नई दिल्ली - इस साल दिवाली पर चाइनीज झालरों, गिफ्ट आइटम, दिये और अन्य सामानों की बिक्री पिछले साल की तुलना में 40 से 45 प्रतिशत कम होने का अनुमान है। इसकी वजह भारतीयों द्वारा मिटटी के दिए जैसे घरेलू उत्पादों को तरजीह देना है। पिछले साल दिवाली पर चीनी उत्पादों की बिक्री में 30 फीसदी की कमी आई थी। एसोचैम-सोशल डेवलपमेंट फाउंडेशन द्वारा संयुक्त तौर पर अहमदाबाद, बेंगलुरु, भोपाल, चेन्नई, देहरादून, दिल्ली, हैदराबाद, जयपुर, लखनऊ और मुंबई जैसे शहरों में कराए गए एक सर्वेक्षण के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला गया है।
इस सर्वेक्षण में देशभर में चीनी उत्पादों की अनुमानित मांग का आकलन किया गया है। एसोचैम ने कहा कि ऐसा लगता है कि इस दिवाली पर चीनी उत्पादों के उपभोग में पिछले साल के मुकाबले 40-45 प्रतिशत की कमी आएगी। चीनी उत्पादों में बहुत तरह की फैंसी लाइट, लैंपशेड, लक्ष्मी—गणेश की मूर्तियां, रंगोली और पटाखे शामिल हैं। सर्वेक्षण के अनुसार इस साल लोग चीनी सामान के मुकाबले भारतीय उत्पादों को ज्यादा वरीयता दे रहे हैं।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें