नई दिल्ली। कई दर्जन वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी घटाकर मध्यम वर्ग को बड़ी राहत देने के बाद सरकार अब ‘रुपे कार्ड’ और ‘भीम एप’ रखने वालों को सौगात देने जा रही है। ‘रुपे कार्ड’ और ‘भीम एप’ से भुगतान करने वाले ग्राहकों को जीएसटी में 20 प्रतिशत छूट मिलेगी। हालांकि यह छूट 100 रुपये तक होगी। कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में शनिवार को होने वाली जीएसटी काउंसिल की बैठक में इस संबंध में निर्णय होने के आसार हैं।सूत्रों के मुताबिक बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी की अध्यक्षता में शुक्रवार को यहां हुई जीएसटी काउंसिल के एक मंत्रिसमूह की बैठक में इस बावत सिफारिश करने का निर्णय किया गया। मोदी की अध्यक्षता वाले मंत्रिसमूह ने जो सिफारिशें जीएसटी काउंसिल को भेजी हैं उसमें ‘रुपे कार्ड’ और ‘भीम एप’ के जरिये डिजिटल पेमेंट करने वाले ग्राहकों को जीएसटी में छूट का लाभ मिलेगा। यह छूट उन्हें कैशबैक के रूप में मिलेगी और इसकी राशि सीधे उनके बैंक खाते में जाएगी। यह सुविधा उन लोगों को नहीं मिलेगी जो मास्टर या वीजा कार्ड के जरिये भुगतान करेंगे।माना जा रहा है कि जीएसटी में छूट देने के इस प्रस्ताव पर अमल करने से सरकार के खजाने पर सालाना लगभग 1000 करोड़ रुपये का बोझ पड़ने का अनुमान है। इस राशि को केंद्र और राज्य मिलकर वहन करेंगे।
कुछ और वस्तुओं एवं सेवाओं पर घट सकता है जीएसटी: सूत्रों ने कहा कि जीएसटी काउंसिल की बैठक में छोटे व मझोले उद्योगों की शिकायतों और सुझावों पर विचार किया जाएगा। साथ ही मूवी टिकट और बिस्कुट जैसी सेवाओं और उत्पादों पर जीएसटी की दर घटायी जा सकती है। आंध्र प्रदेश और उत्तराखंड ने बिस्कुट पर जीएसटी की दर 18 प्रतिशत से घटाकर पांच प्रतिशत करने की मांग की है। इसके अलावा राज्यों ने ट्रैक्टर, हैंडीक्राफ्ट और हैंडलूम उत्पादों पर भी जीएसटी की दरें घटाने के लिए काउंसिल के अध्यक्ष को पत्र लिखे हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें