नई दिल्ली। संकट का सामना कर रही जेट एयरवेज से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने कंपनी के वित्तीय नतीजों को लेकर सफाई मांगी है।स्टॉक एक्सचेंज ने विमानन कंपनी से पूछा है कि क्यों ऑडिट कमेटी ने उसके पहली तिमाही के नतीजों को मंजूरी नहीं दी। एक्सचेंज ने कंपनी से पूछा है कि क्या निदेशक मंडल की बैठक में वित्तीय नतीजों के अलावा क्या किसी अन्य मसले पर भी चर्चा की गई। कंपनी की तरफ से वित्तीय नतीजों को टाले जाने की घोषणा के बाद कंपनी का शेयर करीब 13 फीसद तक टूट गया।शुक्रवार कोबीएसई में कंपनी का शेयर 8.09 फीसद की गिरावट के साथ 24.40 रुपये टूटकर 277.30 रुपये पर बंद हुआ, जो पिछले तीन सालों का न्यूनतम स्तर है।दोनों स्टॉक एक्सचेंज ने कंपनी से पूछा है कि वह इस बारे में जानकारी मुहैया कराएं कि वित्तीय नतीजों पर विचार करने के लिए कंपनी के बोर्ड की स्थगति हो चुकी बैठक दुबारा कब होगी।एनएसई की तरफ से कंपनी को जारी बयान में पूछा गया है, '9 अगस्त की आपकी घोषणा में कहा गया है कि कुछ ऐसे मामले हैं, जिन्हें अभी तक सुलझाया नहीं जा सका है। हमें इस बारे में विस्तार से जानकारी मुहैया कराएं।'वहीं बीएसई की तरफ से जारी बयान में लंबित मामलों के बारे में जानकारी मांगी गई है। इसके साथ ही एक्सचेंज ने यह पूछा है कि क्या बोर्ड की बैठक में किसी अन्य एजेंडे पर चर्चा की गई। गुरुवार देर शाम जेट एयरवेज ने स्टॉक एक्सचेंज को मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही के नतीजों को टाले जाने के बारे में जानकारी दी थी। कंपनी ने कुछ लंबित मामलों का हवाला देते हुए नतीजों को जारी किए जाने में होने वाली देरी का हवाला दिया था। कंपनी ने कहा कि ऑडिट कमेटी ने वित्तीय नतीजों को बोर्ड के सामने मंजूरी के लिए नहीं रखा।गौरतलब है कि पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में जेट एयरवेज को कुल 1,036 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। चौथी तिमाही में कंपनी को हुआ घाटा पहले की तीन तिमाहियों में हुए मुनाफे से ज्यादा था। वित्त वर्ष 2018 में कंपनी को कुल 767 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें