कारोबार

कारोबार (2551)

नई दिल्ली:-ऑटो एक्सपो के पहले ही दिन लगभग सभी कंपनियों ने एक से बढ़कर एक मॉडल पेश किए। किसी मॉडल को फिल्म स्टार कटरीना ने लांच किया, वही ऑटो एक्सपो में रणवीर कपूर भी गाड़ियों को लांच करते हुए दिखाई दिए। भारतीय कार बाजार में अपनी पैठ बनाये रखने के लिए मारुति और हुंडई ने भी कई गाड़ियां लांच की।  

ऑटो एक्सपो में हीरो मोटर्स ने अपनी नई बाइक द ड्यूट का कांसेप्ट मॉडल पेश किया। इस मौके पर बॉलीवुड अभिनेता रणबीर कपूर भी मौजूद रहे।   

सुजुकी ने अपने नई बाइक गिक्‍सर का मॉडल पेश किया। 

अमेरिका के म्यांमी बेस्‍ड निर्माता कंपनी युनाइटेड मोटरसाइकल ने रेनेगेड कमांडो का मॉडल पेश किया। 

जनरल मोटर्स की शेवरले कंपनी ने अपने आईकोनिक कार की सीरीज के तहत कोर्बेट का मॉडल दिखाया। 

शेवरले ने कैमरो कार का मॉडल भी पेश किया। 

इटैलियन सुपरबाइक ब्रांड डीएसके बेनेली ने अपनी नई बाइक टीआरएक्स 502 पेश किया। 

होंडा ने हाइब्रिट स्कूटर और बाइक नवी का मॉडल पेश किया। 

जनरल मोटर्स की शेवरले ने बीट एक्टिव का मॉडल पेश किया। 

हुंडई ने एसयूवी टक्‍शन का मॉडल पेश किया। 

हुंइई ने आई30, सोनाटा, जेनेसिस का भी मॉडल पेश किया।

नई दिल्ली : अग्रणी मोबाइल निर्माता कंपनी मोटोरोला ने भारतीय बाजार में मोटो एक्स फोर्स लॉन्च कर दिया है। इस फोन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि चार साल तक इसका डिस्प्ले टूटेगा नहीं। मोटो एक्स फोर्स 8 फरवरी से ई-स्टोर ​फ्लिपकार्ट और अमेजन इंडिया पर ही उपलब्ध होगा। 

भारतीय बाजार में उपलब्ध मोटो एक्स फोर्स की जानकारी-

वैरियंट - 32 जीबी (49,999 रुपये), 64 जीबी (53,999 रुपये)

डिस्प्ले - 5.4 इंच का QHD डिस्प्ले (कंपनी के दावे के मुताबिक शटरप्रूफ तकनीक से बना फाइव लेयर डिस्प्ले चार साल तक नहीं टूटेगा। इसमें एल्यूमीनियम रिजिड कोर, एमोलेड स्क्रीन और दो लेयर वाले टचस्क्रीन पैनल की पांच लेयर हैं।)

रिजॉल्यूशन - 1440×2560 पिक्सल

प्रोसेसर - 2GHz क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 810 ऑक्टा-कोर चिपसेट 

रेम - 3 जीबी (2 टेराबाइट तक एक्सपांडेबल)

बैटरी - 3760mAh (बैटरी क्विक चार्ज़िंग सपोर्ट के साथ)

कैमरा - f/2.0 अपर्चर, 21 मेगापिक्सल + ड्युअल एलईडी फ्लैश (रियर), पांच मेगापिक्सल + फ्लैश (फ्रंट)

सिम और कनेक्टिविटी - सिंगल सिम डिवाइस, 4G एलटीई, 3G, वाई-फाई और अन्य कनेक्टिविटी फीचर

 

 

 

 

 

 

नई दिल्ली (HH)-दमदार मोटरसाइकिल बनाने वाली रायल एनफील्ड ने मंगलवार को 411 सीसी की मोटरसाइकिल हिमालयन पेश की जो हर तरह के उबड़-खाबड़ रास्तों पर चलने में दक्ष है। आयशर मोटर्स की दोपहिया वाहन इकाई रायल एनफील्ड इस समय बुलेट, क्लासिक, ठंडरबर्ड और कंटिनेंटल जीटी जैसे विभिन्न लोकप्रिय माडल बेचती है।

रायल एनफील्ड के सीईओ सिद्धार्थ लाल ने बताया कि हमारे लिए हिमालय हमेशा से बहुत महत्वपूर्ण रहा है। इसलिए हमने एक ऐसा माडल तैयार करने के बारे में सोचा जो हर तरह के रास्तों पर चल सके। उन्होंने कहा कि कंपनी इस माडल पर पिछले पांच साल से काम करती रही है और विभिन्न तरह के रास्तों पर इसका परीक्षण किया है। कंपनी इस माडल को वाणिज्यिक रूप से मार्च के मध्य में उतारेगी।

 

न्यूयार्क (HH)-मोबाइल मैसेजिंग सेवा प्रदान करने वाली अग्रणी कंपनी ‘व्हाट्सएप’ का इस्तेमाल करने वाले उपयोगकर्ताओं की संख्या एक अरब हो गई। उल्लेखनीय है कि व्हाट्सएप का स्वामित्व फेसबुक के पास है और फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग ने मंगलवार को इसकी घोषणा की।

जुकरबर्ग अपने फेसबुक पेज पर लिखा कि व्हाट्सएप का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या 1 अरब लोग हो गई। ऐसी कुछ ही सेवाएं हैं जो एक अरब लोगों को जोड़ती हैं। यह मील का पत्थर पूरी दुनिया को जोड़ने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। व्हाट्सएप पर हर दिन 42 अरब संदेश, जिसमें 1.6 अरब तस्वीरें और 25 करोड़ वीडियो शामिल हैं, आदान-प्रदान की जाती हैं।

जुगकबर्ग ने लिखा कि फेसबुक से जुड़ने के बाद व्हाट्सएप से जुड़े लोगों का समुदाय दोगुना हो चुका है। हम लोगों को दूरस्थ स्थानों पर रह रहे प्रियजनों से जुड़ने का मौका प्रदान करते हैं। जुगरबर्ग ने इसके अलावा कहा कि वह व्हाट्सएप पर पूरी दुनिया के अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने पर काम कर रहे हैं। इसके साथ ही वह व्हाट्सएप को व्यापार के लिए भी सहज बनाने की कोशिशों में लगे हुए हैं।

यूक्रेन से आकर अमेरिका बस गए जैन कूम और ब्रायन एक्टन ने 2009 में व्हाट्सएप शुरू किया था। इसके बाद 2014 में दिग्गज सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने 19 अरब डॉलर में इसका अधिग्रहण कर लिया था।

मोदी सरकार अब ऑनलाइन बेचेगी LED बल्ब

 

नई दिल्ली (HH)- बिजली की खपत के मामले में किफायती एलईडी बल्ब को अब सरकार ऑनलाइन बेचने की योजना बना रही है। मोदी सरकार ने एलईडी बल्ब से जुड़ी योजना DELP (डॉमेस्टिक एफिशंट लाइटिंग प्रोग्राम) के लिए ऑनलाइन शॉपिंग पॉर्टल्स से अनुबंध किया है।

ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत इस पहल का संचालन करने वाली इकाई एनर्जी एफिशंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) ने हाल ही में देश के सबसे बड़े ऑनलाइन रिटेलर्स में से एक स्नैपडील से इन बल्बों को बेचने के लिए समझौता किया है।

उल्लेखनीय है कि सीएफएल और परंपरागत बल्बों को एलईडी बल्बों से बदलने की मोदी सरकार की योजना को EESL ही ज़मीन पर उतारने का काम कर रही है। यह योजना बड़े पैमाने पर ऊर्जा की खपत और पैसों के दुरुपयोग के साथ-साथ कार्बन उत्सर्जन को कम करने में कारगर है।  

स्नैपडील के साथ हुआ यह समझौता सरकार को इस योजना की मार्कीटिंग और डिस्ट्रिब्यूशन का 5000 शहरों और कस्बों तक प्रसार करने में मदद करेगा। एक अनुमान के मुताबिक EESL अब तक 5.6 करोड़ एलईडी बल्बों का वितरण कर चुका है, जिसके चलते हर दिन करीब 1735 मैगावॉट बिजली की खपत को कम कर दिया है। ऊर्जा बचत की यह मात्रा दिल्ली की कुल खपत का एक तिहाई है और इसकी लागत करीब 7000 करोड़ रुपए तक है। वहीं कार्बन उत्सर्जन के संदर्भ में बात करें तो इसने 16,092 टन कार्बनडाइ ऑक्साइड के उत्सर्जन को प्रतिदिन कम किया है।

गौरतलब है कि सरकार की योजना देश में मौजूद सभी 77 करोड़ परंपरागत बल्बों को एलईडी बल्बों से बदलने की है, जो कि 20 हजार मैगावॉट या 105 बिलियन यूनिट ऊर्जा की बचत करेगा। इससे 80 मिलियन टन प्रतिवर्ष कम कार्बनडाइ ऑक्साइड का उत्सर्जन होगा जबकि बिजली खर्च पर करीब 40,000 करोड़ रुपए की सालाना बचत होगी। 

 

क्या आप एडवेंचर स्पोर्ट्स की चाहत में कुछ भी छोड़ सकते हैं? क्या आप प्रकृति के करीब रहना पसंद करते हैं? अगर इन सवालों का जवाब आपकी ओर से ‘हां’ है, तो आप एडवेंचर स्पोर्ट्स की दुनिया में अपने लिए बेहतर करियर तलाश सकते हैं। घरेलू पर्यटन में वृद्धि होने की वजह से एडवेंचर स्पोर्ट्स के पेशेवरों की मांग में भी कई गुना का इजाफा हुआ है। इसके अलावा नेशनल जियोग्राफिक, डिस्कवरी, एएक्सएन और एनिमल प्लेनेट जैसे चैनल सामान्य यात्राओं की बजाए रोमांच से भरपूर यात्राओं पर जाने वाले पर्यटकों को विशेष लाभ भी मुहैया कराते हैं।

 

क्या है एडवेंचर स्पोर्ट्स

इसे एक्शन स्पोर्ट्स, ऐग्रो स्पोर्ट्स और एक्सट्रीम स्पोर्ट के नाम से भी जाना जाता है। इसके दायरे में वह गतिविधियां (खेल संबंधी) शामिल होती हैं, जिनमें बड़े खतरे अंतर्निहित होते हैं। इन गतिविधियों में गति, उच्च स्तर के शारीरिक दमखम और विशेष कौशल की दरकार होती है।

 

कई तरह के एडवेंचर स्पोर्ट्स

इन खेलों को मोटे तौर पर तीन श्रेणियों में बांटा जा सकता है- एअर स्पोर्ट्स, लैंड स्पोर्ट्स और वॉटर स्पोर्ट्स। खेलों की इन श्रेणियों में ढेर सारे खेल शामिल हैं, इनमें से कुछ प्रमुख हैं-

 

एअर स्पोर्ट्स : बंजी जंपिंग, पैराग्लाइडिंग, स्काई डाइविंग और स्काई सर्फिग आदि।

लैंड स्पोर्ट्स : रॉक क्लाइम्बिंग, स्केट बोर्डिग, माउंटेन बाइकिंग, स्कीइंग, स्नो बोर्डिग और ट्रैकिंग आदि।

वाटर स्पोर्ट्स : स्कूबा डाइविंग, व्हाइट वाटर राफ्टिंग, कायकिंग, केनोइंग, क्िलफ डाइविंग,स्नॉर्केलिंग और याट रेसिंग आदि।

 

एडवेंचर स्पोर्ट्स पेशेवरों का काम

ये पेशेवर भौगोलिक दृष्टि से उन क्षेत्रों की तलाश करते हैं, जहां एडवेंचर स्पोर्ट्स की संभावना हो। इसके साथ ही वह उस क्षेत्र में खेल से जुड़े जोखिमों का आकलन भी करते हैं। इन कार्यों को करने के बाद वह खेल गतिविधियों को संचालित करने का प्रारूप तैयार करते हैं और संभावित खतरों से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन की कार्ययोजना भी बनाते हैं। वह किसी एडवेंचर स्पोर्ट्स में शामिल गतिविधियों के लिए आवागमन का मार्ग तय करते हैं और अन्य जरूरी तैयारियों में मदद करते हैं। इसी तरह इन खेलों के लिए आयोजित होने वाले शिविरों में हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों को वह खेल की सही तकनीकों और जरूरी कौशल की जानकारी देते हैं। एडवेंचर स्पोर्ट्स की हर गतिविधि से सीधे जुड़े होते हुए भी उन्हें प्रशिक्षण और कैंपिंग शिविरों से संबंधित प्रशासकीय कार्य भी करने पड़ते हैं। यह पेशा देखने में भले ही बेहद रोमांचक हो, लेकिन असल जिंदगी में यह काफी चुनौतीपूर्ण है। इसके पेशेवरों को हमेशा जोखिम उठाते हुए जिंदगी की महीन डोर के सहारे चलना पड़ता है। उन्हें कई बार घबराए हुए और कई बार उत्साही क्लाइंटों को संभालने की जिम्मेदारी भी उठानी पड़ती है।

 

रोजगार के मौके 

एडवेंचर स्पोर्ट्स के क्षेत्र में सबसे ज्यादा रोजगार एडवेंचर स्पोर्ट्स कंपनियां देती हैं। हालांकि इस क्षेत्र में कार्यरत लोगों के पास काम में बदलाव करके भी रोजगार और अपनी पेशेवर रुचि को बरकरार रखने का विकल्प होता है। वह स्कूलों के साथ मिलकर छात्रों के लिए आउटडोर एजुकेशन प्रोग्राम संचालित कर सकते हैं, तो पर्सनल ट्रेनर और कैजुअल टूर गाइड के रूप में भी कार्य कर सकते हैं। इसके अलावा वह अपनी निजी एडवेंचर स्पोर्ट्स कंपनी भी शुरू कर सकते हैं। कुछ लोग तो इस क्षेत्र में काम करने के लिए दुनिया की सैर करने का विकल्प भी चुनते हैं।

 

प्रमुख रोजगार प्रदाता

-एक्सकर्शन एजेंसियां ’हॉलिडे रिजॉर्ट्स

-लीजर कैम्प्स ’कमर्शियल रीक्रिएशन सेंटर्स

-एडवेंचर स्पोर्ट्स सेंटर्स ’ट्रैवल एंड टूरिज्म एजेंसियां ’एजुकेशनल इंस्टीटय़ूट

-कोचिंग इंस्टीटय़ूट

 

इन भूमिकाओं में मिलेगा काम 

-एडवेंचर स्पोर्ट्स इंस्ट्रक्टर ’एडवेंचर स्पोर्ट्स एथलीट ’आउटबाउंड ट्रेनिंग फेसिलिटेटर एंड ट्रेनर ’एडवेंचर स्पोर्ट्स फोटोग्राफर ’एडवेंचर टूरिज्म फैसिलिटेटर ’एडवेंचर कैंप काउंसलर ’एक्स्ट्रीम स्पोर्ट्स स्पेशलिस्ट ’वाटर एंड एरो स्पोर्ट्स स्पेशलिस्ट ’ट्रैकिंग एंड माउंटेन गाइड ’एडवेंचर टूर गाइड ’कैंप नर्स ’सफारी गाइड ’वाइल्डलाइफ एंड 

ट्रैवल फोटोग्राफर : समर कैंप काउंसलर

जरूरी गुण

-रोमांच से लगाव हो

-शारीरिक मजबूती और मानसिक दृढम्ता हो

-जोखिम उठाने की क्षमता हो

-टीम संग मिलकर काम करने की कुशलता हो

-काम के प्रति निष्ठा और जिम्मेदार रवैया हो

-फर्स्ट एड की मूलभूत जानकारी के अलावा कम्पास और नक्शों को पढम्ने का ज्ञान हो

-अलग-अलग संस्कृतियों से जुड़े लोगों से समन्वय करने में दक्षता हो

-साहस और निडरता हो

-अपने खेल के तकनीकी पक्षों की गहरी जानकारी हो

 

योग्यता

-एडवेंचर स्पोर्ट्स के क्षेत्र में बतौर पेशेवर काम करने के लिए किसी विषय के साथ बारहवीं या बैचलर डिग्री प्राप्त होना पर्याप्त है। इस योग्यता के आधार पर एडवेंचर स्पोर्ट्स में डिप्लोमा या डिग्री पाठय़क्रम संचालित करने वाले संस्थानों में प्रवेश लिया जा सकता है। इन संस्थानों में प्रशिक्षण पाठय़क्रम पूरा करने के बाद आसानी से रोजगार प्राप्त किया जा सकता है।

-इसके अलावा शारीरिक रूप से मजबूत और स्वस्थ होना भी आवश्यक होता है।

-इस पेशे में जल आधारित खेलों के लिए तैराकी में निपुण होना जरूरी होता है।

-अंग्रेजी और किसी एक विदेशी भाषा में दक्ष होना भी इस पेशे में मददगार होता है।

 

संबंधित संस्थान 

हिमालयन माउंटेनियरिंग इंस्टीटय़ूट, दार्जिलिंग

नेहरू इंस्टीटय़ूट ऑफ माउंटेनियरिंग, उत्तरकाशी

जवाहर इंस्टीटय़ूट ऑफ माउंटेनियरिंग, जम्मू और कश्मीर

विंटर स्पोर्ट्स स्कीइंग सेंटर, कुल्लू

रीजनल माउंटेनियरिंग सेंटर, मैक्लोडगंज

हिमालयन एडवेंचर इंस्टीटय़ूट, मसूरी

टोक्यो (HH)-भारत और वियतनाम से आनेवालों को जापान वीजा नियमन में छूट प्रदान करने जा रहा है। इसके तहत मल्टीपल एंट्री वीजा की अवधि दोगुनी होगी। जापान टाइम्स द्वारा मंगलवार को जारी रपट के अनुसार, विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि नियमों में यह ढील 15 फरवरी से लागू होगा। इससे प्रारंभ में व्यापार वीजा पर यात्रा करनेवालों और सांस्कृतिक उद्देश्यों से यात्रा करनेवालों और बुद्धिजीवियों को…
नई दिल्ली (HH)-चीन की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी लेईको ने मंगलवार को फ्लैश सेल में मात्र दो सेकंड में ऑनलाइन रिटेल प्लेटफॉर्म फ्लिपकार्ट पर 70 हजार ले1एस स्मार्टफोन बेच डाले। लेईको इंडिया के स्मार्ट इलेक्ट्रॉनिक कारोबार के मुख्य संचालन अधिकारी अतुल जैन ने फ्लैश सेल खत्म होने के बाद कहा कि हमने अपने पहले फ्लैश सेल में मात्र दो सेकंड में 70 हजार फोन बेच डाले हैं। हमारी खुशी की सीमा…
नई दिल्ली (HH)- महंगाई बढऩे और वित्तीय सुदृढ़ीकरण के लिए बजट में उपाय किए जाने कह संभावनाओं के बीच रिजर्व बैंक के ऋण एवं मौद्रिक नीति की छठी द्विमासिक समीक्षा में ब्याज दरों को स्थिर बनाए रखने की संभावना है। शोध सलाह देने वाली कंपनी डीबीएस ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में महंगाई दर दूसरी तिमाही के 3.9 फीसदी के मुकाबले…
नई दिल्ली (HH)-कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफआे) के तहत अतिरिक्त 50 लाख कामगारों को सामाजिक सुरक्षा उपलब्ध कराने के उपाय के तौर पर श्रम मंत्रालय ने न्यूनतम 10 या उससे अधिक संख्या में कर्मचारी वाली इकाइयों को ईपीएफ के दायरे में लाने के लिए एक अधिशासी आदेश जारी करने का निर्णय किया है। मौजूदा न्यूनतम कर्मचारी सीमा की आधी है। र्तमान में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन एवं विविध प्रावधान कानून…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें