Editor

Editor

धर्मा प्रोडक्शन और जंगली पिक्चर्स ने अपनी आगामी फिल्म 'राजी' के स्टारकास्ट की घोषणा कर दी। शुक्रवार को ट्वीटर पर फिल्म के स्टारकास्ट के नामों को जारी करते हुए करण जोहर ने लिखा, 'धर्मा प्रोडक्शन की आने वाली फिल्म राजी में आलिया भट्ट के साथ विकी कौशल नजर आएंगे। फिल्म का निर्देशन मेघना गुलजार करेंगी।' ट्वीटर पर ही आलिया और विकी ने करण जौहर का शुक्रिया अदा किया। विकी ने लिखा, 'राजी का हिस्सा बनना सम्मान की बात...आपका बहुत-बहुत शुक्रिया!'आलिया ने अपने ट्वीट में फिल्म को लेकर उत्साह दिखाया और विकी कौशल की तारीफ की। विकी कौशल पहली बार किसी फिल्म में एक साथ नजर आएंगे। फिल्म में आलिया एक कश्मीरी लड़की के किरदार में नजर आएंगी। जिसकी शादी एक पाकिस्तानी आर्मी ऑफिसर से हो जाती है। फिल्म में आर्मी ऑफिसर के किरदार में विकी कौशल नजर आएंगे। फिल्म का प्रोडक्शन धर्मा प्रोडक्शन और जंगली पिक्चर्स साथ मिल कर प्रोड्यूस करेगी। इनके मुताबिक 'राजी' की शूटिंग जुलाई में शुरू कर दी जाएगी। पहले पंजाब और फिर कश्मीर में फिल्म की शूटिंग होगी। आपको बता दें राजी हरिंदर सिक्का के एक उपन्यास पर आधारित है।

 

टीवी की पॉपुलर सीरियल ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ के नैतिक यानी करण मेहर अब पिता बन गए हैं। कुछ दिनों पहले उनकी पत्नी निशा रावल ने प्यारे से बेटे को जन्म दिया हैं। जिसके बाद उन दोनों के फैन्स बीच ख़ुशी की लहर दौड़ गई थी। एक बार फिर अपने फैन्स को खुश करते हुए करण ने ना सिर्फ अपने नन्हे बेटे की तस्वीर शेअर की हैं बल्कि दर्शकों के सामने अपने बेटे के नाम का भी खुलासा कर दिया हैं। करण में अपने बेटे की तस्वीर और नाम अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेअर की हैं। करण और निशा के नन्हे बेटे का नाम केविश रखा गया है। जिसके साथ दोनों ने सोशल साइड पर अपने नन्हे बेटे की अडॉरबल पिक्चर सोशल मीडिया पर पोस्ट की है।इस फोटो में नन्हे केविश मेहता बास्केट में आराम फरमा रहा है। केविश के चेहरे पर हलकी सी स्माइली हैं जिस कारण उनकी यह तस्वीर सबसे अलग हो जाती हैं। केविश को पीच कलर के बास्केट बेड शीट पर लेटाया गया है। इस फोटो के साथ लिखा गया हैं, ‘जून 2017 को बेबी ब्वॉय के रूप में हमारे पास है। इसे अब केविश मेहरा के नाम से पुकारेंगे।’ इस दौरान उन्होंने ये भी लिखा कि हमारी यह खुशी आपके साथ शेयर किए बिना अधूरी थी। इस फोटो के शेअर के साथ इस पसंद करते हुए 12,771 लाइक्स मिले हैं।

महाराष्ट्र सरकार ने किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान बताया कि उनकी सरकार ने किसानों का 34 हजार करोड़ का कर्ज माफ कर दिया है।सीएम देवेंद्र फडणवीस ने बताया कि जिन किसानों ने 1.50 लाख तक का कर्ज लिया है उसे पूरी तरह से माफ कर दिया गया है। सरकार के इस फैसले से 90 फीसदी महाराष्ट्र के किसानों का कर्ज माफ हो जाएगा। इससे करीब 89 लाख किसानों को फायदा होगा।इतना ही नहीं सरकार ने किसानों को 25 हजार रुपये की मदद देने की घोषणा भी की है।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने वर्ल्ड लीग में शनिवार को पांचवें से आठवें स्थान के लिए खेले गए क्वालिफिकेशन मैच में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 6-1 से मात दी।भारत का सामना अब पांचवें स्थान के लिए कनाडा से 25 जून को होगा, जिसने एक अन्य क्वालिफिकेशन मैच में चीन को 7-3 से मात दी।पाकिस्तान के खिलाफ भारत की इस टूर्नामेंट में यह दूसरी जीत है। 18 जून को भारतीय टीम ने पाकिस्तान को ग्रुप मैच में 7-1 से हराया था। इसी दिन पाकिस्तान की क्रिकेट टीम ने भारत को हराकर पहली बार चैम्पियंस ट्रॉफी खिताब जीता था।पाकिस्तान के खिलाफ पहले क्वार्टर की शुरुआत के बाद आठवें मिनट में रमनदीप सिंह ने फील्ड गोल दागकर भारत का खाता खोला। इसके बाद दूसरे क्वार्टर में काफी जद्दोजहद के बाद तलविंदर सिंह ने दूसरा फील्ड गोल दागा और भारतीय टीम को 2-0 से बढ़त दी।मनदीप सिंह (27वें मिनट) ने दो मिनट बाद भारतीय टीम के लिए तीसरा फील्ड गोल दागा। अगले ही मिनट में गेंद को अपने पास खींचते हुए रमनदीप ने एक बार फिर आगे बढ़ते हुए चौथा फील्ड गोल दागा।तीसरे क्वार्टर में भी अपना दबदबा कायम रखते हुए भारतीय टीम ने एक और गोल किया। हरमनप्रीत सिंह ने 36वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर पर गोल किया। 41वें मिनट में अहमद एजाज ने गोल कर पाकिस्तान का खाता खोेला।चौथे क्वार्टर में पाकिस्तान के डिफेंस पर एक बार फिर वार करते हुए भारत ने मैच की समाप्ति से केवल एक मिनट पहले 59वें मिनट में छठा गोल दागा। टीम के लिए ये गोल मनदीप सिंह ने किया।पाकिस्तान का सामना सातवें तथा आठवें स्थान के लिए क्वालीफिकेशन मैच में 25 जून को चीन से होगा

नियंत्रण रेखा पार कर भारतीय सेना के गश्ती दल पर हमला करने वाली पाकिस्तान की बोर्डर एक्शन टीम (बैट) में विशेष बल के जवान और आतंकवादी शामिल थे। उनके पास विशेष खंजर और कैमरा लगा हेडबैंड था, जिससे वे पुंछ जिले के हमले को रिकार्ड करना चाहते थे।जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में 22 जून को हुए हमले में दो भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे और भारतीय सेना की जवाबी कावार्ई में (बैट) का एक सदस्य मारा गया था। भारतीय सेना ने खोज एवं अन्य अभियानों के दौरान वहां से (बैट) के एक सदस्य का शव बरामद किया था।सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बैट के प्रयास को नाकामयाब करने की कावार्ई में मारे गए घुसपैठिए का शव स्थानीय पुलिस को सौंप दिया गया है। उन्होंने कहा, कि हथियार, गोला बारूद और अन्य युद्ध संबंधी सामान जैसे विशेष खंजर, कैमरा लगा एक हेडबैंड, चाकू, एक एके राइफल, तीन मैगजीन, दो ग्रेनेड के अलावा कुछ कपड़े और थैले वहां से बरामद किए गए हैं जो पाकिस्तानी सेना की बर्बर मानसिकता को दर्शाते हैं।अधिकारी ने बताया किे बैट के सदस्य ने कार्रवाई और जवानों को मारने की घटना को रिकॉर्ड करने के लिए हेडबैंड पहना था। बलों ने उनकी इस कोशिश को नाकामयाब कर दिया और इस जवाबी कावार्ई में उनके एक सदस्य की मौत हो गई और अन्य घायल हो गए। उन्होंने बताया कि यह जांच का विषय है कि कैमरा सीमा पार पाकिस्तानी सेना संस्थानों से लाइव जुड़ा था या नहीं। उन्होंने कहा कि कैमरा के डेटा एवं विवरण की जांच की जाएगा।अधिकारी ने कहा, कि हमें यकीन है कि बैट का एक और सदस्य मारा गया है लेकिन उसका शव बैट के अन्य सदस्य अपने साथ ले गए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे सैनिकों द्वारा की गई कठोर कावार्ई नापाक योजना (सैनिकों का विटित करने और उसे कैमरा में रिकार्ड करने) को कभी पूरा नहीं होने देगी।इस साल पाकिस्तानी विशेष बलों द्वारा नियंत्रण रेखा से 600 मीटर अंदर आ पुंछ सेक्टर में हमला करने की यह तीसरी घटना है। उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी सेना की उनकी चौकियों से की गई भारी गोलीबारी के बीच बोर्डर एक्शन टीम (बैट) ने करीब रात दो बजे हमला किया था। बैट में आमतौर पर पाकिस्तान सेना के विशेष बलों के कर्मी और कुछ आतंकवादी होते हैं।

सेना के जवान संदीप जाधव ने अपने बेटे से वादा किया था कि वह जन्मदिन पर घर जरूर आएंगे, लेकिन किसी को नहीं मालूम था कि यह जवान देश के लिए शहीद होकर तिरंगे में लिपटा घर पहुंचेगा। शनिवार को संदीप जाधव का पूरे सैन्य सम्मान के साथ कोल्हापुर के मानेसावन में अंतिम संस्कार हुआ। आपको बता दें कि संदीप के बेटे का आज (24 जून) को जन्मदिन है।औरंगाबाद जिले के सिलोद तहसील में जवान के गांव में सब बहुत दुखी हैं। 15वीं मराठा लाइट इंफेंटरी से जुड़ा यह 34 वर्षीय सैनिक संदीप जाधव गुरुवार को पाकिस्तान के विशेष बलों द्वारा जम्मू—कश्मीर के पुंछ सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर किए गए हमले में शहीद हो गया।इसी हमले में कोल्हापुर के 24 वर्षीय सिपाही श्रवण माने भी शहीद हो गए। जाधव के पिता सरजेराव को जब बेटे के शहीद होने की सूचना मिली तो उन्होंने घर में टीवी तक नहीं चलने दिया ताकि संदीप का जन्मदिन मनाने की तैयारियों में लगे घरवालों को गम की खबर ना मिले।गांव के एक व्यक्ति का कहना है कि संदीप ने अपने परिवार से वादा किया था कि वह अपने बेटे शिवम के जन्मदिन पर जरूर लौटेगा। गुरुवार को घर में शिवम के जन्मदिन की तैयारियां चल रही थीं, ऐसे में सरजेराव ने टीवी चलने ही नहीं दिया। उन्होंने अपने रिश्तेदारों से भी कह दिया कि वे जाधव की पत्नी, बड़ी बेटी और अन्य लोगों को भी उनके शहीद होने की सूचना ना दें।लेकिन शुक्रवार को, अंतत: उन्हें शहीद के अंतिम संस्कार की तैयारियों के बारे में बताया गया। औरंगाबाद के जिलाधिकारी नवल किशोर राम ने कहा कि संदीप का शव शुक्रवार शाम औरंगाबाद पहुंच गया। संदीप का पाथर्वि शरीर शुक्रवार शाम तक कोल्हापुर पहुंच गया और शानिवार को बेटे के जन्मदिन के दिन सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

मुगल बादशाह शाहजहां अपनी बेगम की याद में ताज महल खड़ा करने वाले अकेले नहीं हैं। यूपी के सेवानिवृत्त पोस्टमास्टर फैजुल हसन कादरी ने भी अपनी मरहूम बीवी के प्यार में ‘मिनी ताज महल’ तैयार करवाया है। हालांकि पैसों की किल्लत की वजह से वह इस पर संगमरमर की परत नहीं चढ़वा पाए हैं।
दूसरों की मदद नहीं चाहिए:--81 वर्षीय कादरी दिल्ली से 150 किलोमीटर दूर बुलंदशहर के कासर कलां गांव में रहते हैं। 2011 में गले के कैंसर से पत्नी ताजामौली बेगम की मौत के बाद उन्होंने उस स्थान पर ताज महल की प्रतिकृति बनवाने का फैसला किया, जहां ताजामौली को दफनाया गया था। 2015 तक कादरी के मिनी ताज महल का ढांचा भी तैयार हो गया। हालांकि तब तक उनकी सारी जमा पूंजी खर्च हो चुकी थी। ऐसे में ढांचे पर संगमरमर लगवाने का काम बीच में रोकना पड़ा। जब यह बात यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पता चली तो उन्होंने निर्माण कार्य में आर्थिक मदद की पेशकश की। हालांकि कादरी इस बाबत राजी नहीं हुए। अलबत्ता उन्होंने पास की अपनी एक जमीन दान में देते हुए सरकार से उस पर स्कूल बनवाने की गुजारिश की।
बच्चियों की शिक्षा ज्यादा जरूरी:-कादरी शिक्षा को महिलाओं के विकास का सबसे सशक्त जरिया मानते हैं। वह इलाके में ऐसा स्कूल चाहते थे, जिसमें सभी धर्म की बच्चियां साथ बैठकर न सिर्फ प्रेम, भाईचारे और नैतिकता का पाठ पढ़ें, बल्कि अपने पैरों पर खड़ी होने लायक भी बन सकें। बकौल कादरी, ‘मेरे ताज महल में संगमरमर लगवाने का काम बाकी है। इस पर छह से सात लाख रुपये का खर्च आएगा। 2016 के मध्य तक मैंने अपनी पेंशन से एक लाख रुपये बचाए थे, पर मेरी भांजी को पैसों की सख्त जरूरत थी। लिहाजा मैंने वह रकम उसे दे दी। मेरे पास इस वक्त पेंशन से बचे 55 हजार रुपये हैं। यह रकम संगमरमर लगवाने के लिए नाकाफी है, पर मैं अपने ताज महल को हकीकत का चोला पहनाने के लिए आज भी किसी से आर्थिक मदद न लेने के फैसले पर अडिग हूं।’
एक्सीडेंट के बाद भी नहीं हारी हिम्मत:--2017 की शुरुआत में हुए एक हादसे में कादरी के पैरों में फ्रैक्टर हो गया। वह न सिर्फ कई महीनों तक बिस्तर पर पड़े रहे, बल्कि उनकी जुटाई रकम भी खर्च हो गई। बावजूद इसके कादरी ने हिम्मत नहीं हारी। साथ ही जकत (इस्लाम में चैरिटी के लिए सालाना दी जाने वाली रकम) के लिए तय धनराशि देना भी जारी रखा। आज कादरी की दान की गई जमीन पर स्कूल बनकर खड़ा हो गया है, पर उनका ताज महल अब भी अधूरा है। हालांकि कादरी को यकीन है कि वह पेंशन बचाकर उसे जरूर पूरा करवा लेंगे। वह चाहते हैं कि मौत के बाद उन्हें भी इस ताज महल में पत्नी ताजामौली की कब्र के पास दफनाया जाए। बुलंदशहर की डीआईओएस वीणा यादव के मुताबिक स्कूल में छठी से 12वीं तक की कक्षाएं चलाई जाएंगी। जुलाई के मध्य तक इसमें पढ़ाई भी शुरू होने की उम्मीद है।

पुलिस ने शनिवार को जेकेएलएफ के प्रमुख मोहम्मद यासीन मलिक को श्रीनगर में उसके आवास से हिरासत में ले लिया है।पुलिस अधिकरी ने कहा कि मलिक को शहर के लाल चौक के पास मैसुमा स्थित आवास से हिरासत में लिया गया। उन्होंने कहा कि जेकेएलएफ के प्रमुख को ईद—उल—फितर से पहले ऐहतिहात के तौर पर हिरासत में लिया गया है।अधिकारी ने कहा कि मलिक को श्रीनगर की सेंट्रल जेल में स्थानांतरित किया गया है

राजस्थान का जाट आरक्षण आन्दोलन खत्म हो गया है। सरकार और जाट नेताओं में वार्ता के बाद सहमति बन गई है। इसके बाद जाट आरक्षण आन्दोलन खत्म करने की घोषणा विधायक विश्वेन्द्र सिंह ने कर दी है। अन्दोलन खत्म करने की घोषणा के बाद राजस्थान में जगह जगह लगे जाम हटाए जाने लगे हैं और यातायात सुचारू होने लगा है। आंदोलन के चलते परेशानी में फंसे हजारों लोगो ने राहत की सांस ली है।पिछड़ा वर्ग आयोग की रिपोर्ट कैबिनेट में रखे जाने की मांग को लेकर गुरुवार को राजस्थान के जाट सड़कों पर उतर आए थे। जाटों ने अपना गुस्सा सड़क और रेलवे पर उतारा। राजस्थान में पिछले 48 घंटों के दौरान उत्तर प्रदेश और नई दिल्ली से जुड़े राजमार्गों और रेल मार्गों को जाम कर रखा था। यूपी रोडवेज की कई बसों में इस दौरान तोड़फोड़ और आगजनी भी हुई। रेलवे ट्रैक को उखाड़ दिया गया था। दो दिनों से रेल और सड़क यातायात ठप होने से हजारों रेल यात्री फंसे हुए थे। शनिवार को विधायक विश्वेंद्र सिंह और अन्य जाट नेताओं के साथ राजस्थान सरकार के अफसरों ने बातचीत की। बताते हैं कि बातचीत कामयाब रही। इसके बाद विधायक विश्वेंद्र सिंह ने प्रशासन की ओर से जारी पत्र मिलने के बाद आंदोलन खत्म करने की घोषणा कर दी।इससे पहले-शुक्रवार को आंदोलन के चलते आगरा, मथुरा, दिल्ली, अलवर और जयपुर के बीच बस सर्विस ठप हो गई। प्रदर्शनकारियों ने रेलवे रूट जाम कर दिए थे।दिल्ली-मुंबई, अलवर-मथुरा और आगरा-जयपुर रेल रूट पर रेल यातायात ठप हो गया था। करीब दो दर्जन से अधिक ट्रेनें आंदोलन के चलते रद्द करनी पड़ीं और कई ट्रेनों को डायवर्ट किया गया। तमाम लोगों को अपनी यात्रा रद्द करनी पड़ी।आंदोलन खत्म होने की घोषणा के बाद आगरा-जयपुर रूट पर ट्रेनों की आवाजाही शुरू हो गई है। वहीं सड़क यातायात भी सामान्य बनाने की कोशिश की जा रही है। भरतपुर के स्टेशन अधीक्षक के मुताबिक हालात सामान्य होने लगे हैं।विश्वेंद्र सिंह ने आंदोलनकारियों को बताया कि जाट आरक्षण को लेकर ओबीसी कमेटी की रिपोर्ट आगामी दिनों में होने वाली पहली कैबिनेट मीटिंग में रखी जाएगी। उन्होंने इसे जाटों की बड़ी जीत बताया। उन्होंने अपील की है कि जाट भाई सभी जामों को खोलकर अब शांतिपूर्वक घर जाएं

 

 

 

पेड न्यूज के मामले में चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मध्यप्रदेश के जन संपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा को आयोग्य घोषित कर दिया है। चुनाव आयोग के इस फैसले के बाद अब नरोत्तम मिश्रा अगले तीन सालों तक कोई चुनाव नहीं लड़ सकेंगे।नरोत्तम मिश्रा पर आरोप है कि मध्यप्रदेश में साल 2008 के विधानसभा चुनावों के दौरान पेड न्यूज पर खर्च की गई राशि को अपने चुनावी खर्च पर नहीं दिखाया था। 2009 में दतिया के पूर्व विधायक ने चुनाव आयोग में इसकी शिकायत की थी। काफी समय से ये मामला लंबित था जिस पर शनिवार को चुनाव आयोग ने फैसला सुनाया है।गौरतलब है कि नरोत्तम मिश्रा इस मामले के खिलाफ 2015 में हाईकोर्ट भी गए थे लेकिन उनको वहां से कोई राहत नहीं मिली थी। हाईकोर्ट ने नरोत्तम मिश्रा की याचिका खारिज कर दी थी। नरोत्तम मिश्रा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के काफी करीबी माने जाते हैं। उनके पास जल संसाधन, जनसंपर्क और संसदीय कार्य मंत्रालय का जिम्मा है।इससे पहले 2011 में बाहुबली डीपी यादव को चुनाव आयोग ने बड़ा सियासी झटका दिया था। आयोग ने चुनाव में निर्धारित से अधिक रकम खर्च करने की शिकायत पर बिसौली से विधायक डीपी की पत्नी उमलेश यादव की सदस्यता रद्द कर दी थी।

 

Page 1 of 1393

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें