articles

-राहुल लाल (कूटनीतिक मामलों के विशेषज्ञ) अमेरिका ने परमाणु व्यापार(न्यूक्लियर ट्रेड) से जुड़ी 7 पाकिस्तानी कंपनियों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरे वाली सूची में डाल दिया है।अमेरिका के इस ताजा कदम से पाकिस्तान के परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में शामिल होने के मंसूबों को तगड़ा झटका लगा है।अमेरिका के इस कदम से पाकिस्तान के सदाबहार मित्र चीन को भी झटका लगा है,जो पाकिस्तान को परमाणु आपूर्ति समूह में शामिल करवाने…
-बाल मुकुंद ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार) खान-पान और साफ-सफाई का ध्यान न दे पाने की वजह से चिकनगुनिया और डेंगू की समस्या से लोगों को दो दो हाथ करने पड़ रहे है। भारत में मानसून का मौसम बारिश, फसल, पर्व, मेले ,त्यौहार और समारोह लेकर आता है। हालांकि पिछले कुछ सालों में देखने में आया है कि देश में यह मौसम एक तरह से प्रकोप बन चुका है। इस…
-डा. राजेन्द्र प्रसाद शर्मायही कोई 20 महिलाओं के यौन उत्पीडन के आरोपों के घेरे में फंसे अमेरिकी राष्ट्र्पति डोनाल्ड ट्र्ंप ने अप्रेल माह को अमेरिका में राष्ट्र्ीय यौन उत्पीडन जागरुकता माह घोषित कर क्या संदेश देना चाहा है यह समझ से परे हैं? अमेरिकी राष्ट्र्पति ट्र्ंप और विवादों का चोली दामन का साथ रहा है। अपने विवादास्पद निर्णयों के चलते ट्रं्प को नीचा भी देखना पड़ा है और यहां तक…
-तनवीर जाफ़रीइंडोनेशिया तथा पाकिस्तान के बाद भारतवर्ष पूरे विश्व में मुस्लिम जनसंख्या वाला तीसरा सबसे बड़ा देश है। दुनिया में आतंकवाद का व्यापार चलाने वाले कई अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की बुरी नज़रें भारत की ओर भी पड़ती रहती हैं। यह शक्तियां कभी 6 दिसंबर 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस की याद दिलाकर,कभी कश्मीर में आतंकवादियों के विरुद्ध हो रही सैन्य कार्रवाई के नाम पर तो कभी 2002 के गुजरात दंगों पर…
-जावेद अनीस प्रख्यात वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग के मौत के आसपास ही भारतीय विज्ञान कांग्रेस का आयोजन होता है, जिसके उद्घाटन सत्र में हमारे विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन स्टीफन हॉकिंग को याद करते हुये कहते हैं कि “हमने हाल ही में एक प्रख्यात वैज्ञानिक और ब्रह्माण्ड विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग को खो दिया है जो मानते थे कि वेदों में निहित सूत्र अल्बर्ट आइंस्टीन के सापेक्षता सिद्धांत से बेहतर थे.”…
-प्रभुनाथ शुक्ल (स्वतंत्र पत्रकार हैं)सर्वोच्च न्यायलय ने हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट समुदाय पर कानूनी चाबुक चला जातीय फैसलों के खिलाफ खाप को सोचने पर मजबूर कर दिया है। फैसले पर सरकार और खाप कितनी संवेदनशील होंगी यह तो वक्त तय करेगा। लेकिन खाप पंचायतों और उनके अस्तित्व को खतरा खड़ा हो गया है। उनकी मनमर्जी अब नहीँ चलेगी। जातीय फैसलों के चलते खाप कभी लड़कियों के जींस…
-निर्मल रानी ईरानी सैन्य शक्ति द्वारा लगभग नेस्त-नाबूद किए जा चुके दुर्दान्त आतंकवादी संगठन आईएसआईएस द्वारा विगत् वर्षों में दिखाई गई बर्बरता का दंश भारत के कई परिवारों को भी झेलना पड़ा। भारत से रोज़गार हेतु इरा$क पहुंचे जिन 40 कामगारों को 2014 में आईएसआईएस के आतंकवादियों ने अगवा कर उन्हें बंधक बना लिया था, आखरकार दुर्भाग्यवश इन आतंकियों द्वारा इनमें से 39 भारतीय नागरिकों के मारे जाने की पुष्टि…
-रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) एससी-एसटी एक्ट में बदलाव पर देशभर में अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति के संगठनों ने गहरी नाराजगी जताई और सोमवार को भारत बंद का आह्वान किया था। देश में किसी भी जाति,समुदाय के लोगो ने दलित समुदाय द्वारा आयोजित बन्द का विरोध नहीं किया था। लेकिन दलित समुदाय की और से आयोजित भारत बंद हिंसक प्रदर्शन में तब्दील हो गया जिसमें आठ लोगों की मौत हो…
-संजय सिंह राजपूत बुद्धू चमार का बेटा चेथरु आज घर को सर पर उठा लिया है। आज तक इतने गुस्से में उसे मैंने तो कभी नहीं देखा था। आम तौर पर वह बहुत सामान्य रहता है। उसे राजनीति से कोई दूर दूर तक का नाता नहीं रहा है। वह सिर्फ पढ़ने, थोड़ी देर दोस्तों के साथ खेलने और घर के काम में ही अपने को सीमित रखता है। कालेज पढ़…
-बाल मुकुंद ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार) इंग्लैण्ड के विख्यात कवि किप्लिंग का मानना था कि दुनिया में अगर कोई ऐसा स्थान है, जहां वीरों की हड्डियां मार्ग की धूल बनी हैं तो वह राजस्थान है। यह हमारे इतिहास की सच्चाई है। देश के लिए सर्वस्व न्योछावर करने की परम्परा आज भी राजस्थान में कायम है। 30 मार्च, 1949 को जोधपुर, जयपुर, जैसलमेर और बीकानेर रियासतों का विलय होकर वृहत्तर…
Page 5 of 29

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें