-ओम प्रकाश उनियाल(स्वतंत्र पत्रकार)
आज का युग सूचना तकनीक का युग है। इंटरनेट इसी युग की देन है। एक तरफ इंटरनेट ने हर काम को आसान कर दिया है तो दूसरी और इसका दुरुपयोग करने वालों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। कुछ भी जानकारी चाहिए तो नेट पर जाएं बेबसाइट ब्राउज कीजिए और जानकारी झटपट आपके कम्प्यूटर, मोबाइल, लेपटाप पर। कितनी सरल बना दी है न जिंदगी। घर बैठे हर सुविधा व हर जानकारी। कार्यालयों में घंटों का काम मिनटों में। न फाइलों का झंझट न जगह की आवश्यकता। आज जरूरत भी बन चुका है इंटरनेट। इसके बिना जिंदगी अधूरी-सी लगती है। दूसरी तरफ जिसे देखिए हरदम फेसबुक, गूगल, यू-ट्यूब, व्हाट्सएप पर व्यस्त रहता है। कई तो अनावश्यक तौर पर अपना पूरा समय इन्हीं सब पर बर्बाद करते हैं। जो विद्यार्थी किताबें पढ़ने से जी चुराते हैं वे गूगल बाबा की मदद ले रहे हैं। किसी भी सवाल की जानकारी लेनी हो तुरंत हाजिर। अध्ययन की आदत छूटती जा रही है। पुस्तकों से किसी को कोई मतलब ही नहीं। देखा जा रहा है कि फेसबुक पर अनावश्यक व अभद्र कमेंट्स देना, तरह-तरह के अशलील पोज लेकर पोस्ट करने का प्रचलन बढ़ता ही जा रहा है। जिससे समाज में गलत संदेश जा रहा है। जो कि छिछोरापन-सा लगता है। बच्चे तो बच्चे बूढ़े भी इस बीमारी को पाले जा रहे हैं। फेसबुक पर कई कमेंट्स और तस्वीरें इतनी अशलील होती हैं कि सिर शर्म से झुक जाता है। आजकल तो देश को तोड़ने वाली देशद्रोही ताकतें तक फेसबुक के माध्यम से युवाओं को भड़काने का काम कर रहीं हैं। युवक-युवतियों की दोस्ती फेसबुक के जरिए घातक सिद्द हो रही है। व्हाट्सएप के माध्यम से चैटिंग, यू-ट्यूब पर दिखाए जाने वाले भौंडे व अशलील वीडियो, तरह-तरह के नुस्खे एवं बेतुका ज्ञान। जिसके कारण हर कोई जरा-सी बात छेड़ने पर यू-ट्यूब के वीडियो पर दिखाए जाने वाला ज्ञान बखारने लगते हैं। यदि इनका उपयोग सही कामों के लिए किया जाए तो किसी प्रकार की हानि नहीं है। लेकिन दुरुपयोग किया जा रहा है तो उससे हमारी मानसिकता भी प्रभावित हो रही है। सब साधन जहां लाभकारी हैं वहीं हानिकारक भी। कौन इनका उपयोग कैसे कर रहा है यह उपयोगकर्ता पर निर्भर करता है। फिर भी सरकार को उपयोगकर्ताओं पर नजर रखनी चाहिए। क्योंकि इन सेवाओं का दुरुपयोग जमकर हो रहा है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें