-संध्या चतुर्वेदी
वंदे मातरम का सृजन भले ही 1882 में हुआ था।बंकिमचंद्र चटोपाध्याय जी ने इसका सृजन अपनी कलम से किया था।।जो बंगला और संस्कृत का मिश्रण है।।
लेकिन ये स्वर आज भी युवा से ले कर प्रौढ तक के ह्रदय में जोश भर दे,वो शक्ति वो ऊर्जा है इस मे।
ये स्वर भले ही आजादी की लड़ाई में निकले थे,लेकिन जब भी क्रांति और यलगार की याद करनी हो।इसे सुन ने से वो ऐतहासिक घटना,मानो जीवंत हो जाती हैं।
उफ़्फ़फ़ कितनी वेदना,क्या गजब का साहस भरा हुआ था,इस के एक एक शब्द के नाद में।
प्रतिधुनि भी मानो ललकार के लिए आतुर हो।
भारत माँ के चरणों की वंदना ,इस अधिक सुंदरता से करने में जैसे कलम आज भी असमर्थ हैं।
एक सच्चे योद्धा की ललकार है इस मे,भारत माँ की प्रशंसा में निकला एक एक शब्द अमर हो गया है और इस बात को केवल भारत ही नही बल्कि विश्व ने सही मान कर,सम्मान की मोहर भी लगाई।
आज आजादी के 71 साल के बाद,इस का जोश कुछ फीका हो गया है।आजनकी नई पीढ़ी को दो लाइन भी याद नही,जब कि एक वक्त इस भी था,जब दूरदर्शन पर रोज हम बच्चे से ले कर जवान सभी देझते व सुनते थे।
घर घर मे बस एक स्वर आता था,वन्देमातरम।।
पहले हर ध्वजारोहण में भी छोटे स्कूल की गलियों से ले कर बड़े स्कूल और विद्यालयो में हर गणतंत्र दिवस पर आयोजन अनिवार्य था।
बंगला और संस्कृत के कठिन शब्दो का मिश्रण होने के बाबजूद सभी को कंठस्थ हुआ करता था।हर विद्यालय में सुबह की प्रार्थना में अनिवार्य होता था।
जय माँ भारती, वन्देमातरम।।
जय हिंद सभी को,आशा है हम सभी अपने जयघोष में फिर शामिल कर,आने वाली पीढ़ियों को भी वो ऊर्जा दायक जयघोष कंठस्थ करवाएंगे।
भारत माँ की इस से बड़ी सेवा क्या होगी??


अहमदाबाद, गुजरात
sandhyachaturvedi76@gmail.com

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें