देश के सबसे अमीर आैर जाने-माने रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी काे ताे हर काेर्इ जानता है। क्या आप जानते हैं कि दुनिया के सबसे अमीर शख्स के वेतन में पिछले 10 साल से काेर्इ भी बढ़ाेतरी नही की गर्इ है। जबकि हर कंपनी के अन्य अधिकारियाें के वेतन में वुद्धि हाेती ही रहती है। वहीं मुकेश अंबानी काे 15 कराेड़ का वेतन मिलता है लेकिन इसके बावजूद भी इन्हाेंने खुद अपने वेतन की बढ़ाेतरी न लेने का फैसला किया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपनी सालाना रिपोर्ट जारी की है। इसके मुताबिक कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश डी अंबानी का वेतन 15 करोड़ रुपये पर तय है। इस दौरान भले ही मुकेश अंबानी ने वेतन बढ़ोतरी ना ली हो, लेक‍िन कंपनी में शामिल अन्य वरिष्ठ अध‍िकारियों की सैलरी में इजाफा हुआ है। 31 मार्च, 2018 को समाप्त हुए वित्त वर्ष के दौरान उनके रिश्तेदार निखिल और हितल समेत कंपनी के पूर्णकालिक निदेशकों के वेतन में वृद्ध‍ि हुई है।रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2017-18 में मुकेश अंबानी का वेतन और भत्ता 4.49 करोड़ रुपये रहा है। वहीं, 2016-17 की बात करें तो इस दौरान उन्हें 4.16 करोड़ रुपये सैलरी और भत्ते के तौर पर मिले थे। इस दौरान उनके कमीशन में कोई बदलाव नहीं हुआ है। यह 9.53 करोड़ रुपये पर ही बना हुआ है। उन्हें अन्य सुविधाओं के एवज में मिलने वाली राश‍ि भी 60 लाख रुपये से घटकर 27 लाख रुपये पर आ गई है। बता दें कि मुकेश अंबानी ने 2009 में अपने वेतन में कोई बढ़ोतरी न लेने का फैसला लिया था, इसके बाद से उनकी सैलरी उसी स्तर पर बनी हुई है। बता दें कि मुकेश अंबानी 2.76 लाख करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ देश के सबसे अमीर शख्स हैं। फोर्ब्स के मुताबिक वह देश के नंबर वन और दुनिया की अरबपतियों की सूची में वह 19वें स्थान पर काबिज हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें