articles

-तनवीर जाफ़री पिछले दिनों देश के कर्नाट्क राज्य में एक बार फिर राजनीति व संविधान के साथ एक बड़ा तमाशा होते देखा गया। राज्य की पिछली कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार सत्ता में वापस आने के लिए पर्याप्त बहुमत नहीं जुटा सकी तथा 224 सदस्यों की विधानसभा में मात्र 78 सीटें जीतकर दूसरे नंबर की पार्टी ही बन सकी। उधर भारतीय जनता पार्टी 104 सीटें जीतकर राज्य में सबसे बड़े दल…
-सुरेन्द्र कुमार, हिमाचल प्रदेशकैप्टन कूल के नाम से प्रसिद्ध एमएस धोनी ने विश्व क्रिकेट में सफलता के जो झंडे गाडे हैं उन्हें उखाडना लगभग नामुमकिन है। क्या टी-20 वर्ल्ड कप क्या एक दिवसीय वर्ल्ड कप क्या चैम्पियन ट्राफी धोनी ने तो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के प्रत्येक संस्कार में अपने आप को अब्बल दर्जे पर स्थापित किया है। इसके अनेकों उदाहरण हम पिछले एक दशक से देख रहे हैं तथा बीते रविवार…
-दीपक गिरकर (स्वतंत्र टिप्पणीकार)लकीरें पीटना भारतीय स्वभाव में मौजूद हैं. चाहे आप का सीना 56 इंच का हो, आप कितने भी बड़े पहलवान हो एवं आपके पास कितने भी अंतरराष्टीय पदक क्यों न हो यदि आप बाजीगर नहीं है तो आपको खेल के मैदान से बाहर बैठा दिया जाएगा, फिर आप के पास लकीर पीटने के अलावा कोई चारा नहीं बचेगा. जो बाजीगर है उन्हीं के हाथ में सभी गाड़ियों…
-डा. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा उबर की हालिया रिपोर्ट में चैकानें वाला यह सत्य सामने आया है कि ट्रे्फिक जाम के चलते देश के चार महानगरों में ही एक लाख 44 हजार करोड़ रुपए का सालाना नुकसान हो जाता है। हांलाकि उबेर की रिपोर्ट व्यावसायिक स्पर्धा के चलते अतिशयोक्ति पूर्ण हो सकती है पर इसमें कोई दो राय नहीं कि देश में लाखों लीटर पेट्र्ोल/डीजल जाम की भेंट चढ़ जाता है।…
-बाल मुकुंद ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार)लंदन यूरोप में सबसे ज्यादा सैलानियों के आकर्षण वाला शहर है। ब्रिटेन की राजधानी देखने हर साल करोड़ों लोग आते हैं। यह शहर इतिहास, संस्कृति, कला और संगीत का एक बड़ा शानदार केंद्र है। इंग्लैंड की राजधानी लंदन, एक ऐसा शहर है जहां दुनियाभर से सबसे ज्यादा लोग आते हैं। अपने आलीशान इतिहास से लेकर मॉर्डन परंपरा और फैशन से लेकर खाने पीने तक…
-डॉ नीलम महेंद्र(Best editorial writing award winner) भारत एक युवा देश है। इतना ही नहीं , बल्कि युवाओं के मामले में हम विश्व में सबसे समृद्ध देश हैं। यानि दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा युवा हमारे देश में हैं। भारत सरकार की यूथ इन इंडिया,2017 की रिपोर्ट के अनुसार देश में 1971 से 2011 के बीच युवाओं की आबादी में 34.8% की वृद्धि हुई है। बता दिया जाए…
-संजय रोकड़े देश में अब हर चीज को प्रतीकों के नजरिए से देखे जाने लगा है। समस्या की जड़ में क्या है इससे ज्यादा लेना-देना नही है। हाल ही में केन्द्र सरकार के गृह मंत्रालय से नक्सलियों को लेकर एक आंकड़ा जारी हुआ है। इसमें कहा गया है कि देश में नक्सली समस्या से निपटने की उसकी नीति रंग ला रही है। नक्सल प्रभावित 44 जिलों में नक्सलियों का प्रभाव…
-संजय रोकड़ेलो भाई 26 मई 2018 को आखिर नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में अपनी सरकार के चार साल पूरे कर ही लिए। अब उनकी सरकार पाचवें साल में प्रवेश कर गई है। सत्तारूढ भाजपा व आरएसएस के लिए यह कार्यकाल आने वाल समय में कितना मुफीद साबित होगा यह तो वक्त के गर्भ में है, लेकिन हम अपने नजरिये से देख तो सकते है। हालकि इसके पहले अमित…
-रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) राजस्थान में झुंझुनू जिले के भानीपुरा गांव में कुछ दिन पहले एक नवजात बच्ची को कोई शिव मंदिर के बाहर चबूतरे पर छोड़ गया। सुबह मंदिर के पुजारी को यह बच्ची मिली। पुलिस की सहायता से उस बच्ची को झुंझुनू के बीडीके अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बीडीके अस्पताल के स्टाफ ने बच्ची को लक्ष्मी नाम दिया। बुहाना की सुनीता का नवजात बेटा भी…
-प्रभुनाथ शुक्ल (स्वतंत्र पत्रकार हैं) उत्तर प्रदेश राजनीतिक लिहाज से देश का सबसे अहम राज्य है। दिल्ली की सत्ता का रास्ता यूपी से हो कर गुजरता है। यह राज्य राजनीति और उसके नव प्रयोगवाद का केंद्र भी है। देश के सामने चुनावों और सत्ता से इतर और भी समस्याएं हैं, लेकिन वह बहस का मसला नहीं हैं। सिर्फ बस सिर्फ 2019 की सत्ता मुख्य ंिबंदु में हैं। सत्ता की इस…
Page 5 of 44

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें