नई दिल्ली - बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर ने हमेशा अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहते हैं। अब हाल ही में उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी एक इच्छा जाहिर की है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, मैं 65 साल का हूं और मरने से पहले मैं पाकिस्तान देखना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि मेरे बच्चे अपनी धरोहर को देखें।
बता दें कि पिछले दिनों ही जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व केंद्रीय मंत्री फारूख अब्दुल्ला ने कहा था कि पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) पाकिस्तान का हिस्सा है और उसे पाकिस्तान से कोई छीन नहीं सकता वैसे ही कश्मीर का जो हिस्सा है वो भारत का ही हिस्सा है।
फारूख अब्दुल्ला के इसी बयान पर अपनी सहमती जताते हुए ऋषि कपूर ने ट्वीट किया, फारूख अब्दुल्ला जी, सलाम! मैं आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूं सर। जम्मू कश्मीर हमारा है और POK उनका है। यही एक तरीका है जिससे हम इस समस्या को सुलझा सकते हैं। इसके अलावा मैं 65 साल का हो गया हूं और मरने से पहले पाकिस्तान देखना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि मेरे बच्चे अपनी जड़ों को देखें, बस करवा दीजिए सर, जय माता दी।'
बता दें कि ऋषि का पुश्तैनी घर पाकिस्तान के पेशावर शहर में है। कपूर परिवार 1947 में हुए विभाजन के बाद भारत आ गया था।
सालों के रिलेशन के बाद ऋषि कपूर ने 1980 में नीतू सिंह से शादी कर ली थी। दोनों के 2 बच्चे एक बेटा और एक बेटी है। बेटे रणबीर कपूर को तो सब जानते हैं, लेकिन उनकी बेटी रिद्धिमा कपूर साहनी को ज्यादा लोग नहीं जानते। जानें रिद्धिमा के बारे में कुछ दिलचस्प बातें और साथ ही जानें क्यों रहती हैं वो लाइमलाइट से दूर।
बता दें कि रिद्धिमा का जन्म 15 सितंबर 1980 को हुआ था। कपूर खानदान की वैसे तो कई बेटियां बॉलीवुड में राज कर रही हैं, लेकिन रिद्धिमा इन सबके अपोजिट लाइम लाइट से काफी दूर रहती हैं। रिद्धिमा उम्र में करीना से केवल 6 दिन बड़ी हैं। रिद्धिमा ने फैशन डिजाइनिंग और इंटीरियर डिजाइनिंग का कोर्स किया है। रिद्धिमा फैशन इंडस्ट्री का जाना पहचाना नाम है।
आर ज्वैलरी नाम से रिद्धिमा का ज्वैलरी ब्रांड है। रिद्धिमा का कहना है कि उन्हें शुरुआत से ही बॉलीवुड में नहीं आना था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें