-मुगल-ए-आज़म: द म्यूजिकल के कुआलालंपुर पहुंचने की कहानी
दुबई के बाद इस शानदार म्यूजिकल शो का दूसरा अंतरराष्ट्रीय दौरा
शानदार प्ले 'मुगल-ए-आज़म:द म्यूजिकल' के निर्माताओं ने कुआलालंपुर में इस प्ले के ग्रैंड प्रीमियर से पहले एक प्रेस कांफ्रेंस किया और कुआलालंपुर में इस शो को करने के पीछे के विचार पर बातचीत की.

मुंबई (हम हिंदुस्तानी)-इस ऐतिहासिक नाटक ने भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापक प्रशंसा हासिल किया है और ब्रॉडवे इंडिया अवॉर्ड्स समेत कई पुरस्कार प्राप्त किए है. इस प्ले के लिए आयोजित इवेंट (प्रेस कांफ्रेंस) में मलेशिया में भारत के उप उच्चायुक्त श्री निखलेश गिरि, इस्ताना बुडाया के प्रमुख निदेशक दातो मोहम्मद जुहारी बिन शारानी और कुआलालंपुर के पर्यटन, कला और संस्कृति मंत्रालय के प्रतिनिधियों ने शिरकत की. कुआलालंपुर में आयोजित प्रेस कांफ्रेस स्थल पूरी तरह से भरा हुआ था. इसके अलावा शापोरजी पलोनजी समूह के दीपेश सालगिया, निर्देशक फिरोज अब्बास खान, मुख्य अभिनेता नेहा सरगम और कोरियोग्राफर मयूरी उपाध्याय भी इस मौके पर उपस्थित थे.
एमआई कल्चरल इवेंट एसडीएन बीएचडी (एमआईसीई) के निदेशक दातुक नबेश खन्ना, जिन्होंने इस शो को कुआलालंपुर ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं, कहते हैं, "हमने इस प्रतिष्ठित नाटक को मलेशिया लाने के लिए बहुत मेहनत की है. हमने शापोरजी पलोनजी समूह के श्री रवि शंकर के साथ भारतीय उच्चायोग से संपर्क किया. फिर मलेशियाई पर्यटन, कला और संस्कृति मंत्रालय कल्चरल एक्सेचेंज प्रोजेक्ट का हिस्सा बन गया. इस प्रकार, यह अब एक गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट प्रोजेक्ट है."
निर्देशक फिरोज अब्बास खान कहते हैं, "मुगल-ए-आज़म" की एक सार्वभौमिक अपील है जो भाषा और संस्कृति की बाधाओं को पार करती है. यह प्यार की एक कहानी है जो हर जगह दर्शकों के साथ जुड़ती है. हमें खुशी है कि यह प्ले दो सरकारों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान के हिस्से के रूप में मलेशिया गया है. जब सरकारें समर्थन देती है तो यह कलाकारों को कड़ी मेहनत करने के लिए प्रोत्साहित करता है."
दीपेश सालिया (क्रिएटिव एंड स्ट्रैटजिक विजन: मुगल-ए-आज़म) कहते हैं, "हम कल्चरल एक्सचेंज कार्यक्रम के माध्यम से शो को समर्थन देने के लिए मलेशिया और भारत सरकार के आभारी हैं. दुबई में हमारे शो की भव्य सफलता के बाद, हम मलेशिया में दर्शकों के साथ जुड़ने की उम्मीद करते हैं."
'मुगल-ए-आज़म: द म्यूजिकल' ने अपने लाइव गायन के साथ, शानदार तरीके से डिजाइन किए गए कोरियोग्राफी, उल्लेखनीय प्रदर्शन, विश्व स्तरीय उत्पादन डिजाइन और मनीष मल्होत्रा के परिधानों के साथ हर एक सीजन में इतिहास रचा है.
'मुगल-ए-आज़म: द म्यूजिकल' का आयोजन इस्ताना बुडाया (जिसे पैलेस ऑफ कल्चर) में 10 अगस्त और 11 अगस्त 2018 को मलेशिया के कुआलालंपुर में किया जाएगा.
ये प्ले इस्ताना बुडाया में हर रात लगभग दो घंटे और बीस मिनट तक चलेगा. प्ले हिंदी में है, लेकिन दो एलईडी स्क्रीनें भी होंगी, जिस पर मलेशियाई और अंग्रेजी भाषा में सब टाइटल होंगे.

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें