दिल्ली - देश में गौ जागरूकता और गैर कानूनी ढंग से हो रही गौ की हत्या को रोकने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं। ऐसे में कोटा के मुस्लिम फिल्म मेकर ने एक गाय और बछड़े को अडाप्ट किया है। यही नहीं, घर में पूरे रीति-रिवाजों के साथ गाय और बछड़े का स्वागत किया गया।
कोटा के रहने वाले सरोश फिलाहल मुंबई में रहते हैं और गौ के नाम पर की जाने वाली हत्या और हिंसा को रोकने के लिए उन्होंने गाय को अडाप्ट करके समाज को एक मेसेज दिया है। सिर पर कैप और पठानी सूट पहनकर वे बखूबी हिंदू रीति-रिवाजों को निभा रहे हैं। साथ ही अपने घर विज्ञान नगर में गाय के माथे पर लाल रोली से टीका कर रहे हैं।
कई हिंदी और राजस्थानी फिल्म में काम करने वाले सरोश खान ने कहा कि, 'इस्लाम हिंदूओं या किसी अन्य धर्म से नफरत करने का उपदेश नहीं देता। सभी को एक-दूसरे की रिसपेक्ट करनी चाहिए और गाय के नाम पर होने वाली हत्या और हिंसा को रोका जाना चाहिए।'
इतना ही नहीं गिर गौ और बछड़े को 50 हजार रूपये में खरीदने वाले खान का कहना है कि गौ रक्षा के बहाने देश में हिंसा फैलाई जा रही है। मैंने इसलिए अपने घर में एक गाय और बछड़ा रखा है, ताकि समाज को यह मेसेज दिया जा सके कि मुस्लिम भी गाय को पसंद करते हैं। अगर गाय के नाम पर होने वाली हत्या को रोकने में मेरा यह सहयोग काम आता है, तो मुझे इस काम से संतुष्टी होगी।
यही नहीं, खान ने गौ रक्षकों से यह अपील भी की है कि अगर वह सही में गाय को माता मानते हैं, तो सड़कों पर घूमने वाली गाय को अपने घर में रखें।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें