हमारे देश में एक कहावत बहुत ही प्रसिद्ध है, ‘पूत के पैर पालने में ही दिखाई दे जाते हैं।’ इसका मतलब है कि बच्चा बड़े होकर क्या करेगा, उसका पता बच्चे के बचपन को देखकर ही लग जाता है। आप समझ ही गए होंगे कि हम किसकी बात करने जा रहे हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं करीना कपूर खान और सैफ अली खान के नन्हें साहबजादे तैमूर अली खान की। असल में हमारे हाथ तैमूर अली खान की कुछ ताजा तस्वीरें लगी हैं। इन तस्वीरों में तैमूर अली खान अपनी मां का हाथ छुड़ाकर, फोटोग्राफर्स की ओर भागते हुए नजर आ रहे हैं।बीती शाम को करीना कपूर खान अपने बेटे तैमूर को लेकर अपने माता-पिता के घर गई थीं। जहां गाड़ी से उतरते ही फोटोग्राफर्स ने मां-बेटी की जोड़ी को घेर लिया। जब तक करीना कपूर खान कुछ समझ पाती तब तक तैमूर अकेले ही कैमरापर्सन्स को पोज देने के लिए आगे बढ़ने लगे। यहां तक कि उन्होंने पोज देने के लिए अपनी मां का हाथ तक झटक दिया।आपको बता दें कि तैमूर अली खान अपने बचपन से ही कैमरों से घिरे रहे हैं इसलिए उन्हें बहुत ही छोटी उम्र में पता चल गया है कि फ्लैश लाइट जलते ही कैसे पोज देना है। सैफ अली खान खुद इस बात को स्वीकार करते है कि तैमूर अली खान बहुत ही मीडिया फ्रेंडली हैं। सैफ ने एक बार तैमूर अली खान के बारे में बात करते हुए बताया था कि, ‘जब तैमूर कैमरों के सामने होता है तो आपको एक बार उसका चेहरा और शारीरिक हाव-भाव देखना चाहिए। बचपन से ही उसने अपने आस-पास कैमरे देखे हैं तो वो छोटी उम्र में ही मीडिया फ्रेंडली हो गया है। आप बस उसकी ओर अपना मोबाइल प्लाइंट कीजिए, वो पोज देना शुरू कर देता है।’

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें