कारोबार

कारोबार (2549)

नई दिल्‍लीः सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज कहा कि फेसबुक समेत अन्‍य सोशल मीडिया का दुरुपयोग अगर चुनावों को प्रभावित करने के लिए किया गया तो इसे बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा यदि जरूरत पड़ी तो फेसबुक जैसे सोशल मीडिया मंचों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
डेटा चोरी का प्रयास बर्दाश्त नहीं किया जाएगा ;-सरकार ने सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म फेसबुक के मुखिया मार्क जुकरबर्ग को आज चेतावनी दी कि उसके प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने वाले 20 करोड़ भारतीयों के डाटा की चोरी या दुरुपयोग के किसी भी तरह के प्रयास पर उन्हें भारत में तलब करेगी। सूचना प्रौद्योगिकी और कानून विभागों के केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा, मार्क जुकरबर्ग, आप अच्छी तरह से समझ लें, अगर फेसबुक के सिस्टम से कोई डाटा चोरी या डाटा के दुरुपयोग किया गया तो इसके खिलाफ सख्त से सख्त एक्शन लिया जाएगा। हमारे आईटी कानून के तहत कड़े अधिकार है जिनमें आपको भारत में सम्मन करने का अधिकार शामिल है।
कांग्रेस पर साधा निशाना :-फेसबुक के साथ ही प्रसाद ने कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने 2019 के चुनाव प्रचार के लिए ब्रिटिश एजेंसी कैंब्रिज एनालिटिका को जिम्मेदारी सौंपी है, जिस पर कई गंभीर आरोप लगे हैं। मीडिया के एक सेक्शन द्वारा इसे कांग्रेस के 'ब्रह्मास्त्र' के तौर पर बताया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि जिस एजेंसी को कांग्रेस पार्टी ने हायर किया है उस पर घूस लेने, सेक्स वर्कर्स के जरिए राजनेताओं को फंसाने और फेसबुक से डाटा चुराने जैसे गंभीर आरोप लगे हैं। उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल में कैंब्रिज एनालिटिका की भूमिका स्पष्ट करनी चाहिए।
5 करोड़ लोगों का डेटा लीक करने का आरोप :-बता दें कि कैंब्रिज एनालिटिका पर फेसबुक के 5 करोड़ सदस्‍यों से जुड़ी जानकारियों का दुरुपयोग करने आरोप लगा है। इसके बाद कंपनी ने अपने चीफ एक्जीक्यूटिव अलेक्जेंडर निक्स को सस्पेंड कर दिया है। कैंब्रिज एनालिटिका वहीं कंपनी है जिसने 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रंप की कैंपेनिंग की थी।

 

नई दिल्ली: एयरलाइन कंपनी कतर एयरवेज और इंडिगो मिलकर एयर इंडिया के लिए संयुक्त बोली लगाने को तैयार हैं। यह जानकारी एक मीडिया रिपोर्ट के जरिए सामने आई है। केंद्र सरकार राष्ट्रीय विमानवाहक के निजीकरण के लिए इच्छुक बोलीदाताओं से प्रारंभिक रुचि ज्ञापन (पीआईएम) और एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) मंगवाने की तैयारी कर रही है। रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी एक्ट के मौजूदा फार्म्यूले के तहत बोलीदाता की नेटवर्थ 1000 करोड़ रुपए से ऊपर की होनी चाहिए और ऐसा होने पर ही उसे बिड लगाने की अनुमति मिलेगी। इंडिगो का स्वामित्व इंटरग्लोब एविएशन लिमिटेड के पास है जबकि कतर एयरवेज का स्वामित्व कतर सरकार के पास है।घाटे में चल रही एयर इंडिया के रणनीतिक विनिवेश कार्यक्रम को आगे बढ़ाते सरकार की ओर से जल्द ही बोलीदाताओं के एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) की मांग की जा सकती है। इसकी खामियों के विपरीत, सूत्र के मुताबिक तीन पूर्ण सेवाओं वाला समूह जिसमें जेट एयरवेज भी शामिल हैं राष्ट्रीय विमानवाहक कंपनी के लिए बोली लगाने को तैयार है। सूत्र के मुताबिक जेट एयरवेज ने एयर फ्रांस-केएलएम और डेल्टा एयरलाइन्स के साथ मिलकर एयर इंडिया के विनिवेश कार्यक्रम में शामिल होने में रुचि दिखाई है।

ई दिल्लीः पंजाब नेशनल बैंक में नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की ओर से किए गए 14,600 करोड़ रुपए के महाघोटाले का शोर अभी थमा भी नहीं था कि एक और घोटाला सामने आ गया। इस बार घोटाले का मुख्य शिकार भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) बना है। चेन्नई स्थित ज्वेलरी कंपनी कनिष्क गोल्ड के मालिक ने एक साथ 14 बैंकों को एक हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की चपत लगाई और बाद में विदेश फरार हो गया है।
CBI करेगी जांच:-जानकारी के मुताबिक कनिष्क गोल्ड के मालिक भूपेश जैन और उनकी पत्नी नीता जैन ने एसबीआई सहित 13 अन्य बैंकों से करीब 842.15 करोड़ रुपए का लोन लिया था। एसबीआई ने सबसे ज्यादा लोन कनिष्क गोल्ड को दिया था। फिलहाल भूपेश और उसकी पत्नी फरार चल रहे हैं। बैंकों का मानना है कि दोनों इस वक्त मॉरिशस में रहते है। अब ब्याज मिलाकर के यह 1000 करोड़ रुपए से अधिक का हो चुका है। अब इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई है। हालांकि अभी तक किसी तरह की कोई एफआईआर दर्ज नहीं की गई है।
ऑफिस और शोरूम बंद:-बैंकों ने 5 अप्रैल 2017 को कंपनी के खिलाफ ऑडिट शुरू किया था। प्रोमोटर्स से इस दौरान संपर्क करने की कोशिश की गई। लेकिन, उनसे संपर्क नहीं हो सका। 25 मई 2017 को बैंक कनिष्क के कॉरपोरेट ऑफिस में पहुंचे, लेकिन ऑफिस, फैक्ट्री और शोरूम में कामकाज पूरी तरह बंद था। उसी दिन कंपनी प्रोमोटर भूपेश कुमार जैन ने बैंकर्स को चिट्ठी लिखकर यह बात कबूल की थी कि उसने रिकॉर्ड के साथ छेड़छाड़ और स्टॉक्स को हटाया है। वहीं, कंपनी के दूसरे शोरूम भी बंद हो चुके है।

 

 

 

नई दिल्लीः वाणिज्य मंत्रालय राष्ट्रीय रबड़ नीति तैयार कर रहा है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने आज कहा कि रबड़ क्षेत्र के समक्ष विभिन्न मुद्दों को हल करने के लिए राष्ट्रीय रबड़ नीति लाने की तैयारी है। प्रभु ने कहा, ‘‘यह नीति इसलिए जरूरी है क्योंकि क्षेत्र के समक्ष कई तरह की चुनौतियां हैं। हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि इस नीति के जरिए सभी मुद्दों को हल कर दिया जाए। इस बारे में हमारी एक बैठक हो चुकी है।’’उन्होंने कहा कि प्रस्तावित नीति का उद्देश्य निर्यात और रबड़ उत्पादन बढ़ाना है। ऐसा करते समय किसान हितों का भी ध्यान रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि इन मुद्दों से निपटने के लिए एक कार्यबल गठित किया गया है, जिसमें राज्यों और केंद्र सरकार के प्रतिनिधि हैं। यह कार्यबल इन मुद्दों लघु अवधि का समाधान तथा दीर्घावधि की रणनीतियां सुझाएगा। क्षेत्र के समक्ष प्रमुख मुद्दों में प्राकृतिक रबड़ के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य, आयात पर अंकुश, न्यूनतम आयात मूल्य, कृषि उत्पाद के रूप में प्राकृतिक रबड़ का वर्गीकरण, सेफगार्ड शुल्क और रबड़ बोर्ड के लिए बजटीय आवंटन में वृद्धि शामिल हैं।


नई दिल्ली - केंद्र सरकार ने आज एक बड़ा फैसला लेते हुए कच्ची और परिष्कृत चीनी पर एक्सपोर्ट ड्यूटी (निर्यात शुल्क) को पूरी तरह से खत्म कर दिया। सरकार ने यह फैसला शिपमेंट को बढ़ावा देने के लिए लिया है क्योंकि चालू वित्त वर्ष 2017-18 के मार्केटिंग सीजन में देश 29.5 मिलियन टन चीनी का उत्पादन करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। आपको बता दें कि चीनी पर एक्सपोर्ट ड्यूटी की दर अभी तक 20 फीसद निर्धारित थी।
केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) ने बताया कि अब यह फैसला लिया गया है कि रॉ सुगर, व्हाइट सुगर और रिफाइंड सुगर पर एक्सपोर्ट ड्यूटी को 20 फीसद से घटाकर निल पर लाया जाए। इससे पहले सरकार ने शिपमेंट की जांच के लिए चीनी पर आयात शुल्क को दोगुना बढ़ाकर 100 फीसद कर दिया था। चीनी के मामले में भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है। 2017-18 के मार्केटिंग इयर (अक्टूबर से सितंबर की अवधि) के दौरान इसका आउटपुट तेजी से बढ़कर 29.5 करोड़ टन होने का अनुमान है, जबकि बीते वर्ष की समान अवधि के दौरान यह 20.3 मिलियन टन रहा था। आपको बता दें कि देश में चीनी की घरेलू मांग सालाना 24-25 मिलियन टन है।
सरकार ने क्यों किया फैसला: घरेलू कीमतों के उत्पादन लागत स्तर से भी नीचे चले जाने के कारण, चीनी उद्योग संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) और नेशनल फेडरेशन ऑफ कोऑपेरेटिव शुगर फैक्ट्रीज (एनएफसीएसएफ) ने निर्यात शुल्क को खत्म करने की मांग की थी।

 


नई दिल्ली - 12,600 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले में शामिल मेहुल चौकसी को सीबीआई ने जांच के लिए पेश होने को नोटिस भेजा था। इस पर मंगलवार को चौकसी ने पत्र लिखकर खराब तबियत और विदेश में अपने कारोबार में व्यस्तता के चलते भारत लौटने में असमर्थता का जताई है।
मेहुल चौकसी की ओर से पत्र लिखने के बावजूद उनकी कंपनी गीतांजलि जेम्स के शेयर्स में कोई सुधार नहीं देखने को मिल रहा है। जिस दिन पीएनबी फ्रॉड उजागर हुआ था, यानी 14 फरवरी, 2018 को गीतांजलि जेम्स के शेयर्स का भाव बीएसई पर 64.20 था। जो कि 20 मार्च, 2018 तक गिरकर 11.20 के स्तर पर आ गया है। आज के कारोबार में गीतांजलि जेम्स लोअर सर्किट लगकर बंद हुआ है।
क्या रहा गीतांजलि जेम्स का बीएसई पर प्रदर्शन-
मंगलवार को बीएसई पर गीतांजलि जेम्स 4.68 फीसद की गिरावट के साथ 11.20 के स्तर पर कारोबार कर बंद हुआ है। आज के कारोबार में गीतांजलि जेम्स लोअर सर्किट लगकर बंद हुआ है। वहीं इसका दिन का निम्नतम 52 हफ्तों का निम्नतम स्तर भी रहा। इसका 52 हफ्तों का उच्चतम स्तर 104.80 का रहा है।
मेहुल चौकसी ने क्या लिखा पत्र में-
मेहुल चौकसी ने अपने पत्र में लिखा, ‘मैं फिर से कहता हूं कि मैं विदेश में हूं और पहले भी आपके नोटिस पर जवाब दिया है। हैरानी की बात है कि उठाए गए मुद्दों पर अब तक किसी तरह की बात नहीं हुई है जिससे मुझे मेरी सुरक्षा को लेकर डर काफी बढ़ गया है। मीडिया स्वयं मेरा ट्रायल कर रही है और बिना कारण मामलों को बढ़ा-चढ़ा रही है। मैं यह चाहता हूं कि एजेंसियों की ओर की जा रहीं कार्रवाईयों के जरिए मुझे मजबूरन जांच के लिए पेशी का नोटिस देना गलत है। जिस तरह से मुझपर लगे आरोपों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया है उसकी वजह से मैं पूरी तरह से हैरान हूं। मैं विदेशों के अपने व्यवसाय में बहुत व्यस्त हूं और मैं मुद्दों को हल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा हूं। इसके अलावा मैं अपने बिगड़ते स्वास्थ्य की वजह से भारत आने में असमर्थ हूं।

नई दिल्ली - सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर करीब पांच करोड़ से ज्यादा यूजर्स के डेटा लीक होने की खबरों से फेसबुक के शेयर्स में भारी गिरावट देखने को मिली है। फेसबुक के शेयर्स में करीब आठ फीसद तक की गिरावट दर्ज की गई है। इस कारण मार्क जुकरबर्ग को एक ही दिन में 395 अरब रुपये (6.06 अरब डॉलर) और कंपनी को 35 अरब डॉलर का घाटा हुआ है।क्या…
नई दिल्लीः सोनी इंडिया ने केनिचिरो हिबी की जगह सुनील नय्यर को कंपनी का नया प्रबंध निदेशक बनाया है। कंपनी ने आज इसका ऐलान किया। वहीं, 2012 से अब तक सोनी इंडिया की कमान संभालने वाले हिबी को सोनी ब्राजील के अध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया है। सोनी इंडिया ने बयान में कहा, "नय्यर सोनी इंडिया के प्रबंध निदेशक के रूप में नियुक्त होने वाले पहले भारतीय हैं। नई…
नई दिल्लीः भारत समेत एशिया- प्रशांत क्षेत्र के अन्य देशों में फ्रीलांस नौकरियों में तेजी आने वाली है। एक सर्वेक्षण के अनुसार, काम खोज रहे लोग अब पारंपरिक पूर्णकालिक नौकरियों की जगह लचीले एवं अनुबंध आधारित रोजगार को तरजीह दे रहे हैं।रोजगार संबंधी समाधान मुहैया कराने वाली वैश्विक कंपनी केली सर्विसेज के सर्वेक्षण में यह तथ्य सामने आया है। इसके अनुसार, सर्वेक्षण में शामिल हुए उम्मीदवारों एवं नियुक्ति प्रबंधकों में…
नई दिल्लीः लग्जरी ऑटोमोबाइल कंपनी एमजी मोटर इंडिया ने अगले वर्ष की दूसरी तिमाही में भारतीय बाजार में अपनी पहली कार लांच करने की घोषणा करते हुए अगले पांच छह वर्षाें में पांच हजार करोड़ रुपए निवेश करने की योजना बनाई है। कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक राजीव छाबा ने आज कहा कि गुजरात के हलोल स्थित संयंत्र के उन्नयन,एक नई प्रेस शॉप के निर्माण, असेम्बली लाइनों और अन्य…
Page 10 of 183

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें