कारोबार

कारोबार (2850)

नई दिल्ली:-शाओमी का बहुप्रतीक्षित स्मार्टफोन एमआई 5 भारत में लॉन्च हो गया। इसकी कीमत 24,999रुपये है इस स्मार्टफोन को कंपनी ने फरवरी में चीन के बाजार में पेश किया था। इस फोन में5.15 इंच की फुल एचडी डिस्प्ले होगी जिसका रेजोल्यूशन 1080x1920 पिक्सल है। यह फोन एड्रेनो530 जीपीयू के साथ क्वालकॉम 820 प्रोसेसर से लैस है। इसमें 32 जीबी इंटरनल मेमोरी और 3जीबी रैम दी गई है। इसकी बिक्री 6 अप्रैल से शुरू होगी। इस फोन को Mi.com से खरीदा जा सकता है। शाओमी के इस फोन में फेस डिटेक्शन ऑटोफोकस, एलईडी फ्लैश और सोनी आईएमएक्स 298 कैमरा सेंसर के साथ 16 मेगापिक्सल का मेन कैमरा और 2 माइक्रोन पिक्सल के साथ 4 अल्ट्रापिक्सल का फ्रंट कैमरा है। फिंगरप्रिंट स्कैनर से लैस इस फोन में 3000 एमएएच की बैटरी दी है। यह गूगल के एंड्रॉयड 6.0 मार्शमेलो ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है। कंपनी ने इसमें अपना MIUI 7 इंटरफेस दिया है।

नई दिल्ली:-फ्लिपकार्ट, आमेजन तथा स्नैपडील जैसी ई-खुदरा कंपनियों को अब ग्राहकों को आकर्षित करने के लिये आकर्षक छूट देने में कठिनाई हो सकती है। आनलाइन खुदरा बिक्री मंच (मार्केटप्लेसेस) पर जारी नये दिशानिर्देश में ऐसी कंपनियों पर वस्तुओं एवं सेवाओं की कीमतों को प्रभावित करने से रोक लगायी गयी है। सरकार ने ई-वाणिज्य खुदरा क्षेत्र में ऑनलाइन बिक्री मंच के मामले में 100 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की मंजूरी दे दी। दिशानिर्देश में कहा गया है कि ऐसी इकाइयां वस्तुओं एवं सेवाओं के बिक्री मूल्य को प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से प्रभावित नहीं करेंगी और सबके लिए सामान अवसर बनाये रखेंगी।एक अधिकारी ने कहा, छूट केवल वस्तुओं या सेवाओं के मालिक द्वारा दी जा सकती है। ओद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग के संयुक्त सचिव अतुल चतुर्वेदी ने टिवटर पर लिखा है, ई-वाणिज्य दिशानिर्देश खुदरा बिक्री मंच पर पंजीकत माल रखने वालों यानी बिक्रेताओं को छूट देते हुए कीमत निर्धारण की अनुमति देता है।उन्होंने कहा कि दिशानिर्देश ऐसे बाजारों तथा भौतिक रूप से उपलब्ध दुकानों के बीच संतुलन बनाता है। चतुर्वेदी ने कहा, यह बाजार खराब करने वाली कीमत को समाप्त करेगी और समान अवसर उपलब्ध कराएगा। उन्होंने कहा कि ये नियम एसएमई के लिये फायदेमंद है क्योंकि वे बिना भौतिक रूप से अपनी दुकानें खोले माल बेच सकते हैं और रोजगार सजित कर सकते हैं।

नई दिल्ली:-क्रिकेट विश्व कप में भारत और वेस्टइंडीज के बीच सेमीफाइनल का मुकाबला शुरू हो चुका है। आप घर बैठे अंपायर के निर्णय से पहले टीवी रिप्ले में देख लेते हैं कि कोई व्यक्ति आउट हुआ है या नहीं। आज हम आपको क्रिकेट की दुनिया में इस्तेमाल होने वाली ऐसी ही आधुनिक तकनीकों के बारे में बता रहे हैं जो इस खेल के मजे को कई गुना बढ़ा देती हैं। 

1. शोर में मददगार स्निकोमीटर:-क्रिकेट के मैदान में शोर-शराबे की कमी नहीं होती। ऐसे में अंपायर के लिए हल्की आवाजों को सुनना आसान नहीं होता। इस शोर से बचकर सही निर्णय देने में स्निकोमीटर उनकी मदद करता है। यह आवाज में थोड़े बदलाव को भी पहचान लेता है। इससे यह पता लग जाता है कि बल्ले ने गेंद को छुआ या नहीं। स्निकोमीटर में एक माइक्रोफोन लगा होता है। इसे पिच के दोनों तरफ किसी एक स्टंप में लगाया जाता है और यह ऑसीलोस्कोप यंत्र से कनेक्ट  रहता है जो ध्वनि तरंगों को मापता है।

2. गेंद की गति मापती स्पीड गन:-इस तकनीक का इस्तेमाल सबसे पहले टेनिस में हुआ था। गेंदबाज के  हाथ से बॉल किस गति पर छूटी, यह मापने के लिए स्पीड गन का इस्तेमाल किया जाता है। गेंद की गति का पता लगाने के लिए डॉपलर रडार का इस्तेमाल किया जाता है। स्पीड गन माइक्रोवेव तकनीक का इस्तेमाल करती है।

3. सुपर स्लो मोशन कैमरा:- ब्रॉडकास्टर्स स्लो मोशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कई सालों से कर रहे हैं। सुपर स्लो मोशन कैमरा को स्टेडियम में 500 फ्रेम प्रति सेकेंड पर लगाया जाता है। वहीं एक सामान्य कैमरा 24 फ्रेम प्रति सेकेंड पर इमेज रिकॉर्ड करता है। इस तकनीक का इस्तेमाल रिप्ले, रन आउट और स्टंपिंग को देखने के लिए किया जाता है।

4. जिंग विकेट सिस्टम:-जिंग विकेट सिस्टम एलईडी लाइट वाले स्टंप और उनके ऊपर लगने वाली गिल्ली हैं जो गेंद टकराते ही फ्लैश होने लगती हैं। इस तकनीक की एक गिल्ली की कीमत तकरीबन एक आईफोन जितनी होती है और इसका पूरा सेट लगभग 25 लाख रुपये तक आता है। इन बिल्ट सेंसर की मदद से यह सेकेंड के हजारवें हिस्से में ही डिटेक्ट कर लेता है कि कोई चीज पास आ रही है। रन आउट या स्टंप आउट के समय एक बल्लेबाज को तभी आउट करार दिया जाता है जब गिल्ली पूरी तरह हट जाए। स्टंप को माइक्रोप्रोसेसर और कम वोल्टेज वाली बैटरी के साथ फिट किया  जाता है।

5. मैदान में स्पाइडर कैम का जाल:-टेलीविजन पर आपको हर एंगल से मैदान दिखाने के लिए स्पाइडर कैम का इस्तेमाल होता है। यह कैमरा बहुत ही पतली केबल में जुड़कर स्टेडियम के हर कोने में लगा रहता है। स्पाइडर कैमरा ब्रॉडकास्टर की जरूरतों के मुताबिक स्टेडियम में होने वाली गतिविधियों को टिल्ट, जूम या फोकस, कर देता है। इसके पतले केबल में फाइबर ऑप्टिक केबल भी होते हैं, जो कैमरा में रिकॉर्ड होने वाली तस्वीरों को प्रोडक्शन रूम तक पहुंचाते हैं।

नई दिल्ली:- टाटा स्टील ने घाटे में चल रही यूरोपीय इकाई को बेचने का फैसला किया है। इस कदम से ब्रिटेन स्थित कंपनी के 17,000 कर्मचारियों और वहां की सरकार में हड़कंप मच गया है। यूरोपीय इकाई वही कोरस है जिसे वर्ष 2006 में खरीदकर टाटा रातोंरात दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी स्टील कंपनी बन गई थी।

टाटा स्टील-कोरस विलय:-पांच गुना बड़ी कोरस को टाटा स्टील ने करीब 52,000 करोड़ रुपये में खरीदा था। टाटा स्टील 55वें स्थान से विश्व की पांचवी सबसे बड़ी स्टील कंपनी बन गई थी। यह किसी भारतीय कंपनी का विदेश में सबसे बड़ा अधिग्रहण था। टाटा स्टील का कुल राजस्व करीब 1.50 लाख करोड़ रुपये है। वहीं कर्मचारियों की कुल संख्या 80,000 है।

मौजूदा उत्पादन क्षमता:-टाटा स्टील की भारत, योरोपीय और एशियाई इकाई की सालाना संयुक्त उत्पादन क्षमता 2.90 करोड़ टन है। इसमें 1.3 करोड़ टन क्षमता जमशेदपुर और कलिंगनगर (उड़ीसा) की एवं 1.6 करोड़ टन यूरोपीय इकाई की है।

शीर्ष 10 से बाहर हो जाएगी:-यूरोपीय इकाई की बिक्री के बाद टाटा स्टील शीर्ष 10 बड़ी कंपनियों की सूची से बाहर हो जाएगी। महज 1.3 करोड़ टन क्षमता के साथ टाटा स्टील दुनिया की 20 बड़ी कंपनियों की फेहरिस्त में भी नहीं रहेगी। पहले स्थान पर भारतीय मूल के उद्योगपति लक्ष्मी मित्तल की अर्सेलर मित्तल है जिसकी क्षमता करीब 9.8 करोड़ टन सालाना है।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने आपात बैठक बुलाई:-पिछले पांच वर्षों में टाटा स्टील यूरोप में करीब तीन हजार कर्मचारियों की छंटनी कर चुकी है। मौजूदा समय में करीब 17,000 कर्मचारी हैं। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने गुरुवार को आपात बैठक बुलाकर हर संभव उपाय का वादा किया। वहीं मजदूर संगठनों ने इसका राष्ट्रीयकरण करने की मांग की है।

चीन के सस्ते स्टील ने बिगाड़ी बात:-यूरोप वर्ष 2008 की मंदी से अभी तक नहीं उबर सका है। ऐसे में वहां स्टील की मांग घटी है। वहीं चीन के सस्ते स्टील की आपूर्ति ने वहां के स्टील उद्योग की हालत और बिगाड़ दी है। भारत में भी कंपनियां चीन से आयातित सस्ते स्टील पर शुल्क बढ़ाने की मांग कर रही हैं।

अर्थव्यवस्था का आईना है स्टील:-निर्माण उद्योग का अहम हिस्सा होने की वजह से स्टील को अर्थव्यवस्था का आईना माना जाता है। निर्माण गतिविधियां तेज होने पर स्टील की मांग बढ़ती है जिससे कंपनियों की आय में इजाफा होती है। वहीं मांग घटने से कमाई में गिरावट आती है।

नई दिल्ली:-वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज सिडनी में मेक इन इंडिया सम्मेलन का उदघाटन किया और ऑस्ट्रेलियाई उद्योगों से भारत की विकास गाथा का हिस्सा बनने का आहवान किया। दो दिन के लिए सिडनी आए जेटली ने कहा कि भारत आज विश्व का (ध्यान खींचने वाला) एक प्रमुख केंद्र बन गया है और मेक इन इंडिया पर सरकार का विशेष फोकस है।जेटली ने कहा, भारत बेहद कम कीमत वाला सेवा प्रदाता बन सकता है लेकिन वह खुद को कम लागत वाले निर्माण केंद्र के रूप में ढालने में विफल रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा करने का अवसर अब मिल गया है। उन्होंने कहा, भारत सरकार को लगता है कि निर्माण क्षेत्र को विकसित होने की जरूरत है।मंत्री ने कहा कि कषि क्षेत्र को छोड़कर जा रहे लोगों को देखते हुए आज यह जरूरी है कि भारत की जीडीपी में निर्माण क्षेत्र 25 प्रतिशत योगदान का लक्ष्य हासिल करे। जेटली ने कहा कि अब समय आ गया है, जब मेक इन इंडिया अभियान वास्तविक गतिविधियों को अंजाम दे सकता है।

नई दिल्ली:-सोशल मीडिया ऐप इंस्टाग्राम ने अपने ऐप के वीडियो पोस्ट सेगमेंट में बड़ा बदलाव किया है। अबतक यूजर इंस्टाग्राम पर 15 सेकंड तक के वीडियो पोस्ट करते थे, लेकिन वीडियो सेक्शन में लोगों की बढ़ती दिलचस्पी को देखते हुए कंपनी ने इसके समय को 60 सेकंड तक करने का फैसला किया है। इंस्टाग्राम के मुताबिक कंपनी ने बाईट 6 महीनों में अपने वीडियो सेक्शन में करीब 40 फीसदी तक की ग्रोथ दर्ज की जिसको देखते हुए कंपनी ने अपने वीडियो के साइज को 15 सेकंड से बढाकर 60 सेकंड (एक मिनट) तक करने की घोषणा की है। अपलोड किये गए वीडियो के काउंट्स को भी इसमें देखा जा सकेगा जिससे यह जानना आसान होगा की किसी वीडियो को कितने बार देखा गया है। 

नया फीचर 'डिस्कवर पीपल' हुआ ऐड :-इंस्टाग्राम पर 'डिस्कवर पीपल' नाम के फीचर से आप दूसरे यूजर को आसानी से ढूंढ सकते है। यह एडीशन साइट के वेब वर्जन में होम पेज पर किया गया है। आप इस नए फीचर को कम्पास के आइकॉन से पहचान सकेंगे। यह फीचर इंस्टाग्राम की मोबाइल वेब एप में भी एड किया गया है। जब आप किसी यूजर को इसमें सर्च करेंगे तो आपको उसकी सारी जानकारी के साथ उसकी तरफ से हालही में पोस्ट की गई 3 फोटो्स देखने को मिलेंगी। 

नई दिल्ली/सिडनी:-भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरों में कटौती की अपनी इच्छा का संकेत देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि वह भी वही चाहते हैं जो सब लोग चाहते हैं। रिजर्व बैंक 5 अप्रैल को मौद्रिक नीति की समीक्षा करेगा। सरकार ब्याज दर में कमी की परिस्थितियां तैयार करने की दिशा में अपनी अपेक्षित भूमिका निभा चुकी है।वह चालू वित्त वर्ष में राजाकोषीय घाटे को सकल घरेलू…
नई दिल्ली:-टाटा स्टील की वित्तीय स्थिति खस्ता हाल हो गई है। या फिर ये भी कह सकते हैं कि पूरे ब्रिटेन में आर्थिक मंदी के दौर का असर है कि टाटा स्टील ने अपना पूरा कारोबार बेचने का फैसला किया है। यह फैसला कंपनी की मुंबई में हुई बोर्ड मीटिंग में लिया गया।ब्रिटेन की सबसे बड़ी स्टील मेकर कंपनी टाटा स्टील ने अब अपने लगातार हो रहे घाटों से उबरने…
नई दिल्ली:-सरकार ने ऑनलाइन खुदरा बाजार मंच के क्षेत्र में स्वत (मंजूरी के जरिये 100 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश) एफडीआई: की अनुमति दे दी। सरकार के इस फैसले से फिलफकार्ट और आमेजन जैसी देशी-विदेशी कंपनियांे को बढ़ावा मिलेगा। सरकार का यह फैसला केवल उन्हीं ई-कॉमर्स कंपनियों पर लागू होगा जहां कंपनियां केवल खरीदार और विक्रेताओं के लिये अपना प्लेटफार्म उपलब्ध करायेंगी। ऐसा खुदरा प्लेटफार्म उपलब्ध कराने वाली कंपनियों में ही…
नई दिल्ली:-विजय माल्या और उनके समूह की बंद पड़ी किंगफिशर एयरलाइन्स लिमिटेड ने बैंकों का बकाया धन चुकाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को मोहरबंद लिफाफे में एक प्रस्ताव प्रस्तुत किया। इसमें कहा गया है कि वे स्टेट बैंक और अन्य बैंकों के सिंडिकेट द्वारा दिये गये 6,903 करोड़ रुपए के ऋण में से 4000 करोड़ रुपए सितंबर तक लौटाने को तैयार हैं।न्यायमूर्ति कुरियन जोसफ और न्यायमूर्ति आर एफ…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें