नई दिल्ली - इस वित्त वर्ष के आखिर तक करीब एक दर्जन सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को 46,101 करोड़ रुपये की पूंजी (इक्विटी कैपिटल) मिलेगी। भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, सेंट्रल बैंक, यूनियन बैंक और ओरिंटल बैंक ऑफ कॉमर्स ने इस महीने शेयरधारकों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में बैंक सरकार से प्रिफरेंशियल शेयर बांटने वाले प्रस्ताव पर मंजूरी की मांग करेंगे।
इस पूंजी में से सबसे ज्यादा राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को मिलेगी। यह राशि 8,800 करोड़ रुपये होगी। एसबीआई के शेयरधारकों की बैठक 15 मार्च को होनी है। वहीं, पंजाब नेशनल बैंक ने शेयर बाजार को बताया है कि शेयरधारकों की असाधारण बैठक 16 मार्च को होगी। बैठक के दौरान 5473 करोड़ मूल्य के प्रिफरेंशियल शेयर्स सरकार को आवंटित करने के संबंध में फैसला लिया जाएगा। इसी तरह विजया बैंक ने इस बैठक को शुक्रवार को बुलाया है। इस बैठक में 1277 करोड़ रुपये मूल्य के प्रिफरेंशियल शेयर सरकार को आवंटित करने को लेकर फैसला लिया जाएगा।
सरकार बैंक ऑफ बड़ौदा को 5375 करोड़ रुपये, सेंट्रल बैंक को 4835 करोड़ रुपये, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को 4524 करोड़ रुपये और ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (ओबीसी) को 3571 करोड़ रुपये देगी। इसके साथ ही देना बैंक को 3045 करोड़ रुपये, सिंडिकेट बैंक 2839 करोड़ रुपये और कॉरपोरेशन बैंक को 2187 करोड़ रुपये की शेयर पूंजी दी जाएगी।
सरकार की ओर से बैंक ऑफ बड़ौदा को 5375 करोड़ रुपये, सेंट्रल बैंक को 4835 करोड़ रुपये, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को 4524 करोड़ रुपये, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स को 3571 करोड़ रुपये, देना बैंक 3045 करोड़ रुपये, सिंडिकेट बैंक 2839 करोड़ रुपये और कॉरपोरेशन बैंक को 2187 करोड़ रुपये की शेयर पूंजी मिलेगी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें