कारोबार

कारोबार (2544)

नई दिल्ली:-सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगाने की ख़बर आए दिन मिलती है। इस बार ब्राजील की एक अदालत ने 72 घंटों के लिए पूरे देश में व्हाट्सएप की सभी सेवाओं को स्थगित करने का आदेश दिया है। अदालत का यह आदेश सोमवार को स्थानीय समयानुसार दोपहर दो बजे से लागू हो चुका है। संघीय पुलिस के आग्रह के बाद न्यायाधीश मार्शेल मेया मोंटाल्वो ने यह फैसला सुनाया। फेसबुक की स्वामित्व वाली मैसेजिंग सर्विस व्हाट्सएप मैसेंजर के इस्तेमाल की जांच में सहयोग करने से इनकार करने की वजह से यह फैसला सुनाया गया है।मोंटाल्वो ने फेसबुक को व्हाट्सएप के उन यूजर्स के नामों का खुलासा करने का आदेश दिया था, जिन्होंने ड्रग्स के बारे में सूचना का आदान-प्रदान किया था लेकिन फेसबुक ने ऐसा करने से इनकार दिया। इसके बाद फेसबुक को प्रतिदिन 50,000 रीस (14,300 डॉलर) का जुर्माना अदा करने के लिए कहा गया। इसका पालन नहीं करने पर पिछले महीने फेसबुक पर 10 लाख रीस (286,000 डॉलर) का जुर्माना लगाया गया था।अब तक व्हाट्सएप  के मैसेज सुरक्षा एजेंसियों से लेकर हैकर तक कोई भी इंटरसेप्ट कर सकता था, लेकिन अब मैसेज ऐसे कोड में जाएगा कि कोई नहीं पढ़ पाएगा। अभी तक एप्पल और ब्‍लैकबेरी को ही सबसे सिक्योर माना जाता था। हाल ही में ऐसा मामला अमेरिका में सामने आया था। एप्पल कंपनी ने निजता को प्राथमिकता देते हुए एक कथित आतंकी के आईफोन के डाटा को अमेरिकी सरकार को देने से मना कर दिया था।

नई दिल्ली:-ब्रिटेन घूमने आए सऊदी अरब के सुल्तान तुर्की बिन अब्दुल्लाह एक बार फिर से चर्चा के विषय बने हुए है। दरसल तुर्की बिन अब्दुल्लाह ने अपने सोने की सुपर कार लेम्बोर्गिनी एवेंटाडोर को लंदन के मेफेयर स्ट्रीट पर गलत तरीके से पार्क किया जिसपर लोकल पुलिस ने उनकी तीन करोड़ रुपए की कार पर जुर्माने लगा दिया। यह कोई पहला मामला नहीं जिसमे बिन अब्दुल्लाह ने इतना बड़ा जुर्माना दिया हो, वो अक्सर देते रहते हैं। सहजादे तुर्की बिन अब्दुल्लाह बीते दिनों तब चर्चा में आये जब उन्हें लंदन की सड़कों पर अपने सोने की कारों के काफिले के साथ घूमते देखा गया था। इसने गोल्डन करें के काफिले में रॉल्स रॉयस फेंटम कूपे, मर्सिडीज 6X6, हमर और लम्बोर्गिनी एवेंटाडोर जैसे सुपर कारें शामिल है जिसे वो अक्सर एक साथ लेकर सड़कों पर दिखाई देतें हैं। सोशल मीडिया पर लगातार इन गाड़ियों की तस्वीरें और वीडियो शेयर किए जा रहे हैं। लोग कह रहे हैं कि उन्होंने गाड़ियां तो तमाम देखीं, लेकिन ऐसी सोने की गाड़ियां कभी नहीं देखीं।राजकुमार तुर्की बिन अब्दुल्लाह के इंस्टाग्राम अकाउंट को 73 हजार से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। अपने अकाउंट पर इन्होंने अब तक 180 से ज्यादा वीडियो और तस्वीरें शेयर की हैं। अधिकतर वीडियो और तस्वीरों में राजकुमार की गाड़ियां नजर आ रही हैं।

लंदन:-एक ऑस्ट्रेलियाई उद्यमी ने खुद को डिजिटल नकदी प्रणाली बिटकाइन का सृजक बताया है। इसके साथ ही इस मुद्रा के संस्थापक को लेकर वर्षों से चले आ रही अटकलों को विराम लग सकता है। क्रेग राइट ने अपनी पहचान का खुलासा तीन मीडिया संस्थानों -बीबीसी, द इकनामिस्ट व जीक्यू- के समक्ष किया है। उनकी उम्र 45 साल है।राइट ने कहा है कि 2009 में यह मुद्रा शुरू करते समय उन्होंने अपना छद्म नाम सातोशी नाकामातो रखा। उललेखनीय है कि इन तीन मीडिया संस्थानों ने दिसंबर में जब उनकी पहचान का खुलासा किया तो उन्होंने टिप्पणी से इनकार किया।आज राइट ने खुद आगे आकर बिटकाइन के संस्थापक के रूप में अपनी पहचान का सबूत दिया है। उनके दावे की पुष्टि बिटकाइन फाउंडेशन के संस्थापक निदेशकों में से जॉन मेटोनिस ने की है। 

नई दिल्ली:-संसद की एक समिति ने रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के बढ़ते डूबे कर्ज (एनपीए) की वास्तविक वजह बताने को कहा है। राजन ने समिति के समक्ष इसकी प्रमुख वजह कुल आर्थिक कमजोरी को बताया है। कांग्रेस नेता के वी थॉमस की अगुवाई वाली लोक लेखा समिति (पीएसी) ने राजन के जवाब की समीक्षा की। समिति का कार्यकाल कल समाप्त हो गया है। सूत्रों ने बताया कि समिति के पुनर्गठन के बाद रिजर्व बैंक के गवर्नर को भविष्य में उसके समक्ष पेश होने को कहा जा सकता है।इसके अलावा विभिन्न सरकारी बैंकों को भी अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए समिति के समक्ष पेश होने का कहा जा सकता है। संसदीय समिति ने स्वत: संज्ञान लेते हुए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की गैर निष्पादित आस्तियों की समीक्षा का फैसला किया था। दिसंबर, 2015 के अंत तक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का एनपीए 3.61 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया। दिसंबर के अंत तक 701 खाते ऐसे थे, जिनपर सरकारी बैंकों का बकाया 1.63 लाख करोड़ रुपये था। इन सभी खातों पर बकाया 100-100 करोड़ रुपये से अधिक था। इसमें सबसे अधिक हिस्सा भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का था। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक पहले पीएसी के समक्ष पेश होने को तैयार नहीं थे, लेकिन बाद में वे इसके लिए राजी हो गए और उन्होंने समिति के समक्ष अपनी बात रखी। 

सिर्फ एक फीसदी आबादी देती है कर

नई दिल्ली:-देश की कुल आबादी में करदाताओं की संख्या सिर्फ एक प्रतिशत हैं। हालांकि, 5,430 लोग ऐसे हैं जो सालाना एक करोड़ रुपये से अधिक का कर देते हैं। सरकार के आकलन वर्ष 2012-13 के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। पारदर्शिता अभियान के तहत सरकार ने पिछले 15 साल के प्रत्यक्ष कर आंकड़ों को सार्वजनिक किया है। आकलन वर्ष 2012-13 के लिए लोगों के आंकड़ों को प्रकाशित किया गया है।इसमें 31 मार्च, 2012 को समाप्त वित्त वर्ष के आयकर के आंकड़े दिए गए हैं। कुल मिलाकर 2.87 करोड़ लोगों ने वित्त वर्ष के लिए आयकर रिटर्न दाखिल किया। इनमें से 1.62 करोड़ ने कोई कर नहीं दिया। इस तरह करदाताओं की कुल संख्या 1.25 करोड़ रही, जो उस समय देश की 123 करोड़ की आबादी का लगभग एक प्रतिशत बैठता है।आंकड़ों के अनुसार ज्यादातर यानी 89 प्रतिशत या 1.11 करोड़ लोगों ने 1.5 लाख रुपये से कम का कर दिया। इस दौरान औसत कर भुगतान 21,000 रुपये रहा। कुल कर संग्रहण 23,000 करोड़ रुपये रहा। 100 से 500 करोड़ रुपये के दायरे में तीन लोगों ने 437 करोड़ रुपये का कर दिया। इस तरह औसत कर भुगतान 145.80 करोड़ रुपये रहा।कुल मिलाकर 5,430 लोगों ने एक करोड़ रुपये से अधिक का आयकर अदा किया। इनमें से 5,000 लोगों का कर भुगतान एक से पांच करोड़ रुपये के दायरे में रहा। इन लोगों का कुल कर भुगतान 8,907 करोड़ रुपये रहा। कुल आंकड़ों के अनुसार 2015-16 में कुल आयकर संग्रहण नौ गुना बढ़कर 2.86 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया। यह 2000-01 में 31,764 करोड़ रुपये था। 

बीजिंग:-चीन के वाणिज्य मंत्रालय (एमओसी) ने अमेरिका द्वारा चीन से हो रहे इस्पात के निर्यात की एंटी-डंपिंग और एंटी सब्सिडी जांच के खिलाफ संभावित कानूनी कदम उठाने के संकेत दिए। अमेरिका द्वारा जांच की घोषणा के बाद एमओसी द्वारा जारी बयान के मुताबिक, चीन कानून के अनुरूप अपनी इस्पात कंपनियों के बचाव का समर्थन करेगा।चीन विश्व व्यापार संगठन के नियमों के अनुरूप इस्पात कंपनियों के वैधानिक अधिकारों एवं हितों की सुरक्षा करेगा। एमओसी ने कहा कि ये उपाय वैश्विक इस्पात अधिक्षमता का समाधान नहीं है। इससे सामान्य वैश्विक व्यापार बाधित होगा।

नई दिल्ली:-अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने-चांदी की कीमती में आई तेजी और घरेलू बाजार में ज्वेलरी की बढ़ती मांग से कीमतों में जबरदस्त उछाल देखने को मिला। सोना की कीमतें बीते कारोबारी हफ्ते में 750 रुपए की उछाल चढ़कर 30,300 के स्तर पर पहुंच गई, को की दो सालों में सोने की कीमतों का यह उच्चतम स्तर है। वही इंडस्ट्रियल मांग बढ़ने और सिक्का निर्माताओं से बढ़ाते डिमांड के कारण चांदी…
न्यूयार्क:-कई महीनों की बीटा जांच के बाद सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक शुक्रवार को विंडो-10 पर अपने नए फेसबुक और मैसेंजर एप लांच करेगी। कंपनी विंडो-10 मोबाइल के लिए नया फोटो-शेयरिंग इंस्टाग्राम एप की भी घोषणा करेगी। अमेरिकी प्रौद्योगिकी समाचार नेटवर्क द वर्ज के मुताबिक, फेसबुक और मैसेंजर एप विंडो-10 डेस्कटॉप के लिए लांच होगा, विंडो-10 मोबाइल के लिए नहीं, लेकिन इस साल के अंत तक इसके मोबाइल के लिए भी…
नयी दिल्ली: काले धन पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) के उपाध्यक्ष न्यायाधीश न्यायमूर्ति अरिजित पसायत ने कहा है कि वैट जैसे राज्यों के कर कानूनों के उल्लंघन को भी गंभीर अपराध की श्रेणी में रखकर ऐसे मामलों में प्रवर्तन निदेशालय आदि एजेंसियों से मनी लांड्रिंग निवारक अधिनियम के तहत कार्रवाई की व्यवस्था की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे आर्थिक अपराधों को लेकर लोगों में डर…
नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम को अब तिरुपति बालाजी का सहारा मिलने वाला है। दुनिया के सबसे समृद्ध तिरुपति बालाजी मंदिर का प्रबंधन करने वाले तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) ने मंदिर का सारा सोना इस योजना में निवेश करने की योजना बनाई है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मंदिर के पास इस समय करीब 7.5 लाख टन सोना है। टीटीडी ने हाल ही में कहा कि…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें