पारी शुरू करने जा रही है। 'द बर्थडे सॉंग' एक साइकोलॉजिकल थ्रिलर फिल्म है, जिसके जरिए नोरा पहली बार अपने अभिनय की प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगी।
विश्वस्त सूत्रों के अनुसार, नोरा बॉलीवुड की एक और नई अदाकारा इसाबेल कैफ से प्रतिस्पर्धा कर रही हैं- जो सफल अभिनेत्री कैटरीना कैफ की बहन हैं। अब तक दो बार दोनों अभिनेत्रियां आमने-सामने आ चुकी हैं। हमने सुना है कि, दोनों ही आदाकाराएं अपनी पृष्ठभूमि एवं अन्य समानताओं के कारण अब समान भूमिकाओं के लिए प्रतिस्पर्धा कर रही हैं। इतना ही नहीं, दोनों के लिए आने वाले प्रस्ताव भी समान हैं जिसके कारण दोनों के बीच टकराव की संभावनाएं काफी बढ़ गई हैं। दोनों अभिनेत्रियां अपनी-अपनी खास शैली के लिए जानी जाती हैं, और उन्हें बड़े पर्दे पर देखने का अनुभव भी बिल्कुल नया होगा, लेकिन इन दो आकर्षक अदाकाराओं में से एक को चुनना निर्माताओं के लिए बेहद कठिन होगा।

Page 3 of 2166

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें