देश विदेश में मशहूर कार मैनुफैक्चरिंग कंपनी फोक्सवैगन को अपनी कारों की पार्किंग के लिए अजीब-ओ-गरीब समस्या का सामना करना पड़ रहा हैं। जगह की कमी के चलते फोक्सवैगन कंपनी ने अपनी कारों को कुछ ऐसी जगहों पर खड़ा कर दिया जिसे देख कर आप भी हैरान रह जाएंगे।दरअसल फोक्सवैगन के पास अमेरिका में गाड़ी खड़ी करने के लिए जगह ही नहीं बची है। जिससे कंपनी को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में फोक्सवैगन कंपनी ने अपनी लाखों गाड़ियों को कब्रिस्तान से लेकर स्टेडियमों तक खड़ी कर रखी हैं।वहीं इस जर्मनी की कार कंपनी फोक्सवैगन ने कैलिफोर्निया के रेगिस्तान से लेकर पुराने पेपर मिल और फुटबॉल स्टेडियम में 3 लाख से ज्यादा गाड़ियां खड़ी कर रखी हैं। बता दें फोक्‍सवैगन के पास अमेरि‍का में करीब 37 सि‍क्‍योर स्‍टोरेज फैसि‍लि‍टीज हैं। इनमें 3 लाख गाड़ियां खड़ी हैं। ये गाड़ियां डेट्रॉयट फुटबॉल स्‍टेडि‍यम, पूर्व मि‍नेसोटा पेपर मि‍ल और कैलि‍फोर्नि‍या के कब्रि‍स्‍तान में खड़ी हैं।फोक्सवैगन ने अपने बयान में कहा है कि वि‍क्‍टोरवेली, कैलि‍फोर्नि‍या में स्‍टोरेज फैसि‍लि‍टी कई लॉट्स में से एक है। यहां गाड़ियों को सुरक्षि‍त रखा गया है। इन गाड़ियों को फोक्‍सवैगन के डीजल सेटलमेंट्स की शर्तों के तहत वापस मंगवाया गया है।हालांकि इस बात का पता हाल ही में एक कोर्ट फाइलिंग द्बारा पता चला है। जिसमें बताया गया है कि कंपनी ने फरवरी से 3 लाख अमेरि‍की डीजल गाड़ियों को बाय बैक करने के लि‍ए 7.4 अरब डॉलर से ज्‍यादा का भुगतान कि‍या है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें