नई दिल्ली। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली अब सरे के लिए काउंटी क्रिकेट नहीं खेलेंगे। विराट कोहली को 17 मई को आइपीएल के मैच में फील्डिंग के दौरान गर्दन में चोट लग गई थी। अब बीसीसीआइ ने ये साफ कर दिया है कि कोहली सरे के लिए काउंटी क्रिकेट नहीं खेलेंगे। इस बीच वो भारत में रहकर अपनी चोट का इलाज करवाएंगे। इससे पहले इस तरह की खबरें आ रही थी कि कोहली को स्लिप डिस्क की परेशानी है और वह इंग्लैंड दौरे से बाहर हो सकते हैं। कोहली को स्लिप डिस्क नहीं बल्कि गर्दन में स्प्रैन की परेशानी है।आइसीसी ने भी इस बात को साफ कर दिया है कि कोहली गर्दन की चोट की वजह से अब सरे के लिए काउंटी क्रिकेट नहीं खेलेंगे और अब 15 जून को उनका फिटनेस टेस्ट होगा।
'कोहली को नहीं स्लिप डिस्क की समस्या':-बीसीसीआइ के एक अधिकारी के अनुसार कोहली को आइपीएल में राजस्थान के खिलाफ खेले गए अंतिम मैच में गर्दन में स्प्रैन की समस्या का सामना करना पड़ा था। इसी की जांच करवाने के लिए कोहली अस्पताल में गए थे।आपको बता दें कि इस साल की शुरुआत में साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे मैच के शुरुआती मैच में गर्दन की दर्द वजह से नहीं खेल पाए थे।इसके साथ ही बीसीसीआइ अधिकारी ने कहा कि कोहली हड्डी विशेषज्ञ के पास अहतियात के तौर पर गए थे, लेकिन उन्हें स्लिप डिस्क नहीं बल्कि गर्दन की समस्या है। कोहली ने कल ही केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर का फिटनेस चैलेंज स्वीकार करते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट भी किया है।
इंग्लैंड में खराब है कोहली का रिकॉर्ड:-इंग्लैंड़ की सरजमीं पर भारतीय टीम एक भी टेस्ट सीरीज़ नहीं जीत सकी है और विराट कोहली इसी वजह से सरे के लिए काउंटी क्रिकेट खेलने चाहते थे ताकि वो काउंटी क्रिकेट खेलकर वहीं की पिच, मौसम और कंडीशंस के मुताबिक खुद को सेट कर सके। हालांकि विराट के निजी रिकॉर्ड की बात की जाए तो वो भी इंग्लैंड में खराब ही रहा है। उन्होंने 5 टेस्ट मैचों में वहां सिर्फ 134 रन बनाए हैं। यही कारण है कि वहां की परिस्थितियों से तालमेल बैठाने के लिए उन्होंने सरे के साथ खेलने चाहते हैं।
ये नहीं हैं अच्छे संकेत:-अफगानिस्तान के खिलाफ होने वाले ऐतिहासिक टेस्ट मैच को छोड़कर कोहली सरे के लिए क्रिकेट खेलने चाहते थे, लेकिन इस चोट की वजह से हो सकता है कि उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज़ के कुछ मैचों में आराम करना पड़े। भारतीय कप्तान इंग्लैंड दौरे का कुछ हिस्सा भी चोट के कारण मिस करते हैं तो टीम के लिए इसे किसी भारी नुकसान होगा।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें