नई दिल्ली - एक्सिस बैंक के बोर्ड ने शिखा शर्मा के चौथे कार्यकाल को घटाकर 7 महीने के लिए सीमित कर दिया है। बोर्ड ने ऐसा फैसला खुद शिखा शर्मा के आग्रह पर किया है, जिसमें उन्होने कहा कि वो दिसंबर 2018 में ही अपनी सेवाओं से मुक्त होना चाहती हैं। यानी उन्होंने अपने नए कार्यकाल से 29 महीने पहले अपना पद छोड़ने का फैसला बोर्ड के समक्ष रखा था।
बोर्ड का यह फैसला ऐसे समय में सामने आया है जब भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंक की सीईओ व प्रबंध निदेशक शिखा शर्मा की चौथे कार्यकाल के लिए पुनर्नियुक्ति पर इसलिए सवाल उठाए हैं, क्योंकि बैंक बढ़ती गैर-निष्पादित आस्तियों (एनपीए) की समस्या से जूझ रहा है। शिखा शर्मा का तीसरा कार्यकाल 31 मार्च 2018 को पूरा हो चुका था, वो साल 2009 से ही बैंक की कमान संभाले हुए हैं।
बैंक के बोर्ड ने स्वीकारा शिखा शर्मा का आग्रह: एक्सिस बैंक के बोर्ड ने शिखा शर्मा के उस आग्रह को स्वीकार कर लिया है जिसमें उन्होंने कहा है कि उनके चौथो कार्यकाल को छोटा कर 1 जून से दिसंबर 2018 तक के लिए सीमित कर दिया जाए। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के अनुमोदन के अधीन, बैंक ने एक नियामक फाइलिंग में यह बात कही है।
बोर्ड ने बताया कि बीते साल 8 दिसंबर को बोर्ड सदस्यों ने फैसला किया था कि वो बतौर सीईओ व प्रबंध निदेशक शिखा शर्मा की फिर से नियुक्ति करेंगे, जो कि तीन सालों के लिए होगी और 1 जून 2018 से प्रभावी होगी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें