articles

- योगेश कुमार गोयल(वरिष्ठ पत्रकार एवं राजनीतिक विश्लेषक) भले ही गत 4 जुलाई को देश की सर्वोच्च अदालत की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने अपने बहुप्रतीक्षित फैसले में दिल्ली में उपराज्यपाल और निर्वाचित सरकार के बीच सरकार के गठन के बाद से चली आ रही अधिकारों की लड़ाई को लेकर दिल्ली से जुड़े कानूनों की नए सिरे से व्याख्या कर उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार के अधिकारों को स्पष्ट कर दिया…
-डॉ मोनिका ओझा(वाणिज्य एवं अर्थशास्त्र की व्याख्याता) देर से ही सही आखिर सरकार ने महिलाओं को राहत देते हुए सेनिटरी नैपकिन को जीएसटी से मुक्त कर दिया है यानि अब यह करमुक्त हो गई है। सेनिटरी नैपकिन पर 12 प्रतिशत जीएसटी लगाने का देशभर में महिलाओं ने विरोध किया था। जीएसटी काउंसिल की 28वीं बैठक में सैनिटरी पैड्स को लेकर बड़ा फैसला लिया गया, जिसके चलते महिलाओं को अब सैनिटरी…
- स्वाति श्वेता “सुरिन्दर सिंह ठीक से याद करो ।” “मैं ठीक कह रहा हूँ । मैं ऐसा क्यों करूँगा इंस्पेक्टर ?” और इंस्पेक्टर सुरिन्दर सिंह को हवालात में छोड़ बाहर चला आता है । ‘यह किसकी नज़र लग गई ?’ सुरिन्दर मन ही मन बुदबुदाता है । जेल का कमरा, सड़ी लाश सी महकती दीवारें, सिसकता अँधेरा और गला घोंटने को आतुर प्रश्न । सुरिन्दर उर्फ सन्नी कद छह…
-ओम प्रकाश उनियाल(स्वतंत्र पत्रकार)चालीस व्यक्तियों द्वारा एक महिला के साथ चार दिन तक बलात्कार की घटना ने भारत के सामने यह सवाल खड़ा कर दिया है कि भारत जैसे लोकतांत्रिक देेश में महिला सुरक्षा के प्रति सरकार, कानून एवं कानून का अनुपालन करने वाले कितने संवेदनशील व सजग है। घटना हरियाणा राज्य के पंचकूला के मोरनी के एक गेस्ट हाउस की है। जहां पर पीड़िता को नौकरी दिलाने के बहाने…
-ओम प्रकाश उनियालबरसात के मौसम में भारत के ज्यादातर क्षे़त्र पानी के कहर से परेशान होते हैं। नदियां उफान पर होती हैं। नदियां अपनी सीमाएं लांघ कर गांव-शहरों में कहर बरपाती हैं। यह आपदा हर साल बरसात के मौसम में अपना जलवा दिखाती है। न जाने कितनी जानें, पशुधन,खेती, प्राकृतिक सम्पदा पानी की भेंट चढ़ जाती हैं। पहाड़़ हो या मैदान तमाम जगह जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो जाता है। पहाड़ों में…
गाय कोई जानवर नहीं है ? गाय एक संस्कृति है, गाय एक वैद्यशाला है व हिंदू ही नहीं सम्पूर्ण मानव जाति की पौशक है | गाय की महिमा पौराणिक व वैदिक ग्रंथों में बडे विस्तार पूर्वक वर्णित है | गाय भारतवर्ष के लिए तो एक वरदान है | प्राचीनकाल से भारतवर्ष को गाय समृद्धिशाली बनाती आई है | हमारे ऋषि - मुनियों ने गाय को अपने आश्रमों में प्रमुखता से…
*24 जुलाई जन्मदिन पर विशेष -रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) हिन्दी सिनेमा जगत में मनोज कुमार का नाम कभी अभिनय के लिए नहीं बल्कि उनकी फिल्मों के लिए लिया जाता है। जिस समय सभी अभिनेता रोमांटिक छवि की फिल्में करना पसंद करते थे उस समय मनोज कुमार ने हिन्दी सिनेमा का रुख देशभक्ति की तरफ किया और देश के युवाओं तक देशभक्ति को एक नए रूप में पेश किया। मनोज…
-प्रभुनाथ शुक्ल (स्वतंत्र पत्रकार) संसद में मानसून सत्र का पहला दिन सरकार की विपक्ष से सहयोग की अपील के बाद भी हंगामें की भेंट चढ़ गया। बढ़ती माब लिंचिंग की घटनाओं पर चर्चा कराने को लेकर एकजुट प्रतिपक्ष हंगामा बरपाने लगा जिसकी वजह से लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को कुछ समय के लिए सदन को सस्थगित करना पड़ा। वाकई हिंसक होती भीड़ देश की चिंता बन गयी है। यह एक…
-सुरेश हिन्दुस्थानी(वरिष्ठ स्तंभकार और राजनीतिक विश्लेषक) लोकतंत्र में सत्ता पक्ष और विपक्ष की अपनी-अपनी जिम्मेदारियां होती हैं। लेकिन जब विपक्ष के पास संख्या बल का अभाव होता है तो वह घायल शेर की तरह से दिखाने का प्रयास करता है। इसी दिखावे के प्रयास में कई बार ऐसी चूक हो जाती है कि उसकी भरपाई नहीं की जा सकती। संसद में विपक्षी दल तेलगुदेशम पार्टी की ओर से लाए गए…
-तनवीर जाफ़री गत् 20 जुलाई 2018 को न केवल लोकसभा में विपक्ष द्वारा पेश किए गए अविश्वास प्रस्ताव पर ज़ोरदार चर्चा हुई बल्कि उस दिन सदन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व राहुल गांधी के भाषणों के मध्य आरोप-प्रत्यारोप,बचाव,आक्रामकता,व्यंग्य,मसख़रापन तथा गांधीवादी प्रदर्शन आदि सबकुछ देखने को मिला। तौर पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आसन पर जाकर उनसे लिपट कर गले लगना भी राष्ट्रीय व…
Page 9 of 64

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें